कृषि कानूनों को रद्द करने संबंधी विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 दिसंबर 2021

कृषि कानूनों को रद्द करने संबंधी विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी

president-passed-farmer-repeel-bill
नयी दिल्ली 01 दिसंबर, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को समाप्त करने के लिए संसद से पारित विधेयक को आज स्वीकृति प्रदान कर दी। संबंधित कृषि कानून निरसन विधेयक 2021 का उद्देश्य तीन कृषि कानूनों-कृषि उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020 मूल्य आश्वासन एवं कृषि सेवाओं पर कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) अनुबंध विधेयक 2020 तथा आवश्यक वस्तु अधिनियम संशोधन 2020को समाप्त करने के लिए यह विधेयक लाया गया था। इसे संसद के वर्तमान शीतकालीन सत्र में पहले ही दिन दोनों सदनों में आनन फानन में ध्वनि मत से पारित कर दिया था। तीनों कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए विभिन्न किसान संगठन पिछले एक साल से दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे हैं। संगठन चार तारीख को सिंघु बॉर्डर पर बैठक कर के अपनी आगे की रणनीति तय करने वाले हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: