झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 04 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 4 दिसंबर 2021

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 04 दिसंबर

संविधान के साथ खिलवाड़ कर नियमों का उल्लंघन कर करवाएं जा रहे पंचायत चुनाव, जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता एवं संभागीय प्रवक्ता साबिर फिटवेल ने लगाया आरोप


jhabua news
झाबुआ। मप्र सरकार द्वारा त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की घोषणा को संविधान के साथ खिलवाड़ एवं नियमों का उल्लंघन करने पर कांग्रेस ने कड़ा विरोध जताया है। जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता एवं संभागीय काग्रेस प्रवक्ता साबिर फिटवेल ने बताया कि भाजपा सरकार ने वर्ष 2014 के आरक्षण पद्धति से जिसमें जिला पंचायत सदस्य, जनपद सदस्यख् सरपंच, पंच का आरक्षण हुआ था, उसके आधार पर चुनाव कराए जा रहे हैं वहीं 2019 में हुए आरक्षण परिसीमन को समाप्त कर दिया गया है जो न्याय संगत नहीं है। उक्त काग्रेस नेताओं ने कहा कि पंचायती राज अधिनियम 1993 में सरपंच पद के लिए रोटेशन पद्धति का पालन करते हुए आरक्षण की व्यवस्था है, इस व्यवस्था के अंतर्गत अधिनियम लागू होने से अभी तक लगभग 5 बार पंचायती राज के चुनाव हो चुके हैं जिसमें हर बार रोस्टर का पालन करते हुए रोटेशन पद्धति से आरक्षण किए गए है। उन्होंने कहा कि मप्र सरकार के एक आदेश अनुसार वर्ष 2019 में ग्राम पंचायतों, जिला पंचायत, जनपद पंचायत सदस्यों के लिए नई परिसीमन व्यवस्था अपनाई गई थी, जो संविधान के अनुरूप नियमानुसार थी, परंतु भाजपा की सरकार ने 2014-15 के आरक्षण को आधार मानते हुए चुनाव का ऐलान कर रही है। भाजपा सरकार ने वर्ष 2019 के परिसीमन को समाप्त कर वर्ष 2014 के परिसीमन को को यथावत मानकर पंचायत चुनाव का एलान कर दिया है, जो पंचायत राज अधिनियम का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन है


भ्रम की स्थिति उत्पन्न की जा रहीं

वही पंचायती राज अधिनियम के अंतर्गत रोस्टर का पालन करते हुए रोटेशन के तहत आरक्षण से ही चुनाव कराए जाने का नियम है। साथ ही जिन स्थानों में 2014 में महिलाओं के लिए स्थान आरक्षित किए गए थे, वर्ष 2021-22 में वही स्थान महिलाओं के लिए ही आरक्षित कर देना एवं पूर्व में पुरुषों के लिए आरक्षित स्थान को पुनः पुरुषों के लिए आरक्षित कर देना, महिला आरक्षण के भी खिलाफ है प्र।देश सरकार के मंत्री भी लगातार सोशल मीडिया में इस बात का बार-बार उल्लेख कर रहे हैं कि आगामी समय में मप्र में होने वाले पंचायती राज के चुनाव वर्ष 2014-15 के आरक्षण से होंग। श्री मेहता एवं श्री फिटवेल ने कहा कि मंत्रियों के इस प्रकार के बयान से संपूर्ण प्रदेश में होने वाले पंचायती चुनाव में भ्रम की स्थिति फैली हुई है।


कांग्रेस ने जताया विरोध

कांग्रेस ने आगे कहा है कि पंचायती राज एवं ग्राम स्वराज अधिनियम 1993 पंचायती राज अधिनियम 1995 के तहत पंचायत चुनाव वर्ष 2021 22 में नया आरक्षण करवाया जाए, क्योंकि 2014 में हुए आरक्षण के आधार पर अगर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव होते है, तो यह संविधान के साथ खिलवाड़ होने के साथ असंवैधानिक है जिसका काग्रेस पुर जोर से विरोध करती है।


अभाविप की झाबुआ इकाई में मनाया जन-नायक टंट्या मामा का बलिदान दिवस, पीजी कॉलेज झाबुआ में किया श्रद्धांजलि कार्यक्रम, जयकारांे से गूंजा परिसर


jhabua news
झाबुआ। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् इकाई झाबुआ द्वारा स्थानीय शहीद चंद्रशेखर आज़ाद शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय एवं आदर्श महाविद्यालय झाबुआ मे क्रांतिकारी, जन-नायक टंट्îा मामा का बलिदान दिवस 4 दिसंबर शनिवार को मनाया गया। इस अवसर पर परिषद् के पदाधिकारी-कार्यकर्ता सहित सभी छात्र-छात्राआंे ने टंट्या मामा के चित्र पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम की शुरुआत अभाविप से जुड़े पवन परमार ने करते हुए टंट्या मामा का जीवन परिचय बताया कि किस प्रकार उन्होंने अग्रेजों से खजाना लूटकर गरीबों की सहायता की और अंग्रजों में उनका कितना खौफ था। जनजातीय समाज के ऐसे कई महापुरुष रहे, जिन्होंने स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ी। ऐसे नायकों को इतिहास के बारे में पढ़कर और समझकर उसे आज अमल में लाने की आवश्यकता है।


टंट्या मामा जिले का गौरव और आदर्श पुरूष

बाद परिषद् के जिला सह-संयोजक दर्शन कहार ने बताया कि विद्यार्थी परिषद ऐसे जन नायकों को अपना आदर्श मानती है और उनके मार्गाे पर चलने का प्रयास करती है। साथ ही उन्होने अभाविप के छात्र हित में किए जाने वाले कार्यों और छात्र-छात्राआंे की अन्य समस्याओं के बारे में भी जानकारी दी। साथ ही कहा कि कॉलेज मंे छात्रवृत्ति की समस्या को लेकर जल्द ही संगठन व्यापक स्तर पर आंदोलन करेगा। इस दौरान सभी ने टंट्îा मामा की जय, भारत माता और वंदे मातरम् के जयघोष भी लगाए। कार्यक्रम में संगठन से जुड़े सचिन सैन, शैलेश गोहिल, अचल गुमहरे, आशु पंवार, बहादुर बघेल, दिव्यांशु ठाकुर, बलवंत पारगी कमलेश सिंगाड़, प्रकाश परमार सुनिल मोहनिया आदि सहित अन्य कार्यकर्ता और बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।


अब प्रत्येक मंगलवार को जिले की सभी राष्ट्रीकृत सरकारी और ग्रामीण बैंकों में बनेंगे किसान क्रिकेट कार्ड, बैंकों में किसानों के साथ नहीं होगा अभद्र व्यवहार, दु्रत गति से बैंकांे में किसान क्रिडेट कार्ड बनाने का होगा कार्य

  • राष्ट्रीय किसान संगठन की जिला प्रशासन और बैंक अधिकारियांे से चर्चा बाद किया गया आंदोलन समाप्त, जिलेभर के कृषकों ने जाहिर की खुशी

sehore news
झाबुआ। राष्ट्रीय किसान संगठन के नेतृत्व में जिलेभर के किसान महिला-पुरूष पिछले पांच दिनांे से अपनी मुख्य मांग किसान क्रिडेट कार्ड तत्काल बनवाए जाने की मांग को लेकर राजवाड़ा पर बैठे हुए थे। पांचवे दिन 4 दिसंबर, शनिवार को संगठन और किसानांे से चर्चा करने जिला प्रशासन और जिले की प्रमुख बैंकों के वरिष्ठ अधिकारी राजवाड़ा पहुंचे। जहां मंच पर संगठन के पदाधिकारियों के साथ उनकी करीब एक घंटे तक इस मुद्दे पर विस्तृत चर्चा हुई। जिसमें तय किया गया कि जिले के सभी राष्ट्रीकृत सरकारी और ग्रामीण बैंकों मंे अब प्रत्येक मंगलवार को अलग स्टॉल लगाकर किसान क्रेडिट कार्ड बनाए जाने का कार्य किया जाएगा। जिसमें हर तहसील स्तर पर बैंक की शाखा में कर्मचारियांे के साथ संगठन के पदाधिकारियों का भी सहयोग लिया जाएगा। बैंकों की यह मंशा रहेगी कि सभी किसानों के जल्द ही क्रिडेट कार्ड बने सके, ताकि उन्हंे योजना के तहत समस्त लाभ मिल सके। साथ ही बैंक अधिकारियों ने इस बात पर भी सहमति व्यक्त की कि बैंकांे में किसान महिला-पुरूषांे के साथ जो अभद्र व्यवहार किया जाता था, वह अब तक नहीं होगा। केंद्र और मप्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के तहत पूरे वर्षभर किसानों के क्रिकेट कार्ड बैंकों में बनाने का कार्य जारी रहेगा। जिसके बाद जिलेभर के सैकड़ों किसानांे ने आंदोलन समाप्त किया और खुशी जाहिर की। बाद अपने-अपने घरों को लौटे। जानकारी देते हुए राष्ट्रीय किसान संगठन के मप्र वक्ता परमजीतसिंह एवं जिलाध्यक्ष अमरू मुहनिया ने बताया कि संगठन का विगत 30 नवंबर से आगामी 30 दिसंबर तक ‘‘एक घर-एक किसान कार्ड’’ महाभियान चलाया जा रहा है। जिसमें एक माह में संपूर्ण जिले में 50 हजार किसान कार्ड बनाए जाने का लक्ष्य है, जो सत्त जारी रहेगा। शनिवार को जिला प्रशासन के अधिकारियों में एसडीएम झाबुआ लक्ष्मीनारायण गर्ग, तहसीलदार झाबुआ के साथ एलडीएम राजेशकुमार, जनरल मेनेजर आरएस वसुनिया, कृषि बैंक से डीडीए एनएस रावत, आरएम सुभाष वर्मा, एसबीआई राजवाड़ा शाखा के मुख्य प्रबंधक दिनेश नागर आदि से चर्चा उपरांत उक्त सभी निर्णयांे पर सहमति व्यक्त करने पर आंदोलन को फिलहाल समाप्त किया गया है।


अपने-अपने घरांे को लौटे कृषक महिला-पुरूष

जिसके बाद संगठन के पदाधिकारियों और किसानांे ने खुशी जाहिर करते हुए एक-दूसरे को बधाई देने के साथ अपने-अपने घरों की ओर प्रस्थान किया। राष्ट्रीय किसान संगठन के जिला उपाध्यक्ष कमल डामोर, संगठन मंत्री नानका भाबर एवं झाबुआ तहसील अध्यक्ष तोलसिंह बामनिया ने बताया कि आज जिला प्रशासन और बैंकांे के अधिकारियों के साथ हुई संगठन की बैठक में जो समस्त निर्णय लिए गए है, उस पर अमल किया जा रहा है, या नहीं, इसकी अपने-अपने तहसीलांे में संगठन से जुड़े पदाधिकारी-कार्यकर्ता समय-समय पर मॉनिटरिंग भी करते रहेंगे। किसी भी प्रकार की गड़बड़ी होने पर पुनः आंदोलन का रूख अख्तीयार किया जाएगा।


दादावाड़ी मंदिर में मुमुक्षु महेशकुमार का किया गया बहुमान, मोहनखेड़ा तीर्थ पर 8 दिसंबर को जैन भगवती दीक्षा ग्रहण करंेगे, महोत्सव में पधारने को समाजनों को दिया आमंत्रण


jhabua news
झाबुआ। पपू आचार्य देवेश श्रीमद् विजय हेमेंद्रसूरीश्वर जी म.सा. के शिष्य रत्न एवं वरिष्ठ मुनिराज श्री हितेशचंद्र विजय जी मसा की आज्ञानुवर्ती पपू मुनिराज श्री वैराग्य यश विजय जी मसा की पावन निश्रा में आगामी 8 दिसंबर को श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में मुमुक्षु भाई महेशकुमार की जैन भगवती दीक्षा होगी। दीक्षा ग्रहण करने से पूर्व मुमुक्ष भाई महेशकुमार का 2 दिसंबर, गुरूवार को झाबुआ आगमन हुआ। गुरूवार को प्रातः उनका दादावाड़ी में ध्वजारोहण दिवस के अवसर पर ऐतिहासिक बहुमान भी किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ मंे मालवा जैन महासंघ के राष्ट्रीय प्रवक्ता यशवंत भंडारी ने जानकारी देते हुए बताया कि दीक्षा ग्रहण करना अर्थात सांसारिक जीवन को त्याग कर साधारण जीवन व्यतीत करना, बहुत ही कठिन कार्य होता है। यह हर किसी के बस की बात नहीं होती है। 8 दिसंबर को महेशकुमार जैन परंपरा के अनुसार मुनिराज श्री वैराग्य यश विजयजी मसा के सानिध्य में दीक्षा ग्रहण करने जा रहे है। हम उनके उक्त कार्य की खूब-खूब अनुमोदना करते है।


किया गया बहुमान

बाद समाजजनांें में संतोष रुनवाल, मुकेश सघवी, संजय कांठी, अशोक राठौर, अभय धारीवाल, मनोहर मोदी, हस्तीमल सघवी, राजेन्द्र आर भंडारी, सुश्रावक संजय मेहता, डॉ. संतोष प्रधान, भरत बाबेल, आरके लालन, हेमेन्द्र संघवी, वरिष्ठ चन्द्रशेखर जैन, अशोक सकलेचा, कांतिलाल पगारिया, सुरेंद्र सकलेचा सहित अन्य श्राविकाआंे की मौजूदगी में मुमुक्ष महेशकुमार का भावभरा बहुमान करते हुए जयघोष लगाए गए। महेशकुमार की मोहनखेड़ा की धन्य धरा पर आगामी 8 दिसंबर को तीर्थ में स्थित प्राचीन वट वृक्ष के नीचे पूज्य मुनिराज की निश्रा में दीक्षा ग्रहण की विधि संपन्न होगी। जिसमें महेशकुमार ने सभी को पधारने का भावभरा आमंत्रण दिया। कार्यक्रम का संचालन सुश्रावक संजय मेहता ने किया।


पिता द्वारा शराब के नशे में 7 वर्षीय बालिका के साथ मारपीट करने से घर से भागी बालिका को जिला बाल कल्याण समिति (न्याय पीठ) ने सख्त हिदायत देकर परिजनों को किया सुुर्पद, लालन-पालन में कमी आने पर न्याय पीठ उठाएगा सख्त कदम


jhabua news
झाबुआ। जिले के रानापुर तहसील अंतर्गत आने वाले ग्राम मातासुला मंें एक 7 वर्षीय नाबालिग लड़की को उसके पिता द्वारा प्रतिदिन शराब के नशे में धुत होकर मारपीट करने से प्रताड़ित होकर बालिका विगत 30 नवंबर को अपना घर छोडकर भाग गई, जो पास ही के गांव में एक किराना व्यापारी को घूमते मिलने पर उनके द्वारा इसकी सूचना चाईल्ड लाईन के हेल्प लाईन नंबर 1098 पर कॉल कर दी गई। जिस पर चाईल्ड लाईन के हेड ऑफिस मुंबई से चाईल्ड लाईन झाबुआ को सूचित किया गया। मौके पर चाईल्ड लाईन झाबुआ के कार्यकर्ताओं ने बालिका को अपनी सुपुदर्गी में लिया। बाद इसको जिला बाल कल्याण समिति (न्याय पीठ) झाबुआ के अध्यक्ष अशोक अरोरा एवं युवा सदस्य प्रदीप ओएल जैन तथा विजय चौहान के समक्ष प्रस्तुत किया। इस बीच बालिका की देखरेख, भोजन, रहने आदि की व्यवस्था चाईल्ड लाईन द्वारा की गई। न्याय पीठ द्वारा काउंसिलिंग कर बालिका से पूछताछ करने पर उसने बताया कि वह मातासुला की रहने वाली है और उसके पिता पप्पू वसुनिया रोज रात को शराब के नशे मे ंधुत होकर आते है और उसके साथ अपशब्दों का प्रयोग करते हुए मारपीट करते है। उसकी माता नहीं है। जिस पर न्याय पीठ ने 3 दिसंबर, शुक्रवार को दोपहर रानापुर के ग्राम मातासुला से उसके पिता पप्पू वसुनिया और पप्पू के भाई भारतसिंह को बुलवाकर सख्त हिदायत देकर आदेशित किया कि भविष्य में बालिका के साथ किसी भी प्रकार को कोई मारपीट की गई, तो परिजनांे के खिलाफ न्याय पीठ सख्त कदम उठाएगा।


चाईल्ड लाईन के कार्यकर्ता सत्त करते रहेंगे मॉनिटरिंग

साथ ही बालिका के पिता से उसकी समुचित देखरेख और ठीक तरीके से लालन-पोषण के कथन लिखवाकर सीडब्ल्यूसी ने चाईल्ड लाईन को आदेशित किया कि वह बालिका के घर जाकर समय-समय पर उसका हालचाल जानते रहे। साथ ही बालिका के पिता पप्पू वसुनिया से कहा कि यदि अगली बार उसके द्वारा मारपीट की जाती है तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के साथ बालिका के रहने एवं भोजन-पानी के लिए बालिका आश्रम झाबुआ में व्यवस्था की जाएगी। साथ ही इसकी सूचना एवं जानकारी रानापुर पुलिस थाने पर भी दी गई। बालिका को परिजनों को सुर्पुद करते समय चाईल्ड लाईन झाबुआ के कार्यकर्ताओं में रवि सिंगाड़या, अनिता डामोर, सोनाली मेड़ा आदि भी उपस्थित रहे।


विद्युत विभाग झाबुआ ने तानाशाहीपूर्ण रवैया अपनाते हुए ंविद्युत मंडल जाने वाले शार्ट-कट रास्ता किया बंद, मंदिर आने-जाने वाले एवं बिजली बिल भरने वाले उपभोक्ताओं को हो रहीं परेशानी


jhabua news
झाबुआ। जिला चिकित्सालय प्रबंधन द्वारा विगत दिनांे जिला चिकित्सालय, प्रसूति चिकित्सालय, ट्रामा सेंटर, आयुषविंग चिकित्सालय आने-जाने वाला शार्ट-कट रास्ते पर दीवार बनाकर उसे बंद करवा दिया था। जिसका जमकर विरोध हो रहा है। इसके बाद अब विद्युत विभाग झाबुआ ने भी अपने कार्यालय पर आने-जाने का शार्ट-कट रास्ता बंद करवाकर उपभोक्ताओं की परेशानी में इजाफा कर दिया है। जिसके कारण समीप पंचमुखी गणेश मंदिर में आने-जाने वाले भक्तजनों को भी काफी दिक्कते आ रहीं है। मिली जानकारी के अनुसार करीब एक माह पूर्व कलेक्टोरेट में हुई समयावधि (टीएल) बैठक में कलेक्टर द्वारा समस्त विभागो को निर्देश दिए गए थे कि संभी अधिकारी अपने विभागों में आने-जाने का मुख्य प्रवेश द्वार ही चालू रखे, बाकी सभी अन्य रास्ते बंद कर विभागीय जमीनों को सुरक्षित किया जाए। बताया जाता है कि जिसके बाद ही जिला चिकित्सालय प्रबंधन द्वारा पिछले दिनों सज्जन रोड़ से जिला चिकित्सालय आने-जाने वाले रास्ते को बंद कर मरीजो और उनके परिजनांे की परेशानियांे में इजाफा डालने के साथ ही विद्युत मंडल झाबुआ ने भी विगत दिनांे पॉवर हाऊस रोड़ से विद्युत मंडल आने-जाने वाले रास्ते पर जाली लगाकर इसे बंद करवाने से वर्तमान में बिजली बिल भरने तथा अन्य समस्याआंे के लिए आने-जाने वाले महिला-पुरूषांे को बस स्टेड के पीछे से लंबा रास्ता तय कर आना पड़ रहा है। जिससे उन्हें काफी परेशानी हो रहीं है।


मंदिर में आने वाले भक्त भी हो रहे परेशान

विद्युत मंडल परिसर मंे ही पंचमुखी गणेश मंदिर होने से मंदिर मंे आने-जाने वाले भक्त एवं पूजारी भी इसी मार्ग का उपयोग करते है, लेकिन उन्हंे भी यह रास्ता बंद कर देने से परेशानी हो रहीं है। आसपास के रहवासियांे को भी बस स्टेंड, नगरपालिका, कलेक्ट्रोरेट आदि आने-जाने के लिए यह रास्ता शार्ट पड़ता था। उन्होंने भी इसको लेकर विरोध जताया है।


इनका कहना है

- इस संबंध में जानकारी के लिए विद्युत मंडल झाबुआ के कार्यपालन श्री मंडलोई से मोबाईल पर संपर्क करने पर उन्होंने मोबाईल रिसीव नहीं किया।


आजाद अध्यापक महासंघ ने मप्र के मुख्यमंत्री एवं स्कूल शिक्षा मंत्री को सौंपा ज्ञापन, अध्यापक षिक्षक सवंर्ग की 3 सूत्रीय मांगे रखी


jhabua news
झाबुआ। आजाद अध्यापक महासंघ मप्र की जिला इकाई झाबुआ द्वारा पिछले दिनांे जिले के दौरे पर मप्र शासन के स्कूल शिक्षा मंत्री एवं जिले के प्रभारी इंदरसिंह परमार को स्वयं एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें मुख्य रूप से 3 सूत्रीय मांगे रखी गई। ज्ञापन महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष नानूराम गामड़, जिलाध्यक्ष पप्पूसिंह हटिला तथा जिला प्रवक्ता डीसी मंडलोई के नेतृत्व में सौंपा गया। जिसमे मांग की गई कि वर्ष 2005 से शुरू की गई नई पेंशन योजना (एनपीएस) को बंद करके पुरानी पेशन योजना (ओपीएस) शुरू की जाए, 1 जुलाई 2018 के बाद 12 वर्ष पूर्ण करने वाले अध्यापकों की क्रमोन्नित पर जो रोक लगाई गई है, उसको हटाकर तत्काल आदेश जारी किए जाए, पदोन्नति पर लगी रोक को हटाकर पदोन्नती के आदेश भी जारी किए जाए। उक्त मांगो का अतिशीघ्र निराकरण हेतु मंत्री श्री परमार ने अध्यापक महासंघ को आश्वस्त किया। ज्ञापन सौंपते समय बड़ी संख्या में महासंघ के पदाधिकारी-कार्यकर्ता उपस्थित थे।


पेंशनरों एवं वरिष्ठ जनों के लिये 7 दिसम्बर को आयोजित होगा निषुल्क स्वास्थ्य षिविर, इसी दिन अपनी मंागों को लेकर पेंषनर्स मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल के नाम सौपेगें ज्ञापन

 

झाबुआ । जिला पेंशनर एसोसिएशन के सचिव भेरूसिंह सोलंकी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला पेंशनर्स एसोसिएशन झाबुआ द्वारा जिले के पेंशनरों एवं वरिष्ठजनों के लिये निःशुल्क  स्वास्थ्य परीक्षण  एवं औषधी वितरण के लिये आगामी 7 दिसम्बर को जिला आयुर्वेद हास्पीटल झाबुआ में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन प्रातः 10 बजे से आयोजित किया गया है ।  संगठन के जिलाध्यक्ष रतनसिंह राठौर के नेतृत्व में आयोजित इस आयुर्वेदिक स्वास्थ्य शिविर में वरिष्ठजनों एवं पेंशनरों की निशुल्क ब्लड प्रेशर, शुगर एवं अन्यष् बीमारियो आदि की जांच भी की जावेगी तथा निशुल्क दवाईयों का वितरण भी किया जावेगा । उन्होने नगर एवं अंचल के सभी पेंशनरों एवं वरिष्ठजनों से अपील की है कि वे नियत समय पर  जिला आयुर्वेद अस्पताल में पहूच कर इस शिविर का अधिक से अधिक लाभ उठावें ।


राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री के नाम से सौपा जावेगा ज्ञापन

संगठन के जिलाअध्यक्ष रतनसिंह राठौर ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा पंेशनरों के साथ किये जारहे भेदभाव पूर्वक व्यवहार, महगांई राहत नही दिये जाने एवं पेंशनरों की अन्य सभी लम्बित मांगों को लेकर 7 दिसम्बर को प्रदेश के राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री के नाम से जिलास्तर पर कलेक्टर महोदय को तथा तहसील स्तर पर एसडीएम साहब को ज्ञापन सौपा जावेगा तथा पेंशनरों की विभिन्न समस्याओ के बारे में अवगत कराया जावेगा । श्री राठौर ने जिले के सभी पेंशनरों को इस अवसर पर अपनी एकता का परिचय देने तथा अपनी मांगों की पूर्ति के लिये किये जाने वाले इस कार्यक्रम में शत प्रतिशत भागीदारी करने की अपील की है 


अंधत्व निवारण शिविर में बालक दीपक और साहिल का सफल मोतियाबिंद ऑपरेशन हुआ, बालकांे के परिवारजनांे ने चिकित्सकीय टीम का माना आभार, सेवाओं की सराहना की


झाबुआ। कलेक्टर सोमेश मिश्रा तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जयपालसिंह ठाकुर के मार्गदर्शन में ज़िले में अंधत्व निवारण कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। जिसमें वरिष्ठ जिला नेत्र चिकित्सक डॉ. जीएस आवासिया तथा एनीस्थिसिया विशेषज्ञ डॉ. एसएस चौहान की उपस्थिति में पेटलावद के दो बालकों जिसमें दीपक उम्र 6 वर्ष एवं साहिल उम्र 8 वर्ष का मोतियाबिंद का सफल ऑपरेशन पूर्ण हुआ। जिसके बाद उनके आंखों की तीव्र रोशनी लौटी। जिस पर परिवारजनों ने खुशी जाहिर करते हुए चिकित्सक टीम को धन्यवाद ज्ञापित किया।


समर्पित एवं सेवाभावी चिकित्सक है डॉ. अवासिया

इस कार्य में विशेष सहयोग वरिष्ठ नेत्र चिकित्सा सहायक राजेन्द्र जोशी का रहा। ज्ञातव्य रहे कि डॉ. जीएस आवासिया एक समर्पित और सेवाभावी चिकित्सक होकर उनके द्वारा किए जाने वाले अधिकांशतः ऑपरेशन सफल होते है। वह झाबुआ ज़िले ही नहीं, वरन् आसपास के ज़िलों में भी नेत्र ऑपरेशन के लिए जाते है। उनकी सेवाआंे को सराहा जाता है।


कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा पोलेटेक्नीक कॉलेज झाबुआ में स्थापित ईवीएम/वीवीपेट वेयर हाउस का निरीक्षण किया


jhabua news
झाबुआ। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दिये गए निर्देश के पालन में कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा एवं पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष गुप्ता द्वारा पोलेटेक्नीक कॉलेज झाबुआ में स्थापित ईवीएम/वीवीपेट वेयर हाउस का निरीक्षण किया एवं संधारित रजिस्टर में हस्ताक्षर किए। यहां पर मशीनों के सुरक्षित संधारण एवं सुरक्षा के संबंध में बाहरी निरीक्षण (वेयर हाउस का ताला खोले बिना अर्थात सील्ड वेयर हाउस) का निरीक्षण दिनांक 4 दिसम्बर 2021 को किया गया। इस दौरान अपर कलेक्टर श्री जे.एस.बघेल, निर्वाचन सुपरवायजर श्री प्रकाश सिंगाडिया उपस्थित थे।


विश्व विकलांग दिवस के अवसर पर खेलकूद एवं सामर्थ्य प्रतियोगिताओं का आयोजन सम्पन्न

  • दिव्यांगजनों ने उमंग उत्साह के साथ लिय प्रतियोगिताओं मे ंभाग

jhabua news
झाबुआ, । जिला कलेक्टर श्री सोमेष मिश्रा के मार्गदर्शन में झाबुआ में जिला स्तर पर विश्व विकलांग दिवस 3 दिसम्बर 2021 के अवसर पर एक दिवसीय आयोजन किया गया, जिसमें दिव्यांगता की सभी श्रेणीयों में (अस्थि बाधित, दृष्टि बाधित, श्रवण बाधित एवं मानसिक रूप से अविकसित) स्वास्थ्य परीक्षण शिविर एवं आयु वर्गवार खेलकूद प्रतियोगिताएॅं, एवं सामर्थ्य प्रदर्शन प्रतियोगिताएॅं आयोजित की गई  ।   उपसंचालक सामाजिक न्याय दिनेश वर्मा ने बताया कि इस आयोजन में 3 दिसम्बर को प्रातः 10 बजे से जिला विकलांग पुनर्वास केन्द्र झाबुआ के परिसर में दिव्यांगता की सभी श्रेणीयों में (अस्थि बाधित, दृष्टि बाधित, श्रवण बाधित एवं मानसिक रूप से अविकसित) विभिन्न आयु वर्ग के दिव्यांगजनों के लिए खेलकूद का आयोजन रखा गया जिसमें दिव्यांगजनों में उत्साह देखा गया प्रातः से ही विभिन्न विकासखण्डों से दिव्यांगजनो ने खेल एवं सामर्थ्य प्रतियोगिताओं में शामिल होकर आयोजित विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं जलेबी दौड़, निम्बु दौड़, थैला रेस, चेयर रेस, 50 मीटर, 100 मीटर में मुक बधिर, अस्थिबाधित दृष्टिबाधित, एवं मानसिक रूप से दिव्यांगजन बड़ी संख्यॉं में विकलांग केन्द्र परिसर में पहुॅचेे और बढ़ चढ़ कर आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लिया, खेलकूद एवं सांस्कृतिक व सामर्थ्य प्रतियोगिता में शासकीय व अषासकीय विद्यालयों के दिव्यांग छात्र-छात्राओं एवं विभिन्न अषासकीय संस्थाओं के दिव्यांगजनोगं ने भाग लिया । कार्यक्रम में अतिथि जिला कलेक्टर सोमेष मिश्रा पेरेन्ट्स सोसायटी फॉर पर्सन्स विथ डिसएबिलिटीज़ के अध्यक्ष एवं जिला प्रबन्धन समिति विकलांग पुनर्वास केन्द्र के सदस्य यषवन्त भण्डारी, जिला परियोजना समन्वयक रालू सिंगाड़ थे । अतिथियों ने बच्चें को आषिर्वाद स्वरूप उद्बोधन दिया कहा कि नर सेवा नारायण सेवा का रूप है दिव्यांगजनों की सेवा में रत सेवक जनो का सौभाग्य है कि उन्हे इन दिव्य आत्माओं की सेवा करने का सौभग्य प्राप्त हुआ है और आपकी सेवा प्रत्यक्ष रूप से इन बच्चों की प्रस्तुतियों में दृष्टिगोचर हो रही है । बच्चों से पहले उनके षिक्षकों उनके अभिभावकों का   साधुवाद । जिला कलेक्टर ने अपने उदबोधन में कहा कि दिव्यांगजनों के लिए जिले में प्रतिमाह इस प्रकार के आयोजन किये जावे जिससे कि वे प्रोत्साहित हो और उनमें उत्साह का संचार हो । उपरान्त खेलकूद एवं सामर्थ्य प्रतियोगिताओं में प्रथम व द्वितीस स्थान प्राप्त करने वाले प्रतियोगी दिव्यांगजनों को अतिथियों के द्वारा पुरस्कृत किया गया, उक्त समस्त प्रतियोगिताएॅ सम्पन्न करवाने हेतु सामाजिक न्याय विभाग से सुमग्र सुरक्षा अधिकारी सुश्री निधि ठाकुर, कनका परमार एवं कुसुम कनेष, सर्व शिक्षा अभियान के एपीसी मानसिंह हटीला, सांखला, राजेष सरनागत, सुभाष पाटीदार, महेश बामनिया बीआरसी मोबाईल स्त्रोत सलाहकार शिक्षा विभाग के श्री रामसिंह मोहनिया, विकलांग पुनर्वास केन्द्र के अरूण महाकुड़, प्रवीण भाबोर, मयूर वैषंपायन, रामबहादुर पटेल, महेष देवदा, दलसिंह ढाक शहनाज़ खान, समस्त स्टाफ ने पुरे मनोयोग से समस्त प्रतियोगिताओं के लिए से खेलकूद प्रतियोगिताए सम्पन्न करवाई । कार्यक्रम का संचालन विकलांग पुनर्वास केन्द्र के मैनेजर शैलेन्द्र सिंह राठौर ने किया । उपसंचालक सामाजिक न्याय दिनेष वर्मा ने बताया कि विष्व विकलांग दिवस के अवसर पर ही दिनांक 6 दिसम्बर सोमवार को प्रातः 10 बजे से जिला दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र रंगपुरा में दिव्यांगजनों का परिक्षण कर उनके दिव्यांगता प्रमाण पत्र बनाये जावेंगे ।  कार्यक्रम हेतु जिले की समस्त जनपद मुख्यालयों से दिव्यांगजनों के आवागमन की व्यवस्था हेतु खण्ड स्त्रोत समन्वयक, एवं विकलांगता के क्षेत्र में कार्य कर रही संस्थाओं से इस आयोजन को सफल बनाने हेतु सहयोग कर कार्यक्रम के सफल आयोजन में पूर्ण सहयोग किया । कार्यक्रम के अन्त में आभार जिला परियोजना समन्वयक रालू सिंगाड़ ने माना ।

कोई टिप्पणी नहीं: