बिहार : मुख्यमंत्री करेंगे एनटीपीसी बरौनी और बाढ़ की पावर युनिट्स का लोकार्पण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

बिहार : मुख्यमंत्री करेंगे एनटीपीसी बरौनी और बाढ़ की पावर युनिट्स का लोकार्पण

nitish-will-inaugrate-barauni-badh-ntpc-unit
पटना, 26 नवम्बर, बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतिश कुमार 27 नवम्बर 2021 को केन्द्रीय विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा मंत्री श्री आर.के. सिंह  की गरिमामय उपस्थिति में एनटीपीसी बाढ़ सुपर थर्मल पावर स्टेशन, पटना की युनिट-1 (660 मेगावॉट) और एनटीपीसी बरौनी थर्मल पावर स्टेशन की स्टेज-2 (500 मेगावॉट) का लोकार्पण करेंगे।  श्री गिरीराज सिंह, केन्द्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री, श्री राजीव रंजन, लोकसभा, मुंगेर, श्री नीरज कुमार, विधान परिषद के सदस्य, बिहार, श्री राम रतन सिंह, विधानसभा सदस्य, तेघरा, बिहार, श्री राज कुमार सिंह, विधानसभा सदस्य, मटीहानी, बिहार, श्री ज्ञानेन्द्र कुमार सिंह, विधानसभा सदस्य, बाढ़ तथा बाढ़ एवं बरौनी क्षेत्र के अन्य वरिष्ठ प्रतिनिधि भी इस अवसर पर मौजूद रहेंगे। बिहार के नागरिकों, राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों तथा विद्युत मंत्रालय के अधिकारियों को भी समारोह में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया गया है। श्री गुरदीप सिंह, सीएमडी, एनटीपीसी लिमिटेड, एनटीपीसी के निदेशक एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी दोनों कार्यक्रमों में मौजूद रहेंगे। एनटीपीसी समूह ने बिहार राज्य में 7970 मेगावॉट क्षमता स्थापित की है और 1980 मेगावॉट अतिरिक्त क्षमता निर्माणाधीन है। एनटीपीसी द्वारा बाढ़ में 3300 मेगावॉट क्षमता स्थापित की गई है, जिसमें से 1320 मेगावॉट का वाणिज्यिक संचालन मार्च 2106 से जारी है। विद्युत क्षेत्र के विकास को बढ़ावा देने तथा बिहार राज्य में विद्युत की उपलब्धता बढ़ाने, इसकी लागत को कम करने के लिए राज्य सरकार ने 15 दिसम्बर 2018 को बरौनी थर्मल पावर स्टशन, बरौनी को एनटीपीसी लिमिटेड को हस्तांतरित किया था। अपनी सीएसआर पहल के तहत एनटीपीसी द्वारा बिहार राज्य में सामुदायिक विकास की कई गतिविधियां चलाई जा रही हैं। ये गतिविधियां मुख्य रूप से शिक्षा, स्वास्थ्य, बुनियादी सुविधाओं के विकास, पेयजल, सेनिटेशन, कौशल विकास/ व्यवसायिक प्रशिक्षण प्रोग्रामों को बढ़ावा देने तथा दिव्यांगजनों को सहयोग प्रदान करने के लिए की गई हैं। साथ ही एनटीपीसी की स्थापित परियाजाओं द्वारा विभिन्न सामुदायिक विकास गतिविधियां आस-पास के गांवों में कार्यान्वयन के विभिन्न चरणों में हैं। एनटीपीसी एम्स पटना में विशेष बर्न युनिट की स्थापना भी कर रही है और औरंगाबाद ज़िले में आईटीआई का निर्माण कर रही है। एनटीपीसी भारत सरकार की एक महारत्न कंपनी है, वर्तमान में इसकी स्थापित क्षमता 67,907 मेगावॉट है (संयुक्त उद्यम सब्सिडरियों सहित) और 2032 तक एनटीपीसी ने 130 गीगावॉट की कंपनी का बनने का लक्ष्य तय किया है।

कोई टिप्पणी नहीं: