केंद्रीय विद्यालय में सभी कोटे से नामांकन खत्म करने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 9 दिसंबर 2021

केंद्रीय विद्यालय में सभी कोटे से नामांकन खत्म करने की मांग

demand-to-close-quota-in-central-school
पटना : भाजपा नेता सह राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों में हर सांसद की सिफारिश पर 10 नामांकन का कोटा तत्काल समाप्त किया जाना चाहिए ताकि 8500 जरूरतमंद छात्र-छात्राओं को जिसमें एससी-एसटी, पिछड़े और ईडब्ल्यूएस वर्ग के 4000 छात्र-छात्राओं को पारदर्शी तरीके से प्रवेश पाने के लिए ज्यादा अवसर मिल सकें। सुमो ने बताया कि राज्यसभा के शून्यकाल में मैंने यह मांग की और सदन में मौजूद धर्मेंद्र प्रधान को शिक्षा मंत्री के नाते नामांकन का अपना कोटा समाप्त करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों के चेयरमैन और डीएम का भी नामांकन संबंधी कोटा खत्म होना चाहिए। जब आइआइएम, आइआइटी, केंद्रीय विश्वविद्यालय और जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश के लिए कोई कोटा नहीं है, तब केंद्रीय विद्यालयों में भी इसका कोई औचित्य नहीं है। केंद्रीय विद्यालयों में सांसद कोटे से प्रवेश का लाभ लेने की अपेक्षा रखने वालों की संख्या सैकड़ों में होती है, जबकि वे केवल 10 नामांकन की सिफारिश कर सकते हैं। ऐसे में सांसद कोटा एक तरफ उनकी अलोकप्रियता और चुनावी विफलता तक का कारण बन रहा है, दूसरी तरफ अधिक योग्य बच्चों से उनके अवसर छीन रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: