बिहार : यूपी में भी गठबंधन में चुनाव लड़ेगी जदयू – भाजपा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 25 दिसंबर 2021

बिहार : यूपी में भी गठबंधन में चुनाव लड़ेगी जदयू – भाजपा

bjp-jdu-will-fight-togather-in-up
पटना : जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह ऊर्फ ललन सिंह ने उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि बिहार की तरह प्रदेश मंत्री भाजपा और जदयू गठबंधन में चुनाव लड़ेगी। इसको लेकर भाजपा आलाकमान के तरफ से तैयारी की जा रही है। उम्मीद है कि वहां हम दोनों के बीच तालमेल हो जाएगा। ललन सिंह ने कहा कि प्रदेश चुनाव को लेकर भाजपा की तरफ से भी तालमेल की इच्छा जताई गई है। वहीं, जदयू के तरफ से गठबंधन की पहल केंद्रीय इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह कर रहे हैं। ललन सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जदयू ने अपने उम्मीदवारों को उतारने के लिए सीट चयन कर लिया है। जदयू ने संभावित तो किस सूची उत्तर प्रदेश भाजपा को सौंप दी है। अब जदयू को उत्तर प्रदेश भाजपा से जवाब का इंतजार है। हालांकि ललन सिंह ने यह नहीं बताया कि जब जो कितने सीटों पर उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी। इसके अलावा जदयू राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने बिहार के विशेष राज्य के दर्जे को लेकर कहा कि बिहार को इसकी बहुत अधिक जरूरत है। उन्होंने कहा कि जिस तरह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राज्य का विकास कर रहे हैं, ऐसे में यदि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाए तो हम जल्द ही विकसित राज्यों की श्रेणी में शामिल हो जाएंगे। ललन सिंह ने कहा कि नीति आयोग ने क्या पैमाना बनाया, यह अलग विषय है। लेकिन, इस सच से कैसे इन्कार किया जा सकता है । उन्होंने कहा कि हम विशेष दर्जे की मांग पर कायम हैं। फैसला केंद्र सरकार को करना है। कोई भी उद्यमी अधिक लागत पर कम मुनाफा नहीं चाहेगा। यह बड़ी बाधा है। इसी बाधा को दूर करने के लिए विशेष दर्जे की मांग कर रहे हैं। ललन सिंह ने कहा कि एक समय में राज्य की सभी पार्टियां विशेष राज्य के पक्ष में थी। सभी दलों ने विधानसभा में इस मांग के पक्ष में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया था। उसकी प्रति केंद्र सरकार को भेजी गई थी।

कोई टिप्पणी नहीं: