बिहार : फादर पायस माइकल ओस्ता के नेतृत्व में राजाओं का राजा का पर्व मनाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 22 नवंबर 2021

बिहार : फादर पायस माइकल ओस्ता के नेतृत्व में राजाओं का राजा का पर्व मनाया

christian-festival
पटना : आज राजाओं का राजा का पर्व है. पटना महाधर्म प्रांत में है सबसे बड़ी जनसंख्या वाली कुर्जी पल्ली.इस  पल्ली के पल्ली पुरोहित हैं फादर पायस माइकल ओस्ता.आज फादर पायस माइकल ओस्ता के नेतृत्व में राजाओं का राजा का पर्व मनाया गया. रविवार को ईसाई समुदाय द्वारा ख्रीस्त राजा पर्व मनाया गया. इस मौके पर दोपहर ढाई बजे से नवज्योति निकेतन से एक शोभायात्रा निकाली गयी. इस शोभा यात्रा में हजारों की संख्या में ईसाई धर्म के पुरोहित, धर्म बहनें एवं अन्य लोग शामिल थे. इस शोभायात्रा में समाजसेवी पप्पू राय,भाई धर्मेंद्र,शशि देवी, धनंजय यादव आदि का योगदान रहा. शोभायात्रा नवज्योति से प्रारंभ होकर पटना-बांसघाट-दीघा मुख्य मार्ग से होकर प्रेरितों की रानी ईश मंदिर के परिसर में पहुंच कर समाप्त हो गया.शोभा यात्रा के प्रारंभ में पारलौकिक राजत्व का आशीष एवं आराधना प्रेरितों की रानी ईश मंदिर के प्रधान पुरोहित फादर पायस माइकल ओस्ता के द्वारा किया गया. यात्रा की अगुवाई कुर्जी पल्ली के प्रथम परमप्रसाद ग्रहण कर चुके और दृढ़करण संस्कार ले चुके छात्र- छात्राओं द्वारा पुष्प वर्षा कर की गयी.मेडम ग्रेसी मार्गदर्शन कर रही थीं. शोभा यात्रा को सफल बनाने में सुशील लोबो, संजय कुमार, फादर प्रोविंशियल,फादर जोनसन,फादर मथियस, प्रकाश फ्रांसिस आदि का सक्रिय सहयोग रहा.झारखंड विधानसभा के एंग्लो इंडियन समुदाय से विधायक ग्लेन गॉलस्टेन भी मौजूद थे.


ईसा मसीह स्वर्ग के भी राजा 

ख्रीस्त राजा पर्व मनाने के पीछे ईसाइयों का मानना है कि ख्रीस्त केवल विश्व के ही नहीं बल्कि स्वर्ग के भी राजा हैं. मान्यता के अनुसार यह पर्व वर्ष के अंतिम पूजन रविवार को मनाया जाता है. ईसा मसीह ऐसे राजा हैं जिनका राज्य सर्वव्यापी है. इससे जुड़ी एक घटना यह है कि जब ईसा मसीह को क्रूस पर लटकाया गया था और वे भयंकर पीड़ा से जूझ रहे थे, तब राजपाल ने अपने अभियोग पत्र में यह लिख कर टांग दिया था कि ईसा यहूदियों के राजा हैं.बाद में राजपाल को ईसा मसीह की सच्चाई का पता चला.तब से ईसा मसीह को ख्रीस्त राजाओं का राजा कहा जाने लगा.

कोई टिप्पणी नहीं: