बिहार : लालू यादव बड़े आदमी, गाली भी दे सकते हैं : भक्त चरण दास - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 25 अक्तूबर 2021

बिहार : लालू यादव बड़े आदमी, गाली भी दे सकते हैं : भक्त चरण दास

पटना : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव बीते कल यानी रविवार की शाम बिहार की राजधानी पटना पहुंचे। लालू यादव के पटना पहुंचने के बाद उनके समर्थकों का जमावड़ा एयरपोर्ट से लेकर 10 सर्कुलर रोड तक देखने को मिला। वहीं, इस बीच दिल्ली से बिहार आए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर निशाना साधते हुए बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास ने कहा कि हम लालू यादव का आदर और सम्मान करते हैं, वह बड़े भाई की तरह हैं।लेकिन अब राजद और कांग्रेस के बीच कोई आपसी गठबंधन नहीं है। दरअसल, लालू प्रसाद यादव के बिहार आने से पहले कांग्रेस नेता भक्त चरण दास के दिल्ली में राजद और कांग्रेस को लेकर दिए गए बयान के बाद दोनों के बीच की तकरार और अधिक बढ़ गई है। वहीं इसके बाद लालू प्रसाद यादव ने भी बिहार पहुंचने के बाद कांग्रेस प्रभारी को लेकर बड़ा बयान दिया। हालांकि लालू यादव के इस बयान के बाद बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास ने एक बार फिर से लालू को गांधीवादी तरीके से जवाब दिया है। 


बिहार कांग्रेस प्रभारी ने कहा है कि हम लालू यादव का आदर और सम्मान करते हैं, वह बड़े भाई की तरह हैं। उन्हें जो भी बोलना है.. वह कह सकते हैं लेकिन मेरे मन में उनके लिए सम्मान था और आगे भी रहेगा। इसके आगे भक्त चरण दास ने कहा कि लालू यादव बड़े आदमी हैं। गाली दे सकते हैं.. हम तो छोटे आदमी हैं। हम गाली क्या दें? हालांकि इसके बावजूद कांग्रेस प्रभारी ने लालू यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि लालू जी ने लंबे अरसे तक बिहार में शासन किया और उन्हें इस बात का जवाब देना चाहिए कि राज्य के अंदर पिछड़ों और गरीबों की स्थिति में सुधार क्यों नहीं हो पाया? उन्हें शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी जरूरी चीजें क्यों नहीं मुहैया कराई जा सकी? आर्थिक प्रगति के बगैर सामाजिक न्याय की बात का क्या मतलब रह जाता है? इसके बाद बिहार कांग्रेस प्रभारी ने स्पष्ट तरीके से कह दिया कि हमारा राजद के साथ कोई गठबंधन नहीं है। बिहार में गठबंधन खत्म हो चुका है। दास ने कहा कि लालू यादव मुख्यमंत्री और उनका बेटा तेजस्वी यादव अगर मुख्यमंत्री बन जाए तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि मेरा सवाल एक है कि राजद के शासनकाल में रहते गरीबों और पिछड़ों की स्थिति में सुधार क्यों नहीं हुआ? इसके साथ उन्होंने कहा कि इससे बड़ी बात क्या होगी जब मैं खुद कह रहा हूं कि कांग्रेस अगले लोकसभा चुनाव में 40 सीटों पर अकेले लड़ेगी। बहरहाल, देखना यह है कि बिहार में दो विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव से पहले राजद और कांग्रेस के बीच हुए टूट के बाद अब राजद सुप्रीमो खुद चुनाव प्रचार करने बिहार आ गए हैं। वहीं, लालू प्रसाद यादव के बिहार आने के बाद इन सीटों पर लड़ाई और अधिक रोचक हो गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: