सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 10 जनवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 जनवरी 2022

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 10 जनवरी

१४ जनवरी को शहीदों को नमन करेगा सीहोर, 356  क्रांतिकारियों को शहीद समाधी स्थल पर दी जायेगी श्रद्धांजली


sehore news
सीहोर   10   जनवरी । नगर में सैकड़ाखेड़ी मार्ग पर स्थित शहीदों के समाधि स्थल पर आगामी १४ जनवरी शुक्रवार को पुष्पांजली समारोह का आयोजन किया गया है। भारतीय इतिहास की प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में शहीद हुए सैनिकों की समाधि स्थल पर प्रात: १०.३० बजे पुष्पांजली कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। शहीद सिपाही बहादुर स्मारक निर्माण समिति के अध्यक्ष ओमदीप महामंत्री आनन्‍द गॉधी ने नगर के सभी वर्ग के लोगों से इस दिन बड़ी संख्या में समाधी स्थल पर पहुँचकर अपने स्वतंत्रता संग्राम सैनानियों का स्मरण करने का आव्हान किया है। स्वतंत्रता आंदोलन से समृद्ध सीहोर नगर में भी अंग्रेजी शासन काल के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ अनेक आंदोलन हुए थे। भारतीय इतिहास में सन् १८५७ में पहला स्वतंत्रता आंदोलन हुआ था। इसी आंदोलन में सीहोर नगर की तत्कालीन सैनिक छावनी के सैनिकों ने भी अंग्रेजी शासन के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंकते हुए सीहोर छावनी को आजाद घोषित कर दिया था और नगर में सिपाही बहादुर सरकार की स्थापना कर दी गई थी। १४ जनवरी १८५८ को स्वतंत्रता आंदोलन करने वाले यह सैनिक अंग्रेजों के खिलाफ लोहा लेते हुए देश के लिये शहीद हो गये थे।  प्रतिवर्ष १४ जनवरी को शहीद सिपाहियों की सैकड़ाखेड़ी मार्ग स्थित समाधियों पर पुष्पांजली का कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। जिसमें नगर के सम्मानीय नागरिकगण भी उपस्थित होते हैं। शहीद सिपाही बहादुर स्मारक निर्माण समिति ने नगर के सभी वर्गों के लोगों, राजनैतिक, अराजनैतिक युवा वर्ग से निवेदन किया है कि वह बड़ी संख्या में १४ जनवरी को प्रात: १०.३० बजे सैकड़ाखेड़ी मार्ग पर अपने शहीदों को सच्ची श्रद्धांजली देने पहुँचे। समिति ने नगर के सभी शासकीय-अशासकीय विद्यालयों से भी कहा है कि वह अपनी संस्था के विद्यार्थियों को यहाँ अवश्य लायें।


स्लोगन द्वारा ओमिक्रोन से बचाव और जल संरक्षण हेतु जागरूकता अभियान जारी


जिला युवा अधिकारी श्रीमति निक्की राठौर के निर्देशन में कैच द रेन 2.0 और कोविड-19 के प्रति जागरूकता के लिए नेहरू युवा केन्द्र सीहोर द्वारा अभियान चलाया जा रहा है। स्वयंसेवक पवन पंसारी और युवा मंडल अध्यक्ष उमेश पंसारी ने दीवारों पर स्लोगन लिखकर ग्रामीणों को वर्षा जल का संग्रहण करने और नए वेरिएंट ओमिक्रोन से बचाव के लिए मास्क लगाने, सामाजिक दूरी बनाने और वैक्सीन लगवाने का संदेश दिया। 


आज किया जाएगा भागवत कथा का समापन श्रीकृष्ण ने इंद्र का घमंड तोड़ने के लिए उंगली पर उठाया था गोवर्धन पर्वत


सीहोर। इंद्र ने क्रोधित होकर भयंकर आंधी तूफान बारिश की। जिससे समस्त गोकुल में त्राहि-त्राहि मच उठी। रक्षा के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी उंगली पर श्री गोवर्धन पर्वत को धारण किया एवं समस्त गोकुल वासी को शरण दी। इंद्र के कुपित होने पर भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत उठाया था। उक्त विचार ग्राम भाउखेडी में जारी सात दिवसीय भागवत कथा के छठवे दिन गोवर्धन पूजन का महत्व बताते हुए श्रीश्री 1008 महामंडलेश्वर याशोदा नंद पंडित श्री अजय पुरोहित  ने कहे। उन्होंने कहा कि अहंकार को नष्ट करने के लिए ही भगवान ने गोवर्धन की पूजन का क्रम आरंभ करवाया था। उन्होंने कहा कि भगवान श्री कृष्ण ने इंद्र के अहंकार को नष्ट करने के लिए गोवर्धन पूजा कराई थी। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी में सेवा भाव कम हो गया है। जिससे अब तो बुढ़ापा एक अभिशाप बन गया है। इसी कारण वृद्धाश्रमों की संख्या बढ़ती जा रही है। भारतीय संस्कृति दिन-प्रतिदिन विलुप्त होती दिखाई दे रही है। युवा पीढ़ी अपनी सभ्यता और संस्कृति को भूल रही है। ऐसे समय में युवाओं को शिक्षा के साथ संस्कार का ज्ञान देना होगा। जब बात राष्ट्र की हो, धर्म की हो, भारतीय संस्कृति की हो तब भारत का साधू अपनी ज्ञान की झोली फैलाने में संकोच नहीं करता। मनुष्य जैसे कर्म करता है उसे फल भी वैसे ही भोगने पड़ते हैं। प्रभु राम व कृष्ण ने मनुष्य रूप में दुष्टों का संहार करते हुए अनेक लीलाएं कीं। धर्म की रक्षा और दुष्टों के संहार के लिए ही भगवान ने अवतार लिए। भगवान ने अवतार लेकर वकासुर, अघासुर, धेनुकासुर आदि राक्षसों का वध किया। इंद्र का अहंकार तोड़ने के लिए गोवर्धन पर्वत को अंगुली पर उठा लिया। उन्होंने कहा कि बुद्धि अल्पज्ञ और ईश्वर सर्वज्ञ है। बुद्धि प्रकाशित और ईश्वर प्रकाशमान है। मन की दो परिस्थिति होती हैं, भय और लोभ। मन हमेशा भय या लोभ से ग्रसित होता हैं। मन ही माया के बंधन में बंधा रहता है। अत: मन ही बंधन का कारण है। इसलिए मन को गोविंद के चरणों में लगा दो। 


जिले में पहले दिन 946 प्रिकॉशन डोज लगाए गए, फ्रंट लाईन वर्कर, हैल्थ केयर वर्कर तथा 60 प्लस के हितग्राहियों का सोमवार से प्रिकॉशन डोज शुरू

  • जिले में कुल 10 हजार 985 हितग्राहियों को प्रिकॉशन डोज लगाने का लक्ष्य

sehore news
प्रदेश के साथ ही जिले में भी फ्रंट लाईन वर्कर, हैल्थ केयर वर्कर तथा 60 प्लस के हितग्राहियों को कोरोना का प्रिकॉशन डोज लगना शुरू हो गया है। जिले के 07 टीकाकरण केन्द्रों पर सोमवार को 946 हितग्राहियों को प्रिकॉशन डोज लगाया गया। पहले दिन 522 हेल्थ वर्कर, 134 फ्रंट लाईन वर्कर तथा 60 प्लस व्यक्तियों में 290 हितग्राहियों को प्रिकाशन डोज लगाया गया है। जिलें में 10 हजार 985 हितग्राहियों को कोविड का प्रिकॉशन डोज लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिला टीकाकरण अधिकारी डा.एम.चंदेल ने जानकारी दी कि 1668 फ्रंट लाईन वर्कर, 02 हैल्थ केयर वर्कर, कुल 1670 को को-वैक्सीन का प्रिकाशन डोज लगाया जाएगा। 1078 बुजूर्ग नागरिकों, 2932 फ्रंट लाईन वर्कर तथा 5305 हैल्थ केयर वर्कर कुल 9315 को कोविशील्ड का डोज लगाया जाएगा। विकासखण्ड आष्टा में हेल्थकेयर वर्कर, फ्रंट लाईन वर्कर एवं सीनियर सिटीजन सहित कुल 2759 लक्षित हितग्राहियों को वैक्सीन लगाई जाएगी। बुदनी विकासखण्ड में 1202, इछावर विकासखण्ड में 1083, नसरूल्लागंज विकासखण्ड में 1761, सीहोर शहरी क्षेत्र में 2955 तथा विकासखण्ड श्यामपुर में 1225 हितग्राहियों को प्रिकॉशन डोज लगाया जाएगा।


जिले में 09 जनवरी को 19 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले


जिले में 09 जनवरी को 828 सेंपल लिए गए थे जिनमें 19 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। वर्तमान  में एक्टिव पॉजिटिव केस की संख्या 29 हो गई हैं।


कोरोना के बढ़ते प्रभाव को दृष्टिगत रखते हुए मेडिकल मोबाईल टीम गठित


जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को दृष्टिगत रखते हुए विकासखण्ड स्तर पर मेडिकल मोबाईल यूनिट (एमएमयू) गठित की गई है। कोविड-19 संक्रमण के नियंत्रण एवं जांच सैम्पलिंग, निगरानी, कांटेक्ट ट्रेसिंग, विदेश से आए हुए पैसेंजर के सैम्पल, निगरानी एवं समुदाय स्तर पर जागरूकता तथा समन्वय के लिए एमएमयू दल का गठन किया गया है। टीम को कार्यदायित्व एवं जिम्मेदारियां सौंपी गई है, जिसमे होम कोरेनटाईन के पॉजिटिव प्रकरणों के घरों को कंटेनमेंट घोषित करना, होम कोरेनटाईन में रखें व्यक्ति या परिवार सदस्यों के प्रतिदिन जांच एवं उपचार के लिए जाना तथा फॉलोअप करना, होम कोरेनटाईन व्यक्ति के घर में अगर अन्य व्यक्ति को कोरोना के लक्षण प्रतीत होने पर सैम्पल लेने के लिए सब आरआरटी दल को सूचित करना। होम कोरेनटाईन व्यक्ति या परिवार को उपचार होम आईसोलेशन किट प्रदाय करना। होम आईसोलेशन एवं परिवार की जानकारी निर्धारित प्रपत्र में भरकर रिपोर्ट जिला कोविड कमांण्ड कंट्रोल दल को देना शामिल है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि सीहोर शहरी क्षेत्र के एमएमयू-1 दल में डॉ.अशोक मालवी आयुष चिकित्सक, डॉ.मरीयम हुसैन आयुष चिकित्सक, प्रियंका राठौर फार्मासिस्ट एंव श्रीमती रजनी योगी एएनएम शामिल हैं। इसी प्रकार एमएमयू दल-2 में डॉ.सोनल श्रीवास्तव आयुष चिकित्सक, श्री संतोष नायर मलेरिया निरीक्षक शामिल है। विकासखण्ड बुदनी के लिए बुदनी में डॉ.नीतेश वर्मा एमओ, श्री अनिल उपाध्याय सुपरवाईजर, श्रीमती पी.नागवंशी एलएचव्ही, श्री रमेश दुबे एमपीडब्ल्यू, श्री मुकेश कुमार डेसर। शाहगंज के लिए डॉ.शिरीष शर्मा एमओ, श्री चौहान सिंह चौहान सुपरवाईजर, श्री सुरेश वर्मा एमपीडब्ल्यू, श्रीमती वंदना राठौर एएनएम शामिल है। बकतरा के लिए डॉ.राकेश वर्मा एमओ, श्री प्रतापसिंह एमपीडब्ल्यू,, नीनौर के लिए डॉ. शुभम् गौतम एमओ, श्री अनिल उपाध्याय सुपरवाइजर, श्री नरेन्द्र कुमार फार्मासिस्ट, श्रीमती पूजा दीक्षित एएनएम, श्रीमती सरोज प्रजापति एएनएम। मरदानपुर के लिए डॉ.राणा राजपूत एमओ, श्री गणेश इरपाचे सुपरवाईजर, श्रीमती सरीता पंवार एएनएम, रेहटी के लिए डॉ .मेहरबानसिंह एमओ, श्री गणेश इरपाचे सुपरवाईजर, श्रीमती लता सक्सेना एएनएम शामिल है। विकासखण्ड इछावर के लिए इछावर अर्बन में डॉ.पंकज बाथम एमओ, श्रीमती सुशीला सौंधिया बीईई, श्री शफीक मोहम्मद सुपरवाइजर, श्रीमती मिथलेष नरवरिया एएनएम, श्रीमती गौरा नरवरिया एएनएम। रामनगर के लिए डॉ.अभिजीत सिंह चौहान एमओ, श्री कुमेर सिंह ठाकुर सुपरवाईजर, श्री दिनेश कुमार मकरैया एमपीडब्ल्यू, श्रीमती रेखा एएनएम। अमलाहा में डॉ.राजकुमार अहिरवार एमओ, श्री शंकरलाल आवले सुपरवाईजर, श्रीमती नम्रता राठौर फार्मासिस्ट, श्री रायसिंह धनगर ड्रेसर, दीवडिया डॉ.अनुज महेश्वरी एमओ, श्री राजेन्द्र शर्मा सुपरवाइजर, महाराज सिंह फार्मासिस्ट। आबिदाबाद डॉ.अमित तिवारी एमओ, श्री अशोक सिसोदिया एमपीडब्ल्यू, श्रीमती संतो एएनएम। ब्रिजिशनगर डॉ.रोहिल राठौर एमओ, श्री भैयालाल शाक्य सुपरवाइजर, श्रीमती निर्मला राजपूत एएनएम। भाउखेडी डॉ.धर्मेन्द्र राठौर एमओ, श्री अमित शर्मा एमपीडब्ल्यू, श्रीमती मनीषा भदौरिया एएनएम। वीरपुरडेम डा. शुभांगिनी पटेल एमओ, श्री बाबूसिंह पडरिया सुपरवाइजर, श्रीमती सुरेखा राजपूत एएनएम शामिल है। विकासखण्ड श्यामपुर के अंतर्गत बमूलिया के लिए डॉ.विभा कोसे एमओ, श्रीमती सुनिता सुंदरानी सुपरवाईजर, गायत्री मेवाडा एएनएम, श्रीमती रजनी सागर एएनएम, श्री महेश वार्ड बॉय। दोराहा के लिए डॉ.नंदराम आजाद एमओ, श्री उमेश साकेत सुपरवाइजर, श्री धर्मेन्द्र दुबे फार्मासिस्ट, श्रीमती ईएस थामस एएनएम, श्री प्रदीप कुमार फार्मासिस्ट। बिलकिसगंज के लिए डॉ.भावना रैकवार एमओ, श्री आमिर महमुद सुपरवाइजर, श्री शाकिर अली एमपीडब्ल्यू, सुधा शर्मा एएनएम, संजय प्रजापति फार्मासिस्ट। अहमदपुर डॉ.केसी महोनिया एमओ, श्री जीडी किरार एलएचव्ही, श्रीमती श्यामवति बटटी एएनएम, महेन्द्र कुमार फार्मासिस्ट। श्यामपुर डॉ.अंकित परिहार एमओ, श्रीमती अनिसा शेख एलएचव्ही, श्रीमती गीता भीलाला एएनएम, श्री दिल्ली राज वार्ड बॉय, श्रीमती आरती फार्मासिस्ट। मुंडलाकला डॉ.नीरज डागौर एमओ, श्री रघुनाथ मालवीय सुपरवाइजर, श्रीमती जरीना बेगम एएनएम, कुशलव एएनएम, रेखा मालवीय एएनएम,। नापलाखेडी डॉ.अरविंद सिन्हा एमओ, कमल सिंह सिसोदिया सुपरवाइजर, किशोर सिंह एमपीडब्ल्यू, कृष्णा राठौर एएनएम, श्री सुमीत रावत एमपीडब्ल्यू। खाईखेडा डॉ.रश्मि पटेल एमओ, विश्राम सिंह एमपीडब्ल्यू, उमेश पटेरिया एमपीडब्ल्यू, हीरालाल मालवीय सुपरवाइजर, संता यादव ए.एन.एम.। विकासखण्ड नसरूल्लागंज अंतर्गत नसरूल्लागंज  डॉ.राहुल शर्मा एमओ, श्री वीरभद्र सिंह फार्मासिस्ट, राजेन्द्र कुमार गुप्ता एमपीडब्ल्यू, श्री अरविंद सोनी मेल स्टॉफ नर्स, श्री मोहनसिंह ड्रेसर, श्री सजनसिंह वार्डबॉय,। चकल्दी में डॉ.प्रतुंल यादव एमओ, श्रीमती गीता सिंह लैब तकनीशियन, श्री प्रकाश चंद्र यादव एमपीडब्ल्यू, श्रीमती राजकुमारी नागर एएनएम,। इटावा-इटारसी डॉ.देवेन्द्र सिंह महोलिया एमओ, श्री लालबहादुर शाहनी एमपीएस, श्री केशव हिंगोलिया फार्मासिस्ट, श्रीमती साधना कौर एएनएम। बाईबोडी डॉ.पूजा यादव एमओ, राकेष गुप्ता एमपीडब्ल्यू, मनोजसिंह फार्मासिस्ट,श्रीमती रूक्या खान एएनएम। लाडकुई डॅा.महेश पाण्डे एमओ, श्री महेश गुर्जर फार्मासिस्ट, श्री जीतेन्द्र माहेश्वरी एमपीएस, श्री रविन्द्र भार्गव लैब तकनीशियन, ज्योति स्टॉफ नर्स शामिल है। विकासखण्ड आष्टा अंतर्गत मैना में डॉ.अवधेश परमार एमओ, सजनसिंह मेवाडा सुपरवाईजर, गणपति पंवार फार्मासिस्ट, दामोदर हिंडोलिया लैब तकनीशियन, श्री रामप्रसाद क्षजिये सफाईकर्मी। जावर डॅा.अमीत माथुर एमओ, धर्मेन्द्र जैन सुपरवाईजर, श्री अखलेश उपाध्याय लेब तकनीशियन, श्री संतोष डुमाने सफाईकर्मी,। सिद्धिकगंज डॉ.मनीष मुकाती एमओ, आनंद जैन फार्मासिस्ट, श्री कमल एस्के लैब तकनीशियन, आरके नागर सुपरवाईजर, श्री धीरज सिंह वार्ड बॉय। कोठरी डॉ.बीके दोहर एमओ, श्री मोहन अटेरिया सुपरवाईजर, सौरभ सारस्वत,विनोद विश्वकर्मा लैब तकनीशियन,अनिल सिंह वार्डबॉय। खाचरोद डॉ.आमीन खान एमओ, प्रहलाद सिंह परमार सुपरवाईजर, श्री खेमराज सिंह वर्मा एमपीडब्ल्यू,। भंवरा डॉ.स्वीटी जैन आरबीएसके एमओ, शौकत खान सुपरवाइजर, सुनील बडोदिया एमपीडब्ल्यू, आष्टा शहरी डॉ.तहसीन फातमा आरबीएसके एमओ, श्री अशोक नागर सुपरवाईजर, सुरेश सेन सुपरवाइजर, श्री रवि गोस्वामी एमपीडब्ल्यू। मेहतवाडा डॉ.कपिल गायकवाड एमओ, श्री केपीएस राजपूत सुपरवाईजर, श्री बलराम सिंह एमपीडब्ल्यू को शामिल किया गया है।


कोरोना संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के लिए रेपिड रिस्पांस टीम गठित


जिले में कोरोना वायरस एवं अन्य संक्रामक बीमारियों के रोकथाम एवं बचाव के लिए आरआरटी (रेपिड रिस्पांस टीम) का गठन किया गया है। इस टीम में डॉ. बीके चतुर्वेदी एमडी मेडिसिन जिला चिकित्सालय 9826090264, डॉ. नीरा श्रीवास्तव शिशु रोग विशेषज्ञ जिला चिकित्सालय 9425678833, डॉ. पीएस आर्मो पैथेलाजिस्ट जिला चिकित्सालय 9425650196, डॉ. एकेएस भदौरिया उपसंचालक पशु चिकित्सा विभाग कार्यालय पशुचिकित्सा विभाग सीहोर 9425009263, डॉ. रूचिरा उईके जिला एपिडमियोलाजिस्ट कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी 8989114247, श्रीमती क्षमा बर्वे जिला मलेरिया अधिकारी जिला मलेरिया कार्यालय 9993605937, श्रीमती भावना ठाकुर खाद्य सुरक्षा अधिकारी कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी 9165954755, श्री अनिल यादव लेब टेक्नीशियन जिला चिकित्सालय 7000268377, श्री राय सिंह ठाकुर कम्पाउन्डर जिला चिकित्सालय 9329155985, श्रीमती रक्षचंदा वाहने स्टाफ नर्स जिला चिकित्सालय 6267855361, श्री राजेन्द्र पाल वार्ड वॉय जिला चिकित्सालय 9406955830 को शामिल किया गया है।


पटवारी खेतों में जाकर करें गिरदावरी


रबी सीजन की गिरदावरी शुरू हो गई है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने सभी पटवारियों को खेतों में जाकर सारा ऐप के माध्यम से फसल गिरदावरी कार्यवाही करने के निर्देश दिए है। उन्होंने पटवारियों से कहा कि शासन द्वारा इस वर्ष जिओ फैंस गिरदावरी कराने का निर्णय लिया गया है। जिसमें पटवारी को प्रत्येक खेत पर जाना अनिवार्य है। आगामी समय में अपलोड किए गए फोटो किसान के अवलोकन के लिए सारा पोर्टल पर उपलब्ध रहेंगे। उन्होंने कहा कि गिरदावरी का डाटा उपार्जन में भी उपयोग किया जाता है, इसलिए इसमें त्रुटि नहीं होना चाहिए। उन्होंने एसडीएम, तहसीलदार तथा नायब तहसीलदार को पटवारियों द्वारा की जा रही गिरदावरी का सत्यापन करने के भी निर्देश दिए है।

sehore news

एनएसएस के छात्रों ने चलाया वस्त्र दान अभियान


आरएके कृषि महाविद्यालय की एनएसएस के  छात्र-छात्राओं ने गरीब, बेसहारा लोगो को गणेश मंदिर एवं  मनकामेश्वर मंदिर में ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़े वितरित किए। उन्होंने मगसपुर ग्राम की झुग्गी झोपड़ी व गरीब बस्तियों में घर-घर जाकर  निम्न वर्गीय लोगो को शरद ऋतु के पुराने वस्त्र दान एवं बिस्किट के पैकेट वितरित किए। इस अभियान में वरिष्ठ स्वयंसेवक घनश्याम बामनिया सहित समस्त छात्र-छात्राओं द्वारा वस्त्र दान किया गया।



धान खरीदी के चार दिन शेष, अभी तक 36173 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई


कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर ने धान उपार्जन के शेष किसानों से खरीदी के लिए दो दिनो में एसएमएस जारी करने के निर्देश जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के महाप्रबंधक एवं डीआरसीएस को दिए है। उल्लेखनीय है कि धान उपार्जन की अंतिम तिथि 15 जनवरी है। उपार्जन से शेष रहे किसानों से धान खरीदी सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए है। कलेक्टर श्री ठाकुर ने धान खरीदी की गति बढ़ाने के साथ ही धान की तुलाई के लिए काँटे और लेबर बढ़ाने के निर्देश दिए है। उन्होंने केवल एफएक्यू गुणवत्ता की धान खरीदी एवं रिजेक्ट धान का अपग्रेडेशन संबंधित समितियों से शीघ्र सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है।
 

अभी तक 36173 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई

खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में धान खरीदी के लिए कुल 11 हजार 337 किसानो ने पंजीयन कराया है। पंजीकृत किसानों में से 9949 किसानों को एसएमएस भेजे जा चुके है। शेष किसानो को आगामी दो दिनो में एसएमएस भेजा जाना सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए है। अब तक किसानो को  41.13 करोड़ रूपये की राशि का भुगतान किया जा चुका है। शेष राशि के भुगतान की कार्यवाही की जा रही है। खरीदी केन्द्रो से अभी तक 36173 मीट्रिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है। जिसमें से 97 प्रतिशत धान का परिवहन किया जा चुका है।



नवनिर्मित विज्ञान भवन का उच्च शिक्षा मंत्री करेंगे लोकार्पण


जिला मुख्यालय स्थित शासकीय कन्या महाविद्यालय में नवनिर्मित विज्ञान भवन का लोकार्पण 11 जनवरी को दोपहर 03 बजे उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव द्वारा किया जाएगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता सीहोर विधायक श्री सुदेश राय करेंगे। विशेष अतिथि के रूप में कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर उपस्थित रहेंगें।


कोरोना संक्रमण को रोकने प्रभावी कदम उठाने के कलेक्टर ने दिए निर्देश


कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने तथा इलाज के संबंध में कलेक्टर श्री चंद्र मोहन ठाकुर की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री ठाकुर ने कोरोना संक्रमण के रोकथाम तथा बचाव के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के अन्य जिलों के साथ ही सीहोर जिले में भी कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है और कोरोना पॉजिटिव की संख्या तेजी से बढ रही है। उन्होंने बैठक में कहा कि तेजी से टीकाकरण करने और सैंपलो की संख्या बढ़ानी होगी। कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि अधिकांश लोगों की हल्के लक्षण या बिना लक्षण के पॉजिटव रिपोर्ट आई है, ऐसे में सावधानी रखना बहुत आवश्यक है। उन्होंने सभी एसडीएम, तहसीलदार, सीएमओ तथा पुलिस सहित सभी संबंधित अधिकारियों को मास्क लोगों की आदत में लाने के लिए चालानी कार्यवाही एवं कोविड गाइड लाइन का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क लगाने, आवश्यक होने पर ही घर से निकलने, हाथों को बार-बार धोने सहित जरूरी कोविड गाइड लाइन का पालन कराने कोटवार द्वारा मुनादी कराने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी अस्पतालों, उप-स्वास्थ्य केन्द्रों तथा कोविड केयर सेंटर्स में पर्याप्त दवाएं, ऑक्सीमीटर, पल्स मीटर, सर्जिकल मास्क, एन-95 मास्क, ग्लब्स सहित सभी आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी ऑक्सीजन प्लांट को चलाकर प्योरिटी नियमित रूप से चेक करने के निर्देश दिए। श्री ठाकुर ने सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में दवाओं की किट तैयार कर रखने के निर्देश दिए। बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री हर्ष सिंह, अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर तथा एसडीएम श्री बृजेश सक्सेना सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। अनुभागों के अधिकारी वीसी के माध्यम से बैठक में शामिल हुए।


कलेक्टर ने जिले में 03 स्थानीय अवकाश घोषित किए


कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने वर्ष-2022 में सम्पूर्ण जिले के लिए तीन स्थानीय अवकाश घोषित किए है। घोषित अवकाशों में रंग पंचमी मंगलवार 22 मार्च, दुर्गा नवमी मंगलवार 04 अक्टूबर एवं दीपावली का दूसरा दिन मंगलवार 25 अक्टूबर को यह तीनों अवकाश समस्त शासकीय कार्यालयों एवं संस्थाओं के लिए लागू होंगे। परन्तु कोषालय एवं उप कोषालय के लिए लागू नहीं होगा।


राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अन्तर्गत 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन कार्यक्रम


राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अन्तर्गत 100 दिवसीय कैम्पेन कार्यक्रम के तहत कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने जिले के सभी बीआरसीसी,संकुल प्राचर्य, जनशिक्षा केन्द्र प्रभारी, जनशिक्षक और समस्त संस्था प्रमुख प्राथमिक,माध्यमिक शाला, ईपीईएस हाईस्कूल,हायर सेकेंडरी स्कूल प्रभारियों को निर्देश दिए है कि प्रारंभिक शिक्षण की महत्वा को देखते हुए शिक्षा नीति हमारे छात्रों की एक बडी संख्या के लिए मुख्य रूप से अप्रासंगिक हो जाएगी इस दिशा में सरकार द्वारा 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन कार्यक्रम  संचालित किया जा रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 में उल्लेखित साप्ताहिक गतिविधियों को शालाओं में सर्वोच्च प्राथमिकता 2025 तक प्राथमिक स्तर और उससे आगे सार्वभौमिक मूलभूत साक्षरता और संख्या ज्ञान (समझ के साथ पढ़न, लेखन और गणितीय कौशल) प्राप्त करने कि दिशा में राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर विभिन्न प्रयास शुरू किए जा रहे हैं। जिसमें से भारत सरकार द्वारा जनवरी 2022 से अप्रैल 2022 तक 100 दिवसीय रीडिंग कैम्पेन का संचालन किया जाना है। इस कार्यक्रम के तहत जनवरी 2022 से अप्रैल 2022 तक की 14 सप्ताह की रेडवार गतिविधियों के संचालन के लिए जिला ब्लॉक क्लस्टर शिक्षा अधिकारियों एवं शाला प्रमुखों और शिक्षको को निर्देशित किया गया है। निर्देशों में कहा गया है कि साप्ताहिक रूप से गतिविधियों का संचालन मानिटरिंग एवं समीक्षा हो। कार्यक्रम एवं गतिविधियों का वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा प्रत्येक स्तर से इसकी नियमित समीक्षा की जाएगी।


उद्धमक्रांति योजना अन्तर्गत रोजगार देने आएगी अनेक कम्पनियां


उद्धमक्रांति योजना अंतर्गत 12 जनवरी,2022 को स्वरोजगार, मेला उत्सव कार्यक्रम स्थानीय टाउनहाल में आयोजित किया जाएगा। इस उद्धमक्रांति योजना अंतर्गत स्वरोजगार, रोजगार, स्वरोजगारौजन्मुखी, प्रशिक्षणोंन्मुखी के तहत स्थानिय टाउनहाल में 12 जनवरी को स्वरोजगार मेले का आयोजन किया गया है। इस मेले में विभिन्न विभागों, कंपनियों को आमंत्रित किया गया है। इस वृहद कार्यक्रम प्रात: 10.30 से 4.00 बजे तक आयोजित किया गया है। मेले में बेरोजगार युवक युवतियों को अपने समस्त प्रमाण पत्र लेकर समय पर उपस्थित हो कर मेले का लाभ उठाए।


’मानव अधिकार उल्लंघन पर ऑनलाइन शिकायत की सुविधा’


राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग, नई दिल्ली द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार मानव अधिकारों के उल्लंघन से संबंधित शिकायतों के निराकरण हेतु आयोग में नागरिक अपनी शिकायत ऑनलाइन फ्री पोर्टल www.hrcnet.nic in  पर पत्राचार द्वारा टोल फ्री नम्बर 144334 पर भी कर सकते हैं। राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के मदद सेंटर में उपस्थित होकर लिखित शिकायत या  मोबाइल नम्बर 9810298900 एवं नागरिक सेवा केंद्र (सीएससी) में 30 रुपए का शुल्क जमा करके अपनी शिकायतें ऑनलाइन दर्ज करा सकते हैं।


युवा दिवस पर जिले में रोजगार मेला


राज्य शासन युवाओं को रोजगार देने के अपने दृढ़ संकल्प के साथ 12 जनवरी को युवा दिवस पर मध्यप्रदेश के सभी जिलों में रोजगार मेला लगाकर बड़ी संख्या में युवाओं को स्व-रोजगार देगी। सचिव एमएसएमई श्री पी. नरहरि ने बताया कि मध्यप्रदेश में स्व-रोजगार की अपार संभावनाओं के दृष्टिगत विभिन्न विभागों एवं बैंको के माध्यम से कई स्व-रोजगार योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, स्टैंडअप इंडिया योजना, प्रधानमन्त्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन आदि प्रमुख योजनाएँ संचालित की जा रही है।  राज्य शासन द्वारा स्व-रोजगार को प्रोत्साहन देने के लिए महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजना प्रारम्भ की गई है, जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ा जाएगा। उक्त सभी स्व-रोजगार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिये यह आवश्यक है कि योजनाओं से जुड़ी शासकीय एजेंसियाँ, वित्तीय संस्थान, हितग्राही, प्रशिक्षण, उद्यमिता केन्द्र और विभाग एक साथ मिलकर कार्य करें। युवा दिवस 12 जनवरी 2022 को प्रदेशव्यापी स्व-रोजगार, रोजगार दिवस मनाने का निर्णय शासन द्वारा लिया गया है। उन्होंने कहा कि शासन की मंशानुरूप स्व-रोजगार, रोजगार से जुड़ी सभी योजनाओं में शत-प्रतिशत स्वीकृति, मेला आयोजन से पूर्व  सुनिश्चित की जाए। राज्य एवं जिला स्तर के कार्यक्रमों में लाभार्थियों को स्वीकृति वितरण-पत्र दिये जायेंगे। पूर्व से स्व-रोजगार में स्थापित अनुभवी लोगों से स्व-रोजगार के इच्छुक व्यक्तियों का परिचय करवाया जाएगा, जिससे उनके अनुभवों का लाभ युवाओं को मिल सके। साथ ही स्व-रोजगार योजनाओं के लाभांवित सफल एवं स्थापित हितग्राहियों द्वारा निर्मित सामग्रियों की प्रदर्शनी, स्व-रोजगार योजनान्तर्गत स्व-नियोजन के संबंध में विषय-विशेषज्ञों के माध्यम से सम्मेलन में सम्मिलित होने वाले युवाओं को परामर्श एवं मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जाएगा। मेले में विभिन्न विभागों, बैंकिंग संस्थाओं इत्यादि के स्टॉल लगाए जाएंगे जहाँ  युवा वर्ग को रोजगार योजनाओं, स्व-रोजगार की संभावनायें, बैंकिंग सुविधाओं आदि की जानकारी मिलेगी। 


माध्यमिक शिक्षा मंडल की पूरक परीक्षा 12 जनवरी से


माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा संचालित प्रारंभिक शिक्षा में पत्रोपाधि पाठ्यक्रम (डीएलएड) प्रथम एवं द्वितीय वर्ष (द्वितीय अवसर) पूरक परीक्षा वर्ष 2021 की परीक्षाएं 12 से 22 जनवरी तक प्रातः 9 से दोपहर 12 बजे के मध्य होंगी। इनकी बैठक व्यवस्था के लिए संभाग स्तर पर पूरे प्रदेश में कुल 11 परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं। परीक्षा कार्यक्रम www.mpbse.nic.in  पर

 
12 जनवरी को आयोजित होगा रोजगार मेला


रोजगार दिवस 12 जनवरी को टाउन हाल में आयोजित किया जा रहा है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने रोजगार दिवस के सफल क्रियान्वयन के लिए विभिन्न जिला अधिकारियों कार्य का दायित्व सौपा गया है। कलेक्टर श्री ठाकुर द्वारा जारी आदेश के अनुसार जिला पंचायत सीईओ श्री हर्ष सिंह को सम्पूर्ण कार्यक्रम का नोडल अधिकारी बनाया गया है। इसी प्रकार महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र तथा जिला रोजगार अधिकारी को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इसी प्रकार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को कोविड-19 महामारी उपचार संबंधी केन्द्र एवं राज्य शासन की गाइडलाइन का पालन कराने एवं सुरक्षा व्यवस्था का दायित्व सौपा गया है। जिला जनसम्पर्क के सहायक संचालक को सम्पूर्ण कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार का कार्य सौपा गया है। इसके अलावा मुख्य चिकित्सा अधिकारी को कोविड गाइड लाइन अनुसार मेडिकल दल, जांच एवं आकस्मिक चिकित्सा व्यवस्था का कार्य सौपा गया है। नगर पालिका अधिकारी, प्रबंधक जिला अग्रणी बैंक ऑफ इण्डिया, अधीक्षक आईटीआई, प्राचार्य पॉलिटेक्निक कॉलेज, प्रबंधक ई-गवर्नेंस और स्वरोजगार, रोजगार योजना संचालित करने वाले समस्त विभाग प्रमुखों को भी विभिन्न दायित्व सौपे गए है।


प्रिकॉशन डोज़ सोमवार 10 जनवरी से 12 अप्रैल के पहले दूसरा डोज़ लेने वालों को लगेगा पहले दिन डोज़



कोविड टीकाकरण में हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 60 वर्ष से अधिक आयु के कोमॉर्बिड नागरिकों को 10 जनवरी से वैक्सीन का प्रिकॉशन डोज़ की शुरूआत। डायरेक्टर एनएचएम टीकाकरण ने बताया कि ऐसे हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंट लाइन वर्कर और 60 वर्ष से अधिक आयु के कोमॉर्बिड नागरिक जिन्हें 12 अप्रैल 2021 के पहले कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज़ लगाया गया था, उन्हें 10 जनवरी से प्रि-कॉशन डोज लगाया जाएगा। प्रि-कॉशन डोज़ कोविड-19 वैक्सीन के दूसरे डोज़ लगने के 9 महीने पूर्ण होने पर लगाये जाने का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि जो नागरिक कोविन पोर्टल पर हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंट लाइन वर्कर की श्रेणी में पंजीकृत हैं, उन्हें कोविन पोर्टल पर एंट्री करने के बाद ही टीकाकृत किया जाएगा। नागरिकों को प्रिकॉशन डोज़ के पहले दूसरा डोज़ जिस वैक्सीन का कोविशील्ड/को-वैक्सीन/स्पूतनिक का लगा था, उसी वैक्सीन का प्रिकॉशन डोज़ लगाया जाएगा।


नागरिकों को कोरोना संक्रमण से बचाव के उपाय करने की अपील


स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि कोरोना वायरस विशेषत: ओमिक्रॉन की आशंका के दृष्टिगत संक्रमण से बचने के लिये सावधानियां रखना अति आवश्यक है और कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिये हमे अपने व्यवहार में अनुकूल परिवर्तन लाना भी आवश्यक है। व्यक्ति बार-बार अपनी आँख नाक और मुंह को छूनें से बचें, दूर से अभिवादन करें न किसी से हाथ मिलायें, न गले मिले, आपस में दो गज की दूरी जरूर रखें। घर से बाहर निकलने पर हमेशा मास्क पहनें। खांसते और छींकते समय अपने मुंह तथा नाक को ढक कर रखे। श्वसन संबंधी शिष्टाचार का पालन करें। बार-बार साबुन तथा पानी अथवा अल्कोहलयुक्त सेनीटाईजर से हाथों को धोयें। सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें, तंबाकू गुटका खैनी पान आदि खाकर यहां-वहां न थूकें ।विभाग ने कहा है कि बार-बार छुए जाने वाली सतहों को नियमित रूप से विसंक्रमित करें। अनावश्यक यात्रा से बचें कोरोना को लेकर किसी से भेदभाव न करें। अनावश्यक भीड़भाड़ इकट्ठा न होने दें । अफवाहों पर ध्यान न दें और सोशल मीडिया पर किसी भी अपुष्ट जानकारी को प्रसारित न करें। सूचना के भरोसेमंद स्त्रोतों से ही जानकारी लें  आपस में सभी एक-दूसरे को मनोवैज्ञानिक रूप से सहयोग प्रदान करे ।


मौजूदा मौसम के दृष्टिगत कृषकों को सलाह


किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग ने बताया कि सर्दी के मौसम में पानी का जमाव हो जाता है जिससे कोशिकायें फट जाती है एवं पौधों की पत्तियॉ सूख जाती है परिणामस्वरूप फसलों में भारी क्षति हो जाती है। कृषि विकास विभाग ने बताया कि पाले के प्रभाव से पौधो की कोशिकाओं में जल संचार प्रभावित होता है। प्रभावित फसल अथवा पौधे का बहुभाग सूख जाता है जिससे रोग एवं कीट का प्रकोप बढ़ जाता है। पाले के प्रभाव से फल एवं फूल नष्ट हो जाते है। सब्जी फसल पाला आने से अधिक प्रभावित होती है व पूर्णतः नष्ट हो जाती है। पाला पडने की संभावना होने पर खेत में सिंचाई करें। पर्याप्त नमी होने से फसलों में नुकसान की सम्भावना कम होती है। पाला पड़ने की संभावना होने पर खेत की उत्तरी- पश्चिमी दिशा की मेढों पर रात्रि में धुऑ करना चाहियें। फसलों में जल - विलेय सल्फर 80 प्रतिशत की 500 ग्राम मात्रा प्रति एकड़ की दर से पर्णीय छिडकाव करें। फसलों पर जल विलेय उर्वरक एन.पी.के. 18.18.18 और एन.पी.के. 00.52.34 की 1 किग्रा मात्रा प्रति एकड़ की दर से पर्णीय छिडकाव करें।


असमय वर्षा और ओलावृष्टि से हुई फसलों की क्षति का तत्काल सर्वेक्षण हो


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हाल ही में प्रदेश के कुछ जिलों के ग्रामों में हुई असमय वर्षा और ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को पहुँचे नुकसान का शीघ्र सर्वे किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जहाँ-जहाँ क्षति हुई है, तत्काल सर्वे कराया जाए। साथ ही क्षति का आकलन कर राहत राशि के भुगतान की व्यवस्था भी की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए हैं कि फसल बीमा योजना का लाभ दिलवाना भी सुनिचित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार संकट की घड़ी में हमेशा किसानों के साथ है। उन्होंने कहा कि अभी जिन किसानों की फसलों का नुकसान हुआ है, वे किसान संकट में हैं, लेकिन उन्हें इस संकट से निकालने का कार्य किया जाएगा। किसानों को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों और प्रभावित जिले में कलेक्टर्स से चर्चा कर फसलों के संबंध में जानकारी प्राप्त की।


संवेदनाओं से ही उपजी है लाड़ली लक्ष्मी योजना:- मुख्यमंत्री श्री चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संवेदनाओं से ही लाड़ली लक्ष्मी योजना उपजी है। संवेदना के बिना सेवा का भाव पैदा नहीं हो सकता है। संवेदना और सेवा भारत के मूल में है, भारत की जड़ों में है। दूसरों की सेवा का भाव संवेदना से ही पैदा होता है। स्वदेश की यात्रा वैचारिक अनुष्ठान और मूल्य आधारित पत्रकारिता की यात्रा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान रविवार को कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में "भारतीय राजनीति में सेवा, संवेदना एवं संस्कृति" विमर्श को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि व्यावसायिक पत्रकारिता के दौर में स्वदेश की मूल्य आधारित पत्रकारिता निरंतर जारी है। संवेदना के बिना सेवा का भाव पैदा नहीं हो सकता। संवेदना और सेवा भारतीय संस्कृति के मूल में है। एक ही चेतना भारतीय संस्कृति का मूल है। हजारों वर्ष पहले हमारे ऋषियों ने कहा कि जियो और सबको जी ने दो। मूल्य रूप से हम सभी एक हैं। प्राणियों और प्रकृति के प्रति संवेदना का प्रकटीकरण होना चाहिए। कार्यक्रम में अतिथियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के व्यक्तित्व और कृतित्व पर केन्द्रित ग्रंथ “विलक्षण जननायक” का विमोचन भी किया। महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि जी महाराज, प्रखर विचारक श्री शिव प्रकाश, मध्य स्वदेश के प्रबंध संचालक श्री यशवर्धन जैन, समूह संपादक श्री अतुल तारे मंचासीन थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, जन-प्रतिनिधि, समाजसेवी, पत्रकार और नागरिक उपस्थित रहे।


बलराम तालाब के लिए आवेदन आमंत्रित


ऐसें किसान जिन्होंने कृषि विभाग या उद्यान विभाग से वर्ष 2017 से अभी तक स्प्रिंकलर सेट अनुदान का लाभ लिया गया है। वह कृषक बलराम तालाब अनुदान के लिये पात्र है। ऐसें कृषक अपने खेत में बलराम तालाब अनुदान पर बनवाकर सिंचाई कर सकते हैं। इसके लिए जिले के विकासखण्ड वार लक्ष्य निर्धारित कर संबंधित कृषकों से आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। ऐसे कृषकों जिन्होंने एमपी कृषि डीबीटी पोर्टल (dbt.mpdage.org) पर पंजीयन कराया है, वह कृषक अपने विकासखण्ड के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी से संपर्क कर आवेदन प्रस्तुत करें, ताकि उनकी स्वीकृति की कार्यवाही की जा सके। एमपी कृषि डीबीटी पोर्टल अभी खुला है, जो कृषक बलराम तालाब हेतु पंजीयन कराना चाहते हैं वह पंजीयन करा सकते हैं। पहले आएं पहले पाएं के आधार पर लक्ष्यानुसार स्वीकृति प्रदाय की जायेगी। योजना प्रावधान अनुसार बलराम तालाब योजना के अंतर्गत सामान्य श्रेणी के कृषकों को रू. 80 हजार एवं अजा/अजजा वर्ग के कृषकों के लिए रू. एक लाख रूपए की पात्रता का प्रावधान है।


मध्यप्रदेश में सोया इण्डस्ट्रीज के विकास के प्रयास बढ़ाएंगे – मुख्यमंत्री श्री चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में सोया इण्डस्ट्री को स्थापित करने के लिए प्रयास बढ़ाए जाएंगे। किसानों के हित में सोया इण्डस्ट्रीज को फिर से खड़ा करना है। सोयाबीन उत्पादन में वृद्धि, उत्पादन की बिक्री और प्र-संस्करण इकाइयों की स्थापना से किसानों को लाभ दिलवाने की दिशा में कदम उठाए जाएंगे। प्रयाय यह करेंगे कि किसानों के परिश्रम का उन्हें भरपूर मूल्य मिले, इसलिए निर्यात के क्षेत्र में भी प्रयास बढ़ाए जाएंगे। वर्तमान में सोया ऑयल का आयात बढ़ने से राष्ट्र की पूँजी का व्यय हो रहा है। इस नाते सोया प्र-संस्करण इकाइयों की शुरूआत मायने रखती है। किसानों से कच्चा माल लेकर उनके प्रोडक्ट का वेल्यू एडिशन कर उन्हें लाभ दिलवाने के लिए ऐसी इकाइयों की स्थापना को प्रोत्साहित किया जाएगा।


किसानों की आय दुगनी करने का संकल्प

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों के परिश्रम से मध्यप्रदेश को सात बार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त हुआ है। अब हम कृषि से खाद्य प्र-संस्करण की ओर तेजी से बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में निवेश के अनुकूल वातावरण है। प्रधानमंत्री भी किसानों की आय दोगुनी करना चाहते हैं। उनके संकल्प को पूरा करने के लिए ऐसे प्लांट सहायक होंगे जो किसानों को लाभान्वित करेंगे। प्रदेश में उत्पादन वृद्धि, लागत घटाने, उचित मूल्य दिलवाने की व्यवस्था के साथ शून्य प्रतिशत पर ऋण जैसी सुविधाओं को उपलब्ध करवाया जा रहा है। पूर्व में भावांतर योजना के माध्यम से भी किसानों को बाजार से फसल के मूल्य के अंतर की राशि उपलब्ध करवाई गई। सोया प्र-संस्करण इकाई के लिए मध्यप्रदेश का चयन उचित भी है, क्योंकि उपभोक्ताओं को खाद्य तेल भी कम कीमत पर मिलेगा और सोयाबीन उत्पादक कृषक भी लाभान्वित होंगे। इस तरह की इकाइयों की स्थापना के लिए राज्य सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रोजगार सृजन के लिए भी नए निवेश आवश्यक हैं। मध्यप्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए समय-समय पर नदियों में भी संशोधन किया गया है।


पीला सोना कहलाता है सोयाबीन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 11 जलवायु क्षेत्र हैं। मध्यप्रदेश गेहूँ के उत्पादन और गुणवत्ता के मामले में विश्व विख्यात है। गेहूँ उत्पादन में हमने पंजाब को भी पीछे छोड़ दिया है। इसी तरह दलहन, तिलहन उत्पादन में हम आगे आ गए हैं। यही नहीं फलों, सब्जियों और औषधीय पौधों के उत्पादन में भी मध्यप्रदेश प्रगति कर रहा है। एक समय सोयाबीन में भी मध्यप्रदेश नंबर एक पर था। इसे पीला सोना कहते हैं। किसानों की आर्थिक हालत बदलने का काम किया था, लेकिन फसलों की क्षति भी काफी होती थी। इस संबंध में कृषि विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों का सहयोग प्राप्त किया जाएगा। प्रदेश में तीन शासकीय और छह निजी विश्वविद्यालय कृषि अनुसंधान का कार्य कर रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पहले 6 से 7 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती थी। गत 18 वर्ष में इसकी वृद्धि 43 लाख हेक्टेयर तक हो गई है। हमारा लक्ष्य 65 लाख हेक्टेयर का है। शासकीय और निजी साधनों से करीब एक करोड़ आठ लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। भरपूर सिंचाई से ही मध्यप्रदेश कृषि क्षेत्र में देश में अग्रणी प्रांतों में शामिल हुआ है। उन्होंने कहा कि निवेश के लिए मध्यप्रदेश सबसे अनुकूल राज्य है। यहाँ औद्योगिक शांति के साथ पर्याप्त भूमि की उपलब्धता भी है। प्रदेश के नागरिक सहयोगी स्वभाव के हैं। यहाँ निवेशकों के लिए हितैषी उद्योग प्रोत्साहन नीति है। यही वजह है कि वित्त वर्ष 2021-22 के प्रारंभिक 9 महीनों में 27 हजार 856 करोड़ रूपए का नवीन निवेश आया है। करीब 70 हजार लोगों के लिये प्रत्यक्ष रोजगार की राह खुली है।

कोई टिप्पणी नहीं: