बिहार : पुलिस को चकमा देकर फरार निलेश मुखिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

बिहार : पुलिस को चकमा देकर फरार निलेश मुखिया

  • निलेश मुखिया की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी , फरार निगम पार्षद के पति निलेश मुखिया की गिरफ्तारी से बाहर , शराब तस्करों की खिलाफ पुलिस बड़ी अभियान चला रही हैं

nilesh-mukhiye-fly-from-custody
पटना. पटना नगर निगम के वार्ड नं.22 सी की पार्षद रजनी देवी के पुत्र शराब सेवन करते वक्त गिरफ्तार किया गया था.फिलवक्त डिप्टी मेयर रजनी देवी हैं. इस बार वार्ड नं.22 बी की वार्ड पार्षद सुचित्रा सिंह के पति नीलेश मुखिया के कोका कोला एजेंसी में पुलिस ने छापा मारी की.वहां से 17 बोतल शराब बरामद किया गया.छापेमारी के दौरान पुलिस ने वहां 7 लोगों को गिरफ्तार भी किया.इस दौरान निलेश यादव उर्फ निलेश मुखिया पुलिस को चकमा देकर निकल भागने में कामयाब हो गया.पुलिस फरार निगम पार्षद के पति निलेश मुखिया की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही है. बिहार में शराब बंदी कानून को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए पुलिस के द्वारा सख्ती बरती जा रही हैं.राजधानी पटना के दीघा थाना क्षेत्र में कोका कोला के एजेंसी,जिस के संचालक स्थानीय वार्ड पार्षद के पति तथा भाजपा नेता निलेश मुखिया है, पर पुलिस ने छापेमारी की.तो वहां से 17 बोतल विदेशी शराब बरामद की गई.छापेमारी के दौरान पुलिस ने वहां 7 लोगों को गिरफ्तार भी किया.इस दौरान निलेश मुखिया पुलिस को चकमा देकर निकल गया.बरामद शराब के बोतलों में 100 पाइपर तथा रॉयल स्टैग के बोतल शामिल है. 


जहरीली शराब सेवन से दर्जनों की मौत के बाद सूबे में शराब सेवन करने वाले एवं शराब तस्करों की खिलाफ पुलिस बड़ी अभियान चला रही हैं.राजधानी पटना में चप्पे-चप्पे को खंगाला जा रहा हैं.इस बीच पटना में शराब माफियाओं के खिलाफ बड़ी कार्रवाई पुलिस ने शुरू कर दिया है.इसी क्रम में दीघा थानाध्यक्ष को सूचना मिली की दीघा स्थित कोको-कोला एजेंसी से विदेशी कीमती शराब की तस्करी की जा रही हैं. वरीय पुलिस अधिकारियों को सूचना देते हुये थानाध्यक्ष राजेश कुमार सिन्हा ने भारी पुलिस बल के साथ कोको-कोला एजेंसी में रेड किया.पुलिस को देखते ही इधर-उधर भागने लगे.पुलिस ने पीछा कर 7 लोगों को दबोच लिया.कई भागने में कामयाब रहे लेकिन पुलिस के हाथ सीसीटीवी हाथ लग गयी हैं.दीघा थानेदार राजेश कुमार सिन्हा ने बताया कि छापेमारी के दौरान वार्ड 22बी के पार्षद पति फरार हो गए.पुलिस ने उसके बॉडीगार्ड गुरमुख सिंह (गुरदासपुर, पंजाब), वारिस (चश्मा सेंटर गली, दीघा), दिलीप राय (चश्मा सेंटर गली, दीघा), नीरज कुमार (कृतिनगर, कंकड़बाग), पंकज कुमार (गेट नंबर 65, दीघा) और रोहित कुमार (कुर्जी मगध कॉलोनी) को गिरफ्तार किया है.  बीजेपी नेता की पत्नी सुत्रिता सिंह वार्ड नं.22 बी वार्ड पार्षद है और हाल में उप मेयर की चुनाव लड़ी हैं, जिसमें हार गयी. गिरफ्तार लोगों ने पुलिस को बताया की कोको-कोला एजेंसी बीजेपी नेता सह पूर्व मुखिया निलेश यादव उर्फ निलेश मुखिया का हैं.सुत्रों की मानें निलेश मुखिया पुलिस को चकमा देकर भागने में कामयाब रहे. पुलिस का कहना है की कोको-कोला एजेंसी निलेश यादव का है, विधि सम्मत कार्रवाई किया जायेगा.एजेंसी को सील किया जायेगा. दीघा स्थित कोका कोला एजेंसी स्थानीय वार्ड पार्षद सुचित्रा सिंह के पति निलेश यादव की बताई जाती है.निलेश यादव पहले इस इलाके में मुखिया रह चुके हैं.बाद में पटना नगर निगम में क्षेत्र के शामिल हो जाने के बाद उन्होंने वार्ड पार्षद का चुनाव महिला आरक्षण के वजह से अपनी पत्नी को लड़ाया. जिसमें उनकी पत्नी सुचित्रा सिंह की जीत भी हुई.निलेश  मुखिया स्थानीय स्तर पर दबंग माना जाता है.पटना के कई बड़े राजनेताओं से उसके निजी संबंध है.जब निलेश की पत्नी सुचित्रा सिंह 2017 में मेयर के चुनाव में उतरी थी.तो जदयू के एक विधान पार्षद उस के पक्ष में कैंपेनिंग कर रहे थे.


निलेश मुखिया का पूर्व में था शराब का कारोबार

बिहार में शराबबंदी कानून लागू है. इसके सेवन से लेकर तस्करी तक प्रतिबंध हैं.लेकिन निलेश मुखिया के कोको-कोला एजेंसी में कीमती शराब का मिलना है प्रदर्शित करता है की बड़े स्तर पर राजधानी में शराब की तस्करी की जा रही हैं. शराबबंदी के पूर्व निलेश मुखिया का शराब का कारोबार था. दीघा में शराब का दो ठेका था. वर्ष 2016 में कोलड्रिंक के बोतल में शराब की बोतल के साथ गार्ड और  चालक पकड़ाया था.बताया जाता है कि शराबबंदी के पूर्व नीलेश मुखिया का शराब का कारोबार था.दीघा में शराब का दो ठेका था.मिली जानकारी के मुताबिक पटना में शराब कारोबारियों के खिलाफ पुलिस ने बड़ा अभियान छेड़ रखा है.अवैध शराब कारोबारियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस विशेष ऑपरेशन चला रही है.


शराब की बरामदगी के लिए अभियान तेज

पटना के ही पत्रकार नगर थाने की पुलिस ने सीआईडी विभाग द्वारा ट्रेन्ड किए गए श्वान दस्ता की टीम की मदद से इलाके में शराब की बरामदगी के लिए अभियान चलाया, हालांकि इस दौरान पुलिस को कोई कामयाबी नहीं मिल पाई. राजधानी के कई थाना क्षेत्रों में पुलिस ब्रेथ एनालाइजर के साथ भी सड़कों पर उतरी. इस दौरान पुलिस ने चौक-चौराहों, नुक्कड़ और सार्वजनिक परिवहन के साधनों से यात्रा करने वाले लोगों की शराब पीने को लेकर जांच की.इसके अलावा पुलिस ने इलाके में होटलों के अलावा स्लम बस्तियों में भी शराब को लेकर बड़े पैमाने पर छापेमारी अभियान चलाया. इस दौरान सैकड़ो लीटर शराब भी जप्त किया गया.


पुलिस के द्वारा महिलाओं के साथ जुल्म 

पटना के दीघा हाल्ट के पास रामजी चक मुसहरी में पुलिस शराब के नाम पर महिलाओं के साथ जुल्म कर रही हैं  पैसा जेवर बर्तन सब ले लेती हैं. बेटी बहु की इज्जत पर भी हाथ डालती हैं.चावल और गेहूं को मिला कर किरासन तेल डाल देती हैं.रात में जिप्सी लगा देती हैं सबको भगा कर घर में  घुस कर ये सब तमाशा करता हैं.यह सब बैठक में महिलाओं ने कहा हैं.रामजी चक मुसहरी में बैठक समाजसेवी शशि यादव जितेंद्र जी, अशर्फी सदा जी के नेतृत्व में किया गया.

कोई टिप्पणी नहीं: