विशेष : जनजातीय महिलाओं ने अपनाया स्वदेशी बिज स्वराज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

विशेष : जनजातीय महिलाओं ने अपनाया स्वदेशी बिज स्वराज

trible-women-adopt-bill
शेरानगला गाव की वागधारा गठित सक्षम समूह की महीला कांन्तीदेवी कहती हैं कि – “पुरुष क्या जानते हैं… हम महिलाएं ही हैं, जो बीजों का संरक्षण करती हैं, यह हमारी जिम्मेदारी है। यह हमारे पूर्वजों के समय से हमारी संस्कृति में रहा है। हम ही हैं, जिन्हें पता है कि कौन सा बीज कहां और कितनी मात्रा में लगाना है, भविष्य में उपयोग के लिए कितना बचाना है, खाने के लिए कितना रखना है …पुरुषों को इस सब के बारे में ज्यादा चिंता नहीं हैं।” बहुसंख्य आदिवासी परिवारों वाला यह गाँव, राजस्थान  के बासवाडा जिले में स्थित ऐसे कई गाँवों में से एक है।फसल विविधता और सहनशीलता के बीच गहरे संबंध को समझते हुए, वागधारा संस्था की महिला सक्षम समूह की किसानों ने यह सुनिश्चित किया है कि जलवायु-सहनशील पारम्परिक बीजों के संरक्षण की प्रथा जारी रहे इसके लिए यह समुह प्रयासरत है! 


trible-women-adopt-bill
सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना (SECC)-2011 के अनुसार, जिले के 76.38 % से ज्यादा परिवार अनुसूचित जनजाति से सम्बंधित हैं, । वे मुख्य रूप से जनजातीय  आदिवासी समूहों से संबंधित हैं। इस क्षेत्र  जनजातियों के साथ रहने वाली ये जनजातियाँ, मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर हैं। मकान इमारती बांधकाम हेतू गुजरात जाते है  और दिहाड़ी मजदूर उनकी आजीविका के अन्य स्रोत हैं। SECC-2011 के अनुसार, बासवाडा जिले की लगभग 60  % भूमि असिंचित है; लोग धान, मक्का, अरहर व अन्य दालें, मुंग और गेहूं के साथ साथ अन्य फसलों की भी वर्षा आधारित खेती करते हैं। फलवा  गांव की  कुकुदेवी मसार मुस्कुराते हुए कहा कि उनकी खेती ऊपर वाले की दया पर है। कुकुंदेवी  कहती हैं – “धान और मक्का के अलावा, हम अपने आंगन में पत्तेदार सब्जियों और भिंडी, चपटी फलियाँ, टमाटर, बैंगन, मिर्च, कद्दू और हल्दी जैसी अन्य सब्जियों की खेती करते हैं जो वागधारा हमे बीज देती हैं । हमारे पास  सीताफल, पपिता और आम के पेड़ भी हैं, जो हमारी घरेलू जरूरतों को पूरा करते हैं।” विविधता और लचीलेपन के गहरे संबंध के साथ कृषि के इस जटिल माहौल में, महिलाएं स्वदेशी बीजों की इस विशाल विविधता के संरक्षक के रूप में, सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।


trible-women-adopt-bill
दुनिया भर के अन्य समुदायों की तरह, इस क्षेत्र के आदिवासी  जनजातिय स्वराज संगठन और सक्षम महीला  समूहों से संबंधित महिलाएं, बीज सुरक्षा और बीज संरक्षण सम्बंधित ज्ञान, एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी पहुँचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। उन्होंने ये कैसे सीखा, कितने समय से वे ऐसा कर रही हैं – इन सवालों पर उलझन भरे भाव देखने को मिलते हैं और प्रतिक्रिया होती है – “जितना हमें याद है, तब से हम ऐसा कर रहे हैं, बचपन से हमने अपनी माताओं को ऐसा करते देखा है और हमने सिर्फ वह करना जारी रखा।” कृषि व्यवस्था में महिलाओं को मिली सामाजिक भूमिका से भी यह ज्ञान कुछ हद तक प्रभावित हुआ है।  वागधारा गठित महिला सक्षम समूह की सदस्य लाली अमृतलाल डामोर  कहती हैं – “फसल काटते समय हम देखते हैं कि खेत के किस हिस्से में फसल बेहतर हुई है। हम बीजों का उनके वजन और गुणवत्ता के आधार पर आंकलन करते हैं और थ्रेसिंग करते समय इसे अलग रखते हैं।” यह हमारे बाप दादा का बीज संगग्रहण करणे का तरिका है जो हम करते आ रहे हैं!  वागधारा की सक्षम समूह की महीलाएँ फसल विविधता को बनाए रखने हेतू महिला किसान चुने हुए बीज एक बोरी में भरती हैं, इसे सील करती हैं और इसे अगले सीजन तक के लिए अन्न भंडार में रख देती हैं, जिसे वहां ‘कोठी’ कहा जाता है। सक्षम महीला समूह की सदस्य कांता डामोर  कहती हैं – “इसी तरह सब्जी के बीज के लिए, फल पक जाने के बाद, हम इसे सूखने देते हैं, बीज अलग करते हैं और फिर उन्हें संग्रहण कर लेते हैं। जब बुवाई का समय नजदीक आता है, तो हम उन्हें उपयोग के लिए निकाल लेते हैं।” उनकी बात पर सहमति जताते हुए, नानाभुखीया गाव की वागधारा गठित  सक्षम महीला समूह की महिला  शिल्पा रमनलाल डामोर कहती हैं – “हम जानते हैं कि आँगन के किस हिस्से में कितना बीज बोना है। आखिरकार, हम अपने  परिवार के लिए कितनी जरूरत है, इसलिए हम उसी के अनुसार बीज बोते हैं।”


trible-women-adopt-bill
नानाभुखीया गाव की सक्षम महिला समुह की अन्य महिला किसान, सुशीला भिखा डामोर  ने समझाया कि कैसे यह पद्धति सहनशीलता प्रणालियों को बनाए रखने के ज्ञान के साथ मजबूती से प्रतिध्वनित होती है। उनका कहना था – “हमें विभिन्न प्रकार के बीजों की जरूरत होती है। प्रत्येक जमीन एक अलग तरह की फसल के लिए उपयुक्त होती है। कुछ जल-जमाव वाली मिट्टी में अच्छी उगती हैं, कुछ कम पानी वाली ढलानदार भूमि पर। हम उसी के अनुसार फैसला करते हैं।” सुशीला डामोर  कहती हैं – “पाथरीया ,जीरा , काली कमोद और मोटा धान जैसी धान के बीजों की पारंपरिक किस्मों में बारिश के पैटर्न में बदलाव को झेलने और मानसून के मौसम के बीच सूखे के दौरान बचे रहने की ज्यादा क्षमता होती है।” वर्तमान हालात में, जबकि ग्रामीण समुदाय जलवायु परिवर्तन  एवम अनिश्चित वर्षा के विषम प्रभाव का सामना कर रहे हैं, बचे रहने के लिए उतार-चढ़ाव वाली सूक्ष्म-जलवायु की स्थितियों के प्रति सहनशीलता महत्वपूर्ण है। पारंपरिक बीज संरक्षण से  कम हुई बाजार निर्भरता बीज संरक्षण का तत्काल प्रभाव यह है कि बीज के साथ-साथ भोजन की खरीद के लिए बाजार पर निर्भरता कम हुई है। बड़े संतोष के साथ काली देवी हरदार कहती हैं कि विगत 40 साल से मैने खेती के बीज नहीं खरीदा है ।”और अपने पैसे बचाये है !इसी तरह, घर के आसपास उगाई जाने वाली सब्जियां, महिलाओं को सब्जियां खरीदने के लिए बाजार पर निर्भरता कम करने में मदद करती हैं। काली देवी हरदार  कहती हैं – “चाहे हम कुछ महीनों के लिए अपने घर की जरूरतें पूरा कर पाते हों, फिर भी यह हमारे लिए काफी है। यह हमें पैसे बचाने में मदद करता है, जो हमें बाजार से सब्जियां खरीदने के लिए खर्च करने पड़ते थे ।” वण्डा गाव के वागधारा संस्था गठीत सक्षम महीला समूह की सदस्य राधा प्रकाश कटारा ने जोर देकर कहा – “बाजार में हमें जो सब्जियां मिलती हैं, वे रसायनों से भरी होती हैं। अपने घर के पास की जमीन में हम जो सब्जियां उगाते हैं, जो वागधारा हमे जैविक पोषण वाटिका हेतू प्रशिक्षीत करते है और उनमें केवल गोबर की खाद डालते हैं। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। हम स्वाद में भी आसानी से अंतर कर पाते हैं।” बाँसवाडा  जैसे जिले में, जहां जिला रोजगार और आय रिपोर्ट के अनुसार, 91% से ज्यादा परिवारों की मासिक आय 5,000 रुपये से कम है, उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए नकद आय पर निर्भरता बेहद महत्वपूर्ण है।


यदि कोई परिवार कोई बीज संरक्षित न कर पाए और उसे इसकी जरूरत पड़ जाए, तो क्या होता है? बीज संरक्षण का चलन, बीज के आदान-प्रदान की एक दूसरी पारम्परिक व्यवस्था के साथ गहराई से जुड़ा है, जो यहां के समुदायों के सामाजिक ताने-बाने में गहराई से गुंथा हुआ है। वन्डा गाव की किसान महिला बबली कटारा जों वाग्धारा गठित समूह में   हैं वो कहती है की  – “यदि मेरे पास कोई खास बीज नहीं है, लेकिन मेरे पड़ोसी के पास है, तो मैं उससे कुछ बीज ले लूंगी और बदले में मैं उसे वह दे दूँगी, जो मेरे पास है और उसके पास नहीं है। इस साल मैंने उससे भिंडी और लौकी के बीज लिए और उसे कद्दू के बीज दिए।” पूरे गांव की महिलाएं इस प्रथा का पालन करती हैं। बबली कटारा  कहती हैं – “यह प्रथा तब से चली रही है, जब तक का मुझे याद है।” इससे एक परिवार द्वारा उगाई जाने वाली फसलों की विविधता को बनाए रखने के साथ-साथ, समुदाय की बीज के लिए बाजार पर निर्भरता को कम करने में भी बड़ी मदद मिलती है। विभिन्न प्रकार के बीजों की जरूरत के बारे में महिलाओं का नजरिया, एक लचीली प्रणाली के साथ प्रतिध्वनित होता है  केवल बीजों का आदान-प्रदान ही नहीं होता है, बल्कि उपज का भी होता है। बबली कटारा  का कहना था –  “यदि किसी के खेत में सब्जियों का उत्पादन ज्यादा हो जाता है, तो गांव का कोई भी व्यक्ति उनसे सब्जियां मुफ्त ले सकता है।” बीजों के इस आदान-प्रदान को आसान बनाने में, ग्रामीण संस्थाएँ भी भूमिका निभाती हैं। बाजार की ताकतों के गांवों में प्रवेश कर जाने के कारण, कृषि पद्धतियों में उन्नत किस्म और संकर बीजों का धीमा लेकिन लगातार प्रवेश हुआ है। फिर भी ऐसे मामलों में, महिलाओं के नेतृत्व में ग्रामीण संस्थाओं ने पारम्परिक किस्मों के बीजों के आदान-प्रदान और इस्तेमाल को पुनर्जीवित करने के लिए मंच तैयार किए हैं। आनदपूरी ब्लैक के पाट गाव की एक वाग्धारा गठित महिला सक्षम समूह किसान किसान, बबली कटारा  ने कहा – “पाथरिया , काली कमोद और जीरा  जैसी धान की विभिन्न पारम्परिक किस्मों के बीज बाजु के रुपखेडा गांव से लाकर अपने गांव के किसानों में वितरित किए है ।” इस तरह का आदान-प्रदान इस शर्त पर होता है कि प्राप्तकर्ता फसल के बाद, गांव के ज्यादा किसानों को बीज देगा। बबली कटारा कहती  हैं – “गांव की महिलाएं भी बैठकों में एक दूसरे के साथ सब्जी के बीज का आदान-प्रदान कर रही हैं। पहले मैं केवल एक या दो महिलाओं के साथ बीजों का लेन देन कर पाती थी; अब अपनी बैठकों में, मैं और ज्यादा महिलाओं के साथ बीजों का आदान-प्रदान कर सकती हूँ।” कई गांवों ने इस प्रथा को और अधिक प्रोत्साहन देने के लिए, बीज आदान-प्रदान उत्सव मनाना भी शुरू कर दिया है। इस क्षेत्र में रहने वाली महिलाएं, बीज संरक्षण और आदान-प्रदान की इन व्यवस्थाओं के संरक्षण और बचाव के लिए दृढ़ संकल्प हैं।





विकास परशराम मेश्राम 

वागधारा 

कोई टिप्पणी नहीं: