सुषमा और सावरकर के नाम पर खुलेंगे डीयू के नए कॉलेज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 नवंबर 2021

सुषमा और सावरकर के नाम पर खुलेंगे डीयू के नए कॉलेज

sushma-sawarkar-named-college-in-du
दिल्ली विश्वविद्यालय अपने नए महाविद्यालय का नाम स्वतंत्रता सेनानी वीडी सावरकर और दिवंगत भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज के नाम पर रखने का फैसला लिया है। यह निर्णय दिल्ली विश्वविद्यालय के कार्यकारी परिषद की बैठक में लिया गया है। बैठक में यह निर्णय हुआ कि दिल्ली विश्वविद्यालय के दो नए बनने वाले कॉलेज और सेंटरों के नाम विनायक दामोदर सावरकर और दिवंगत भाजपा नेता सुषमा स्वराज के नाम पर होंगे। इससे पहले अगस्त महीने में कार्यकारी परिषद की बैठक में महाविद्यालय का नाम स्वामी विवेकानंद, वीडी सावरकर, सरदार पटेल और सुषमा स्वराज के नाम पर रखे जाने का विचार किया गया था। इसके अलावा कार्यकारी परिषद की बैठक में अटल बिहारी वाजपेयी, सावित्री बाई फुले, अरुण जेटली, चौधरी ब्रह्म प्रकाश और सीडी देशमुख का नाम सुझाया था और नामों पर अंतिम निर्णय लेने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति योगेश सिंह को अधिकृत किया गया था। बैठक में कार्यकारी परिषद के तीन सदस्यों के विरोध के बावजूद नए कॉलेज का नाम सावरकर और सुषमा के नाम पर रखने का निर्णय लिया गया है। नए कॉलेज खोलने की प्रक्रिया दिवाली बाद शुरू होने की संभावना है। इसके अलावा कार्यकारी परिषद की बैठक में असिस्टेंट प्रोफेसर के बहाली को लेकर अहम निर्णय लिए गए। असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए पहले तय संख्या में उम्मीदवारों को बुलाया जाना था, लेकिन अब इस बाध्यता को खत्म कर दिया गया है। दिल्ली सरकार के उपमुख्यमंत्री सह शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कॉलेज का नाम किसी के भी नाम पर रखा जाए, इससे आपत्ति नहीं है। बस कॉलेज में अच्छी पढ़ाई होनी चाहिए। मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय का शिक्षा के क्षेत्र में एक शानदार अतीत रहा है। आगे जो भी कॉलेज खुलेंगे उसमें बस गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: