डीयू के दो कॉलेज ने विशेष कट-ऑफ सूची जारी की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 25 अक्तूबर 2021

डीयू के दो कॉलेज ने विशेष कट-ऑफ सूची जारी की

spaicial-cutoff-in-du
नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर, दिल्ली विश्वविद्यालय के दीन दयाल उपाध्याय महाविद्यालय और आर्यभट्ट महाविद्यालय ने पहले जारी तीन सूचियों में दाखिला नहीं पा सके उम्मीदवारों के लिए सोमवार को अपनी विशेष ‘कट-ऑफ’ सूचियां जारी कीं। विश्वविद्यालय ने अब तक तीन ‘कट-ऑफ’ सूचियां जारी की हैं, जिनमें से 60,000 से अधिक छात्रों को दाखिला मिला है। समेकित विशेष कटऑफ सूची दिन में बाद में जारी की जाएगी, जिसमें उन उम्मीदवार को मौका दिया जाएगा जो अर्हता तो रखते हैं लेकिन किन्हीं कारणों से पहली तीन कट-ऑफ सूचियों के आधार पर प्रवेश नहीं ले सके। छात्रों के पास इस सूची के तहत अपना प्रवेश रद्द करने और अपनी पसंद के पाठ्यक्रम या कॉलेज में प्रवेश लेने का प्रावधान नहीं है, जो उन्हें दूसरी और तीसरी सूची में उपलब्ध था। यह विशेष कट-ऑफ सूची किसी कार्यक्रम के लिए अंतिम घोषित कट-ऑफ सूची है।


दीन दयाल उपाध्याय महाविद्यालय ने बीकॉम (ऑनर्स) के लिए 98.25 प्रतिशत, बीएससी (ऑनर्स) रसायन शास्त्र के लिए 96.33 प्रतिशत, बीएससी (ऑनर्स) कंप्यूटर विज्ञान, गणित(ऑनर्स) और भौतिक विज्ञान (ऑनर्स) के लिए 97 प्रतिशत और कंप्यूटर विज्ञान के साथ बीएससी भौतिक विज्ञान के लिए 95 प्रतिशत कट-ऑफ तय किया है। आर्यभट्ट महाविद्यालय ने बीए (ऑनर्स) अर्थशास्त्र में प्रवेश के लिए 97 प्रतिशत, बीए (ऑनर्स) हिंदी के लिए 84 प्रतिशत, बीए (ऑनर्स) मनोविज्ञान के लिए 97.75 प्रतिशत, बीकॉम के लिए 96.75 प्रतिशत और बीकॉम (ऑनर्स) के लिए 97 प्रतिशत न्यूनतम आवश्यक अंक तय किए हैं। बीएससी (ऑनर्स) कंप्यूटर विज्ञान के लिए 96.5 प्रतिशत, बीए में अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के संयोजन कार्यक्रम के लिए 95.75 प्रतिशत और बीए में अर्थशास्त्र एवं इतिहास संयोजन पाठ्यक्रम के लिए 95 प्रतिशत कट-ऑफ है। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी के अनुसार, कॉलेज उन पाठ्यक्रमों में विशेष कट-ऑफ जारी करते हैं, जहां दो से अधिक सीटें खाली हैं, क्योंकि वे अत्यधिक दाखिलों का जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: