बिहार : मंहगाई और नशा को सत्ता संरक्षण के खिलाफ अभियान चलाएगी ऐपवा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 24 नवंबर 2021

बिहार : मंहगाई और नशा को सत्ता संरक्षण के खिलाफ अभियान चलाएगी ऐपवा

aipwa-will-run-caimpagn
पटना, 24नवंबर. अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन की राज्य कार्यकारिणी की बैठक आज पटना ग्रामीण के कन्हौली गांव में संपन्न हुई. बैठक में राज्य भर से ऐपवा के प्रतिनिधि शामिल हुईं. बैठक में महिलाओं पर लगातार बढ़ती हिंसा और अत्याचार के खिलाफ आंदोलन पर विचार विमर्श हुआ.बैठक को ऐपवा महासचिव मीना तिवारी ने संबोधित किया. बैठक की अध्यक्षता सरोज चौबे व संचालन शशि यादव ने किया. बैठक के जरिए कई प्रस्ताव पास किए गए.प्रस्ताव में  कहा गया है कि केंद्र की मोदी सरकार इस तरीके से लगातार महंगाई बढ़ा रही है महंगाई पर कोई अंकुश नहीं है रसोई गैस मुफ्त देने के नाम पर चुनाव जितने वाली सरकार के राज में गैस इतना मंहगा हो गया है कि आज गरीबों के घर में सिलेंडर एक कोने में पड़ा हुआ है.  बिहार में शराबबंदी के नाम पर गरीब खास तौर पर मुसहर टोले में पुलिस अत्याचार कर रही है. मध्यमवर्गीय घरों में महिलाओं के कमरे में छापेमारी हो रही है जबकि शराब माफिया पर कोई अंकुश नहीं है.ऐपवा ने कहा है कि शराबबंदी बिहार की महिलाओं की एक लोकप्रिय मांग थी लेकिन नीतीश सरकार शराबबंदी के नाम पर गरीबों को परेशान कर रही है जबकि बिहार में नशा का कारोबार लगातार बढ़ रहा है जाहिर सी बात है कि सत्ता के संरक्षण के बिना यह नशा का व्यापार नहीं हो सकता.  मंहगाई और शराब व नशा के सवाल पर ऐपवा ने आंदोलन करने का निर्णय लिया है. आगामी 3 दिसंबर से 10 दिसंबर मानवाधिकार दिवस तक अभियान चलाने का निर्णय लिया है.ऐपवा पटना कमेटी की माधुरी गुप्ता ने जानकारी दी है.

कोई टिप्पणी नहीं: