मधुबनी : डीएम ने किया जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का उद्घाटन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 20 दिसंबर 2021

मधुबनी : डीएम ने किया जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का उद्घाटन

madhubani-dm-inaugrate-school-sports
मधुबनी, आज दिनांक 20 दिसंबर 2021 को श्री अमित कुमार, भा. प्र. से. जिला पदाधिकारी, मधुबनी के कर कमलों से जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता 2021/22 का शुभारंभ उच्च विद्यालय, पंडौल के मैदान में बने भव्य मंच से दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। बताते चलें कि कला संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार सरकार, बिहार राज्य खेल प्राधिकरण, बिहार पटना एवं जिला प्रशासन, मधुबनी के संयुक्त तत्वावधान में इस जिला स्तरीय विद्यालय खेल प्रतियोगिता का आयोजन दिनांक 20 से 23 दिसंबर 2021 तक किया जा रहा है। इसके अंतर्गत संपन्न होने वाले खेलों के विभिन्न विधाओं के लिए अलग अलग स्थलों का चयन किया गया है। इसमें उच्च विद्यालय पंडौल में कबड्डी, एथलेटिक्स, रग्बी, हैंडबॉल, खो खो, वालीबॉल, उच्च विद्यालय शंभुआर में क्रिकेट, ललित कर्पूरी स्टेडियम झंझारपुर में फुटबॉल, खेल भवन वॉटसन स्कूल में वुशु, कराटे एवं नगर भवन मधुबनी में बैडमिंटन का आयोजन किया जाना है। इस कार्यक्रम में जिले के 550 विद्यालयों से लगभग 5000 प्रतिभागी अपने अपने विधाओं में हिस्सा लेंगे। इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा व्यापक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए जिलाधिकारी ने अपने उदबोधन में जीवन में खेल के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि खेल न केवल हमारे सामाजिक जीवन में बल्कि हमारे नागरिक जीवन में भी अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। उन्होंने कहा कि खेल हमें हमारे परिवेश से जोड़ता है। यह हमें सबके बीच समायोजन सिखाता है। खेल हमें संतुलन सिखाता है। वास्तविक जीवन में चीजें हमारे लिए सदैव सहज ही हो ये आवश्यक नहीं है। जीवन में आशा और निराशा का दौर लगा ही रहता है। ऐसे में खेल के माध्यम से हम सीखते हैं कि अपनी हार होने पर दुखी होकर मैदान नहीं छोड़ना है बल्कि वापसी की कोशिश करनी है। वहीं जीत में अतिउत्साहित होकर शिथिल नहीं पड़ना है, बल्कि अपने में सर्वश्रेष्ठ बने रहने के गुणों का विकास करना है। उन्होंने कहा कि खेल भावना से हम जीवन में हौसला हासिल करते हैं, ताकि जीवन में सदैव चुनौतियों के आगे डट कर मुकाबला करें। खेल के महत्व पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि खेल से जीवन में अनुशासन आता है। हम समय पर योजनाबद्ध तरीके से चीजों को करना सीखते हैं। खेल से हमारे अंदर मेहनत से लक्ष्य प्राप्त करने का जज्बा पैदा होता है। इसलिए हम सभी को अपने जीवन में खेल को महत्व देना चाहिए। उन्होंने सभी खिलाड़ियों को खेल में डट कर अपना सर्वोत्तम देने का आह्वान किया और एक बेहतर जीवन की शुभेक्षाएं प्रदान की। अपने संबोधन में उन्होंने खिलाड़ियों और आयोजन समिति के सभी सदस्यों को अपनी शुभकामनाएं प्रदान की और एक स्वच्छ एवं संतोषप्रद आयोजन के लिए निर्देश दिए। उन्होंने स्काउट एवं एनसीसी के अधिकारियों को इस आयोजन में सक्रिय भूमिका निभाने के लिए स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया। मौके पर श्री सुमन कुमार महासेठ, निवर्तमान सदस्य, बिहार विधान परिषद, श्री नसीम अहमद, जिला शिक्षा पदाधिकारी, मधुबनी, श्री विजय कुमार पंडित, जिला खेल पदाधिकारी, मधुबनी के साथ साथ अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं: