सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 23 जनवरी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 23 जनवरी 2022

सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 23 जनवरी

रोमांचक मैच में क्रिसेंट वारियर्स ने रायल स्टार को हराया, स्कोर बराबर होने पर सुपरओवर से हुआ रिजल्ट का फैसला


sehore news
सीहोर। शहर के बीएसआई मैदान पर जारी क्रिकेट स्पर्धा में खेले गए एक मुकाबले में क्रिसेंट वारियर्स ने रायल स्टार को हरा दिया। दोनों टीमों का स्कोर बराबरी पर रहने के बाद सुपर ओवर के जरिए मैच का फैसला हुआ। सुपर ओवर में रायल स्टार ने पहले खेलते हुए तीन रन बनाए थे, जवाब में सचिन कीर ने मैच की पहली ही गेंद पर चौका मारकर क्रिसेंट वारियर्स को पांच गेंद शेष रहते ही विजय श्री प्रदान कराई। रविवार को खेले गए एक रोमांचक मुकाबले में क्रिसेंट वारियर्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पांच विकेट खोकर 162 रन बनाए थे। इसमें आशीष शर्मा ने 54 रन, सुनील जलोदिया ने 49 रन और इरफान ने 23 रन की शानदार पारी खेली। वहीं रायल स्टार की ओर से योगेन्द्र, राहुल, कान्हा और मोनू ने एक-एक विकेट हासिल किए। जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी रायल स्टार की टीम को अंतिम ओवर में आठ रन चाहिए थे। लेकिन दोनों ही टीमों का स्कोर बराबरी पर रहने के बाद फैसला सुपर ओवर तक पहुंचा। सुपर ओवर में विजय लक्ष्य को क्रिसेंट वारियार्स के सचिन ने पहली गेंद पर चौका मारकर हासिल किया। इसके अलावा एक अन्य मैच में सीहोर जूनियर ने आजम फैंस क्लब को 149 रन के विशाल अंतर से हराया। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करने उतरी सीहोर जूनियर की टीम ने विस्फोटक बल्लेबाज आदर्श राय की मात्र 58 गेंद पर 102 रन की आतिशी शतकीय पारी के अलावा राज राय की 76 रन और मयंक जैन की 12 रन की बदौलत 222 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया था। जवाब में चुनौती का पीछा करने उतरी आजम फैंस क्लब की पूरी टीम 13 ओवर में 73 रन पर ढेर हो गई। इसमें 17 रन अस्सु और 10 रन जुबेर ने बनाए थे।

आज होने वाले मुकाबले

डीसीए के मीडिया प्रभारी प्रियांशु दीक्षित ने बताया कि सोमवार को सुबह पहला मैच महाकाल इलेवन-टेनिस इलेवन और दूसरा मैच डीसीए अकादमी-यंग स्टार के मध्य खेला जाएगा।


उत्पादन गुणवत्ता सुधार, मार्केटिंग एवं ब्रांडिंग प्रशिक्षण के लिए किसानों की कार्यशालाएँ आयोजित की जाये - मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना में स्थापित होंगे इन्क्यूबेशन सेंटर, प्रधानमंत्री श्री मोदी के आत्म-निर्भर भारत के संकल्प को पूर्ण करने में मध्यप्रदेश दे रहा है पूरा सहयोग
  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया सीहोर, ग्वालियर और मुरैना के इन्क्यूबेशन सेंटर्स का भूमि-पूजन, सीहोर में अमरूद, ग्वालियर में आलू, मुरैना में सरसों एवं अन्य तिलहन पर आधारित होंगे इन्क्यूबेशन सेंटर

sehore news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश संतरा, धनिया, लहसुन उत्पादन में देश में पहले नंबर पर है। अदरक, मिर्ची, अमरुद, मटर और प्याज के उत्पादन में प्रदेश पूरे देश में दूसरे नंबर पर है। अगर किसान अपने इस उत्पादन की छोटी-छोटी फ़ूड प्रोसेसिंग इकाई खोल लें, तो जनता को शुद्ध सामग्री, युवाओं को रोजगार के अवसर और किसानों को उनके उत्पाद के ठीक दाम मिल सकेंगे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना बनाकर ऐतिहासिक कदम उठाया है। इस योजना में ग्वालियर, मुरैना और सीहोर के इनक्यूबेशन सेंटर निश्चित तौर पर मील का पत्थर साबित होंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी के आशीर्वाद से ये समन्वित कदम मध्यप्रदेश में फ़ूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री को बढ़ावा देने में एक नई क्रांति का सूत्रपात करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के अंतर्गत कृषि महाविद्यालय ग्वालियर, कृषि विज्ञान केन्द्र, मुरैना और कृषि महाविद्यालय, सीहोर में इन्क्यूबेशन केन्द्रों की स्थापना के लिए राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर में आयोजित भूमि-पूजन एवं शिलान्यास कार्यक्रम को निवास कार्यालय से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल, उद्यानिकी राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह भी कार्यक्रम में वर्चुअली सम्मिलित हुए। कार्यक्रम में कलेक्ट्रेट के एनआईसी कक्ष से उपसंचालक कृषि श्री रमाशंकर जाट एवं कृषि विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि खाद्य प्र-संस्करण की प्रक्रिया पर प्रदेश में कार्यशालाएँ आयोजित करने की आवश्यकता है। किसानों को अपने उत्पाद की गुणवत्ता सुधार, पैकेजिंग, मार्केटिंग, ब्रांडिंग के संबंध में जानकारी देने और इनकी प्रक्रियाओं से अवगत कराने के लिए कार्यशालाएँ आयोजित की जाएँ। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना में किसान को 10 लाख रुपए तक की सब्सिडी दी जाएगी। अनुदान का 40% हिस्सा राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री को विस्तार देने के लिए राज्य सरकार बड़ी यूनिट लगाने पर ढाई करोड़ रुपए तक की सब्सिडी देगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पिछले 15 साल में प्रदेश ने कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व वृद्धि की है। अनेक योजनाएँ बनाकर हमने प्रयत्नपूर्वक तय किया कि प्रदेश को कृषि के क्षेत्र में आगे लाएंगे। इसी का परिणाम है कि प्रदेश को अनेक बार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त हुआ। मध्यप्रदेश ने कृषि उत्पादन में रिकार्ड स्थापित किए हैं। प्रदेश में 43 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान खरीदकर रिकार्ड स्थापित किया गया है। आज मध्यप्रदेश में पंजाब से भी अधिक गेहूँ पैदा होता है। मध्यप्रदेश कृषि के क्षेत्र में नित नए कीर्तिमान स्थापित करते हुए प्रधानमंत्री श्री मोदी के आत्म-निर्भर भारत के संकल्प को पूर्ण करने में सतत् सहयोग प्रदान कर रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि देश की अर्थ-व्यवस्था की रीढ़ है। राज्य सरकार फसलों के उत्पादन के साथ उद्यानिकी को प्रोत्साहित कर प्रधानमंत्री श्री मोदी के किसानों की आय दोगुनी करने के संकल्प को पूरा करने की दिशा में सक्रिय है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान की आय बढ़ाने के लिए कृषि के विविधीकरण की आवश्यकता है। फल, फूल, सब्जी, औषधियों की खेती और कृषि वानिकी को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रसन्नता का विषय है कि प्रदेश में उद्यानिकी का क्षेत्र 15 लाख हेक्टेयर से अधिक हो गया है। प्रदेश में फल, सब्जियाँ, मसाले आदि की बड़े पैमाने पर खेती हो रही है। इन उत्पादों की प्रोसेसिंग की व्यवस्था होने से निश्चित रूप से किसानों की आय बढ़ेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश में असंगठित खाद्य प्र-संस्करण क्षेत्र में लगभग 25 लाख इकाइयाँ कार्य कर रही हैं। इनमें से लगभग 66 प्रतिशत यूनिट ग्रामीण क्षेत्रों में हैं और लगभग 80 प्रतिशत उद्यम परिवार आधारित हैं। यह उद्यम, ग्रामीण पारिवारिक आजीविका को बढ़ाने और ग्रामीणों के शहरी क्षेत्रों में पलायन को कम करने में सहायक हैं। अत: ग्राम स्तर पर खाद्य प्र-संस्करण के लिए आधुनिक प्रौद्योगिकी और उपकरणों की उपलब्धता, प्रशिक्षण, संस्थागत ऋण की उपलब्धता, उत्पादों के गुणवत्ता नियंत्रण के संबंध में जानकारी तथा सामग्री की पैकेजिंग, ब्रांडिंग और मार्केटिंग के संबंध में आवश्यक प्रशिक्षण और वेल्यू एडिशन पर सही मार्गदर्शन उपलब्ध कराकर युवाओं को सशक्त करने की आवश्यकता है। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने मध्यप्रदेश को कृषि उत्पादन में देश में अग्रणी राज्य बनाने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान को बधाई दी। केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि कोविड के समय जब अन्य आर्थिक गतिविधियाँ बंद थी, उस समय कृषि ने ही अर्थ-व्यवस्था को आधार प्रदान किया। भारत सरकार और मध्यप्रदेश शासन द्वारा संचालित योजनाओं से निश्चित ही गरीब और किसानों के जीवन में बदलाव आएगा। कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा कि इन्क्यूबेशन सेंटर्स की स्थापना से किसानों को अपने उत्पादों की प्रोसेसिंग का अवसर मिलेगा। इससे किसानों की आय में निश्चित ही वृद्धि होगी। उद्यानिकी राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश को प्रोसेसिंग हब के रूप में विकसित करने के लिए निरंतर कार्य जारी है। सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर तथा कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर के कुलपति प्रो. एस.के. राव ने भी संबोधित किया। सीहोर, मुरैना और ग्वालियर में तीन इन्क्यूवेशन सेंटर्स की स्थापना के लिए भारत सरकार द्वारा 9 करोड़ 87 लाख 85 हजार रूपए स्वीकृत किए हैं। सीहोर में अमरूद, फलों तथा सब्जियों के प्र-संस्करण के लिए इन्क्यूबेशन सेंटर की स्थापना की जा रही है। सेंटर में खाद्य प्र-संस्करण प्रयोगशाला सहित जूस, पल्प, जैम, जैली, वेजिटेबल डिहाइड्रेशन लाइन एवं प्याज प्र-संस्करण लाइन की स्थापना होगी। मुरैना में सरसों एवं अन्य तिलहनों, ज्वार, बाजरा, रागी और बेकरी उत्पादों के प्र-संस्करण के लिए कॉमन इन्क्यूबेशन फेसिलिटी उपलब्ध कराई जाएगी। ग्वालियर में आलू तथा आलू प्र-संस्करण लाइन एवं मिलेट आधारित कुकीज लाइन की स्थापना की जा रही है। उल्लेखनीय है कि आत्म-निर्भर भारत अभियान में प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन योजना की शुरूआत की गई है। योजना का मुख्य उद्देश्य छोटे उद्योगों का विकास तथा "एक जिला-एक उत्पाद" योजना में गतिविधियों को बढ़ावा देना है। उद्यानिकी फसलें जैसे आम, आलू, टमाटर आदि जल्द खराब होते हैं। इनके रख-रखाव, प्रोसेसिंग, ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग के लिए योजना में विशेष व्यवस्था है।

गणतंत्र दिवस पर कार्यक्रमों के लिये राज्य शासन ने जारी किए दिशा-निर्देश


प्रदेश के साथ ही जिले में  भी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस गरिमामय ढंग से मनाया जाएगा। राज्य शासन ने इस वर्ष कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए कार्यक्रमों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा सभी विभागाध्यक्ष, संभागीय आयुक्त, कलेक्टर्स और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। गणतंत्र दिवस पर राज्य के समस्त महत्वपूर्ण शासकीय भवनों एवं ऐतिहासिक स्थानों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। जिला मुख्यालय में मुख्य अतिथि द्वारा ध्वजारोहण एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संदेश का वाचन किया जाएगा। परेड का आयोजन सिर्फ जिला मुख्यालय पर पिछले वर्ष की भांति ही होगा।  परेड में एनएसएस, स्काउट गाईड एवं शौर्यादल आदि की टुकड़िया शामिल नही होंगी। इसके बाद झांकियाँ निकाली जाएंगी। शिक्षण संस्थाओं में कार्यालय प्रमुख द्वारा ध्वजारोहण, राष्ट्रगान का आयोजन किया जाएगा तथा कार्यक्रम में कक्षा 1 से 10वीं तक के बच्चों को शामिल नहीं किया जाएगा। जिला पंचायत, जनपद पंचायत और ग्राम पंचायत कार्यालयों में प्रशासकीय समिति प्रधान द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा तथा राष्ट्रगान होगा। ऐसे जिला पंचायत, जनपद पंचायत और ग्राम पंचायत जहाँ प्रशासकीय समिति के प्रधान उपलब्ध नहीं होने की दशा में कार्यालय प्रमुख द्वारा ध्वजारोहण किया जाएगा। नगर निगम, नगर पालिका एवं नगर परिषद कार्यालय में महापौर/अध्यक्ष (जहाँ निर्वाचित महापौर और अध्यक्ष कार्यरत है) द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। शेष नगरीय निकायों में आयुक्त/मुख्य नगर पालिका अधिकारी ध्वजारोहण करेंगे। ध्वज संहिता का पालन सुनिश्चित कराने के लिये प्रत्येक स्तर पर संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये गये हैं। कार्यक्रम स्थलों पर प्राथमिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की आवश्यक व्यवस्था अनिवार्य रूप से करने और कार्यक्रम स्थल पर हैण्ड सेनेटाइजर, मास्क एवं सामाजिक दूरी आदि का विशेष ध्यान रखने के साथ कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के संबंध में जारी सभी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने को कहा गया है।


होम क्वारंटाइन व्यक्तियों के लिए कोविड-19 कमांड कॉल सेंटर


जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद के लिए जिला स्तरीय कोविड–19 कमाण्ड कॉल सेंटर बनाया गया है। जिसका संपर्क नंबर -07562-1075 है। जिला स्तर पर जिला कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर के मोबाइल नंबर 942540273, 7987652577, 9425400453 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है।  राज्य स्तर पर 104 या 181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीनेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 24x7 हेल्पलाइन नंबर 104 पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस तथा साइकोलॉजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं। मोबाईल मेडिकल यूनिट द्वारा होम आइसोलेट व्यक्तियों की सतत् निगरानी की जा रही है।


श्रमिकों के लिए प्रारंभ की गई प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना


प्रदेश के असंगठित श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए श्रम मंत्रालय ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन (PM-SYM) पेंशन योजना प्रारंभ की है। इस पेंशन योजना के तहत 18 से 40 वर्ष आयु वर्ग के समस्त असंगठित क्षेत्र के श्रमिक, जिनकी मासिक आय 15 हजार रूपये से कम है, इस योजना के लिए पात्र है। योजना के अंतर्गत नामांकन हेतु 18 से 40 आयु वर्ग के श्रमिकों को प्रतिमाह रूपये 55 से 200 रुपये प्रीमियम के रूप में जमा करना होगा। जितनी राशि प्रीमियम के रूप में श्रमिक जमा करेंगे, उतनी ही राशि भारत सरकार, श्रम मंत्रालय द्वारा जमा कराई जाएगी। अर्थात 50 प्रतिशत प्रीमियम की राशि भारत सरकार, श्रम मंत्रालय द्वारा वहन किया जाएगा। 60 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर श्रमिक,वीमित व्यक्ति को रूपये तीन हजार रूपये प्रतिमाह पेंशन के रूप में प्राप्त होगा। योजना का संचालन भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा किया जा रहा है। इच्छुक श्रमिक योजना से जुड़ने के लिए अपने निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर नामांकन करा सकते है। श्रमिक को नामांकन के समय अपना आधार कार्ड एवं बैंक खाता नम्बर अनिवार्य रूप से देना होगा। प्रीमियम की प्रथम किश्त श्रमिक के आयु वर्ग के अनुसार 55 से 200 रूपये कॉमन सर्विस सेंटर में नगदी जमा कर नामांकन कराना होगा।


बेटियों के सपनों को लगाएंगे पंख –  मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • प्रदेश में करीब 23 लाख खाते खुलवाकर बनाया रिकार्ड

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए उनके स्वप्नों को साकार करना हम सभी का दायित्व है। केन्द्र सरकार, राज्य सरकार और आम नागरिक मिलकर बेटियों के सपनों को पंख लगाएंगे। मध्यप्रदेश ने सुकन्या समृद्धि योजना में करीब 23 लाख खाते खुलवाने की उपलब्धि अर्जित की है। निश्चित ही बेटियों में बचत की प्रवृत्ति का विकास हो रहा है। उनके सशक्तिकरण के लिए निरंतर प्रयास होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बेटियों को सशक्त बनाने एवं उनका भविष्य सुरक्षित करने के उद्देश्य से शुरु की गई सुकन्या समृद्धि योजना के सफलतम 7 वर्ष आज पूर्ण हो रहे हैं। निश्चित ही एक सार्थक योजना के सफल 7 वर्ष पूर्ण होना हम सभी के लिए संतोष का विषय भी है। योजना की कामयाबी के लिए सभी सहयोगी नागरिक और परिवार बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हाल ही में सुकन्या समृद्धि योजना के क्रियान्वयन का जो प्रतिवेदन सामने आया है, उसके अनुसार बेटियों के आर्थिक सशक्तिकरण और उन्हें आत्म-निर्भर बनाने की इस योजना में प्रदेश में अब तक 22 लाख 94 हजार से अधिक खाते खोले जा चुके हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि समाज के सशक्तिकरण के लिए नारी का सशक्त होना अत्यंत आवश्यक है। आज पैदा हुई बेटी कल समाज, प्रदेश और राष्ट्र को सशक्त बनाने में अपनी भूमिका निभा पाए इस उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा संचालित सुकन्या समृद्धि योजना मील का पत्थर साबित हुई है। आज बेटियाँ हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। हर मुकाम हासिल कर रही हैं। हम सभी मिलकर उन्हें आगे बढ़ने के लिए निरंतर प्रोत्साहित करेंगे, तो वास्तविक अर्थों में बेटियों का निश्चित रूप से सशक्तिकरण होगा।


ऑनलाइन फ्रॉड की होगी रोकथाम, हेल्पलाइन नंबर पर करें शिकायत


वर्तमान में सायबर क्राइम की घटनाओं के मामले बढ़ते जा रहे है। जैसे-जैसे बैंकिंग सर्विस ऑनलाइन होती जा रही है तथा ऑनलाइन लेने-देने का प्रचलन बढ़ रहा है वैसे ही सायबर क्राइम में भी इजाफा हो रहा है। पुलिस की सायबर सेल ने ऑनलाइन फ्रॉड की रोकथाम के लिये हेल्पलाइन नंबर जारी किया है जो 24 x 7 कार्य करेगा। जिला पुलिस द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 0755-2920664 (लैण्ड लाइन) एवं 9479990636 पर कॉल सायबर फ्रॉड की शिकायत की जा सकती है। इस नंबर पर शिकायत दर्ज होने के साथ ही तुरंत कार्यवाही की जाएगी घटना से जुडे़ पोर्टल, बैंक और ई-कॉमर्स कंपनी से संपर्क कर अलर्ट मैसेज कर फ्रॉड होने रोका जा सकेगा अथवा फ्रॉड करने वाले को यथाशीघ्र ट्रेस कर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।


26 जनवरी को होगा "भारत पर्व" का आयोजन


"आज़ादी का अमृत महोत्सव" अंतर्गत आगामी 26 जनवरी, 2022 गणतंत्र दिवस की संध्या को लोकतंत्र का लोक उत्सव "भारत पर्व" का आयोजन किया जायेगा। "भारत पर्व" में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी पारम्परिक रूप से लोक रूचि के गायन लोक, भक्ति, सुराज, आज़ादी के तराने, वादन और नर्तन जनजातीय एवं लोक कला इत्यादि कार्यक्रम शामिल किये जायेंगे।  जिले के स्थानीय कलाकारों को "भारत पर्व" पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या में प्रमुखता से शामिल किया जाकर मंच प्रदान किया जायेगा तथा इसके अलावा "भारत पर्व" के लिये अन्य कलाकारों, दल का चयन, समग्र मानदेय निर्धारण कलेक्टर द्वारा किया जायेगा।  "भारत पर्व" पर आयोजित "आज़ादी का अमृत महोत्सव" अंतर्गत स्वाधीनता संग्राम पर केन्द्रित प्रदर्शनी स्वराज संस्थान तथा मध्यप्रदेश के विकास पर केन्द्रित प्रदर्शनी, जनसंपर्क कार्यालयों द्वारा लगाई जायेगी। "भारत पर्व" एवं "आज़ादी के अमृत महोत्सव के लोगो सहित आकर्षक होर्डिंग्स तथा फ्लैक्स के माध्यम से प्रचार - प्रसार कराया जायेगा। "भारत पर्व" का आयोजन जिला प्रशासन द्वारा गरिमामय तरीके से जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित कर किया जायेगा।


हितग्राही कम राशन मिलने की शिकायत 181 पर करें


सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत जिले के ऐसे उपभोक्ता, जिन्हें एकमुश्त राशन मिल रहा है। उन उपभोक्ताओं को यह जानकारी दी गई है कि पीओएस मशीन पर अंगूठा लगाने पर उपभोक्ता को जितना राशन शासन द्वारा स्वीकृत किया गया है, उसकी समस्त जानकारी दी जाती है। उचित मूल्य दुकान संचालक-विक्रेता द्वारा यदि किसी उपभोक्ता को स्वीकृत राशन से कम राशन वितरित किया जाता है, तो उपभोक्ता सीएम हेल्पलाइन 181 पर शिकायत कर सकते हैं।  उपभोक्ता मिलने वाले राशन की जानकारी अनेक तरीको से प्राप्त कर सकते है। उपभोक्ता प्राप्त राशन की जानकारी पीओएस मशीन से जनरेट होने वाली पावती पर्ची से (पावती प्रत्येक पीडीएस शॉप कीपर को उपभोक्ता को अनिवार्य रूप से देनी चाहिये) प्राप्त कर सकते है। इसके अलावा रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर प्राप्त होने वाले एसएमएस के माध्यम से भी राशन की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। एसएमएस के माध्यम से राशन की जानकारी प्राप्त करने के लिए उपभोक्ता अपना मोबाइल पीओएस मशीन पर रजिस्टर्ड कराएं।


कोविड से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने गाइडलाइन का पालन करने की अपील की


स्वास्थ्य विभाग ने जिले के नागरिकों से कोरोना संक्रमण  से बचाव के लिए जारी गाइड लाइन का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में कोरोना के मरीज़ों की संख्या दिन- प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आने वाले समय में यह संख्या और अधिक तेजी से बढने का अनुमान है। ऐसे में बेहद ज़रूरी हो गया है कि जिले का हर नागरिक सतर्क रहे। और उन सभी कारणों से बचे जिनके कारण कोरोना का प्रसार होता है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा नागरिकों के बेहतर उपचार के लिये हर ज़रूरी सुविधाएँ मुहैया कराई जाएगी। कोरोना से बचाव के लिए सभी चिकित्सीय इन्तजाम सुनिश्चित किए गए हैं। जिला और विकासखंड स्तर पर कोविड केयर सेंटर बनाए गए हैं, जिन मरीज़ों के घर में ऑयसोलेशन का इंतज़ाम नहीं है वे यहाँ आकर कोविड केयर सेंटर का पूरा लाभ ले सकते हैं। उन्होंने सभी से वेक्सीनेशन कराने की भी अपील की है और कहा है कि वेक्सीनेशन ही इस बीमारी से बचाव का एकमात्र उपाय है। वेक्सीनेशन कराने वालों को कोविड संक्रमण हो भी जाए तो यह जानलेवा नही रहता और अस्पताल में भर्ती रहने तक की जरूरत नही पड़ती।


मण्डल परीक्षायें 2022 के परीक्षा आवेदन पत्रों में विषय, माध्यम संशोधन 31 जनवरी तक होंगे


मण्डल परीक्षायें 2022 के परीक्षा आवेदन पत्रों में विषय एवं माध्यम संशोधन 31 जनवरी तक होंगे, इसके पश्चात किसी भी दशा में विषय संशोधन मान्य नहीं किया जाएगा तथा मंडल द्वारा जारी प्रवेश पत्र में अंकित विषयों के आधार पर ऑनलाईन ओएमआर शीट जारी कर दी जाएगी। समस्त मान्यता प्राप्त, संबद्धता प्राप्त संस्थाओं एवं अग्रेषण संस्था के प्राचार्य से कहा गया है 31 जनवरी 2022 तक परीक्षा आवेदन पत्रों में विषय संशोधन की सुविधा प्रदान की गई है। इस वर्ष आंतरिक मूल्यांकन एवं प्रायोगिक परीक्षा के अंको की प्रविष्टि ऑनलाईन की जाएगी। आंतरिक एवं प्रायोगिक परीक्षा के लिए विषयवार ओएमआर शीट संस्था प्राचार्य/केन्द्राध्यक्ष के लॉगिन पर उपलब्ध रहेगी। मंडल द्वारा छात्रो के प्रवेश पत्र 25 जनवरी 2022 तक ऑनलाईन जारी कर दिये जाएगें। सचिव, माध्यमिक शिक्षा मंडल ने समस्त संस्था प्राचार्यो से अनुरोध किया है कि वे अपनी संस्था में नियमित अध्ययनरत छात्रों तथा संस्था द्वारा अग्रेषित स्वाध्यायी छात्रों के प्रवेश पत्र डाउनलोड कर छात्र कोड विषयों की खात्री अनिवार्य रूप से करे, यदि मंडल द्वारा जारी प्रवेश पत्र में किसी छात्र के विषयों में त्रुटि हो तो उसे 31 जनवरी 2022 तक ऑनलाईन संशोधन कराना सुनिश्चित करे। उक्त तिथि के पश्चात किसी भी दशा में विषय संशोधन मान्य किया जाएगा तथा मंडल द्वारा जारी प्रवेश पत्र में अंकित विषयों के आधार पर ऑनलाईन ओएमआर शीट जारी की जाएगी।


एकीकृत और संस्कृत छात्रवृत्ति के लिए आवेदन आमंत्रित


शासकीय महाविद्यालयों में दिव्यांग विद्यार्थियों को सत्र 2021-22 में कम्प्यूटर और प्रबंधन में शिक्षा प्राप्त करने के लिए जीवन निर्वाह भत्ता और परिवहन भत्ता राशि के भुगतान के लिए 30 जनवरी, 2022 तक आवेदन आमंत्रित किए गये हैं। मध्यप्रदेश के शासकीय और अनुदान प्राप्त महाविद्यालय में एकीकृत और संस्कृत छात्रवृत्तियों के लिए भी 30 जनवरी, 2022 तक आवेदन किये जा सकेंगे। आवेदन संस्था प्रमुख से अग्रेसित कराकर उच्च शिक्षा सतपुड़ा भवन भोपाल भेजना होगा। योजना में पात्रता संबंधी विस्तृत जानकारी विभाग की वेबसाइट www.highereducation.mp.gov.in पर देखी जा सकती है।


प्रभारी मंत्री श्री चौधरी करेंगे ध्वजारोहण


गणतंत्र दिवस के अवसर पर जिला मुख्यालय में आयोजित होने वाले  मुख्य समारोह में स्वास्थ्य एवं प्रभारी मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ध्वजारोहण करेंगे।


पैरालीगल वालेंटियर्स ने नगर में चलाया रोको-टोको अभियान


sehore news
प्रधान जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री आरएन चंद के निर्देश पर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जिला प्राधिकरण से सम्बद्ध पैरालीगल वॉलेंटियर्स ने नगर के मुख्य स्थानो पर रोको-टोको अभियान चलाया। पैरालीगल वॉलेंटियर्स ने बिना मास्क के घूम रहे लोगो को मास्क वितरित किए और घर से निकलते समय आवश्यक रूप से मास्क लगाने के लिए आग्रह किया। इस अभियान के दौरान पैरालीगल वॉलेंटियर्स द्वारा राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मध्य प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की योजनाओं के बारे में भी लोगों को जानकारी दी गई।

कोई टिप्पणी नहीं: