विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 04 दिसंबर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 4 दिसंबर 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 04 दिसंबर

त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन हेतु कार्यक्रम जारी, आदर्श आचरण संहिता प्रभावशील


राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव श्री बीएस जामोद के द्वारा त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन हेतु कार्यक्रम जारी किया गया हैं तदानुसार आदर्श आचरण संहिता चार दिसम्बर 2021 से 23 फरवरी 2022 तक प्रभावशील रहेंगी। त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन वर्ष 2021-22 हेतु निर्वाचन कार्यक्रम राज्य निर्वाचन अयोग के द्वारा जारी किया गया है। जिसके अनुसार विदिशा जिले में तीन चरणो में त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन प्रक्रिया संपादित होगी। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्वाचन कार्यक्रम अनुसार प्रथम चरण का मतदान छह जनवरी को, द्वितीय चरण का मतदान 28 जनवरी को, तृतीय चरण का मतदान 16 फरवरी को सम्पन्न होगा। निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम अनुसार प्रथम चरण के निर्वाचन की सूचना का प्रकाशन तथा नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करना एवं स्थानो (सीटो) के आरक्षण के संबंध में सूचना का प्रकाशन तथा मतदान केन्द्रों की सूची का प्रकाशन संबंधी कार्य सोमवार 13 दिसम्बर 2021 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। प्रथम चरण तहत नाम निर्देशन प्राप्त करने की अंतिम तारीख 20 दिसम्बर 2021 की प्रातः साढे दस बजे से अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। प्राप्त नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा (जांच) कार्य मंगलवार 21 दिसम्बर की प्रातः साढे दस बजे से, अभ्यर्थिता से नाम वापिस लेने की अंतिम तारीख 23 दिसम्बर की अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। इसी दिन निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों की सूची तैयार कर निर्वाचन प्रतीको का आवंटन कार्य अभ्यर्थिता से नाम वापसी के ठीक बाद संपादित किया जाएगा। यदि आवश्यक हुआ तो मतदान गुरूवार छह जनवरी 2022 की प्रातः सात बजे से दोपहर तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। प्रथम चरण के तहत संपादित मतदान के मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा के लिए जारी कार्यक्रम अनुसार मतदान केन्द्र पर की जाने वाली मतगणना (केवल पंच, सरपंच पद के लिए), गुरूवार छह जनवरी 2022 को मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात। जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य की विकासखण्ड मुख्यालय पर ईव्हीएम से की जाने वाली मतो की गणना सोमवार दस जनवरी की प्रातः आठ बजे से शुरू होगी। पंच, सरपंच पद की मतदान केन्द्र पर की गई मतगणना का सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं पंच सरपंच पद की विकासखण्ड मुख्यालय पर की जाने वाली मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा मंगलवार 11 जनवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगी। जनपद पंचायत सदस्य पद के लिए सारणीकरण एवं निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतों का विकासखण्ड स्तरीय सारणीकरण कार्य मंगलवार 22 फरवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से किया जाएगा। प्रथम चरण के तहत जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतो का जिला मुख्यालय पर सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा बुधवार 23 फरवरी की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा द्वितीय चरण के लिए जारी निर्वाचन कार्यक्रम तदानुसार निर्वाचन की सूचना का प्रकाशन तथा नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करना एवं स्थानो (सीटो) के आरक्षण के संबंध में सूचना का प्रकाशन तथा मतदान केन्द्रों की सूची का प्रकाशन संबंधी कार्य सोमवार 13 दिसम्बर 2021 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। प्रथम चरण तहत नाम निर्देशन प्राप्त करने की अंतिम तारीख 20 दिसम्बर 2021 की प्रातः साढे दस बजे से अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। प्राप्त नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा (जांच) कार्य मंगलवार 21 दिसम्बर की प्रातः साढे दस बजे से, अभ्यर्थिता से नाम वापिस लेने की अंतिम तारीख 23 दिसम्बर की अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। इसी दिन निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों की सूची तैयार कर निर्वाचन प्रतीको का आवंटन कार्य अभ्यर्थिता से नाम वापसी के ठीक बाद संपादित किया जाएगा। यदि आवश्यक हुआ तो मतदान शुक्रवार 28 जनवरी 2022 की प्रातः सात बजे से दोपहर तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। द्वितीय चरण के तहत संपादित मतदान के मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा के लिए जारी कार्यक्रम अनुसार मतदान केन्द्र पर की जाने वाली मतगणना (केवल पंच, सरपंच पद के लिए), शुक्रवार 28 जनवरी 2022 को मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात। जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य की विकासखण्ड मुख्यालय पर ईव्हीएम से की जाने वाली मतो की गणना मंगलवार एक फरवरी की प्रातः आठ बजे से शुरू होगी। पंच, सरपंच पद की मतदान केन्द्र पर की गई मतगणना का सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं पंच सरपंच पद की विकासखण्ड मुख्यालय पर की जाने वाली मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा बुधवार दो फरवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगी। जनपद पंचायत सदस्य पद के लिए सारणीकरण एवं निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतों का विकासखण्ड स्तरीय सारणीकरण कार्य मंगलवार 22 फरवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से किया जाएगा। प्रथम चरण के तहत जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतो का जिला मुख्यालय पर सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा बुधवार 23 फरवरी की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा तृतीय चरण के लिए जारी निर्वाचन कार्यक्रम तदानुसार निर्वाचन की सूचना का प्रकाशन तथा नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करना एवं स्थानो (सीटो) के आरक्षण के संबंध में सूचना का प्रकाशन तथा मतदान केन्द्रों की सूची का प्रकाशन संबंधी कार्य गुरूवार 30 दिसम्बर 2021 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। प्रथम चरण तहत नाम निर्देशन प्राप्त करने की अंतिम तारीख गुरूवार छह जनवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। प्राप्त नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा (जांच) कार्य शुक्रवार सात जनवरी की प्रातः साढे दस बजे से, अभ्यर्थिता से नाम वापिस लेने की अंतिम तारीख सोमवार दस जनवरी की अपरान्ह तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। इसी दिन निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों की सूची तैयार कर निर्वाचन प्रतीको का आवंटन कार्य अभ्यर्थिता से नाम वापसी के ठीक बाद संपादित किया जाएगा। यदि आवश्यक हुआ तो मतदान बुधवार 16 फरवरी 2022 की प्रातः सात बजे से दोपहर तीन बजे तक का समय नियत किया गया है। तृतीय चरण के तहत संपादित मतदान के मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा के लिए जारी कार्यक्रम अनुसार मतदान केन्द्र पर की जाने वाली मतगणना (केवल पंच, सरपंच पद के लिए), बुधवार 16 फरवरी 2022 को मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात। जनपद पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य की विकासखण्ड मुख्यालय पर ईव्हीएम से की जाने वाली मतो की गणना रविवार 20 फरवरी की प्रातः आठ बजे से शुरू होगी। पंच, सरपंच पद की मतदान केन्द्र पर की गई मतगणना का सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं पंच सरपंच पद की विकासखण्ड मुख्यालय पर की जाने वाली मतगणना, सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा सोमवार 21 फरवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगी। जनपद पंचायत सदस्य पद के लिए सारणीकरण एवं निर्वाचन परिणाम की घोषणा एवं जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतों का विकासखण्ड स्तरीय सारणीकरण कार्य मंगलवार 22 फरवरी 2022 की प्रातः साढे दस बजे से किया जाएगा। प्रथम चरण के तहत जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतो का जिला मुख्यालय पर सारणीकरण तथा निर्वाचन परिणाम की घोषणा बुधवार 23 फरवरी की प्रातः साढे दस बजे से शुरू होगा। विदिशा जिले के विकासखण्डो हेतु जारी निर्वाचन कार्यक्रम अनुसार तीनो चरणों में मतदान प्रक्रिया संपादित होगी। प्रथम चरण के तहत विदिशा जिले के बासौदा एवं विदिशा विकासखण्ड में, द्वितीय चरण अंतर्गत कुरवाई एवं ग्यारसपुर में तथा तृतीय चरण अंतर्गत सिरोंज, नटेरन एवं लटेरी विकासखण्ड में त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2021-22 की प्रक्रिया संपादित की जाएगी।


बैंकर्स समूहों के उचित प्रोडक्ट कोड का उपयोग करें


स्व-सहायता समूहो को दिए जाने वाले ऋण के संबंध में बैंको द्वारा उचित प्रोडक्ट कोड का उपयोग के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री उमाकांत उपराव द्वारा जारी आदेश का हवाला देते हुए जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल ने बताया कि भारत सरकार द्वारा महिला स्व-सहायता समूहों को वितरित किए जाने वाले बैंक ऋण प्रगति की समीक्षा एनआरएलएमबीएल पोर्टल के आधार पर की जाती है। ग्रामीण आजीविका मिशन के राज्य कार्यालय द्वारा उल्लेखित पोर्टल पर राशि परलिक्षित की गई है। पोर्टल तथा भौतिक रिपोर्ट के अंतर के कारण बैंक शाखाओं द्वारा सही लोन कोड का प्रयोग नहीं किया जाना पाया गया है। अतः एसएलबीसी की बैठकों में यह निर्णय लिया गया है कि अभियान चलाकर स्व-सहायता समूहो के दिए जाने वाले ऋण के संबंध में उचित प्रोडक्ट कोड अंकित कराया जाए। जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट ने ततसंबंध में जिले की ऐसी बैंक जहां राशि में सबसे ज्यादा अंतर है वहां शाखावार पंचायत निरीक्षको, एडीओ तथा आजीविका मिशन के जनपदीय अमले की ड्यूटी लगाकर प्रतिदिन आवंटित बैंक शाखा के प्रबंधक से सम्पर्क एवं समन्वयक कर आवश्यकता होने पर ब्रांच में भ्रमण कर उपरोक्तानुसार अपेक्षित कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करेंगे। कि गई कार्यवाही से हर रोज जिला कार्यालय को अवगत कराएं।


जल मिशन तहत बासौदा की 46 आंगनबाडी केन्द्रो में नल कनेक्शन हुए


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के द्वारा दिए गए निर्देशो के अनुपालन में जल मिशन के तहत जिन ग्रामो में कार्य संपादित किए जा रहे है। उन ग्रामो मेंं संचालित सभी शासकीय कार्यालय भवनो में नल कनेक्शन अनिवार्यत कराए जाएं। जारी आदेश के परिपालन में जल मिशन के द्वारा संबंधित क्षेत्रों में कार्य पूर्ण किए जा रहे है। इसी कडी के तहत बासौदा अनुविभाग क्षेत्र की 46 आंगनबाडी केन्द्रों में जल मिशन अभियान के तहत नल-जल कनेक्शन कार्य पूर्ण कराए गए है कि जानकारी देते हुए क्षेत्र की परियोजना अधिकारी कोमल उपाध्याय ने बताया है कि आंगनबाडी केन्द्रो में नल-जल कनेक्शन हो जाने के कारण जलापूर्ति की समस्या का समाधान हुआ है। बासौदा अनुविभाग क्षेत्र की जिन ग्राम पंचायतों की आंगनबाडी केन्द्रो में नल मिशन के तहत नल कनेक्शन हुए है उन ग्रामों की आंगनबाडी केन्द्रो के नाम इस प्रकार से है। कुरावद, सकरोली, डायला फरीदपुर, करोंदा खुर्द, बारोद, निबोदिया, चौरावर, कानीखेडी, आकाडोंडा, मुरादपुर, बसरिया, सनाईरामपुर, हिन्नौदा, नंदूपुरा, नेगमा पिपरिया, छीपनी, लमन्या, बडाहार, लहदरा, नहारिया, शंकरगढ़, उरदेनी पठार, बंजरिया, डाबर, मुरौदा, गमीरी, खुरसैनी, अमेरा, हथोड़ा, सिरावदा, नसीदपुर, मढिया सेमरा, सलोई, शिवरामपुर, थनवाया, पडरिया, सांईया टपरा, स्यारी, झिलीपुर, ढिमरौली, बडा भुआंरा, किसनौदा, खौंगरा, करीमपुर, बेहलोट, बिलवाय आंगनबाडी केन्द्र शामिल है।


प्रकरणों की जांच हेतु खण्ड स्तरीय समिति गठित


पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना अंतर्गत प्राप्त प्रकरणो की जांच हेतु विकासखण्ड स्तरीय समिति गठित करने का आदेश कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के द्वारा जारी किया गया है। खण्ड स्तरीय कमेटी का अध्यक्ष अनुविभागीय अधिकारी राजस्व होंगे। इसके अलावा समिति में जनपद सीईओ एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी सदस्य तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी को समिति का सचिव नियुक्त किया गया है। पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत 11 मार्च 2020 से 31 दिसम्बर 2021 तक ऐसे बच्चें जिन्होंने अपने जीवित माता पिता, कानूनी अभिभावक या दत्तक माता पिता को खो दिया है ऐसे बच्चों के लिए प्रधानमंत्री जी द्वारा पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना प्रारंभ की गई है। योजना के तहत बाल हितग्राही के 18 वर्ष के होने पर बच्चे के नाम से दस लाख रूपए का कॉर्पस का प्रावधान किया गया है। इसी कॉपर्स में से बच्चे को मासिक आर्थिक सहायता (स्टाईपेड) देने का प्रावधान किया गया है। बाल हितग्राही के 23 वर्ष पूर्ण होने पर बच्चें को लम्सम राशि दस लाख रूपए प्रदाय की जाएगी। बाल हितग्राही को आयुष्मान भारत के अंतर्गत पांच लाख रूपए तक का स्वास्थ्य बीमा कवर किया जाएगा। बाल हितग्राही को योजनांतर्गत वर्तमान छात्रवृत्ति के प्रावधान तहत लाभ दिया जाएगा। बाल हितग्राही को दस वर्ष की आयु तक नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय अथवा निजी विद्यालय में गैर आवासीय विद्यार्थी के रूप में प्रवेशित कर आरटीई प्रावधानो के अनुसार फीस केन्द्र सरकार द्वारा दी जाएगी। वहीं बाल हितग्राही को किताबे, नोटबुक, यूनिफार्म पर व्यय राशि भी प्रदान की जाएगी। बाल हितग्राही के 11 से 18 वर्ष के आयु समूह में होने पर केन्द्रीय आवासीय विद्यालय जैसे नवोदय विद्यालय, सैनिक स्कूल में प्रवेशित किया जा सकता है। यदि बाल हितग्राही विस्तृत परिवार में निवासरत है तो नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय या निजी विद्यालय में गैर आवासीय विद्यार्थी के रूप में प्रवेशित कर आरटीई के प्रावधानो के अनुसार सुविधा मुहैया कराई जाएगी। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने बताया कि जिले में पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजनांतर्गत बाल कल्याण समिति विदिशा द्वारा प्राप्त दस प्रकरणों को अनुमोदन हेतु डीएम लॉगिंग पर अग्रेषित किया हैं उक्त में से एक प्रकरण कोविड 19 की आरटीपीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव होने से स्वीकृत किया गया है शेष नौ प्रकरणों की जांच की जबावदेंही खण्ड स्तरीय समिति का सौंपी गई है। 


गेंहू की फसल को जड़ माहू कीट से बचाएं


vidisha news
मौसम की प्रतिकूलता के कारण गेंहू फसल में जड़ माहू कीट का प्रकोप होने की संभावना रहती है। अतः किसान भाई अपने खेत की सतत निगरानी करें।


जड़ माहू कीट के लक्षण

यह कीट गेंहू फसल में पौधो की जड़ो से रस चूसता है जिसके कारण पौधा पीला पड़ने लगता है और धीरे-धीरे सूखने लगता है। शुरूआत में खेतों में जगह जगह पीले पडे़ हुए पौधे दिखाई देते है, बाद में पूरा खेत सूखने की संभावना रहती है।


जड़ माहू कीट की पहचान

यह कीट हल्के पीले रंग से गहरे हरे रंग का होता है जो जड़ों का रस चूसता हुआ दिखाई पड़ता है। गेंहू के पौधो को जड़ से उखाडने पर ध्यानपूर्वक देखने से यह कीट आसानी से दिखाई देता है।


जड़ माहू कीट प्रबंधन

इस कीट के प्रबंधन हेतु इमीडाक्लोप्रिड 17.8 एसएल दवा की 70 एमएल मात्रा प्रति एकड अथवा एसीटोमेप्रिड 20 प्रतिशत एसपी दवा की 150 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ अथवा थायोमिथाक्जॉक 25 प्रतिशत डब्ल्यूजी दवा की 50 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ 150-200 लीटर पानी में घोल बनाकर पूरे खेत में अच्छी तरह से छिडकाव करें। यह दवाएं सिस्टेमिक प्रकार की होती है जिनसे पूरा पौधा जहरीला हो जाता हैं और जब कीट या रस चूसता है तो वह मर जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं: