लॉकडाउन से बचने के लिए लोग सहयोग दें : बोम्मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 2 जनवरी 2022

लॉकडाउन से बचने के लिए लोग सहयोग दें : बोम्मई

aviod-lockdown-support-government-bommai
बेलगावी (कर्नाटक), दो जनवरी, र्नाटक और उसके सीमावर्ती राज्यों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच राज्य के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने रविवार को लोगों से आग्रह किया कि संक्रमण रोकने और लॉकडाउन की स्थिति से बचने के लिए सरकार का सहयोग करें। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र की सीमा से लगते इलाके के अधिकारियों को अधिक सतर्कता बरतने को कहा गया है क्योंकि वहां पर मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। बोम्मई ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारा रुख स्पष्ट है। पहले लॉकडाउन लागू किया गया था। उसी तरह की स्थिति दोबारा उत्पन्न नहीं होनी चाहिए। इसके लिए हम कड़े कदम उठा रहे हैं। लोगों को हमारे साथ सहयोग करना चाहिए।’’ रात्रि कर्फ्यू की मियाद बढ़ाने या सख्त पांबदी लगाने के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में सोमवार को या मंगलवार को फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमने देखा है कि कोरोना वायरस कैसा है। हम देख रहे हैं कि बेंगलुरु में यह तेजी से फैल रहा है। हम इसे ध्यान में रखकर फैसला करेंगे।’’ देश में ओमीक्रोन स्वरूप सहित कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त करते हुए बोम्मई ने कहा कि उन्होंने महाराष्ट्र से लगते बेलगावी, विजयपुरा और बीदर जिलों के अधिकारियों को अधिक सतर्कता बरतने का निर्देश दिया है क्योंकि पड़ोसी राज्य में मामले बढ़ रहे हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के अधिक मामलों वाले राज्यों से आने वाले लोगों का संदर्भ देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जो कर्नाटक में प्रवेश कर रहे हैं, उन्हें टीके की दोनों खुराक लेनी चाहिए और आरटी-पीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट भी दिखानी चाहिए। बोम्मई ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के उपायों के बारे में कहा कि सरकार को पाबंदी ही नहीं लगानी चाहिए बल्कि स्थिति से निपटने की तैयारी करने की भी जरूरत है। उन्होंने कहा कि पिछली बार ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए सरकार ने ऑक्सीजन संयंत्रों से संपर्क कर राज्य को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने को कहा है और अस्पतालों को ऑक्सीजन संयंत्र और गहन चिकित्सा इकाई बिस्तरों को बढ़ाने को कहा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: