पैनेक्स-21 : मानवीय सहायता एवं आपदा राहत अभ्यास, पैनेक्स-21 से पूर्व एक कार्यक्रम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 7 दिसंबर 2021

पैनेक्स-21 : मानवीय सहायता एवं आपदा राहत अभ्यास, पैनेक्स-21 से पूर्व एक कार्यक्रम

panex-21-india
नई दिल्ली,  रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन- डीआरडीओ भवन के कोठारी ऑडिटोरियम में 07 दिसंबर 2021 को बिम्सटेक देशों के सदस्य राष्ट्रों के लिए मानवीय सहायता एवं आपदा राहत अभ्यास, पैनेक्स-21 से पूर्व एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। यह अभ्यास 20 से 22 दिसंबर 2021 तक पुणे में आयोजित करने की योजना है और इसमें भारत, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, म्यांमार, श्रीलंका तथा थाईलैंड के विषय विशेषज्ञों एवं प्रतिनिधियों की भागीदारी होगी। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीय रक्षा राज्य मंत्री श्री अजय भट्ट ने की थी। इस दौरान कई विशिष्ट सैन्य और असैन्य अतिथिगण भी उपस्थित हुए। इनमें बिम्सटेक के महासचिव श्री तेनजिन लेकफेल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, सेनाध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, नौसेना स्टाफ के प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार, एकीकृत स्टाफ के प्रमुख (सीआईएससी) एयर मार्शल बीआर कृष्णा और बिम्सटेक राष्ट्रों के उच्चायुक्त तथा राजदूत शामिल थे। अपने उद्घाटन भाषण में सेनाध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने इस आयोजन में शामिल सदस्य देशों के सभी प्रतिनिधियों का स्वागत किया और उनसे भविष्य में महामारी जैसी आकस्मिक आपदाओं से निपटने में संयुक्त अंतरराष्ट्रीय समन्वय हेतु तंत्र विकसित करने के लिए इस अवसर का उपयोग करने का आग्रह किया। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने 'बिम्सटेक राष्ट्रों के बीच रक्षा सहयोग' पर चर्चा करते हुए सदस्य देशों की सुरक्षा एवं न्यायिक एजेंसियों के बीच रक्षा सहयोग की सुविधा के लिए सामूहिक कानूनी ढांचे को तैयार करने और सूचना साझाकरण तंत्र विकसित करने के महत्व पर प्रकाश डाला। माननीय रक्षा राज्य मंत्री श्री अजय भट्ट ने अपने संबोधन के दौरान प्रतिभागियों का ध्यान भारत की "पड़ोसी पहले" नीति के हिस्से के रूप में, बिम्सटेक को भारत द्वारा दिए गए महत्व की ओर आकर्षित किया। उन्होंने कहा कि पिछले दो बिम्सटेक आपदा प्रबंधन अभ्यास (दिल्ली में डीएमईएक्स-2017 और पुरी में डीएमईएक्स-2020) की सफलता आपसी समन्वय तंत्र को बढ़ावा देती है, जिसे बिम्सटेक राष्ट्र साझा करते हैं।


श्री अजय भट्ट ने कहा कि एक विषाणुजनित महामारी की पृष्ठभूमि में प्राकृतिक आपदाओं का प्रबंधन जटिल जोखिम पैदा करता है, जिसका मुकाबला किसी एक संस्था द्वारा नहीं किया जा सकता है, इसके लिए पूरे राष्ट्र के संयुक्त दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है। उन्होंने तेजी से और समन्वित बचाव एवं राहत अभियान पर प्रकाश डाला, जो भारत में कोविड के मामलों की बढ़ती संख्या तथा चल रहे राष्ट्रीय लॉकडाउन के बावजूद शुरू किया गया था। उन्होंने कहा कि प्रभावित जनमानस को राहत प्रदान करने में शामिल सभी एजेंसियों और संगठनों द्वारा मिलजुल कर प्रयास किए गए तथा हर राष्ट्रीय संसाधन को लोगों के कीमती जीवन बचाने और पशुधन, संपत्ति एवं बुनियादी ढांचे के नुकसान को कम करने के लिए तैयार किया गया। उन्होंने कोविड जैसी महामारी की स्थिति पर काबू पाने के लिए संयुक्त रणनीति और सहयोग पर भी जोर दिया। रक्षा राज्य मंत्री ने सदस्य देशों से क्षमता विकास और प्रशिक्षण के लिए एक व्यापक बिम्सटेक अवसंरचना विकसित करने तथा आपदाओं के लिए संयुक्त कार्रवाई हेतु संसाधन जुटाने में संस्थागत संगठनों, तंत्र, प्रोटोकॉल एवं कानूनी ढांचे द्वारा सहायता प्राप्त आपदा प्रबंधन विशेषज्ञों का एक क्षेत्रीय पूल बनाने का आग्रह किया। इस कार्यक्रम के दौरान श्री अजय भट्ट द्वारा आगामी अभ्यास के उपलक्ष्य में एक पोस्टर का भी अनावरण किया गया। इस अभ्यास दौरान 20 दिसंबर से 22 दिसंबर 2021 तक पुणे में एक सेमिनार, टेबल टॉप अभ्यास और बहु-एजेंसी प्रशिक्षण की योजना बनाई गई है। कार्यक्रम का समापन फिक्की के सहयोग से भारतीय उद्योगों द्वारा मानवीय सहायता एवं आपदा राहत कार्यों की योजना बनाने, कार्यक्रम तैयार करने तथा संचालन में सरकारी एजेंसियों की सहायता के लिए अपनी क्षमताओं, नवाचारों और उपलब्ध उत्पादों की श्रृंखला का प्रदर्शन करने के साथ होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: