कोविड वैक्सीन का ‘खेल’ कहीं टेनिस करियर पर भारी न पड़ जाए - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 16 जनवरी 2022

कोविड वैक्सीन का ‘खेल’ कहीं टेनिस करियर पर भारी न पड़ जाए

covid-vaccine-and-djokovich
नयी दिल्ली, 16 जनवरी, पिछले कई वर्ष से अपने बेहतरीन प्रदर्शन से टेनिस जगत पर अपना एकछत्र साम्राज्य स्थापित करने वाले विश्व के श्रेष्ठतम खिलाड़ियों में से एक सर्बिया के नोवाक जोकोविच इन दिनों एक अलग वजह से चर्चा में हैं। कोरोना की वैक्सीन को लेकर उनके रवैए के कारण उनका आस्ट्रेलियाई ओपन में न खेल पाना मुश्किल लग रहा है और तीन साल के बैन की नयी आशंका से उनके करियर के रास्ते में एक बड़ी रूकावट का खतरा पैदा हो गया है। कोरोना की वैक्सीन को लेकर शुरू हुआ छोटा सा मुद्दा अब दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी जोकोविच और आस्ट्रेलिया सरकार के बीच जिद की वजह बन गया है। जोकोविच जहां कोरोना वैक्सीन को लेकर अपनी दलीलों पर अड़े हैं, वहीं आस्ट्रेलिया सरकार नियमों की दुहाई देकर उन्हें न सिर्फ आस्ट्रेलियाई ओपन से बाहर रखने पर आमादा है, बल्कि उनपर तीन साल के बैन की भी तैयारी कर रही है। मामला फिलहाल एक बार फिर अदालत में है।


17 जनवरी से शुरू होने वाले साल के पहले ग्रैंडस्लैम आस्ट्रेलियाई ओपन में भाग लेने के लिए पहली वरीयता प्राप्त जोकोविच पांच जनवरी को आस्ट्रेलिया पहुंचे तो कोरोना वैक्सीन न लगवाने के कारण उनका वीज़ा रद्द कर दिया गया और उन्हें एक निरोध (डिटेंशन) केंद्र में रोक लिया गया। हालांकि ऑस्ट्रेलिया की एक अदालत ने इस संबंध में जोकोविच की दलीलों को स्वीकार करते हुए सरकार के वीज़ा रद्द करने के फ़ैसले को ख़ारिज करके जोकोविच के इस टूर्नामेंट में खेलने की उम्मीद को बरकरार रखा था, लेकिन सरकार ने दूसरी बार उनका वीजा रद्द करके इस संभावना को समाप्त कर दिया। कहने सुनने को यह भले ही एक खबर है, लेकिन यह नोवाक जोकोविच जैसे खिलाड़ी के टेनिस करियर की चमक को धुंधला कर सकती है, जिसने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए दशकों तक मेहनत की है। चार बरस की उम्र से शुरूआत करके मिनी रैकेट और साफ्ट बॉल से खेलने वाला यह खिलाड़ी आज 34 बरस की उम्र में टेनिस की तमाम बुलंदियों को छूने के बाद हर दिन नये कीर्तिमान स्थापित करने की तरफ बढ़ रहा है। जोकोविच ने पिछले डेढ़ दशक में टेनिस में जो रिकार्ड बनाए हैं, वह उन्हें सदी के दुनिया के महानतम टेनिस खिलाड़ियों में शुमार करते हैं। 2011 में पहली बार विश्व के नंबर एक खिलाड़ी का रूतबा हासिल करने वाले जोकोविच ने अगले एक दशक तक वरीयताक्रम पर राज किया जो आज तक कायम है। जोकोविच इस समय अपने खेल के चरम पर हैं और अपने टेनिस करियर में उन्होंने 20 ग्रैंडस्लैम समेत कुल 84 खिताब जीते हैं। यह ठीक है कि कोरोना की महामारी ने दुनियाभर में कहर मचाया है और आस्ट्रेलिया सरकार का इसकी वैक्सीन के लिए कठोर नियम बनाना अपनी जगह दुरूस्त है, लेकिन इसमें भी दो राय नहीं कि वैक्सीन न लगवाने वाले अरबों लोग अभी इसी दुनिया में ही हैं और आस्ट्रेलिया में भी ऐसे लोगों की तादाद कम नहीं है। दूसरी ओर इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि जोकोविच जैसे महान खिलाड़ी को जरा सी ज़िद के लिए अपने करियर को दांव पर लगाना शोभा नहीं देता।

कोई टिप्पणी नहीं: