प्रतापगढ़ : विधिक जागरूकता शिविर आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 18 दिसंबर 2021

प्रतापगढ़ : विधिक जागरूकता शिविर आयोजन

  • पीड़ित प्रतिकर स्कीम के बारे में जानकारियां दी

legal-awareness-camp-pratapgadh
प्रतापगढ़/18 दिसम्बर, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव, (अपर जिला न्यायाधीश) शिव प्रसाद तम्बोली द्वारा ग्राम अम्बामाता तहसील व जिला प्रतापगढ़ के मन्दिर प्रांगण के बााहर विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। आयोजित शिविर मंे प्राधिकरण सचिव द्वारा माननीय राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर द्वारा संचालित पीड़ित प्रतिकर स्कीम 2011 के बारे में बताया गया। पीड़ित प्रतिकर स्कीम के तहत अपराध से होने वाले नुकसान यथा किसी का मकान जलाया जाना, किसी की हत्या की जाना, ऐसे कईं मामलों में पीड़ित प्रतिकर स्कीम के तहत आर्थिक सहायता पीड़ित पक्ष को प्रदान की जाती है।  आयोजित शिविर में जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र की अनिवार्यता एवं उसके महत्व के बारे में बताया और कहा कि उक्त प्रमाण पत्र 21 दिवस के भीतर ही बनवा लेवें, जिससे समय व धन की हानि नहीं हो। इसके अलावा मृत्यु भोज निषेध कानून, बाल विवाह निषेध कानून, मोटर वाहन अधिनियम के बारे में भी उपस्थित आम जन को जानकारी प्रदान की गई। केम्प के दौरान उपस्थित ग्रामीणजन को कृषि विभाग द्वारा काश्तकारों के कल्याणार्थ योजनाओं के बारे में भी जानकारी देते हुए बताया कि काश्तकार यदि अपने खाते की भूमि पर 600 घनमीटर का खड्डा खोदकर कच्ची तलाई बनाता है और वर्षा जल संचय करता है तो उसे 90,000/- रूपये तक का अनुदान दिया जाता है।  इसी के साथ असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को श्रम विभाग के जरिये अपना पंजीयन करवाना अनिवार्य बताया, जिससे उन्हें प्रसुति सहायता योजना, विवाह सहायता, बच्चों के लिये छात्रवृत्ती, कार्य के दौरान दूर्घटना से मृत्यु हो जाने पर आश्रितों को आर्थिक सहायता सहित कईं सुविधाओं का लाभ मिल सके।  दिव्यांगजन शिविर का अवलोकन भी किया गया  इसी दिवस स्थानीय नई आबादी स्थित तपस विमंदित बाल गृह पर आयोजित दिव्यांगजन शिविर का आयोजन किया गया। उक्त शिविर में कईं दिव्यांगजन बच्चों व अन्य लोगांे का परीक्षण गठित मेडिकल टीम द्वारा किया गया। कुछ को उपचार हेतु उदयपुर भिजवाये जाने की आवश्यकता बताई। उल्लेखनीय है कि पूर्व में उक्त शिविर आयोजन हेतु प्राधिकरण सचिव शिवप्रसाद तम्बोली द्वारा निर्देश प्रदान किये गये थे।  तपस संस्थान के व्यवस्थापक ने कुछ बच्चों को उपचार हेतु उदयपुर भिजवाये जाने की आवश्यकता बताई। जिसके लिये प्राधिकरण सचिव ने त्वरित कार्यवाही कर उपचार के लिये उदयपुर भिजवाने की व्यवस्था करवाने के निर्देश प्रदान किये। आयोजित शिविर में प्रतापगढ़ जिले के दूर-दराज क्षेत्रो से भी दिव्यांगजनों को लाया गया। प्राधिकरण सचिव ने दिव्यांगों की परेशानीयों के बारे में शिविर में उपस्थित उनके परिजनों एवं साथ आये लोगों से जानकारी प्राप्त की। इसके पश्चात तपस संस्थान के व्यवस्थापक को भी ऐसे दिव्यांगजनों के लिये समुचित कार्यवाही करवाने हेतु निर्देशित किया।

कोई टिप्पणी नहीं: