उपहार अग्निकांड में अंसल बधुओं को सात की जेल, 2.25 करोड़ रुपए का जुर्माना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 नवंबर 2021

उपहार अग्निकांड में अंसल बधुओं को सात की जेल, 2.25 करोड़ रुपए का जुर्माना

ansal-brothers-convicted
नयी दिल्ली, 08 नवंबर, दिल्ली की एक स्थानीय अदालत ने उपहार सिनेमा अग्निकांड मामले में सबूतों से छेड़छाड़ करने में दोषी करार दिये गये सुशील अंसल और गोपाल अंसल समेत पांच लोगों को सोमवार को सात-सात साल कैद की सजा सुनायी और 2.25 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया। चीफ मेट्रो पॉलिटेन मैजिस्ट्रेट डॉ. पंकज शर्मा की अदालत ने अंसल बधुओं को सात-सात जेल की कैद के अलावा प्रत्येक पर 2.25-2.25 करोड़ रुपये भुगतान करने का आदेश दिया। पटियाला हाउस अदालत ने अंसल बंधुओं के कर्मचारी रहे पी पी बत्रा एवं अनूप सिंह करायत के अलावा तत्कालीन अदालतकर्मी दिनेश चंद्र शर्मा को सात-सात साल की कैद और तीन-तीन लाख रुपयेे जुर्माने देने का आदेश दिया। जुर्माने की रकम अदा नहीं करने वाले दोषियों को अतिरिक्त छह माह कैद की सजा भुगतने का आदेश अदालत ने दिया है। सबूतों से छेड़छाड़ और उसे मिटाने के मामले में 2006 में सात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इनमें से हरस्वरूप पवार और धर्मवीर मल्होत्रा की मृत्यु हो चुकी है। पटियाला हाउस की इस अदालत ने आठ अक्टूबर को पांचों को दोषी करार दिया। उन्हें भारतीय दंड संहिता की 201, 409 और 120-बी धाराओं के तहत दोषी करार दिया था। उल्लेखनीय है कि दक्षिणी दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में उपहार सिनेमा हॉल में ‘बॉर्डर’ फिल्म दिखायी जा रही थी, इसी दौरान आग लग गई थी। 13 जून 1997 को हुए इस हादसे में 59 लोग मारे गये थे, जबकि करीब 100 घायल हुए थे। अग्निकांड में लोगों के मारे जाने के मामले में उच्चतम न्यायालय ने अंसल बंधुओं को दो वर्ष की सजा दी थी। उनके इतने ही समय जेल रहने के आधार पर हालांकि उन्हें 30-30 करोड़ रुपये अदा करने के बाद जेल से रिहा कर दिया गया था। 

कोई टिप्पणी नहीं: