बिहार : नीतीश ने मंत्रियों से कहा शिकायतों को सुना कीजिए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 नवंबर 2021

बिहार : नीतीश ने मंत्रियों से कहा शिकायतों को सुना कीजिए

nitish-to-minister-hear-public-grivances
पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सप्ताह के पहले दिन यानी सोमवार को जनता दरबार लगा रहे हैं। इस दौरान वह गृह,वित्,समान्य प्रशासन,जमीन व अन्य विभाग से जुड़ी शिकायतों की सुनवाई कर रहे थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस बार के जनता दरबार में सबसे अधिक मामला जमीन और अंचलाधिकारी से जुड़ा हुआ था। जिसके बाद नीतीश कुमार ने लगातार इस विभाग से मिल रही शिकायत को देखते हुए विभागीय मंत्री को तलब कर दिया। साथ ही उन्होंने मंत्री को अच्छे तरीके से काम करने की सलाह भी दे डाली। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार अंचाधिकारियों के बारे में मिल रही शिकायतों से परेशान हो गए। जिसके बाद नीतीश कुमार ने तल्ख तेवर अपना लिया और उन्होंने राजस्व और भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय को तलब कर लिया और सीएम ने मंत्री रामसूरत राय से कहा कि जरा आप भी सुना कीजिए…. आपके यहां बहुत केस आ रहा…जरा गौर से सुना कीजिए। वहीं, सीएम के तल्ख तेवर देख राजस्व मंत्री रामसूरत राय ने मुख्यमंत्री से कहा कि जी…जी सुन रहे हैं। उसके बाद मंत्री जी अपने निर्धारित जगह पर चले गये। दरअसल, नीतीश कुमार को जनता दरबार में गया से आए एक फरयादी ने कहा कि हमारी जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया गया है। इसको लेकर जिलाधिकारी ने अवैध कब्जा हटाने का आदेश भी जारी कर दिया गया था। लेकिन जिलाधिकारी के आदेश के बाद भी अंचलाधिकारी ने इस आदेश को मानने से इनकार कर दिया। जिसके बाद इस घटना को सुनकर सीएम भी भौंचक रह गये। उसके बाद नीतीश कुमार ने सवाल किया कि डीएम के आदेश पर भी सीओ ने कार्रवाई नहीं की ? तब फरियादी ने कहा कि सर डीएम के आदेश का पत्र लगा है। उसके बाद इस पत्र को देख सीएम आगबूला हो गए और उन्होंने तुरंत मुख्य सचिव को फोन लगाकर कहा कि डीएम का आदेश अंचलाधिकारी नहीं मान रहा। ऐसे में तो कार्रवाई होनी चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: