बिहार : पांच दिवसीय चित्र प्रदर्शनी का शुरू - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 नवंबर 2021

बिहार : पांच दिवसीय चित्र प्रदर्शनी का शुरू

  • नितिन नवीन पथ निर्माण मंत्री, बिहार सरकार ने किया उद्घाटन उद्घाटन

art-galary-in-patna
पटना, 31अक्तूबर,  “सरदार बल्लभ भाई पटेल  जयन्ती” व राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर पटना के गाँधी मैदान में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के रीजनल आउटरीच ब्यूरो, पटना के द्वारा  आयोजित पांच दिवसीय (31 अक्टूबर से 04 नवंबर, 2021) चित्र प्रदर्शनी आज से शुरू हो गया। प्रदर्शनी सह पटेल जयंती समारोह का उदघाटन बिहार सरकार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने किया। इस मौके पर अतिविशिष्ट अतिथि  के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद रामकृपाल यादव भी मौजूद थे।, गणमान्य अतिथि के तौर पर एनसीसी निर्देशालय (बिहार- झारखंड) के अपर महानिदेशक मेजर जनरल एम इंद्रबालन, एसएसबी-पटना के  महानिरीक्षक पंकज दराद, और रीजनल आउटरीच ब्यूरो पटना के अपर महानिदेशक एस.के. मालवीय और  आरओबी/डीडीके न्यूज़ पटना के निदेशक विजय कुमार भी उदघाटन समारोह में उपस्थित थे।


समारोह को संबोधित करते हुए नितिन नवीन, पथ निर्माण मंत्री, बिहार सरकार ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने एक भारत श्रेष्ठ भारत का सपना संजोया था। सरदार पटेल ने  आजादी के बाद कई रजवाडों को एक  सूत्र में पिरोकर राष्ट्रीय एकता की नींव रखी थी। उन्होंने सभी को तिरंगे के नीचे लाने का काम किया था। श्री नवीन ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल के संकल्पों /सपनों को पूरा करने का काम कश्मीर से धारा-370 को हटा कर किया। आज पूरा भारत एक तिंरगे के नीचे है। उन्होंने कहा कि हमें अपने इतिहास और संस्कृति को जानना होगा। ऐसे में सरदार पटेल पर आयोजित यह चित्र प्रदर्शनी एक सार्थक पहल करती दीख रही है। उन्होंने कहा कि  युवा और नई पीढ़ी को इस चित्र प्रदर्शनी से इतिहास और भारतीय संस्कृति को समझने का बेहतर अवसर  मिलेगा। उदघाटन समारोह को संबोधित करते हुए अति विशिष्ट अतिथि पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद रामकृपाल यादव ने कहा कि सरदार पटेल के त्याग की वजह से आज हम सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि भारत की यही खूबसूरती है कि अनेक भाषाओं और संस्कृतियों के वावजूद आज हम एक हैं।यह इसलिये संभव हुआ है कि सरदार पटेल ने प्रतिज्ञा ली थी कि आजादी के बाद जितने भी रजवाड़े इस देश में हैं, सबको मिलाकर ‛एक भारत श्रेष्ठ भारत' बनाएंगे, और उन्होंने भारत को एक सूत में पिरो कर ही दम लिया।  उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने राष्ट्रीय एकता का जो मंत्र दिया था, उसे बरकरार रखने की जिम्मेदारी सभी भारतीयों की है। हमें सरदार पटेल की भावनाओं की कद्र करनी चाहिए और उनके बताए हुए रास्ते पर चलना चाहिए। बिहार- झारखंड, एनसीसी निदेशालय के अपर महानिदेशक मेजर जनरल एम इंद्रबालन ने कहा कि सरदार पटेल की जयंती पर आज हम उन्हें याद कर रहे हैं। आज का दिन इसलिए महत्वपूर्ण है कि सरदार पटेल का जीवन हमें प्रेरणा देता है और राष्ट्रीय एकता का पाठ पढ़ाता है। सरदार पटेल ने भारत को एक सूत में पिरोने के लिए अपने दृढ़ निश्चय, राजनयिक सूझबूझ और शक्ति प्रयोग के जरिए अलग-अलग बिखरे राजवाड़ो का भारतीय संघ में विलय करके एक मजबूत राष्ट्र की नींव रखी।


चित्र प्रदर्शनी सह सरदार पटेल जयंती समारोह को संबोधित करते हुए एसएससबी, पटना के महानिरीक्षक पंकज दराज ने कहा कि 31 अक्टूबर, 2014 से राष्ट्रीय एकता दिवस को मनाते हुए महापुरुष सरदार पटेल को कृतज्ञ राष्ट्र नमन करता आ रहा है। उन्होंने कहा कि आज जो भारत हम देख रहे हैं, उसका सारा श्रेय सरदार पटेल को जाता है। अगर पटेल नहीं होते तो देश का स्वरूप कुछ और होता। हमें सरदार पटेल के संकल्प को हमेशा याद करते हुए एक राष्ट्र श्रेष्ठ राष्ट्र को आत्मसात करना होगा और यही सरदार पटेल के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस अवसर पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के रीजनल आउटरीच ब्यूरो,पटना के अपर महानिदेशक शैलेश कुमार मालवीय ने कहा कि सरदार पटेल ने एक भारत श्रेष्ठ भारत  की कल्पना की थी और इस कल्पना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगे बढ़ा रहे हैं। श्री नरेंद्र मोदी ने 31 अक्टूबर को 'राष्ट्रीय एकता दिवस' के तौर पर मनाये जाने की शुरुआत कर 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' का मंत्र दिया था और ये हमारी जिम्मेदारी बनती है कि कैसे श्रेष्ठ भारत को हम बनाए रखें। श्री मालवीय ने पांच दिवसीय आयोजन के दौरान होने वाले कार्यक्रमों को विस्तार से बताते हुए कहा कि इस प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य भारत रत्न लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन, आदर्शों, संदेशों और सपनों को आम जन तक ले जाना है। इस पांच दिवसीय आयोजन के दौरान चित्र प्रदर्शनी, पुस्तक प्रदर्शनी, सांस्कृतिक कार्यक्रम, रैली, परिचर्चा, संगोष्ठी, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, चित्रांकन प्रतियोगिता, स्वच्छता श्रम दान, वृक्षारोपण समेत अन्य कई कार्यक्रम भी होंगे। कार्यक्रम की शुरुआत में मुख्य अतिथि और उद्घाटनकर्ता नितिन नवीन, पथ निर्माण मंत्री, बिहार सरकार ने चित्र प्रदर्शनी का उद्घाटन व अवलोकन  किया। मौके पर एनसीसी के कैडेटों ने मुख्य अतिथि और अति विशिष्ट अतिथि को गार्ड ऑफ ऑनर दिया। इस अवसर पर लोक गायिका नीतू नवगीत  ने राजकीय बांकीपुर बालिका विद्यालय की छात्राओं  के सहयोग से स्वागत गान प्रस्तुत किया। कार्यक्रम के दौरान सरदार पटेल पर आधारित एक वृत-चित्र (डॉक्यूमेंट्री) भी दिखाया गया। कार्यक्रम का संचालन मिनती चकलानवीस और धन्यवाद ज्ञापन प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो,पटना के सहायक निदेशक संजय कुमार ने किया। समारोह स्थल पर इंडियन ऑयल (आईओसीएल), डाक विभाग, खादी ग्राम उद्योग आयोग, प्रकाशन विभाग, वस्त्र मंत्रालय के हस्त शिल्प सेवा केंद्र, एसएसबी, बिहार राज्य स्वास्थ्य समिति और आईडीबीआई बैंक के द्वारा  स्टॉल भी लगाया गया है। साथ ही बिहार राज्य स्वास्थ्य समिति के स्टॉल पर प्रतिदिन कोरोना के टीका देने की व्यवस्था भी की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: