डॉ. अमरसिंह निकम को 'नेल्सन मंडेला नोबल पीस अवार्ड - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 नवंबर 2021

डॉ. अमरसिंह निकम को 'नेल्सन मंडेला नोबल पीस अवार्ड

amar-singh-nikam-recieved-nelson-mandela-nople-peace-award
मुंबई / पुणे :होम्योपैथी के क्षेत्र में बेहतरीन व सराहनीय काम करने वाले डॉ.अमरसिंह निकम को 'नेल्सन मंडेला नोबल पीस अवार्ड 2021' से सम्मानित किया गया। हाल ही में मुंबई में हुए पुरस्कार समारोह में डॉ. नेल्सन मंडेला पीस यूनिवर्सिटी द्वारा निकम को डॉक्टरेट की मानद उपाधि से भी सम्मानित किया गया।  कोरोना काल में निस्वार्थ भावना से लोगो की सेवा और इलाज करने के लिए उन्हें सम्मानित किया। इज़राइल के कांसुलेट जनरल कोबी सोशानी, मदर टेरेसा विश्वविद्यालय के संस्थापक और कुलगुरू डॉ. विजया सरस्वती, नेल्सन मंडेला नोबेल पीस यूनिवर्सिटी के चांसलर आर्च बिशप जॉन्सन, गीतकार अनु मलिक, गायक आदित्य नारायण, डॉ. निकम के परिवार से निकम डॉ. सुचित्रा, डॉ. मनीष, डॉ. मनस्वी इत्यादि उपस्थित थे. होम्योपैथी के माध्यम से डॉ. निकम ने अब तक हजारों मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया है। देश का पहला 100 बिस्तरों वाला होम्योपैथी अस्पताल आदित्य होम्योपैथिक अस्पताल पिछले कई वर्षों महाराष्ट्र के पुणे शहर गरीबों को सस्ती दरों पर चिकित्सा सेवाएं प्रदान कर रहा है। पिछले दो वर्षों में, मिशन होम्योपैथी पुणे के माध्यम से देश भर में हजारों स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस कर्मियों, सफाई कर्मचारियों और अन्य लोगों को प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए मुफ्त दवाएं प्रदान की गई। अभी हाल में डॉ. अमरसिंह निकम की पुस्तक "ए होम्योपैथ्स गाइड टू कोविड-19' पुणे में पद्मश्री अ‍ॅड. उज्वल निकम द्वारा रिलीज़ किया गया था, जिससे लोगों को काफी फायदा हुआ। इससे पहले उनकी कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं जोकि नए होम्योपैथिक डॉक्टरों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में काम करती हैं। उनके अथक परिश्रम से वैज्ञानिक होम्योपैथिक उपचार देश के कोने-कोने तक पहुंचे हैं। उनका मत है कि रोगी सेवा ही राष्ट्र सेवा है। इस पुरस्कार के बारे में डॉ. निकम ने खुशी जाहिर की। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह चिकित्सा सेवा इसी तरह जारी रहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं: