उत्तराखंड ने मानसून नहीं, जलवायु परिवर्तन की मार झेली है - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 23 अक्तूबर 2021

उत्तराखंड ने मानसून नहीं, जलवायु परिवर्तन की मार झेली है

uttrakhand-flood-cause-climate-change
अलकनंदा नदी पर हिमस्खलन और हिमस्खलन के बाद फरवरी में अचानक आई बाढ़ की दुखद घटना से उत्तराखंड अभी उबर ही रहा था की अब मूसलाधार बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ और भूस्खलन ने राज्य को संकट में डाल दिया है। इस  बेमौसम बारिश के कारण  नदियां और झीलें उफान पर हैं और खतरे के निशान के करीब बह रही हैं। हालांकि विशेषज्ञों ने पहले ही कठोर मौसम की घटनाओं में पर्याप्त वृद्धि को स्वीकरीयता दी है, वर्तमान घटना ने मानसून के लंबे समय तक रहने के प्रभाव को दिखाया है। मौसम वैज्ञानिकों का मानना है कि अगर मॉनसून समय से चला जाता तो इतनी मूसलाधार बारिश नहीं होती। मॉनसून करंट की मौजूदगी ने मैदानी इलाकों में नम हवाओं और मौसम प्रणालियों को चलाना जारी रखा।


कठोर मौसम की घटनाएं देश के लिए नई नहीं हैं और इन घटनाओं की फ्रीक्वेंसी भी बढ़ गयी है। इसका सारा श्रेय जलवायु परिवर्तन को जाता है, जो भारत में इसके मिजाज़ को बदल रहा है।  ताजा उदाहरण उत्तराखंड में इस सप्ताह की शुरुआत में हुई मूसलाधार बारिश है। उत्तराखंड में मानसून के वापसी के बाद मौसम शांत बना हुआ है। राज्य में शायद ही कभी अधिक बारिश और गरज के साथ बौछारें पड़ती हैं। हालांकि इस सीजन में ऐसा नहीं हुआ है। राज्य में रविवार रात से लगातार बारिश शुरू हुई और मंगलवार तक चली। अक्टूबर में अब तक उत्तराखंड में 31.2 मिमी के मुकाबले 192.6 मिमी बारिश दर्ज की गई है। इसमें से 24 घंटे में ही 122.4 एमएम रिकॉर्ड किया गया। कथित तौर पर, लगातार भारी वर्षा और भूस्खलन के कारण लगभग 52 लोगों की जान चली गई।  सबसे बुरी तरह प्रभावित जिला नैनीताल था जिसमें सबसे ज्यादा 28 लोगों की मौत हुई थी।


राज्य पर इन बेमौसम बारिश की वजह 2021 में  देश में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून  के लंबे समय तक  टिके रहने को कारण बताय है । इस क्षेत्र में मानसून की उपस्थिति के कारण इस भूभाग पर नमी की प्रचुरता, मौसम प्रणालियों के निर्माण के लिए मौसम की स्थिति को अनुकूल रखना। जलवायु परिवर्तन के सौजन्य से दक्षिण-पश्चिम मानसून की देर से वापसी एक नया सामान्य बना गया है,  संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व वाले इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की नवीनतम रिपोर्ट - 'Working Group I the ‘Sixth Assessment Report Climate Change 2021:The Physical Science Basis’ ' ने पहले ही संकेत दिया है कि बढ़ते वैश्विक तापमान में मानसून पूरे दक्षिण पूर्व एशिया में पैटर्न बदल रहा है।


गर्म जलवायु के कारण मौसम हमेशा नम बना रहता है । एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय के भूविज्ञान विभाग के प्रमुख प्रोफेसर वाई पी सुंदरियाल ने कहा, “हिमालय के उच्च भाग में जलवायु और टेक्टोनिकली दोनों रूप से, अत्यधिक संवेदनशील हैं,  ये इतना अधिक है कि पहले चरण में मेगा हाइड्रो-प्रोजेक्ट्स के निर्माण से बचा जाना चाहिए। या फिर वे छोटी क्षमता के होने चाहिए। दूसरे, सड़कों का निर्माण सभी वैज्ञानिक तकनीकों से किया जाए। वर्तमान में, हम देखते हैं कि बिना ढलान की स्थिरता, अच्छी गुणवत्ता वाली रिटेनिंग वॉल और रॉक बोल्टिंग जैसे उचित उपाय किए बिना सड़कों को बनाया या चौड़ा किया जा रहा है। ये सभी उपाय भूस्खलन से होने वाले नुकसान को कुछ हद तक सीमित कर सकते हैं। “योजना और कार्यान्वयन के बीच एक बड़ा अंतर है। उदाहरण के लिए, वर्षा के पैटर्न बदल रहे हैं, चरम मौसम की घटनाओं के साथ तापमान बढ़ रहा है”। प्रो सुंदरियाल ने कहा की “नीति निर्माताओं को क्षेत्र के भूविज्ञान से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए। विकास के तथ्य से इनकार नहीं किया जा सकता है, लेकिन जलविद्युत संयंत्र, विशेष रूप से उच्च हिमालय में कम क्षमता वाले होने चाहिए। नीति और परियोजना कार्यान्वयन में स्थानीय भूवैज्ञानिक शामिल होने चाहिए जो इलाके को अच्छी तरह से समझते हैं और यह कैसे प्रतिक्रिया देते  है”


स्काईमेट वेदर के प्रेसिडेंट-Meteorology and Climate Change, के श्री  जी पी शर्मा के अनुसार, “यह बहुत स्पष्ट है कि मॉनसून समय पर चला गया था, हमने इतनी मूसलाधार बारिश कभी  नहीं देखी होगी। जबकि पहाड़ियों में एक पश्चिमी गड़बड़ी थी  और  मध्य प्रदेश और बंगाल की खाड़ी पर क्रमशः दो कम दबाव के क्षेत्र देखे गए। मानसून की वापसी में देरी के संकेत मिला रहे हैं । आमतौर पर, मौसम प्रणाली अंतर्देशीय यात्रा नहीं करती है, चूंकि इस समय तक NLM अभी भी मध्य प्रदेश से गुजर रहा था, इसलिए ये निम्न दबाव वाले क्षेत्र  के अंदर तक बढ़ते जाते हैं । हम सभी इस  जलवायु परिवर्तन की फायरिंग रेंज में आ गए  हैं, जिसने पूर्ण रूप से मानसून के दौरान, पहले और बाद में मौसम प्रणालियों के द्वारा  जलवायु परिवर्तन की फ्रीक्वेंसी, समय और पथ  को बदल दिया है।  जीपी शर्मा ने कहा की “हम अक्टूबर की दूसरी छमाही में हैं और मौसम प्रणाली अभी भी महाराष्ट्र के अंदर प्रवेश कर रही है।”

कोई टिप्पणी नहीं: