बिहार : विधान परिषद् के हो रहे चुनाव में महागठबंधन के उम्मीदवारों को माले का समर्थन. - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 जनवरी 2022

बिहार : विधान परिषद् के हो रहे चुनाव में महागठबंधन के उम्मीदवारों को माले का समर्थन.

cpi-ml-support-mahagathbandhan-in-mlc-election
पटना 24 जनवरी, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने आज प्रेस बयान जारी कर कहा कि हमारी पार्टी ने राज्य में निकाय कोटे से विधान परिषद् की चैबीस सीटों पर हो रहे चुनाव में एनडीए के खिलाफ महागठबंधन के उम्मीदवारों को समर्थन देने का फैसला किया है. इस चुनाव में पार्टी अपने उम्मीदवार खड़े नहीं कर रही है, लेकिन विधायक कोटे से विधान परिषद् व राज्यसभा की कुछेक सीटों पर होने वाले आगामी चुनाव में वह भाग लेगी. उन्होंने कहा कि अभी हाल में चुनाव जीतकर आए पंचायत प्रतिनिधि इस निकाय कोटे के चुनाव के वोटर होंगे. लेकिन हमने इस बार के पंचायत चुनाव में संस्थाबद्ध भ्रष्टाचार, बड़े पैमाने पर सीटों की खरीद - बिक्री और पूरे चुनाव को अराजनीतिकरण बना देने का खेल देखा. यह बहुत ही गंभीर मसला है. एक तरफ गैर दलीय आधार पर चुनाव कराकर उसके पूरे राजनीतिक अंतर्य को मारा जा रहा है, तो दूसरी ओर पंचायतों के अधिकार में लगातार कटौती और उसपर नौकरशाही का दबदबा बढ़ रहा है. मुखिया के बाद अब नगर निकायों के मेयर/उपमेयर/अध्यक्ष/उपाध्यक्ष के पदों पर सीधे चुनाव के जरिए इन संस्थाओं के भीतर लोकतंत्र को सीमित किया जा रहा है. हमें उम्मीद है कि चुनाव में महागठबंधन के प्रत्याशी पंचायतों के इस क्षरण को अपना प्रमुख एजेंडा बनाएंगे और चुनाव जीतने के बाद विधान परषिद् के अंदर पंचायतों के अधिकारों व इसके भीतर लोकतंत्र में कटौती व नौकरशाही के बढ़ते दबदबे के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करेंगे. महागठबंधन की सहयोगी पार्टियों से हमारा आग्रह होगा कि वे किसी अपराधी व भ्रष्टाचारी प्रवृत्ति के व्यक्ति को टिकट न दें. आज देश में ऐसे ही लोकतांत्रिक मूल्य गहरे संकट में है. इसलिए लोकतंत्र व जनता के पक्ष में आवाज उठाने वाले व्यक्ति को ही सामने लाया जाना चाहिए. हमारी पार्टी के जीते पंचायत प्रतिनिधियों सहित तमाम पंचायत प्रतिनिधियों से अपील है कि वे इस चुनाव में धन-बल के खेल को हतोत्साहित करें, एनडीए की हार सुनिश्चित करें और महागठबंधन के प्रत्याशियों के पक्ष में मजबूती से हिस्सा लें.

कोई टिप्पणी नहीं: