जहानाबाद : पूर्ण शराबबंदी को सफल बनाने के लिए महिलाएं आगे आएं : डीएम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 24 दिसंबर 2021

जहानाबाद : पूर्ण शराबबंदी को सफल बनाने के लिए महिलाएं आगे आएं : डीएम

  • 'कोविड-19 टीकाकरण', 'एक जिला एक उत्पाद' एवं 'पूर्ण शराबबंदी' पर विशेष कार्यक्रम का किया गया आयोजन
  • ऊंटा मध्य विद्यालय के एक कमरे को मशरूम उत्पादन के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में विकसित किया जा सकता है - जिलाधिकारी

jahanabad-dm-call-women-to-suport-alcohal-ban
पटना/जहानाबाद, 24 दिसंबर, आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत आज जहानाबाद जिले की ऊंटा मध्य विद्यालय में 'कोविड-19 टीकाकरण' एवं 'एक जिला एक उत्पाद' विषय पर वृहद प्रचार-प्रसार हेतु एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सकार के रीजनल आउटरीच ब्यूरो, पटना द्वारा किया गया। जहानाबाद के जिलाधिकारी हिमांशु कुमार राय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी पवन कुमार सिन्हा ने सम्मिलित रुप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।  मौके पर कार्यक्रम के नोडल अधिकारी एवं सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी अमरेंद्र मोहन, विशेष कार्य पदाधिकारी संजीव जमुआर, आत्मा के उप प्रबंधक राकेश कुमार, ऊंटा मध्य विद्यालय के प्राचार्य प्रमोद कुमार और अरवल के दूरदर्शन संवाददाता एवं प्रख्यात कवि प्रवीण कुमार मिश्र मौजूद थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जहानाबाद के जिलाधिकारी हिमांशु कुमार राय ने कहा कि हमें आंदोलन के समय के मूल्यों और आदर्शों को जन-जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है। उन्होंने  शिक्षकों  को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षक उन आदर्शों और मूल्यों को बच्चों तक  पहुंचाएं  और  बच्चे  इन्हें सहेज कर रखें। इससे न केवल समाज का बल्कि देश का विकास  होगा। एक  जिला  एक  उत्पाद  विषय  पर  विस्तारपूर्वक  चर्चा  करते  हुए  उन्होंने कहा  कि जहानाबाद  में  मशरूम  की  खेती  को  लेकर  विभिन्न  प्रकार  के  कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऊंटा मध्य विद्यालय के एक कमरे को मशरूम उत्पादन के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में विकसित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मशरूम ना केवल  उच्च प्रोटीन उक्त बल्कि अन्य आवश्यक पोषक तत्वों से परिपूर्ण है। उन्होंने कहा कि बच्चे कल का भविष्य है, उन्हें कृषि और कृषि संबंधी विभिन्न क्रियाकलापों से अवगत कराना चाहिए। उन्होंने कहा कि पूर्ण शराबबंदी की दिशा में जिला प्रशासन विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम चला रहा है। उन्होंने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाएं पुरुषों को शराब पीते हुए थे उनका पुरजोर विरोध करें प्रभात फेरिया निकाले और राज्य सरकार के इस कार्यक्रम को सफल बनाएं। सूचना  एवं  प्रसारण  मंत्रालय  भारत सरकार के  क्षेत्रीय  प्रचार  अधिकारी पवन कुमार सिन्हा ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण और एक जिला एक उत्पाद के प्रति लोगों के बीच वृहद प्रचार प्रसार के उद्देश्य से इस कार्यक्रम का आयोजन आजादी के अमृत महोत्सव के तहत किया गया है। उन्होंने कहा कि कोविड 19 के नए वेरिएंट ओमीक्रोन के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर लोगों को पूर्ण टीकाकरण अति आवश्यक है। जिन लोगों ने अभी तक टीका नहीं लिया है, उन्हें जल्द से जल्द टीका लेना चाहिए। कोविड-19 का टीका से इस जानलेवा बीमारी के फैलने से रोक जा सकता है। उन्होंने कहा कि एक जिला एक उत्पाद स्कीम ना केवल जिले के विकास के लिए बल्कि भारत सरकार के आत्मनिर्भर भारत और लोकल फॉर वोकल योजना को बल देने वाला है। इससे बेरोजगारी को कम किया जा सकेगा और साथ ही  जिले में व्यवसाय के नए आयाम बनाए जाएंगे।


कार्यक्रम के नोडल अधिकारी एवं सूचना प्रसारण मंत्रालय के सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी अमरेंद्र मोहन ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव वास्तव में आजादी के महान स्वतंत्रता सेनानियों और गुमनाम नायकों को श्रद्धांजलि देने के लिए है। हमारी वर्तमान और आने वाली पीढ़ी को उन नायकों के बारे में रूबरू करवाना, उनके संदेशों मूल्यों और आदर्शों पर चलने का सबक देना इसका मूल उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का प्रचार-प्रसार अधिक ना हो इसके लिए हमें 4 नियमों का पूर्ण का पालन करना है,  पहला मास्क पहनना, दूसरा बार बार हाथ धुलना, तीसरा उचित दूरी बनाए रखना और चौथा सबसे महत्वपूर्ण है टीकाकरण  करवाना। ऊंटा मध्य विद्यालय के प्राचार्य और 2021 के राजकीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित प्रमोद कुमार ने कहा कि समाज को आत्मनिर्भर बनाने और देश के विकास में केंद्र सरकार का एक जिला एक उत्पाद योजना दूरगामी साबित होगा। जहानाबाद जिले में मशरूम की खेती की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को अपने महान स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में न केवल जानना चाहिए बल्कि उनके आदर्शों और उन्हें उनके संदेशों को अमल में भी लाना चाहिए। आत्मा के उप प्रबंधक राकेश कुमार और वृहत पैमाने पर मशरूम की खेती करने वाले किसान गौरव राज ने मशरूम की गुणवत्ता और इसके व्यवसाय पर विस्तारपूर्वक चर्चा करते हुए कहा कि मशरूम न केवल स्वास्थ्य के लिहाज से एक शानदार फसल है बल्कि यह कैंसर, अस्थमा जैसी 84 प्रकार की बीमारियों को दूर भगा सकता है। सप्ताह में कम से कम 2 बार मशरुम का सेवन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मशरूम प्रोटीन, विटामिन डी, विटामिन बी12 जैसी कई आवश्यक पोषक तत्वों से परिपूर्ण है। उन्होंने कहा कि मशरूम की खेती ना केवल पूरे साल की जा सकती है बल्कि यह बेहद कम लागत में भी संभव है। उन्होंने कहा कि जहानाबाद में कोई भी व्यक्ति 4 से 5 प्रजाति के मशरूम की खेती आसानी से कर सकता है।  कार्यक्रम की समाप्ति से पूर्व जिलाअधिकारी हिमांशु कुमार राय ने चित्रांकन प्रतियोगिता में प्रथम द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहीं ऊंटा मध्य विद्यालय की छात्राओं क्रमश ज्योति कुमारी, खुशी कुमारी और सिमरन कुमारी को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम के दौरान प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया जिसमें बच्चों के साथ-साथ आम ग्रामीणों ने भी हिस्सा लिया और मौके पर पुरस्कार प्राप्त किया। इसके साथ ही सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पंजीकृत सांस्कृतिक दल भारतीय संगीत कला एवं सेवा संस्थान वैशाली के कलाकारों के द्वारा भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं पर लोकगीत एवं नृत्य प्रस्तुत किए गए, जिसका लोगों ने खूब लुफ्त उठाया।

कोई टिप्पणी नहीं: