धूमधाम से मनी चक्रवर्ती सम्राट राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु की जयंती - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 नवंबर 2021

धूमधाम से मनी चक्रवर्ती सम्राट राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु की जयंती

  • जायसवाल क्लब के तत्वावधान में शीघ्र भगवान की जन्मस्थली महेश्वर-इंदौर में होगा तीन दिवसीय भव्य आयोजन 
  • समाज के स्वजातिय बंध्ुाओं का आह्वान, घरों में होने वाले आयोजनों मे बजाएं भगवान सहस्त्राबाहु के भजन 
  • 27 नवंबर को श्रद्धेय काशी प्रसाद जायसवाल की जयंती पर होगा भव्य कार्यक्रम , सरकार से शहर के प्रमुख स्थलों पर भगवान सहस्त्राबाहु की मूर्ति व चौराहों के नामकरण की मांग 

sahashrabahu-anniversiry
वाराणसी (सुरेश गांधी) चक्रवर्ती सम्राट राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती गुरुवार को जगतगंज स्थित जायसवाल क्लब कार्यालय में धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर जायसवाल क्लब राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज जायसवाल की देखरेख में वैदिक मंत्रोचार एवं विधि-विधान पूर्वक समाज के कुलदेवता भगवान राज राजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन की तैल चित्र के समक्ष माल्यार्पण, पूजन-अर्चन एवं हवन किया गया। हवन-पूजन एवं आरती मनोज जायसवाल सहित स्वजातिय बंधुओं ने किया।  इस मौके पर जायसवाल क्लब के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज जायसवाल ने समाज के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन शक्तिशाली सम्राट रहे हैं। उन्होंने रावण जैसे योद्धा को हराया था। उन्हें गर्व है कि जायसवाल समाज उनके वंशज है। उनके विचारों एवं पराक्रम को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना समाज के हर व्यक्ति की नैतिक जिम्मेदारी है। इस दौरान उन्होंने कहा कि जिस तरह संत रविदास की जंयती के मौके पर उनकी जन्मस्थली सीरगोवर्धन में तीन दिवसीय भव्य आयोजन होता है उसी तर्ज पर समाज के कुलदेवता सहस्त्राबाहु की जयंती के मौके पर उनकी जन्मस्थली महेश्वर-इंदौर में क्लब की ओर से भव्य आयोजन कराया जायेगा। साथ ही काशी के सभी प्रमुख स्थलों जैसे गिरजाघर-गोदौहलया, मैदागिन, लहुराबीर, शिवपुर, लंका सहित कई जगहों पर भगवान सहस्त्रसबाहु की मूर्ति लगवाने एवं चौराहों का नामकरण करने की मांग सरकार से करेगा। 


इस दौरान मनोज जायसवाल ने स्वजातिय बंधुओं से घरों में होने वाले उत्सवों एवं आयोजनों में भगवान सहस्त्राबाहु के भजन एवं आरती कराने का आह्वान किया। मनोज जायसवाल ने समाज की एकजुटता पर बल देते हुए कहा कि उनके पूर्वज रहे काशी प्रसाद जायसवाल का इसमें विषेष योगदान रहा है। क्लब ने निर्णय लिया है कि उनकी जयंती के मौके पर 27 नवंबर को एक वृहद कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। इसके पूर्व कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को जायसवाल क्लब की ओर स्वजातिय बंधुओं के ललाट पर चंदन तिलक लगाया। इसके बाद बारी बारी से समाज के लोगों ने भगवान सहस्त्रबाहुजी महराज के तैलचित्र के समक्ष पुष्प अर्पित कर हवन एवं आरती की।  इस मौके पर अनिल गुप्ता ने शहर में बढ़ते डेंगू के प्रक्रोप को देखते हुए इसे मारने में महती भूमिका निभाने वाली अगरबत्ती का निःशुल्क वितरण किया। कार्यक्रम में समाज के स्वजातीय बंधुओं में भगवानदास जायसवाल, मुरलीधर जायसवाल, जेडी गुप्ता, विजय जायसवाल, धमेन्द्र जायसवाल, कंहैयालाल जायसवाल, रीना जायसवाल, मुस्कान जायसवाल, सुरेश गांधी, रमेश जायसवाल, अरविन्द जायसवाल, अखिलेश जायसवाल, जीतचंद जायसवाल, कमलेश, मुरली मनोहर, संजीव, किशन, शरद चंद, दीप चंद, राजेश्वरी व सरिता जासवाल सहित अन्य लोग मौजूद थे। अंत में रीना जासवाल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: