बिहार : 6 दिसंबर को पूरे राज्य में मनाया जाएगा सांप्रदायिकता विरोधी मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 दिसंबर 2021

बिहार : 6 दिसंबर को पूरे राज्य में मनाया जाएगा सांप्रदायिकता विरोधी मार्च

cpi-ml-celebrate-non-comunal-day
पटना, 5 दिसंबर, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा है कि पार्टी की केंद्रीय कमिटी के आह्वान पर बाबरी मस्जिद की शहादत व डाॅ. भीमराव अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस के मौके पर पूरे राज्य में सांप्रदायिकता विरोधी मार्च का आयोजन किया जाएगा. कहा कि भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद देश में लोकतंत्र व धर्मनिरपेक्षता गहरे खतरे में है. अल्पसंख्यक समुदाय को लगातार निशाना बनाया जा रहा है और पूरे देश में उनके खिलाफ नफरत का माहौल बनाया जा रहा है. देश की गंगा-जमुनी तहजीब को नष्ट कर फासीवाद थोपने के प्रयास जारी हैं. संविधान के निर्माण में जिस भीमराव अंबेडकर का सबसे बड़ा योगदान रहा, उनका नाम लेने का नैतिक अधिकार भाजपा-संघ को नहीं है. हर कोई जानता है कि ये लोग संविधान को ही खत्म कर देना चाहते हैं. लोकतंत्र व धर्मनिरपेक्षता हमारे संविधान की आत्मा है. हमारा संविधान हमारे नागरिकों को अधिकार व कर्तव्य देती है. लेकिन विगत 26 नवंबर को प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि अधिकारों पर बहुत चर्चा होती है. यह सही नहीं है. कुल मिलाकर फासीवाद की विचारधारा संविधान के स्थान पर मनुस्मृति को ही संविधान बनाने पर तुली हुई है. इसलिए भाकपा-माले देश की अमन, जम्हूरियत व तरक्की पसंद जनता से संविधान, लोकतंत्र व धर्मनिरपेक्षता की रक्षा के लिए कल के सांप्रदायिकता विरोधी मार्च में शामिल होने की अपील करती है.

कोई टिप्पणी नहीं: