विशेष : रासायनिक खेती से लढता प्रकाश नाम का जैवीक योध्दा. .. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 22 नवंबर 2021

विशेष : रासायनिक खेती से लढता प्रकाश नाम का जैवीक योध्दा. ..

farmer-and-chamical
मेरा नाम प्रकाश बालू बरजोड है, और पिछले चार वर्षों से मैं राजस्थान  के बासवाडा जिले आनंदपुरी तहसील  के सरवाई  मेनापादर गाँव में वागधरा संस्था मे  कृषि सहजकर्ता   के रूप में काम कर रहा हूँ।  मेरी मुख्य भूमिका है कि  में इस जनजातिय क्षेत्र में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों के साथ काम करना शामिल है।वागधरा संस्था के सच्ची खेती कार्यक्रम के तहत    ईस जनजातिय क्षेत्र जैवीक खेती बढाने हेतू कार्य करती हैं.. वागधारा संस्था द्वारा मुझे टिकाऊ कृषि में प्रशिक्षित किया गया था।  मैंने मुख्य रूप से ईन क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्राप्त किया- बीज सुधार ,अंकुरण, चयन और उपचार,  मृदा स्वास्थ्य, रोग प्रबंधन और बीजों की कटाई और भंडारण। कृषि सहजकर्ता के रूप में काम करने से पहले, मैं एक विद्यार्थी था ।  मैंने देखा और पढा भी था  कि हम अपने खेतों के उपज बढाने के लिए बहुत सारे अकार्बनिक उर्वरकों का उपयोग कर रहे थे, जिससे उपज में वृद्धि हुई, लेकिन मधुमेह और रक्तचाप जैसी कई बीमारियाँ भी हुईं- यहाँ तक कि मेरे गाँव के बहुत कम उम्र के लोगों में भी इस बिमारी के चपट में आए  ।  यह सब मैं देखता था, और इतनी सारी बीमारियों  के प्रति संवेदनशील हों गया था  और मन में लग रहा था कि जब जब हम रासायनिक खेती कर रहे हैं तब से ईन बीमारियां बढी हैं! जब हम खेती में रसायनों का उपयोग करना जारी रखेंगे।  हम हमारे बच्चो  का भविष्य सुरक्षित कैसै करेंगे ? ईसी दौरान मैने वागधारा संस्था के कृषि सहजकर्ता  के पद के लिए आवेदन किया।  एक कृषि सहजकर्ता  के रूप में, मैं कुछ जैविक कृषि पद्धतियों को वापस लाना चाहता हूं जिनका पालन हमारे पूर्वजों ने किया था,कि वह जैवीक खेती  हमें स्वस्थ भी रखती है! 

 

farmer-and-chamical
मेरे  जनजातिय स्वराज संघटन आनंदपुरी ईकाई मे 210 जैवीक किसान समुह वागधारा ने स्थापित की है जिसमे  1060  किसानों के साथ काम करता हूं।  मेरा ज्यादातर काम छोटे और सीमांत किसानों और वागधारा गठित महिला सक्षम समूह के साथ है। वागधारा के कई महिला सक्षम  समूहों  के साथ काम करता हूँ , और उनके माध्यम से मैं उन परिवारों तक पहुंचता हूं जिनके पास पोषण संबंधी कोई समस्या हो सकती है या कम आय वाले परिवारों तक पहुंच सकते हैं।  वागधरा द्वारा  महिलाओं को बीज देता हूं और  जैविक पोषण वाटीका  बनाने का प्रशिक्षण देता हूं, जहां वे अपने स्वयं के उपभोग के लिए विभिन्न सब्जियां उगाता हु ।  जब हमें बाहर से जहरीली सब्जियां क्यों खरीदनी चाहिए जब हम खुद ही उगा सकते हैं? एक कृषी  सहजकर्ता होने के नाते, जब मैंने पहली बार काम करना शुरू किया तो  किसान अक्सर मेरी बात मानने से इनकार कर देते थे।  उन्होंने कहा कि वे अकार्बनिक उर्वरकों का उपयोग जारी रखेंगे क्योंकि इससे बड़ी फसल पैदा होती है, जिससे उन्हें अपने परिवार का भरण-पोषण करने में मदद मिलती है।  मैंने यह समझाने की कोशिश की कि ये कैसे बहुत सारी बीमारियों को जन्म देते हैं और सुझाव दिया कि वे अपनी जमीन के एक छोटे से हिस्से पर जैवीक खेती प्रयास करें- लेकिन उन्होंने मना कर दिया। किसानों की अनिच्छा नकारता  को देखते हुए, मैंने अपनी रणनीति बदली और इसके बजाय स्थानीय सक्षम समूह की महिलाओं से संपर्क किया। और   हर दिन मैं एक अलग सक्षम महीला  समूह बैठक उपस्थित रहकर  में और इस बारे में जागरूकता पैदा की कि कैसे रासायनिक खेती से अधिक बीमारियां होती हैं और उत्पादन की लागत अधिक होती है परंतु पैसा भी ज्यादा लगता हैं ।  मैंने उन्हें दिखाया कि कैसे स्थानीय रूप से उपलब्ध जैविक उत्पादों जैसे गाय के गोबर और नीम के पत्तों का उपयोग न केवल उत्पादन की लागत को कम कर सकता है बल्कि बीमारियों को भी रोक सकता है।  धीरे-धीरे, महिलाओं ने अपने व्यक्तिगत पोषण वाटीका  में एक सच्ची खेती की जैवीक पध्दती अपनाना शुरू कर दिया।  जब उन्होंने स्वयं देखा कि इस पद्धति से अच्छी गुणवत्ता वाली उपज प्राप्त होती है, तो उन्होंने अपने पतियों को इसे भूमि के एक छोटे से क्षेत्र में प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया। समय के साथ मैं समुदाय का विश्वास हासिल करने में सक्षम हुआ हूंया ।  शुरू में लोग अपनी बहुत कम बीघा  जमीन को जैविक खेती के लिए इस्तेमाल करते थे, लेकिन आज मेरे जनजातिय स्वराज संगठन इकाई मानगढ में 550 बीघा  जमीन पर जैविक खेती की जाती है।


अपनी दैनदींनी कामकाज के  बारे में प्रकाश बताता है कि सुबह 9 बजे: मैं अपने घर के काम खत्म करता हूं और दिन के अपने पहले फील्ड विजिट के लिए निकलता हूं।  मैं आमतौर पर अपने क्षेत्र में  हर दिन दस से बारा  किसान जैवीक समुह के किसानों से मिलने जाता हूं।  हम किसानों के सामने आने वाली किसी भी समस्या पर चर्चा करते हैं, चाहे वह बीमारी हो, कीट हो या कीट।  मेरे प्रशिक्षण के आधार पर, हम समाधान खोजने के लिए मिलकर काम करते हैं।  अगर मुझे यकीन नहीं है कि क्या किया जाना चाहिए, तो मैं एक फोटो लेता हूं और वागधारा की  साप्ताहिक बैठक में संस्था के तकनीकी मार्गदर्शक रोहीतजी सलाह लेता हूँ किसान के पास अपनी खेती की अगली योजना , मैं उनके साथ समाधान हमारे संस्था के वरिष्ठ तकनीकी अधिकारियों साझा करता हूं।  मैं किसानों और संस्था अधिकारियों के बीच सेतु का काम करता हूं। हाल ही में  ऐसे किसान से मिलने गया हूँ जिसकी फसल को एफिड के प्रकोप से नुकसान हो रहा था।  इससे निपटने के लिए, मैंने कुछ स्थानीय सामग्री-जैसे नीम और गोमूत्र का अर्क- का सुझाव दिया था,  और उसका उपयोग करके किसानों अपनी   फसल का खूद किट प्रबंधन जैवीक पध्दती से किया!  मुझे मिट्टी परीक्षण का भी प्रशिक्षण दिया गया है।  मैं समय-समय पर अपने खेतों के दौरे पर मिट्टी की किट लेता हूं ताकि किसानों को उनकी मिट्टी पर अकार्बनिक उर्वरकों के उपयोग के हानिकारक प्रभावों को दिखाया जा सके।  मैं उनकी मिट्टी का परीक्षण करता हूं, और जहां मिट्टी बहुत अधिक अम्लीय है, मैं उन्हें बताता हूं कि वे ऐसी मिट्टी पर अनाज की खेती नहीं कर सकते। हमारा पहला काम तब हरी खाद या अन्य जैविक उत्पादों पर परत बनाकर   के खराब मिट्टी की गुणवत्ता को सुधार करना होता है। मैं किसानों को जैविक खेती के तरीकों में प्रशिक्षित करने के लिए उनके साथ काम करता हूं और उन्हें अपना इनपुट बनाने में मदद करता हूं।  जब भी कोई नया  तरीका, या तकनीक मैं प्रदर्शित करना चाहता हूं, तो मैं किसानों को अपने डेमो प्लॉट में लाता हूं - मेरी अपनी 4 बिघा जमीन है उसमें मैं जैविक खेती पध्दती  का उपयोग करके खेती कर रहा हूँ ।   मैं  किसानों और सक्षम महिला समुह को जैविक खेती के तरीकों के बारे में बात करने के जैवीक सच्ची खेती की आवश्यकता और दशपर्णी, जिवामृत का उपयोग करता हूं जो बीमारियों को कम कर सकते हैं और फसल की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं।और  मैं  सतत प्रयासरत रहता हु कि सच्ची खेती को अधिक टिकाऊ कैसे बनाया जाए।


 मैं किसी भी नए पध्दती को आजमाने और किसानों को परिणाम दिखाने के लिए अपने स्वयं के खेती जमीन का उपयोग करता हूं।  पहले जब मैं जैविक खेती के तरीकों के लाभों के बारे में बात करता था तो कोई भी मुझ पर विश्वास नहीं करता था।  जब किसानों ने अपनी आंखों से इसका प्रभाव देखा, तभी वे मुझ पर भरोसा करने लगे और नई चीजों को आजमाने के लिए खुद तयार हो गए ।  मुझे बडा अच्छा लगता है कि अधिक से अधिक किसान जैविक खेती की ओर रुख कर रहे हैं, लेकिन जिन चीजों के बारे में मुझे चिंता है उनमें से एक यह है कि इस प्रक्रिया को और अधिक टिकाऊ कैसे बनाया जाए। इसलिए  वर्तमान में, किसान वर्मीकम्पोस्ट और अन्य जैविक आदानों जैसी सामग्रियों की आपूर्ति के लिए हम पर निर्भर हैं।  लेकिन जब मैं नहीं रहूंगा तो किसान इसे लंबे समय तक कैसे बनाए रखेंगे?  और इसलिए मैंने उन्हें सिखाना शुरू कर दिया है कि कैसे अपनी खुद की वर्मीकम्पोस्ट, जीवामृत , बीजामृत  और घर पर अन्य जैविक कंपोस्ट बेड बनाते  है।   और अपने आगे की दैनदींनी के बारे प्रकाश बताते है कि हमारे ब्लॉक के वागधारा के  स्वराज मित्रों  के  साथ हर सप्ताह एक घंटे का  प्रशिक्षण सत्र होता है, जहां वे पहले सीखी गई बातों को दोहराते हैं और किसी भी संदेह को दूर करते हैं।  हम जो कुछ भी सीखते हैं, उसके बाद हम किसानों को पढ़ाने जाते हैं। COVID-19 से पहले, हमारे प्रशिक्षण  सत्र व्यक्तिगत रूप से होते थे ।  हालाँकि, लॉकडाउन के बाद, यह सब ऑनलाइन हो गया  है।  हम प्रशिक्षण सत्रों में भाग लेने के लिए अपने स्मार्टफ़ोन पर ज़ूम का उपयोग करते  हैं,  सभी सामग्री और PDF—विधियों के बारे में, आवश्यक सामग्री, जैविक खाद बनाने की विधि—पीडीए प्रतिभागी ऐप के माध्यम से हमें ओडिया में पहुंचाई जाती है।  हम इन्हें किसी भी समय डाउनलोड कर सकते हैं और यहां तक ​​कि किसानों के साथ व्हाट्सएप पर साझा कर सकते हैं।


मैं अपनी डायरी अपडेट करने के लिए पंचायत कार्यालय जाता हूं, जहां मैं अपने काम के बारे में लिखता हूं।  आमतौर पर, मेरे काम में कई तरह की गतिविधियाँ शामिल होती हैं- क्षेत्र का दौरा, प्रशिक्षण, पोषण उद्यान के बारे में जागरूकता पैदा करना, अन्य चीजों के अलावा।  इसलिए, डायरी में मैं आज किए गए विशिष्ट कार्यों का दस्तावेजीकरण करता हूं, जिसमें यह शामिल है कि मैंने कितने किसानों का दौरा किया, जो सभी मेरे प्रशिक्षण सत्रों में शामिल हुए, कितने किसान मुझसे सहमत या असहमत थे, इसकी अपने डायरी में लिख लेता हूँ । मैं किसानो को समजाता हूं कि कैसे  रासायनिक  खेती का उपयोग करके उनकी फसल की उपज अधिक हो सकती है, लेकिन उनका शुद्ध लाभ कम है क्योंकि रासायनिक खाद कीटनाशक इनपुट खरीदना महंगा है।  यदि वे जैविक खेती के तरीकों का उपयोग करते हैं, तो उनकी उपज थोड़ी कम हो सकती है, लेकिन उनका कुल निवेश भी काफी कम होगा। और आपका स्वास्थ्य बिमारी मुक्त रहेगा मैं उन्हें प्रोत्साहित करता हूँ. .





विकास परसराम मेश्राम 

कार्यक्रम अधिकारी, वागधारा 

vikasmeshram04@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: