केनरा बैंक ने नई दिल्‍ली क्षेत्रीय कार्यालय मे 116वां संस्थापक दिवस मनाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 20 नवंबर 2021

केनरा बैंक ने नई दिल्‍ली क्षेत्रीय कार्यालय मे 116वां संस्थापक दिवस मनाया

canera-bank-foundationday
नई दिल्ली , गुरु पर्व के मौके पर केनरा बैंक के नई दिल्‍ली क्षेत्रीय कार्यालय मे 116वां संस्थापक दिवस मनाया। इस स्थापना दिवस समारोह में विभिन्न शाखाओ से आमंत्रित प्रबंधको एवं दिल्ली रीजन के क्षेत्रीय प्रबंधक श्री सुनील कुमार सोबती ने स्वर्गीय श्री अम्मेम्बल सुब्बाराव पई जी के चित्र पर श्रद्धा पुष्प अर्पित किये। इस मौके पर क्षेत्रीय प्रबंधक सुनील कुमार सोबती ने केनरा बैंक के संस्थापक रहे स्व श्री. अम्मेम्बल सुब्बाराव पई के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वह एक बहुत ही व्यावहारिक व्यक्ति ने दोनों संस्थाओं के प्रबंधन के लिए प्रभावी नेतृत्व दिया। अपनी मृत्यु तक, उन्होंने दोनों संस्थाओं को सही रास्ते में ले जाने के लिए मार्गदर्शन किया, दक्षिण कन्नड़ में शिक्षा आंदोलन के संस्थापक के रूप में उन्हें जाना जाता है। सोबती ने बताया कि द केनरा हिन्दू परमानेंट फंड के रूप में 1906 में परोपकारी स्व. अम्मेम्बल सुब्बाराव पई द्वारा स्थापित यह छोटा-सा बीज बढ़ते हुए 1910 में केनरा बैंक लि. के रूप में एक लिमिटेड कंपनी बन गया और राष्ट्रीयकरण के बाद 1969 में केनरा बैंक बना। उन्होंने उनके द्वारा दिए गए ज्ञान से एक कोट साझा करते हुए कहा कि स्व. अम्मेम्बल सुब्बाराव पई ने कहा था कि  "एक अच्छा बैंक समुदाय का न सिर्फ वित्तीय ह्रदय होता है, बल्कि आम लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए हर संभव तरीके से मदद करने का एक दायित्व भी है।" और आज हम इसी दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। इस अवसर पर केनरा बैंक की सामाजिक दायित्व सहायता के अन्तर्गत जरूरतमंद महिलाओं तथा कुछ दिव्यांगों को उनके जरूरत के समान वितरण किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: