पाकिस्तान नहीं, कश्मीर के युवाओं से करेंगे बात : अमित शाह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 25 अक्तूबर 2021

पाकिस्तान नहीं, कश्मीर के युवाओं से करेंगे बात : अमित शाह

will-talk-with-kashmiri-youth-amit-shah
श्रीनगर, 25 अक्टूबर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर के लोगों से कहा कि सरकार केंद्र शासित प्रदेश में समस्याओं के समाधान के लिए उनके बातचीत करने के लिये तैयार है। गृह मंत्री ने यह भी कहा कि वह पाकिस्तान से नहीं, बल्कि वहां रहने वाले युवाओं से बात करना चाहते हैं। अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद से राज्य की अपनी पहली यात्रा के अंतिम दिन श्री शाह ने कहा “हमारे इरादे नेक हैं। हम उन लोगों को नहीं बख्शेंगे, जो जम्मू-कश्मीर के विकास में बाधा डालने की कोशिश करेंगे।” श्री शाह ने यहां की सत्ता में रहे “तीन राजवंशों” पर भी तीखा हमला किया और उन्हें कश्मीर घाटी में लोगों की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार ठहराया। गौरतलब है कि अभी कुछ दिन पहले नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता किए जाने का समर्थन किया था। श्री शाह ने अपनी तीन दिन की जम्मू-कश्मीर यात्रा के आखिरी दिन श्रीनगर में डल लेक के किनारे शेर-ए-कश्मीर प्रेक्षागार में सरपंचों की सभा को संबोधित करते हुए कहा, 'आज मैं आपसे खुले तौर पर बात करना चाहता हूं इसीलिये आप लोगों के बीच बिना बुलेटप्रूफ कवर के आया हूं। फारुक (अब्दुल्ला) साहब ने मुझे पाकिस्तान से बात करने की सलाह दी थी, लेकिन मैं घाटी के लोगों, अपने युवाओं से बात करूंगा।'


उन्होंने रविवार को युवाओं को संबोधित करते हुए कहा था, 'मैं आप लोगों से बात क्यों न करूं। हम युवाओं से बात करना चाहते हैं। जब मेरी पहली दफा उनसे बात हुई थी, तब मैंने उनसे कहा था कि मैं उनके साथ दोस्ती चाहता हूं। मैंने दोस्ती का हाथ बढ़ाया है और मैं निश्चिंत हूं कि हमारे दिल में कोई द्वेष नहीं है। जम्मू-कश्मीर का विकास ही हमारा एकमात्र मकसद है।' केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि शांति हर कीमत पर बहाल होगी। पारंपरिक कश्मीरी परिधान फेरन धारण किए हुए श्री शाह ने कहा कि उन्हें अक्सर यह पूछा जाता है कि घाटी में अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद कश्मीर में कर्फ्यू क्यों लगाया गया था और इंटरनेट की सेवा क्यों बंद की गई थी? गृह मंत्री ने कहा, 'आज मैं जवाब देता हूं। ऐसा हमारे युवाओं के जीवन की रक्षा और उन्हें बचाने के लिए किया गया था। हम नहीं चाहते थे कि निहित स्वार्थ और शांति विरोधी तत्व स्थिति का फायदा उठाएं और हमारे युवाओं को गोलियों का सामना करने के लिए सड़कों पर धकेलें। कश्मीरी युवाओं की जान बचाने के लिए यह कदम उठाया गया था।' जम्मू-कश्मीर के ‘तीन परिवारों’ पर कटाक्ष करते हुए श्री शाह ने कहा कि वे 70 वर्षों में उतना विकास क्यों नहीं ला सके, जितना मोदी सरकार पिछले दो वर्षों में ला पाने में कामयाब हुई है। उन्होंने कहा, 'अब अपने जान-पहचान वालों को नौकरी देने का आपका समय चला गया है। अब जो योग्य होगा, उसे ही काम मिलेगा, लेकिन वो इस बात को लेकर हैरान हैं कि इनकी सहमति के बिना किसी को काम कैसे मिल सकता है।' गृह मंत्री ने कहा, ' वे कहते हैं कि पाकिस्तान से बात करो और इससे ही उन्होंने कश्मीर में पर्यटन को खत्म कर दिया था उनका मकसद क्या था? क्या किसी उद्योग का न आना और विकास का न होना ही उनका उद्देश्य था। ताकि युवा पत्थरों और हथियारों का सहारा ले।' उन्होंने कहा, 'हम चाहते हैं कि युवा बंदूक और पत्थरों का साथ छोड़कर अपने हाथ में काम के उपकरण लें।' केंद्रीय गृह मंत्री जम्मू-कश्मीर के तीन दिवसीय दौरे पर शनिवार सुबह श्रीनगर पहुंचे और उच्च स्तरीय सुरक्षा बैठक की अध्यक्षता की। रविवार को उन्होंने जम्मू में एक रैली को संबोधित किया।

कोई टिप्पणी नहीं: