सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 01 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 दिसंबर 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 01 दिसंबर

कार्यकर्ता योजना पूर्वक सरकार के द्वारा किये विकास के कार्यो को ग्राम ग्राम-घर घर तक पहुचाये-श्री शिवराजसिंह चौहान

  • सलकनपुर में जिला भाजपा का तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर शुरू 

sehore news
सीहोर। सीहोर जिला भारतीय जनता पार्टी के तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में उपस्थित सीहोर जिला भारतीय जनता पार्टी के समस्त अपेक्षित कार्यकर्ताओं को शुभारम्भ सत्र के मुख्यवक्ता के रूप में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संबोधित करते हुए कहा कि हम सब प्रयास करें तो सीहोर जिले में एक अद्भुत संगठन खड़ा कर सकते हैं। विकास के कामों की कोई सीमा नहीं होती है। जितना विकास किया है उन किये विकास के कार्यो का संगठन फायदा तभी उठा सकता है, जब किये गये सभी विकास के कार्यो को कार्यकर्ता नीचे तक उसका प्रचार प्रयास कर ग्राम ग्राम-घर घर तक पहुचाये। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने इसके लिये संगठन को योजना पूर्वक योजना बना कर विकास के कार्यो को नीचे तक पहुचाये। अगर कार्यकर्ता ऐसा करने में सफल हो गया तो निश्चित ऐसा करने से पार्टी को उसका पूरा ओर बड़ा लाभ प्राप्त होगा। सरकार के विकास के प्रत्येक कार्य को ग्रामो में पहुच कर विकास के किये कार्यो को जनता के दिल और दिमाग मे उतार दो ये प्रत्येक कार्यकर्ता की बड़ी जिम्मेदारी है। आज प्रातः मुख्यमंत्री 3 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने सलकनपुर पहुचे। हेलीपैड पर भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष रवि मालवीय,सीहोर जिले के प्रभारी बहादुरसिंह मुकाती, सीहोर जिले के विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय, करणसिंह वर्मा, रघुनाथसिंह मालवीय, सुदेश राय पूर्व विधायक राजेंद्रसिंह राजपूत, पूर्व निगम अध्यक्ष गुरु प्रसाद शर्मा,भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य रघुनाथसिंह भाटी,सलकनपुर मन्दिर देवीधाम ट्रस्ट के अध्यक्ष महेश उपाध्याय,सलकनपुर भाजपा मंडल के अध्यक्ष प्रेमनारायण मीणा सहित अनेकों वरिष्ठ जनों ने हेलीपैड पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अगवानी की एवं उनका स्वागत किया। प्रशिक्षण शिविर स्थल पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय,डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी एवं भारत माता के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित एवं माल्यार्पण कर प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ किया। प्रशिक्षण शिविर में पहुचे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सहित सभी अतिथियों का स्वागत और सम्मान जिला भाजपा की ओर से  किया गया। स्वागत भाषण भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष रवि मालवीय द्वारा दिया गया। 3 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर  के पूर्व शिविर स्थल पर जिला कार्यसमिति की बैठक सम्पन्न हुई। जिला कार्यसमिति की बैठक में जिला प्रभारी बहादुरसिंह मुकाती द्वारा तीन प्रस्ताव रखे गये पहला शोक प्रस्ताव के माध्यम से कोरोना काल मे दिवंगत हुए सभी लोगो श्रद्धांजलि अर्पित की गई। दूसरा धन्यवाद प्रस्ताव के माध्यम से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को सभी लोगो को निशुल्क वैक्सीन लगाई जा रही है उसके प्रति उन्हें धन्यवाद दिया गया तीसरा राजनीतिक संकल्प प्रस्ताव पारित किया गया। प्रशिक्षण शिविर के आज प्रथम दिन चार सत्र सम्पन्न हुए प्रत्येक सत्र के मुख्य वक्ता श्यामसुंदर शर्मा,भक्तपाल सिंह,उमाकांत शर्मा द्वारा सत्र के विषयों पर उपस्तिथ कार्यकर्ताओ को सम्बोधित कर महत्वपूर्ण  जानकारी दी गई। 3 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में सभी अपेक्षित कार्यकर्ता उपस्थित रहे। संचालन जिला उपाध्यक्ष लखन यादव ने किया।


आज खेला जाएगा अकादमी क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच, निर्भय ने बनाए 58 रन, पीपीसीए ब्लू को चाहिए जीत के लिए 68 रन


सीहोर। शहर के बीएसआई पर खेली जा रही अकादमी क्रिकेट प्रतियोगिता के दो दिवसीय फाइनल मैच के पहले दिन पीपीसीए रेड की पूरी टीम 54 ओवर में 206 रन के स्कोर पर ढेर हो गई। वहीं पीपीसीए ब्लू ने चार विकेट खोकर 33 ओवर में 138 रन बनाए है, अब खिताब के लिए उसे मात्र 68 रन का लक्ष्य प्राप्त करना है और छह विकेट हाथ में है। पीपीसीए ब्लू की ओर से निर्भय ने 58 रन की नाट आउट पारी खेली है। गुरुवार को समापन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में वरिष्ठ समाजसेवी अखिलेश राय, जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष विधायक सुदेश राय, एसडीएम बृजेश सक्सेना, कोतवाली थाना प्रभारी नलिन बुधोलिया, समाजसेवी नितिन कुशवाहा, पंकज गुप्ता, जिला क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव अतुल तिवारी, वीरु वर्मा और राहुल सिंह आदि विजेता टीम को ट्राफी और अन्य पुरस्कारों को वितरण करेंगे। डीसीए के मीडिया प्रभारी प्रियांशु दीक्षित ने बताया कि बुधवार की सुबह पहले बल्लेबाजी करने उतरी पीपीसीए रेड ने 10 विकेट खोकर 206 रन बनाए थे। जिसमें प्रखर सेन ने 107 गेंद पर 97 रन की शानदार अद्र्ध शतकीय पारी खेली, वहीं यश दुबे ने 32 रन, मानस ने 28 रन और स्वप्रिल ने 21 रन बनाए। वहीं पीपीसीए ब्लू की ओर से गेंदबाजी करते हुए कृष्णा ने 22 ओवर में सात मैडन 93 रन देकर छह विकेट, दिपेश ने तीन विकेट और अतुल त्रिवेदी ने एक विकेट हासिल किया।


जीत के लिए चाहिए मात्र 68 रन

जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी पीपीसीए ब्लू ने अब तक 33 ओवर में चार विकेट खोकर 138 रन बनाए लिए है और जीत के लिए उसे 57 ओवर में मात्र 68 रन की दरकार है और छह विकेट उसके हाथ में है। बुधवार को पीपीसीए की ओर से निर्भय ने नाट आउट 58 रन, सुमित ने 39 रन और विकास ने 12 रन बनाए है। वहीं पीपीसीए रेड की ओर से स्पप्रिल ने दो विकेट, मानस-पवन ने एक-एक विकेट हासिल किया। पीपीसीए के कोच चेतन मेवाड़ा, अतुल त्रिवेदी और आदर्श राय सहित अन्य ने गुरुवार को समापन कार्यक्रम में आने की अपील की है। 


श्रीराम कथा के समापन पर उमड़ा आस्था का सैलाब, मन व ध्यान की एकाग्रता से हर कार्य में सफलता मिलती है-पंडित श्री राघवेन्द्राचार्य महाराज


sehore news
सीहोर। रामकथा के श्रवण से मन के राग, द्वेष, ईष्र्या, और भेदभाव स्वत: समाप्त हो जाते हैं। यह मन को शांत कर हिंसक भावनाओं का रोकती है। राम नाम की महिमा बतलाते हुए कहा कि राम का नाम अनमोल है, यदि पापी भी राम का नाम लेता है तो उसे सदगति मिल जाती है। जिसके ह्दय में प्रभु के प्रति भाव जागते हैं, जिस पर हरि कृपा होती है। वह मनुष्य ही प्रभु की कथा में शामिल होता है। श्रीराम कथा का मनोयोग से श्रवण कर उसके उपदेश को जीवन में उतारें। तभी कथा की सार्थकता है। मन व ध्यान की एकाग्रता से हर कार्य में सफलता मिलती है। भगवान का आगमन सदैव धर्म की रक्षा के लिए हुआ है। रामायण हमें समाज के संस्कार, अच्छे- बुरे की पहचान सिखाती है। सच्ची भक्ति से ही भगवान की प्राप्ति की जा सकती है। शहर के चाणक्यपुरी स्थित श्री गोंदन सरकार धाम हनुमान मंदिर में अनंत श्री विभूषित पंडित श्री महावीर शरण चतुर्वेदी दद्दा जी की पुण्य स्मृति के उपलक्ष्य में जारी श्रीराम कथा के अंतिम दिन कथा व्यास पंडित श्री राघवेन्द्राचार्य महाराज ने कहे। बुधवार को कथा के विश्राम दिवस सैकड़ों की संख्या में यहां पर मौजूद श्रद्धालुओं ने भंडारे में प्रसादी ग्रहण की। पंडित श्री राघवेन्द्राचार्य महाराज ने धनुष भंग की कथा का वर्णन करते हुए उन्होंने कहा कि धनुष अहंकार का प्रतीक है और अहंकार तोडऩा भगवान का सरल स्वभाव है। उन्होंने कहा कि अहंकार के नाश के लिए गुरु कृपा का होना अति आवश्यक है। जब तक जीवन में अभिमान रहेगा तब तक भगवान की प्राप्ति संभव नहीं है। भगवान ने स्वयं अवतार लेकर गुरु महिमा का दर्शन करवाया। बिना गुरु कृपा के ज्ञान की प्राप्ति भी संभव नहीं हो सकती। कथा में उन्होंने जनकपुर दर्शन, धनुषभंग, परशुराम संवाद और सीता-राम विवाह का वर्णन किया। श्री राम-सीता के विवाह की कथा सुनाते हुए बताया कि राजा जनक के दरबार में भगवान शिव का धनुष रखा हुआ था। एक दिन सीता ने घर की सफाई करते हुए उसे उठाकर दूसरी जगह रख दिया। उसे देख राजा जनक को आश्चर्य हुआ, क्योंकि धनुष किसी से उठता नहीं था। राजा ने प्रतिज्ञा किया कि जो इस धनुष पर प्रत्यंचा चढ़ाएगा, उसी से सीता का विवाह होगा। उन्होंने स्वयंवर की तिथि निर्धारित कर सभी देश के राजा और महाराजाओं को निमंत्रण पत्र भेजा। एक-एक कर लोगों ने धनुष उठाने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। गुरु की आज्ञा से श्री राम ने धनुष उठा प्रत्यंचा चढ़ाने लगे तो वह टूट गया। इसके बाद धूमधाम से सीता व राम का विवाह हुआ। माता सीता ने जैसे प्रभुराम को वर माला डाली वैसे ही देवता फूलों की वर्षा करने लगे।


श्रद्धालुओं ने श्रद्धांजली अर्पित की

बुधवार को भगवान के अभिषेक आदि का आयोजन आस्था और उत्साह के साथ किया गया इसके पश्चात गोंदन सरकार धाम हनुमान मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा अनंत श्री विभूषित पंडित श्री महावीर शरण चतुर्वेदी दद्दा जी को यहां पर मौजूद श्रद्धालुओं ने श्रद्धांजली अर्पित की। उनकी पुण्य स्मृति में पांच दिवसीय संगीतमय श्रीराम कथा का आयोजन किया गया था। जिसमें हर रोज बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने कथा का श्रवण किया। पांच दिवसीय धार्मिक कार्यक्रम में संगीतमय सुंदरकांड, संगीतमय भजन संध्या के साथ अंतिम दिन श्रद्धांजली, कथा विश्राम, हवन और प्रसादी वितरण आदि का आयोजन किया। 


उद्यानिकी फसलों की जानकारी लेने कृषक दल राजस्थान के लिए रवाना


sehore news
सीहोर। किसानों की उन्नती और आय बढ़ाने के लिए उद्यानिकी विभाग जिले में सकिय बना हुआ है। उद्यानिकी विभाग ने बुधवार को उद्यानिकी फसलों की विस्तारपूर्वक जानकारी लेने के लिए किसानों के दल को राजस्थान के लिए रवाना किया है। वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी डीएस परमार ने किसानो का पुष्प मालाओं से स्वागत किया और हारी झंडी दिखाकर बस को राजस्थान के लिए मार्गदर्शक अधिकारी के साथ विशेष निर्देश देकर रवाना किया। वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी डीएस परमार ने बताया की कृषक दल में चयनीत किसानों को सम्मिलित किया गया है। किसान दल राजस्थान के विभिन्न जिलों में पहुंचकर वह के किसानों के द्वारा कठिन जल वायू में उत्पन्न की जा रही उद्यानिकी फसलों की जानकारी लेगा। पांच दिवसीय यात्रा के दौरान राजस्थान उद्यानिकी विभाग अधिकारियों के द्वारा उन्नत खेती की अनेक जानकारियां दी जाएगी।


सबको वैक्सीन का दूसरा डोज लगाना सबसे बड़ा काम और पहली प्राथमिकता - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • मिलकर लड़ेंगे लड़ाई, कोशिश करें तीसरी लहर आये ही नहीं, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के सदस्यों को संबोधित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पिछले दिनों भोपाल, इंदौर और जबलपुर में लगातार कोरोना पॉजिटिव केस आ रहे हैं। कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। अलग-अलग लोकेशन पर मरीज मिले हैं। यह हमें आगाह करने के लिए काफी है। कोरोना टेस्ट हम लगातार कर रहे हैं। जो लक्षण दिखाई दे रहे हैं वह आने वाले संकट की आहट हैं। जरूरी है कि हम प्राण-प्रण से पूरी सावधानी रखें। मुख्यमंत्री श्री चौहान वीडियो कॉफ्रेंस द्वारा प्रदेश के सभी कलेक्टर और क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने दक्षिण अफ्रीका के कुछ देशों में आए नए कोरोना वेरिएंट और उसके प्रभावों के संबंध में प्रेजेंटेशन दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण और टीकाकरण की वर्तमान स्थिति और नए वेरिएंट के प्रसार के संबंध में क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्यों को मालूम होना जरूरी है।


मास्क लगवाने जनता के बीच जाऐंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं मास्क लगाने के प्रति जन-जागरूकता के लिए निकलूँगा। आप भी मास्क लगाएँ और लोगों को मास्क लगाने का आग्रह करें। मास्क के फायदे ही फायदे हैं। इलाज की व्यवस्था हम करेंगे ही, ये उपाय अभी हम कर लेंगे तो संक्रमण ज्यादा नहीं फैलेगा। मैं जन-प्रतिनिधियों से अपील करना चाहता हूँ कि आपको दस्तक देना है मास्क और टीकाकरण के लिए। इस महाअभियान के बाद आगे भी दिसंबर माह में महाअभियान की तिथि तय करेंगे। जिन जिलों में 90 प्रतिशत से कम वैक्सीनेशन हुआ है वहाँ गति बढ़ाई जाए। दूसरे डोज के महत्व से सभी को अवगत करवाएँ। राज्य शासन ने जन-सहयोग और क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी को साथ लेकर कोरोना को कंट्रोल किया है। मध्यप्रदेश का यह मॉडल सभी जगह सराहा गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं कलेक्टर्स को निर्देश देता हूँ कि प्रयासों में कोई कमी न रखें। जन-जागरूकता बनी रहे। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्यों का पूरे सम्मान से सक्रिय भूमिका के लिए आह्वान किया जाए।


समय है हम चेत जाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने हर संकट में हम सबका बेहतरीन नेतृत्व किया है। उन्होंने सावधानियों के संबंध में जनता को मैसेज दिया है। यह सही समय है जब हम चेत जाएँ। यदि आज हमने सावधानी नहीं रखी तो परिस्थितियाँ संकटपूर्ण हो जाएँगी। मैं नहीं चाहता कि फिर लॉकडाउन की परिस्थितियाँ बनें और जिंदगी कठिन दौर से गुजरे।


अस्पतालों में जाकर देखें व्यवस्थाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के नए वेरिएंट के बारे में सावधानी जरूरी है। सभी सावधानियाँ और व्यवस्थाएँ करने के मैंने निर्देश दिए हैं। संबंधित अधिकारी अस्पताल जाकर, देखेंगे कि वहाँ व्यवस्था कैसी है। मेरे लिए वैक्सीन के सेकंड डोज लगाने से बड़ा कोई काम नहीं है इसे हर हालत में पूरा करिए। बाकी सभी व्यवस्थाएँ करने में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। अस्पतालों का निरीक्षण कर औषधियों की व्यवस्था, उपकरणों की उपलब्धता और ऑक्सीजन संयंत्रों के कार्यशील रहने की जानकारी प्राप्त करें।


अनावश्यक भीड़ से बचें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बच्चों की स्कूल में उपस्थिति संख्या 50 प्रतिशत की गयी है, क्योंकि उन्हें टीका नहीं लगा है। मैं प्रतिबंध लगवाना भी नहीं चाहता। शादी-विवाह और बाजार में आपत्ति नहीं है, लेकिन अनावश्यक भीड़ से बचें। संक्रमण का प्रसार न हो इसके लिये हमें लोगों को शिक्षित करना पड़ेगा। मास्क लगाकर, सावधानी रखकर, हम बड़े संकट से बच सकते हैं। हमारे पास पर्याप्त मात्रा में दवाइयाँ उपलब्ध हैं।


जिलों में मॉक ड्रिल करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी के लिए सेकेण्ड डोज़ लगना जरूरी है, यह सबसे बड़ी प्राथमिकता है। व्यवस्थाएँ चाक-चौबंद रखें, लहर न आने दें, यही चुनौती है। मीडिया भी जनता को शिक्षित कर पूर्व के अनुसार सहयोग दें। यह पुण्य का कार्य होगा, सावधानी रखें, प्रयासों में कमी न हो। नए वेरिएंट से हम सभी चिंतित हैं, लेकिन सावधान रहें। जन-प्रतिनिधि और क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के सदस्य फेस मास्क का उपयोग करने और घर-घर दस्तक देकर वेक्सीन का दूसरा डोज लगवाने प्रेरित करें। बार-बार हाथ धोने और सोशल डिस्टेंसिंग पर ध्यान दें। अस्पताल का निरीक्षण कर व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें। सभी ऑक्सीजन प्लांट कार्यशील रहें। संक्रमण की आशंका को ध्यान में रखकर सजग-सतर्क रहें। सभी जिलों में कलेक्टर्स मॉक ड्रिल करें, ऑक्सीजन संयंत्र और अग्निशमन उपकरण भी चेक करवा लें। आवश्यक मानव संसाधन उपलब्ध रखें और अमले को प्रशिक्षण देना सुनिश्चित करें। तीसरी लहर आने ही न दें। प्रभारी मंत्री क्राइसिस मेनेजमेंट कमेटी के सभी सदस्यों, धर्म-गुरुओं और सामाजिक संगठनों से चर्चा कर ऐहतियात के उपाय देखें और परखें। लड़ाई मिलकर लड़ना है। पंचायतों की कमेटियाँ भी सक्रिय रहें।


विश्व एड्स दिवस पर जनजागरूकता रैली, नुक्कड़ नाटक के माध्यम से दिया एड्स से बचाव का संदेश


sehore news
विश्व एड्स दिवस पर जिला चिकित्सालय में जनजागरूकता रैली आयोजित की गई। जनजागरूकता रैली को अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री मुकेश कुमार दांगी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। एड्स जनजागरूकता रैली एवं नुक्कड़ नाटक का मंचन करते हुए रैली मुख्य मार्ग होते हुए कोतवाली चैराहा पहुंची। कोतवाली चैराहे पर एड्स जनजागरूकता पर नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर रैली का समापन किया गया। इस रैली के माध्यम से एड्स से बचाव का संदेश दिया गया। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने एड्स बचाव के संदेश के साथ कोतवाली चैराहा पर नुक्कड़ नाटक की उत्कृष्ट प्रस्तुती दी। नुक्कड़ नाटक में बताया कि एड्स से बचाव के लिए किस तरह की सावधानी बरतनी है। इसके साथ ही जांच एवं उपचार के संबंध में भी जानकारी दी। कार्यक्रम के समापन अवसर पर जिला एड्स नियंत्रण अधिकारी डॉ. जेडी कोरी सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार मांझी, शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय क्रमांक-1 के प्राचार्य श्री रवीन्द्र कुमार बांगरे ने भी छात्र-छात्राओं तथा उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए एड्स से बचाव के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर जिला विधिक सेवा अधिकारी श्री अनीस अब्बासी और एनएसएस के कैडेट उपस्थित थे।


विश्व एड्स दिवस के अवसर पर जागरूकता रैली शिविर एवं नुक्कड़ नाटकों के माध्यम किया गया आमजन को जागरूक

  • किसी भी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति से हीन भावना का व्यवहार न करें, वे भी हमारे ही समाज का हिस्सा हैं - अपर जिला न्यायाधीश श्री दांगी

sehore news
प्रधान जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री आरएन चंद के निर्देश पर विश्व एड्स दिवस के अवसर पर जिला चिकित्सालय में एड्स जागरूगकता रैली सह शिविर आयोजित किया गया। जनजागरूकता रैली को अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री मुकेश कुमार दांगी ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। जागरूकता रैली के प्रारंभ में अपर न्यायाधीश श्री दांगी ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति से हीन व्यवहार न करें वो भी हमारे समाज का ही हिस्सा हैं। किसी भी बीमारी से बचाव के लिए जागरूकता ही अचूक उपाय है, जब तक हम अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक नहीं होंगे तब तक बीमारियों से ग्रसित होने की संभावना बनी रहेगी। इसलिए आवश्यक है कि अपने रोजमर्रा के काम पढ़ाई, व्यवसाय, नौकरी के साथ-साथ अपने स्वास्थ्य एवं सेहत के प्रति भी जागरूक रहें। जागरूकता रैली में विद्यार्थी आमजन को जागरूक करने के लिए एड्स जागरूगकता एवं बचाव से संबंधित तख्तियां हाथों में लिए हुए नारे लगा रहे थे। एड्स जनजागरूकता रैली एवं नुक्कड़ नाटक का मंचन करते हुए रैली मुख्य मार्ग होते हुए कोतवाली चैराहा पहुंची। कोतवाली चैराहे पर एड्स जनजागरूकता पर नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर रैली का समापन किया गया। इस रैली के माध्यम से एड्स से बचाव का संदेश दिया गया। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने एड्स बचाव के संदेश के साथ कोतवाली चैराहा पर नुक्कड़ नाटक की उत्कृष्ट प्रस्तुती दी। नुक्कड़ नाटक में बताया कि एड्स से बचाव के लिए किस तरह की सावधानी बरतनी है। इसके साथ ही जांच एवं उपचार के संबंध में भी जानकारी दी। कार्यक्रम के समापन अवसर पर जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री अनीस उद्दीन अब्बासी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमा डेहरिया, जिला एड्स नियंत्रण अधिकारी डॉ. योगेश्वर कोरी सहित विद्यालयों के विद्यार्थी एवं उपस्थित थे।


जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10143 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव शून्य हो गई हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या10021  हैं। आज 538 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 119, श्यामपुर से 148, नसरूल्लागंज 46, आष्टा से 152, बुधनी से 63 तथा इछावर से 10 सैंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सैंपल 304281 हैं। जिनमें से 291936 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।आज 306 सैंपलो की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। कुल 2131 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है।


विश्व दिव्यांग दिवस 03 दिसम्बर को आयोजित किए जाएंगे अनेक खेलकूद एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम


प्रत्येक वर्ष की तरह इस बर्ष भी विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर दिव्यांगजनों के सांस्कृतिक एवं खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन शासकीय चंद्रशेखर आजाद अगृणी महाविद्यालय में प्रात: 10 बजे से किया जाएगा। दिव्यांगो के सामर्थ्य अनुसार जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी। इसके साथ ही कार्यक्रम में दिव्यांगजनों द्वारा बनाई कलाकृति एवं चित्रकला, हस्तकला का स्टाल भी लगाया जाएगा। कार्यक्रम उपरांत विजेता प्रतिभागियों को पुरूस्कृत भी किया जाएगा।


कोविड टीकाकरण महाअभियान को लेकर लोगों ने दिखाया उत्साह, महाअभियान के तहत 33 हजार 247 लोगों ने लगवाया कोविड टीका


vidisha news
जिले में कोविड टीकाकरण महाअभियान में लोगों ने भारी उत्साह दिखाया। जिले में टीकाकरण महाअभियान के तहत 33 हजार  247 लोगों को कोविड का टीकाकरण किया गया।  जिले में शुक्रवार को शाम 5:30 बजे तक 33 हजार 247 लोगों को कोविड का टीका लगाया गया। सुबह 8 बजे से ही लोग कोविड का टीका लगवाने के लिए टीकाकरण केन्द्र पहुंचे।


घरों व खेतो पर जाकर किया वैक्सीनेशन

स्वास्थ्य अमले द्वारा घर घर जाकर एवं खेतों में काम कर कर रहे मजदूरो को भी वहीं जाकर टीकाकरण किया गया। श्यामपुर तहसील के ग्राम गेरूखान में खेतो में काम कर रहे मजदूरों का एएनएम द्वारा खेतों में जाकर टीकाकरण किया गया। सभी मजदूरों ने  टीका लगवाया और स्वास्थ्य अमले को धन्यवाद दिया।


जिले में जनपदवार टीकाकरण की स्थिति

जिले में कुल 33247 नागरिकों का टीकाकरण किया गया। टीकाकरण के लिए 331 टीकाकरण केंद्र बनाएं गए। आष्टा में 9206, बुधनी में 3140, इछावर में 3174, नसरूल्लागंज में 6877, श्यामपुर में 8269 तथा सीहोर शहरी क्षेत्र में 2581 नागरिकों का टीकाकरण किया किया गया।


लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री का दौरा कार्यक्रम


लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी 02 दिसम्बर को दोपहर 02 बजे भोपाल से प्रस्थान कर दोपहर 2:45 बजे सीहोर पहुंचेंगे। सीहोर पहुंचकर डॉ. चौधरी ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण करेंगे । इसके पश्चात वे अपराहन 3:00 बजे कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक लेंगे। इसके पश्चात शाम 04 बजे वे सीहोर के धार के लिए प्रस्थान करेंगे।


अजाक्स ने किया स्कूली बच्चों की फीस का भुगतान


अजाक्स ने दो गरीब भाई बहनों के स्कूल की फीस जमा की ताकि उनकी पढ़ाई फीस जमा नहीं होने के कारण कहीं रुक ना जाए। अजाक्स (अनुसूचित जाति जनजाति अधिकारी कर्मचारी संघ) को जब यह पता चला कि आष्टा के एक मजदूर के बच्चों की पढ़ाई फीस जमा नहीं होने के कारण छूट रही है तो संघ ने इन दोनों भाई-बहनों की फीस जमा करने का निर्णय लिया। अजाक्स के संभागीय अध्यक्ष श्री बंशीलाल धनवाल ने बताया कि अजाक्स अधिकारी कर्मचारियों के कल्याण के साथ ही मानव सेवा के भी कार्य कर रहा है। उन्होंने बताया कि यह दोनों भाई बहन फीस जमा नहीं होने के कारण कक्षा दसवीं की परीक्षा से वंचित हो जाते। अजाक्स का प्रयास है कि किसी भी गरीब बच्चे की पढ़ाई ना छूटे इसके लिए संघ यथासंभव ऐसे छात्रों की मदद कर रहा है। इस पुनीत कार्य में संघ के संभागीय उपाध्यक्ष श्री आरके बांगरे सहित अन्य सदस्यों ने सहयोग किया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सलकनपुर से प्रारंभ किया फेस मास्क लगवाने का जन-जागरूकता अभियान

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी नागरिकों से कोविड के दोनों डोज लगवाने और फेस मास्क लगाने की अपील की

sehore news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सलकनपुर में आम जनता को फेस मास्क के उपयोग के लिए समझाइश दी। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए फेस मास्क के उपयोग का जागरूकता अभियान प्रारंभ किया। उन्होंने फेस मास्क वितरित किए और अपने हाथों से उन लोगों को लगाए, जो इसका उपयोग नहीं कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का अनुरोध भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के लिए वैक्सीन के दोनों डोज अवश्य लगवायें, तभी हम कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को रोक पाने में पूरी तरह सफल होंगे। उन्होंने कहा कि मैं जन-प्रतिनिधियों से अपील करना चाहता हूँ कि आपको दस्तक देना है मास्क और टीकाकरण के लिए। आज महाअभियान है, आगे भी दिसंबर माह में महाअभियान की तिथि तय करेंगे। जिन जिलों में 90 प्रतिशत से कम वैक्सीनेशन हुआ है वहाँ गति बढ़ाई जाए। दूसरे डोज के महत्व से सभी को अवगत करवाएँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन ने जन-सहयोग और क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी को साथ लेकर कोरोना को कंट्रोल किया है। मध्यप्रदेश का यह मॉडल सभी जगह सराहा गया है। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी बैठक कर कोरोना की संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा। इस अवसर पर विधायक इछावर श्री करण सिंह वर्मा, विधायक सीहोर श्री सुदेश राय,  विधायक आष्टा श्री रघुनाथ मालवीय,  श्री गुरू प्रसाद शर्मा,  भाजपा जिलाध्यक्ष श्री रवि मालवीय, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, श्री रंजीत सिंह गुणवान, श्री रघुनाथ सिंह भाटी, सलकनपुर मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री महेश उपाध्याय सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थिति थे। 


नेशनल लोक अदालत 11 दिसम्बर को बिजली चोरी एवं अनियमितताओं के प्रकरण का समझौते से होगा निराकरण


मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अंतर्गत भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के 16 जिलों में 11 दिसम्बर को कोविड-19 की गाईडलाईन का पालन करते हुए एवं स्थानीय परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए लगाई जाने वाली नेशनल लोक अदालत में बिजली चोरी एवं अनियमितताओं के प्रकरण को समझौते के माध्यम से निराकृत किया जाएगा। कंपनी द्वारा विद्युत उपभोक्ताओं एवं उपयोगकर्ताओं से अपील की गई है कि वे अप्रिय कानूनी कार्यवाही से बचने के लिए अदालत में समझौता करने के लिए संबंधित बिजली कार्यालय में संपर्क करें। कंपनी द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि धारा 126 एवं135 के तहत लंबित प्रकरण एवं ऐसे प्रकरण जो न्यायालय में दर्ज नहीं हो सके हैं, ऐसे प्रकरणों के त्वरित निराकरण तथा धारा 126 के तहत बनाए गए ऐसे प्रकरण जिनमें उपभोक्ताओं द्वारा अ कमेटी के समक्ष आपत्ति अपील प्रस्तुत नहीं की गई है, की प्रीलिटिगेशन के माध्यम से निराकरण के लिये निम्नदाब श्रेणी के समस्त घरेलू, समस्त कृषि, 5 किलोवॉट तक के गैर घरेलू एवं 10 अश्व शक्ति भार तक के औद्योगिक उपभोक्ताओं को छूट दी जाएगी।


प्रिलिटिगेशन स्तर पर

कंपनी द्वारा आंकलित सिविल दायित्व की राशि पर 30 प्रतिशत एवं आंकलित राशि के भुगतान में चूक किये जाने पर निर्धारण आदेश जारी होने की तिथि 30 दिवस की अवधि समाप्त होने के पश्चात् छः माही चक्रवृद्धि दर अनुसार 16 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से लगने वाले ब्याज की राशि पर 100 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। 


न्यायालयीन लंबित प्रकरणों में

कंपनी द्वारा आंकलित सिविल दायित्व की राशि पर 20 प्रतिशत एवं आंकलित राशि के भुगतान में चूक किये जाने पर निर्धारण आदेश जारी होने की तिथि से 30 दिवस की अवधि समाप्त होने के पश्चात् प्रत्येक छः माही चक्रवृद्धि दर अनुसार 16 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से लगने वाले ब्याज की राशि पर 100 प्रतिशत छूट दी जाएगी।


जिले में 02 दिसंबर को चलाया जाएगा वैक्सीनेशन महाअभियान, जिले में 66 हजार 800 लोगो के टीकाकरण का लक्ष्य

  • टीकाकरण के लिए बनाए जाएंगे 369 केंद्र कोविड-19 वैक्सीनेशन के प्रभावी  क्रियान्वयन एवं पर्यवेक्षण के लिए जिला एवं ब्लॉक स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त

राज्य शासन के निर्देशानुसार प्रदेश के  साथ  ही जिले में 02 दिसंबर को वैक्सीनेशन महाअभियान चलाया जाएगा। जिसमें कोविड-19 के टीकाकरण से छुटे हुए सभी नागरिकों को वैक्सीन लगाई जाएगी। कोरोना वैक्सीनेशन महा-अभियान के संबंध में कलेक्टर श्री चंद्रमोहन ठाकुर द्वारा कोविड-19 वैक्सीनेशन का प्रभावी क्रियान्वयन एवं पर्यवेक्षण के लिए जिला स्तर एवं ब्लॉक स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए है। जिले मे शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिए समस्त विकासखण्ड को लक्ष्य आवंटित किया गया है। टीकाकरण केंद्रों पर 66 हजार 800 वैक्सीन डोज लगाई जाएगी। सभी नोडल अधिकारी अपने क्षेत्र के एसडीएम एवं सीईओ से समन्वय कर शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य प्राप्त करेंगे। शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिए नोडल अधिकारी की सम्पूर्ण जिम्मेदारी होगी । समस्त विकासखण्ड को साप्ताहिक लक्ष्य आवंटित किया गया है। जिसमे शहरी क्षेत्र सीहोर का  लक्ष्य 4 हजार 500, विकासखण्ड आष्टा का लक्ष्य 18 हजार 40, बुदनी का लक्ष्य 8 हजार 680, इच्छावर का  लक्ष्य 13 हजार 530, नसरुल्लागंज का  लक्ष्य 11 हजार 250, श्यामपुर का  लक्ष्य 10 हजार 800 रखा गया है। वही 02 दिसंबर को 82 सत्र आष्टा में, 40 सत्र बुदनी में, 55 सत्र इच्छावर में 63 सत्र नसरुल्लागंज में, 108 सत्र श्यामपुर में एवं सीहोर शहरी क्षेत्र में 21 टीकाकरण सत्र लगाए जाएंगे। जिला स्तर पर कार्य दायित्व अनुसार माइक्रो प्लान, सेशन प्लान जिला टीकाकरण अधिकारी, ब्लॉक स्तर पर बीएमओ द्वारा  वैक्सीनेशन का सम्पूर्ण दायित्व, वैक्सीन टीम का प्लान एवं समय पर वैक्सीनेशन कार्य प्रारंभ करना, मॉनिटरिंग एवं बीपीएम, बीसीएम, बीईई, कोल्ड चैन हेण्डलर  सभी को कार्यदायित्व सौपे गये है। जिसमे  वैक्सीनेशन प्लान, क्रियान्वयन, आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से मोबलाईजेशन का कार्य, रिपोर्टिग, वैक्सीन वितरण समस्त एव्हीडी के माध्यम से वैक्सीन समय पर पहुचाना, वैक्सीनेशन हेतु हितग्राही मोबलाईजेशन कार्य जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, जिला समन्वयक, जन अभियान परिषद, जिला प्रबंधक एनआरएलएम, समस्त सीईओ जनपद पंचायत, समस्त सीडीपीओ संबंधित विभाग के तहत कार्यरत् आंगनवाडी कार्यकर्ता, पंचायत सचिव, स्वयं सहायता समूह के सदस्यों के माध्यम से कोविड-19 टीकाकरण के लिए हितग्राहियों को मोबलाईज करने के लिए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश कलेक्टर श्री ठाकुर द्वारा दिए गए है। कलेक्टर श्री ठाकुर ने समस्त छूटे हुए हितग्राहियो खासकर दूसरे डोज से वंचित लोगो से अपील की है कि वे सत्र पर पहुंचकर टीका जरूर लगवाये। कोविड से सम्पूर्ण सुरक्षा के लिए टीके के दोनों डोज पूर्ण होना अति आवश्यक है. दोनों डोज पूर्ण तो सुरक्षा सम्पूर्ण है। सीएमएचओ डाक्टर सुधीर कुमार डेहरिया ने भी जिले के नागरिकों से अपील की है कि कोविड-19 की वैक्सीन के प्रथम डोज एवं द्वितीय डोज जिन्होंने नहीं लगवाए हैं वे दोनों डोज लगवाएं तथा स्वयं सहित परिवारों को कोविड-19 से सुरक्षित करें। वैक्सीनेशन की जानकारी के लिये स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से सम्पर्क कर सकते है।


सेवानिवृत्त होने वाले शासकीय सेवक का पेंशन के लिए संयुक्त बैंक खाते अनिवार्य


जिले के समस्त आहरण एवं वितरण अधिकारी अपने कार्यालय में आगामी सेवानिवृत्त होने वाले शासकीय सेवकों के संयुक्त बैंक खाते ओर (सेवा पुस्तिका में नॉमिनी अनुसार ) अनिवार्यता खुलवाए जाये तथा आईएफएमआइएस में पेंशन फार्म तभी सबमिट किया जाकर जनरेट किया जाए जब सेवानिवृत्त होने वाले शासकीय सेवक का पेंशन हेतु अधिकृत बैंक शाखा में संयुक्त बैंक खाते में प्रथम नाम शासकीय सेवक का एवं द्वितीय नाम परिवार पेंशनर का हो बैंक में संयुक्त खाता धारक के नाम नॉमिनेशन प्रस्तुत किया गया हो एवं जिसे बैंक शाखा द्वारा मान्य किया गया हो। यह प्रक्रिया दिसम्बर एवं आगामी माह में सेवानिवृत्त, मृत या वीआरएस ले रहे हो ऐसे सभी शासकीय सेवकों पर लागू रहेगी तभी परिवार पेंशन प्रारंभ करना सुनिश्चित किया जाये। साथ ही पी.पी.ओ. में यदि परिवार पेंशनर का नाम अंकित हो तो संबंधित परिवार पेंशनर द्वारा पेंशनर का मृत्यु प्रमाणपत्र बैंक पासबुक की छायाप्रति, वैधानिक परिचय पत्र यथा आधार, पेन कार्ड, वोटर आई डी सहित आवेदन प्रस्तुत करने पर तथा अन्य आवश्यक औपचारिकताओं की पूर्ति यथाशीघ्र करने पर परिवार पेंशन प्रारंभ की जायेगी।


फोटो निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2022, दावे, आपत्ति प्राप्त करने की अवधि में वृद्धि, अब 5 दिसम्बर,2021


भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार फोटो निर्वाचक नामावली के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2022 के लिए दावे, आपत्तियों प्राप्ति के लिए 30 नवम्बर,2021 निर्धारित की गई थी। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा अब दावे, आपत्तियाँ प्राप्त करने की अंतिम तिथि 05 दिसम्बर,2021 तक बढ़ाई गई है। जिले के बूथ लेवल अधिकारियों द्वारा 01 दिसम्बर, 2021 से 05 दिसम्बर, 2021 के मध्य घर-घर जाकर चिन्हित ऐसे मतदाताओं से दावे प्राप्त करें, जो अर्हता तिथि 1 जनवरी, 2022 के आधार पर 18 वर्ष के हो गए हैं। उनके आवेदन GARUDA App के माध्यम से दर्ज करना सुनिश्चित करें।


मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना प्रारंभ


प्रदेश के युवाओं के लिये स्वयं का उद्योग, सेवा या व्यवसाय स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना को प्रारंभ किया जाता है। जिसका क्रियान्वयन भी प्रारंभ कर दिया है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना एवं मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना को समाप्त कर अब मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना लागू की गई है।  मुख्यमंत्री  उद्यम   क्रांति योजना का लाभ केवल नवीन उद्यमों की स्थापना हेतु होगा। योजना के प्रावधान सभी वर्गों के आवेदकों के लिये समान रहेंगे। मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजनान्तर्गत अर्हता एवं वित्तीय सहायता संबंधी प्रावधान निर्धारित किये गये है। परियोजना इकाई के लिये राशि रुपये 50 लाख तक की परियोजनाएं, सेवा इकाई एवं खुदरा व्यवसाय के लिए रूपये 1 लाख से 25 लाख तक की परियोजना, पात्रता आयु 18-40 वर्ष एवं शैक्षणिक योग्यता न्यूनतम 12 वी उत्तीर्ण, आय सीमा रुपये 12.00 लाख से अधिक न हो, आवेदक के अविवाहित होने पर आवेदक स्वयं एवं उसके माता-पिता जिन पर यह आश्रित है। अथवा आवेदक के विवाहित होने पर पति, पत्नी एवं आश्रित बच्चो एवं अधिवाहित बच्चों की उम्र का कोई बंधन नहीं) से हैं। आवेदक का परिवार आयकर दाता है तो उसकी पिछले तीन वर्षों की आयकर विवरणी सलग्न करेगा। आवेदक स्वयं किसी बैंक, वित्तीय संस्था  से वित्तीय सहायता, का डिफाल्टर ना हो। आवेदक वर्तमान में राज्य अथवा केन्द्र सरकार की किसी अन्य स्वरोजगार योजना का हितग्राही न हो। योजनान्तर्गत सभी वर्ग के हितग्राहियों को बैंक द्वारा वितरित ऋण पर 3 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से ब्याज अनुदान, अधिकतम 7 वर्षों तक (मोरेटोरियम अवधि सहित) दिया जायेगा । जिस अवधि के दौरान हितग्राही का ऋण खाता NPA बना रहता है. उस अवधि के लिए कोई ब्याज अनुदान स्वीकार्य नहीं होगा। राशि प्रतिपूर्ति व्याज, अनुदान के रूप में वार्षिक आधार पर प्रदान की जायेगी। योजनान्तर्गत प्रशिक्षण की 12 दिवसीय उद्यमिता विकास प्रशिक्षण ट्रेनिंग के माध्यम से प्राप्त परियोजनायें उद्योग (विनिर्माण) सेवा एवं व्यवसाय क्षेत्र की समस्त परियोजना जो COTMSE अन्तत बैंक गारंटी के लिए पात्र है। योजना का क्रियान्वयन सूक्ष्म और मध्यम उधम विभाग द्वारा किया जायेगा। पूर्व संचालित मुख्यमंत्री स्वरोजगार, युवा उद्यमी, उद्यमी योजनाओं में 7 वर्षों तक व्याज अनुदान तथा ऋण गारंटी शुल्क अनुदान का प्रधान होने के कारण इन पूर्ववर्ती योजनाओं के हितग्राहियों को इसका लाभ यथावत पूर्व प्रावधान के अनुसार प्राप्त होता रहेगा। मुख्यमंत्री उद्यम कान्ति योजना अंतर्गत वित्त विभाग द्वारा बजट अनुसार जिलेवार एवं वैकवार वित्तीय लक्ष्य निर्धारित किये जायेंगे। योजना का क्रियान्वयन वित्त विभाग द्वारा शासकीय योजनाओं के लिये निर्माणाधीन समेकित पोर्टल के माध्यम से किया जायेगा।


उद्यानिकी फसलों की कीट व बीमारियों के नियंत्रण हेतु कृषकों को सुझाव


उद्यानिकी विभाग ने बताया कि उद्यानिकी फसलों की कीट एवं बीमारियों के नियंत्रण हेतु कृषकों को सुझाव है कि फल एवं सब्जियों पर कीटों द्वारा नुकसान किया जाता है। पत्तियों तथा तना के विभिन्न अंगों का रस चूसना, कोमल पत्तियों तथा तनों को खाना, फूलों का रस चूसना, खाना एवं विकृत करना, फलों एवं तनों में छेद करना, पौधों की जड़ें काटना, विभिन्न रोगों के भाग के रूप में कार्य करना, हानि की दृष्टि से कीटों को निम्न वर्गों में बाटा जा सकता है। जिसके लिए कृषकों को सावधानियां बरतनी चाहिए।   सब्जियों एवं फलों की रोक प्रतिरोधी किस्मों का प्रयोग करें, अंतवर्तीय फसलों की खेती रोग प्रबंधन में कारगर है, भिण्डी में पीला मौजिक रोग का नियंत्रण में लोविया लगाकर कर सकते हैं, सब्जी वर्गीय फसलों में बुवाई अथवा रोपाई में बदलाव मृदा व बीज जनित बीमारियों के नियंत्रण में कारगर है, ग्रीष्म कालीन गहरी जुताई व नीम खली का प्रयोग करें, फफूंद जनित बीमारियों के प्रबंधनहेतु ट्राईकोडरमा, बिरिडी/ट्राईकोडरमा, हरजिनयानम से बीज उपचार करें, जीवाणु जनित बीमारियों के बचाव हेतु स्यूडोमोनास का प्रयोग करें, वायरस जनित बीमारियों से बचाव हेतु रोग ग्रसित पौधों का उखाड़ कर जला देवें व रस चूसक कीटों के  नियंत्रण हेतु अनसंशित कीट नाशक दवाओं का छिड़काव करें, पत्तियों, तनों व फलों परलगने वाली बीमारियों के नियंत्रण हेतु जैविक फफूंद नाशक दवाओं में ट्राईकोडरमा, विरिडी अथवा स्यूडोमोनास का प्रयोग करें, रसायनिक दवाओं में कार्वान्डाजिम, मेन्कोजेब, प्रोपिको नोजोल, ट्राइजोइक्लोजाल, कापर युक्त दवाओं का प्रयोग करें। स्वच्छ खेती करना, गहरी जुताई करें, समय पर खरपतवार का नियंत्रण करें, संतुलित उर्वरक प्रबंधन करें, अंतरवर्तीय फसलें लें, बीजोपचार करके फसल बोयें, इमिडो क्लोप्रिड, थायों मिथकषागजाम, आदि कीटनाशकों से बीज उपचार कर फसल बोयें, प्रमाणित बीज उपयोग करें, टपक सिंचाई तथा फौहारा पद्धति से सिंचाई करें, विभिन्न प्रकार प्रपंच जैसे प्रकाश प्रपंच, इल्ल्यिं के नियंत्रण हेतु फेरोमौन प्रपंच, इल्लियों हेतु पीला चिपचिपा प्रपंच रस चूसक कीटों हेतु प्रयोग करें, अनुशंसित बीज की मात्रा, बीज अंतरण पर ही फसल को बोयें।   आईपीएम तकनीक का प्रयोग करें, कीट नाशियों का प्रयोग, कीट की संख्या, आर्थिक क्षति स्तर होने पर ही प्रयोग करें, अंतिम विकल्प के रूप में उपयोग करें, इंडोसाकार, प्रोफनोंफास, फ्यूवेन्डामाइट, फ्लोरीन, प्रोफजॉल, स्पाइनों सिड, ऐयमैक्टीन ब्रेंजोएट, ऐसीटामाप्रिड, थायोमिथाक्जोम। दवाइयों को आपस में मिलाकर उपयोग न करें, घोल बनाते समय पानी की पर्याप्त मात्रा में उपयोग करें, दवाई की अनुशंसित मात्रा का ही छिड़काव करें, चिपकने वाले पदार्थों का उपयोग करें।


किसानों के लिए अतिरिक्त आय का बेहतर जरिया है मछली पालन


मत्स्य पालन कार्य में रूचि रखने वाले किसान, जो विभिन्न प्रकार से मछली पालन कर अपनी आय बढ़ाना चाहते हैं, उनसे प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के तहत आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। योजना के तहत स्वयं की भूमि पर तालाब निर्माण, आरएएस, मत्स्यबीज संवर्धन जलक्षेत्र निर्माण, केज कल्चर, बायोफ्लॉक, हैचरी, फिश फीड मील, बर्फ संयत्र-आइस प्लांट, मत्स्य परिवहन के लिए मोटर साइकिल, तीन पहिया वाहन, साइकिल, मछली की फुटकर दुकान सहित विभिन्न गतिविधियों से जुड़कर इच्छुक किसान लाभ ले सकते हैं।   प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के तहत अनुसूचित जाति एवं जनजाति तथा महिला को योजना प्रावधान का 60 प्रतिशत और शेष को 40 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर मत्स्य पालन कर शासकीय योजनाओं का लाभ लेने के इच्छुक व्यक्ति 05 दिसम्बर 2021 तक संबंधित क्षेत्रीय अधिकारी के माध्यम से प्रस्ताव जिला मत्स्योद्योग कार्यालय में प्रस्तुत कर सकते हैं।


कृषक एनपीके और सुपर फास्फेट का उपयोग करें - कृषि विभाग


कृषि विभाग ने किसानों से एनपीके और सुपर फास्फेट का उपयोग करने का आग्रह किया है। उन्होंने बताया कि  पर्याप्त मात्रा में उर्वरकों का भण्डारण होकर सुगमता से प्राप्त हो रहा है और किसान भाइयों से अनुरोध है कि बुवाई में डीएपी उर्वरक के स्थान पर एन.पी.के. मिश्रित खाद एवं एसएसपी खाद का उपयोग करें। कृषि विभाग ने बताया कि डीएपी के बैग में फास्फोरस 23 किलोग्राम एवं नाइट्रोजन 9 किलोग्राम होता है तथा कीमत 1200 रुपए है, जबकि 3 एसएसपी के बैग में एवं 1 बैग यूरिया की कीमत 1166 रुपए आती है। इसमें 24 किलोग्राम फास्फोरस तथा 24 किलो नाइट्रोजन तथा 16.50 किलोग्राम सल्फर होता है जो तिलहनी फसलों में तेल की मात्रा बढाने में सहायक होता है। कृषि विभाग ने बताया कि डीएपी के स्थान पर तत्व की मात्रा और कीमत दोनों में ही फायदे का सौदा है। इसलिए डीएपी उर्वरक के स्थान पर एनपीके मिश्रित उर्वरक एवं सिंगल सुपर फास्फेट के साथ यूरिया उर्वरक का उपयोग कर सकते हैं। एनपीके उर्वरक डीएपी की तुलना में बहुत अच्छा होता है। इसमें तीनों तत्व पाए जाते हैं। नाइट्रोजन फास्फोरस एवं पोटेशियम जबकि डीएपी में सिर्फ दो तत्व नाइट्रोजन व फास्फोरस ही पाए जाते हैं। किसान भाई डीएपी के स्थान पर एनपीके मिश्रित उर्वरक का उपयोग कर सकते हैं जिससे फसल को पोषक तत्वों की आपूर्ति हो सकेगी।


संकल्प योजना अंतर्गत 3 दिसम्बर तक आवेदन आमंत्रित


संकल्प योजना के अंतर्गत कैरियर काउंसलिंग हेतु काउंसलर एवं मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता के पेनल तैयार करने हेतु आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। केन्द्र सरकार प्रवर्तित संकल्प योजना अंतर्गत जिले के समस्त शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं, पॉलिटेक्निक कॉलेजों, हायर सेकेण्डरी एवं हाईस्कूलों में कैरियर काउंसलिंग कार्यक्रम आयोजित किए जाने हैं। जिसमें विशेषज्ञ, काउंसलर, मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। कैरियर मार्गदर्शन के क्षेत्र में अनुभव रखने वाले शासकीय, अशासकीय, स्वयंसेवी संस्थाएं, स्वतंत्र काउंसलर और विभिन्न विषय विशेषज्ञ पेनल में अपना नाम शामिल करवाने हेतु शासकीय आईटीआई में अपना आवेदन 3 दिसंबर 2021 तक जमा करा सकते हैं। शासकीय कर्मचारी हेतु अपने आवेदन उचित माध्यम से प्रेषित करें। विषय विशेषज्ञ हेतु संबंधित विषय, क्षेत्र में विशेष योग्यता होना चाहिए। मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता हेतु मनोविज्ञान विषय में पीजी डिप्लोमा और स्नातकोत्तर होना अनिवार्य है। चयनित काउंसलरों को नियमानुसार मानदेय प्रदान किया जाएगा।


अनुसूचित जनजाति वर्ग के युवाओं के लिए सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना


प्रदेश सरकार द्वारा अनुसूचित जनजाति वर्ग के युवाओं को शैक्षणिक प्रोत्साहन देने, उनके कौशल उन्नयन तथा उच्च शिक्षा प्राप्ति के लिए विभिन्न योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इन योजनाओं से युवाओं को अपने सपनों को साकार करने में मदद मिल रही है।  इन्हीं में से एक योजना है सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना, जिसके तहत मध्यप्रदेश प्रदेश लोक सेवा आयोग तथा संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा तथा साक्षात्कार में सफल होने पर प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। शासन द्वारा अनेक योजनाएं संचालित की जा रही हैं जिनकी मदद से हम अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं। बस जरूरत है तो अपना लक्ष्य निर्धारित करते हुए उसे प्राप्त करने के लिए पूरी लगन, निष्ठा और मेहनत से प्रयास करने की। शासन द्वारा स्कूली शिक्षा से उच्च शिक्षा प्राप्ति के लिए विभिन्न योजनाएं संचालित की जा रही है।


ऑनलाइन गेम - साइबर सेल ने जारी की एडवाइजरी


प्रदेश में भी ऑनलाइन गेम खेलने के चक्कर में कई युवा और बच्चे अपनी जान गंवा चुके है। इस बात को ध्यान में रखते हुए राज्य साइबर सेल ने एडवाइजरी जारी की है। राज्य साइबर सेल द्वारा जारी एडवाइजरी में अभिभावकों से कहा गया है कि बच्चों को हो सके तो मोबाइल नहीं दें। ऑनलाइन क्लॉसेस के लिए बिना सिम कार्ड का मोबाइल दें, बच्चों को वाईफाई से इंटरनेट इस्तेमाल करने दें।  बच्चों की ऑनलाइन एक्टिविटी पर नजर रखें। परिवार के सभी सदस्यों के मोबाइल में प्ले स्टोर पर पैरेंटल कंट्रोल ऑन करें।  पासवर्ड बच्चों को नहीं बताएं, बच्चों को हर तरह के ट्रांजेक्शन की छूट नहीं दें। खाते से पैसे कटने का मैसेज आते ही बच्चों से पैसे कटने का कारण अवश्य पूछें।


अनुसूचित जाति वर्ग के बीपीएल हितग्राहियों को बैकयार्ड मुर्गी पालन 100 प्रतिशत अनुदान


पशुपालन एवं डेयरी विभाग ने बताया कि अनुसूचित जाति उपयोजना के लिये विशेष केंद्रीय सहायता मद के अंतर्गत वर्ष 2021-22 के लिये आय सृजनात्मक योजना (बैकयार्ड मुर्गीपालन) के लिये अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना अंतर्गत चयनित ग्रामों के अनुसूचित जाति वर्ग के बीपीएल हितग्राहियों को बैकयार्ड मुर्गीपालन 100 प्रतिशत अनुदान से लाभांवित कर पोषण आहार तथा अतिरिक्त आय उपलब्ध कराई जानी है।   योजना के अंतर्गत प्रत्येक हितग्राही को लो इनपुट टेक्नोलॉजी वाले 28 दिवसीय 90 चूजे 2 किश्तों में 6 माह के अंतराल में प्रदाय किए जाने है। चूजों के साथ 40.5 किलोग्राम कुक्कुट आहार तथा दडवा बनाने के लिये 2 हजार 200 रूपये राशि का प्रावधान है।  प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत चयनित ग्रामो में प्राथमिकता के अनुसार कार्य किया जाना है। चयनित ग्रामों में हितग्राही नहीं मिलने पर अन्य ग्राम के हितग्राहियों का चयन किया जा सकता है। उन्होंने अनुसूचित जाति वर्ग के बीपीएल हितग्राहियो से निकट की पशु चिकित्सा संस्था से संपर्क कर योजना का लाभ ले सकते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: