रामायण में हर व्यक्ति का धर्म बताया गया : केजरीवाल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 अक्तूबर 2021

रामायण में हर व्यक्ति का धर्म बताया गया : केजरीवाल

relegion-in-raam-rajya-kejriwal
नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल वाल्मीकि जयंती के अवसर पर बुधवार को यहाँ मंदिर मार्ग स्थित भगवान वाल्मीकि मंदिर पहुंचे और पूजा-अर्चना की। श्री केजरीवाल ने इस दौरान मंदिर में दूर-दराज से आए वाल्मीकि समाज के साधु-संतों को भी सुना। उन्होंने कहा कि महर्षि वाल्मीकि ने रामायण लिखकर एक तरह से भगवान राम के बारे में पूरी दुनिया को बताया। रामायण बहुत अच्छा ग्रंथ है। रामायण के अंदर हर प्रकार के व्यक्ति के धर्म को बताया गया है। उन्होंने कहा, “अगर हम भगवान वाल्मीकि के जीवन और उनके बताये संदेश को थोड़ा भी अपने जीवन में धारण कर लें, तो बहुत बड़ा काम होगा।” मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 23 अक्टूबर को दिल्ली सरकार त्यागराज स्टेडियम में भगवान वाल्मीकि का प्रकटोत्सव बहुत बड़े स्तर मनाएगी। दिल्ली सरकार की तरफ से इस समारोह में सभी दिल्लीवासी आमंत्रित हैं। इससे पहले, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी वाल्मीकि मंदिर पहुंचे और पूजा-अर्चना की। मुख्यमंत्री ने कहा, “भगवान वाल्मीकि ने एक तरह से भगवान राम को पूरे संसार के सामने रखा। अगर रामायण नहीं लिखी जाती, तो भगवान राम को कौन जानता था। भगवान वाल्मीकि ने रामायण लिख कर एक तरह से भगवान राम के बारे में पूरी दुनिया को बताया। रामायण बहुत अच्छा ग्रंथ है। जैसा कि एक राजा का धर्म है, अपनी प्रजा की उपासना करना। अपनी प्रजा को खुश रखने के लिए और अपनी प्रजा को ठीक रखने के लिए जो भी कदम उठाने की जरूरत है, वह सारे कदम उठाना। रामायण के अंदर हर प्रकार के व्यक्ति के धर्म को बताया गया है। एक भाई का क्या धर्म है, एक पत्नी का क्या धर्म है, एक पिता का क्या धर्म है, एक बेटे का क्या धर्म है, एक राजा का क्या धर्म है और एक प्रजा का क्या धर्म है? रामायण में यह सब बहुत ही अच्छे तरीके से बताया गया है।” उन्होंने कहा कि आज भगवान वाल्मीकि के प्रकटोत्सव के अवसर पर हम सब लोग अगर उनके जीवन से और उनके बताए हुए संदेश को थोड़ा भी अपने जीवन में धारण कर लें, तो बहुत बड़ा काम होगा। उन्होंने कहा, “दिल्ली सरकार इस स्तर पर पहली बार प्रकटोत्सव का आयोजन कर रही है। हम लोग पूरे दिल्ली के अंदर जो-जो लोग अपनी-अपनी कॉलोनी के अंदर और अपने-अपने इलाके अंदर प्रकटोत्सव मनाते हैं, उनको दिल्ली सरकार की तरफ से हम लोग आर्थिक मदद करते हैं। जब से हमारी सरकार आई है, हमने पिछले तीन-चार साल से यह काम शुरू किया है। लेकिन एक केंद्रीय स्तर पर पहली बार हम लोग कर रहे हैं कि दिल्ली सरकार की ओर से बड़े स्टेडियम के अंदर प्रकटोत्सव मनाया जाए। हम सब लोग ज्यादा से ज्यादा संख्या में इस समारोह में शामिल हों और हम सब लोग मिल कर भगवान वाल्मीकि की स्तुति करेंगे, उनका आशीर्वाद ग्रहण करेंगे और सभी संतों का आशीर्वाद ग्रहण करेंगे।”

कोई टिप्पणी नहीं: