"जर्सी" से बड़े पर्दे पर आग लगाने के लिए तैयार हैं शाहिद कपूर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 18 दिसंबर 2021

"जर्सी" से बड़े पर्दे पर आग लगाने के लिए तैयार हैं शाहिद कपूर

shahid-kapoor-wardi
एक उत्कृष्ट अभिनेता, शाहिद कपूर अपने हर शॉट को परफेक्ट करने के लिये अपना सबकुछ देते हैं। सुपरस्टार बहुप्रतीक्षित जर्सी में अपनी रॉ और शुद्ध प्रतिभा के साथ एक बार फिर बड़े पर्दे पर आग लगाने के लिए तैयार हैं। ढाई साल की अवधि के बाद अपने पसंदीदा अभिनेता को देखने के लिए उनके प्रशंसकों का इंतजार 31 दिसंबर को पूरा होगा। और यह इंतेज़ार निश्चित रूप से देखने लायक है। दरअसल, जर्सी को शाहिद ने अपना खून-पसीना दे दिया है...और यह सच है। जर्सी के लिए एक क्रिकेटर की भूमिका निभाने के लिए शाहिद कपूर ने गहन और कठोर प्रशिक्षण लिया है। फिल्म के लिए दिन-ब-दिन प्रशिक्षण लेते हुए, शाहिद कपूर ने भूमिका को पूर्ण करने के लिए अपना सब कुछ दिया। वह न केवल हर एक शॉट को परफेक्ट करना चाहते थे, बल्कि फिल्म की शूटिंग के दौरान उनके  अपने होंठ पर चोट लग गयी थी। और 25 टांके लगाने के बाद शाहिद जर्सी के लिए जोरदार बल्लेबाजी करते हुए मैदान पर वापस आए। सेट पर शाहिद की दुर्घटना के बारे में बात करते हुए, निर्माता अमन गिल ने कहा, "हम सभी जानते हैं कि शाहिद एक पूर्णतावादी हैं, लेकिन उस दिन हमने जो देखा वह शाहिद द्वारा सच्ची खेल भावना का प्रदर्शन था! वह अपने टांके के बाद सेट पर वापस आ गए थे और हम उनके अभिनय के प्रति उनके जुनून से सभी चकित थे। उन्होंने अर्जुन की कच्ची भावनाओं को पर्दे पर जीवंत करने के लिए अपना सब कुछ दिया है और जब आप फिल्म देखेंगे तो आप इसे देख पाएंगे।"  फ़िल्म 31 दिसंबर को सिनेमाघरों में हिट होने के लिए तैयार है। रिलीज की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। अल्लू अरविंद द्वारा प्रस्तुत, फिल्म का निर्देशन राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता गौतम तिन्ननुरी ने किया है। फ़िल्म का निर्माण अमन गिल, दिल राजू और एस नागा वामसी द्वारा किया गया है। 

कोई टिप्पणी नहीं: