मधुबनी : शराबबंदी में कारोबार कहीं भी बन्द : शीतलाम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 नवंबर 2021

मधुबनी : शराबबंदी में कारोबार कहीं भी बन्द : शीतलाम्बर

shitlambar jha
मधुबनी : जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है बिहार में शराबबंदी कानून  पांच वर्षों से ज्यादा से ही लागू है,लेकिन शराब की कारोबार कहीं भी बन्द नही है,जिला के कोई भी गांव,चौक चौराहा,शहर नही जहाँ शराब आसानी से उपलब्ध नहीं होता हो यह कैसा शराबबंदी कानून है ,बड़े पैमाने पर शराब माफियाओं द्वारा अपने आदमियों के द्वारा घर घर पहुंचाया जा रहा है, यह कारनामा कहीं न कहीं पुलिस के मिलीभगत से ही होता है,निचले पदाधिकारीयों से लेकर बड़े अधिकारियों तक को भी शराब माफियाओं की जानकारी है,छोटे स्तर के कारोबारी तो पकड़े भी जातें है लेकिन बड़े कारोबारी पर हाथ नही डाला जाता न वह पकड़ा जाता है क्योंकि सभी शागिर्द है। प्रो झा ने कहा होली से लेकर अभी तक बिहार में जहरीली शराब पीने से लगभग सैकड़ों लोगों की जान चली गई लेकिन अधिकारियों से लेकर विभागीय मंत्री तक कोई जबाबदेही लेने को तैयार नही है,आये दिन सत्ताधारी दल के नेताओं से लेकर मंत्री तक के सगे संबंधियों का नाम उजागर होता रहा लेकिन को ठोस कार्रवाई नही हुई अब सरकार शमीक्षा की बात करती है। जिलाध्यक्ष प्रो झा ने बड़े ही स्पष्ट शब्दों में कहा है यदि सरकार को शराबबंदी कानून को शत प्रतिशत लागू करना है नियत साफ है तो राजनीतिक दलों के नेताओं से लेकर सभी स्तर के अधिकारियों एवं मंत्रियों तक का कोरोना जांच की तरह प्रत्येक सप्ताह शराब पीने की जांच हो और ठोस कार्रवाई हो,छोटे पदाधिकारियों से लेकर बड़े अधिकारियों तक जिम्मेदारी निर्धारित हो यदि उसमें सफल नही होते है तो उन पर कार्रवाई हो उन्हें जिला से लेकर थाना तक के दायित्व से मुक्त रखा जाय साथ ही सामाजिक राजनैतिक दलों के नेताओं पर भी अंकुश लगे शराब के कारोबार में शामिल कोई भी लोग हो उन्हें पंचायत चुनाव से लेकर विधानसभा एवं लोकसभा चुनावों तक उन्हें एवं उनके सगे संबंधी पर भी रोक लगे,ठोस कानून बने जो निचले अदालतों में शराब माफियाओं को जमानत नही मिले  तो लोगों में कानून का डर होगा साथ ही यह भी प्रावधान हो शराब बेचने या पीने बालों को भी कम से कम तीन वर्षों तक जमानत नही मिले तो बहुत हद तक शराबबंदी सफल हो सकता है।मुझे आश्चर्य होता है सरकार के सबसे बड़े दल बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष संसद संजय जयसवाल जी भी कहतें है शराब माफियाओं पर कोई कार्रवाई नही होता यह चिंताजनक है, यदि कार्रवाई नही होता तो बीजेपी सरकार में रहकर सिर्फ मलाई खाने के लिए है ये दोनों बात नही होगी या सरकार से बाहर निकले।

कोई टिप्पणी नहीं: