बिहार : 1.21करोड़ व्यक्तिगत, पारिवारिक शौचालयों का हुआ निर्माण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

बिहार : 1.21करोड़ व्यक्तिगत, पारिवारिक शौचालयों का हुआ निर्माण

1.21-crore-toilet-bihar
पटना : 9 दिसम्बर, बिहार में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत 1.21 करोड़ व्यक्तिगत, पारिवारिक शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है। जबकि अभी तक देश भर में 10.86 करोड़ से अधिक व्यक्तिगत पारिवारिक शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है। आज लोकसभा में अतारांकित प्रश्न के जवाब में,  राज्य मंत्री, जल शक्ति, प्रहलाद सिंह पटेल ने ये जानकारी दी।  उन्होनें बताया कि देश के सभी ग्रामीण परिवारों को शौचालय की पहुंच उपलब्ध कराकर  02 अक्टूबर,2019 तक भारत को खुले में शौच मुक्त बनाने के मुख्य लक्ष्य के साथ 02 अक्टूबर, 2014 को स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की शुरूआत की गई थी। गत तीन वर्षों के दौरान बिहार में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत स्वीकृत, आवंटित और उपयोग की गई धन राशि का ब्यौरा सांसद चंद्रेश्वर प्रसाद द्वारा अतारांकित प्रश्न के जरिये मांगे जाने पर राज्यमंत्री,  जल  शक्ति ने बताया कि 2018-19 में 5887.48 करोड़ रुपये आवंटित किये गए थे। इसमें 2943.69 करोड़ रुपये जारी हुए जबकि  2383.70 करोड़ रूपये उपयोग में लाए गए। वर्ष 2019-20 में 3104.52 करोड़ रुपये आवंटित किए गए। 1867.38 करोड़ रुपये जारी की गई और 1801.20 करोड़ रुपये का उपयोग हुआ। वहीं वर्ष 2020-21 में 688.37 करोड़ रुपये का आवंटन हुआ। 88.56 करोड़ रुपये जारी की गई और 797.86 करोड़ रुपये का उपयोग किया गया। राज्य मंत्री, जल शक्ति, प्रहलाद सिंह पटेल ने बताया कि शौच मुक्त के परिणामों को प्राप्त कर लेने के बाद ओडीएफ स्थिति के स्थायित्व पर ध्यान केन्द्रित करते हुए ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन वाले गांवों जिसमें बिहार भी शामिल है, को वर्ष 2024-25 तक कवर करने और गांवो को ओडीएफ से ओडीएफ प्लस में बदलने के लिए स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामिण) के चरण दो को कार्यान्वित किया जा रहा है। 

कोई टिप्पणी नहीं: