रोंगटे खड़े करने वाला उपन्यास है "दुल्हन माँगे दहेज' - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 दिसंबर 2021

रोंगटे खड़े करने वाला उपन्यास है "दुल्हन माँगे दहेज'

  • · वर्दी वाला ग़ुंडा, दहेज़ में रिवॉल्वर जैसे उपन्यासों के रचयिता जाने माने साहित्यकार वेद प्रकाश शर्मा का उपन्यास ‘दुल्हन मांगे दहेज़’ अब स्टोरीटेल पर। 
  • · कहानी में रहस्य है और ये रहस्य अंत तक बना रहता है कि जो हो रहा है वो क्यों हो रहा है। 

novel-dulhan-mange-dahez
नई दिल्ली : जिस परिवार ने कभी दहेज़ मांगना तो दूर, कभी दहेज़ की इच्छा तक नहीं की, उस पर दहेज़ के लिए अपनी बहु को मारने का आरोप लगा। न सिर्फ़ आरोप लगा बल्कि उनके ही घर से उनकी बहु की लाश भी मिली. साथ ही अपने मायके वालों को लिखा गया वो लेटर भी मिला जिसमें लिखा था 'मेरे ससुराल वाले दहेज़ के भूखे हैं!"क्या है असली राज़? किसे चाहिए दहेज? कौन कर रहा साज़िश?जानिए कई रोंगटे खड़े करने वाला सच जाने माने उपन्यासकार  वेद प्रकाश शर्मा द्वारा लिखित उपन्यास "दुल्हन माँगे दहेज' में. यह उपन्यास अब स्टोरीटेल ऑडियोबुक प्लेटफोर्म पर उपलब्ध है जिसे आवाज दी है कहकशां नवाब ने। दुल्हन माँगे दहेज वेदप्रकाश  का एक सामाजिक उपन्यास है। दहेज प्रथा हमारे समाज में लगा एक ऐसा कोढ़ है जिसके कारण हर साल कई औरतों के ऊपर जुल्म होता है और कई बार तो उन्हें अपनी जान से हाथ भी धो लेना पड़ता है। इस बात में कोई दो राय नही है कई लड़कियों की ज़िन्दगी इस कारण जहन्नुम बन चुकी है। परन्तु दुनिया में हर बात के दो पहलू होते हैं और अक्सर हम एक ही पहलू देखते हैं। जब हम किसी दहेज़ के मामले से जुड़ी खबर सुनते हैं तो ससुराल वालों के खिलाफ पहले ही अपनी राय बना लेते हैं। लेकिन इस बात में भी सच्चाई है कि कई बार दहेज उत्पीड़न के ये मामले झूठे भी होते हैं। वेद प्रकाश शर्मा हिंदी के लोकप्रिय उपन्यासकार थे। इन्होंने कई लोकप्रिय उपन्यासों की रचना की है। इनके 176 उपन्यास प्रकाशित हुए। इसके अतिरिक्त इन्होंने खिलाडी श्रृंखला की फिल्मों की पटकथाएं भी लिखी। वर्दी वाला गुंडा वेद प्रकाश शर्मा का सफलतम थ्रिलर उपन्यास है। इस उपन्यास की आजतक लगभग 8 करोड़ प्रतियाँ बिक चुकी हैं। भारत में जनसाधारण में लोकप्रिय थ्रिलर उपन्यासों की दुनिया में यह उपन्यास "क्लासिक" का दर्जा रखता है। स्टोरीटेल पर वर्दी वाला गुंडा,एक थप्पड़ हिन्दुस्तानी, डमरू वाला ,कश्मीर का बेटा ,चलते पुर्जे ,नाम हिटलर आलपिन का खिलाडी ,असली खिलाडी और प्रिंसेज जैक्सन का देश आदि उपन्यास उपलब्ध हैं .

कोई टिप्पणी नहीं: