प्रतापगढ़ : सम्प्रेषण गृह का निरीक्षण एवं विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 12 नवंबर 2021

प्रतापगढ़ : सम्प्रेषण गृह का निरीक्षण एवं विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

child-awareness-pratapgadh
प्रतापगढ़/12 नवम्बर, आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर पेन इंडिया अवेयरनेस एण्ड आउटरीच कार्यक्रम के तहत सम्प्रेषण गृह प्रतापगढ़ का निरीक्षण एवं राणा पुंजा बालक छात्रावास में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण(अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश), प्रतापगढ़ श्री शिवप्रसाद तम्बोली द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर छात्रावास के बालकों  को कृषि से संबंधित जानकारी देते हुए बताया गया कि खेती के देशी तरीकांे का भी प्रयोग करना चाहिए ताकि मिट्टी की उर्वरा शक्ति बनी रहे । इसी संबंध में ग्रामीणों को देशी खाद निर्माण, देशी कीटनाशक निर्माण, खेती की देशी पद्धति तथा जल संचय की जानकारी प्रदान की गई। आमजन को बीज उपचार(कल्चर) करने के आसान तरीकों से अवगत कराते हुए बताया गया कि गाय के गौमूत्र से बीजोपचार किया जा सकता है।  स्वरोजगार के क्षेत्र में कार्यरत धरियावद रोड़ स्थित बड़ौदा स्वरोजगार संस्थान की जानकारी भी आमजन को दी गई। संस्थान द्वारा निःशुल्क सिलाई सिखाने, अगरबत्ती बनाना एवं वर्मी कम्पोस्ट बनाना सिखाया जाता है। इसके माध्यम से अधिक से अधिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों से जुड़कर ग्रामीण एवं आमजन स्वरोजगार से जुड़ सकते हैं और स्वयं की आय में वृद्धि कर सकते हैं।  विधिक जानकारियांे के तहत बाल विवाह निषेध, मृत्यु-भोज निषेध, कन्या भ्रूण हत्या निषेध, पीसीपीएनडीटी एक्ट, जन्म-मृत्यु पंजीयन, मोटर व्हीकल अधिनियम, वरिष्ठ नागरिकों के अधिकार, पीड़ित प्रतिकर स्कीम एवं विधिक सहायता की जानकारी दी गई।  किशोर न्याय बोर्ड प्रतापगढ़ के निरीक्षण के दौरान उपस्थित बालकों को उनके अधिकारों से अवगत कराया गया तथा किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधानों की जानकारी दी गई। निरीक्षण के दौरान 07 उपेक्षित, 02 शिशु तथा 03 विधि से संघर्षरत बालक उपस्थित पाए गए।

कोई टिप्पणी नहीं: