बिहार : नीतीश के अंदर ताकत ही नहीं बची : चिराग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 जनवरी 2022

बिहार : नीतीश के अंदर ताकत ही नहीं बची : चिराग

nitish-can-not-take-dissision-chirag
पटना : लोजपा(रामविलास) गुट के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने बिहार के मुखिया नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा है। शनिवार को बिहार की राजधानी पटना पहुंचे चिराग ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री को प्रधानमंत्री बनने की लालसा है। वे बस सहयोगी दल को डराने की राजनीति कर रहे हैं। चिराग ने कहा कि बिहार में हर रोज नीतीश कुमार जातीय जनगणना को लेकर सवाल उठाते रहते हैं और कहते हैं कि इसको लेकर भाजपा ने कुछ नहीं बोला है, जबकि हकीकत यह है कि केंद्र सरकार उनको अपने तरफ से मदद के लिए साफ माना कर दिया, ऐसे में उनके अंदर ताकत ही नहीं बची है इसलिए जातीय जनगणना नहीं करवा पा रहे हैं। उनको केवल हर मामले पालिटिकल इश्‍यू बनाना आता है,वो समझते हैं कि इसका उनको फायदा होगा। इनकी मंशा केवल एनडीए में सहयोगी दल को आंख दिखाने की है। वहीं, इसके अलावा चिराग पासवान ने कहा कि वह भी बिहार में जातीय जनगणना करवाने के पक्ष में खड़े हैं।यह होना बेहद जरूरी है, इससे सभी जाती के लोगों का सही ब्‍योरा मिल सकेगा। इसके साथ ही इससे सही लोगों के कल्याण में काम हो सकेगा। चिराग ने कहा कि नीतीश कुमार फैसला लें और जनगणना शुरु करवाएं। लेकिन,वो ऐसा नहीं करेंगे। वे केवल बवाल खड़ा करना जानते हैं। वे बस भाजपा से अलग होने का मौका तलाश रहे हैं। चिराग ने कहा कि नीतीश के मन में प्रधानमंत्री बनने की लालसा है। उनकी ये ख्‍वाहिशें चैन से बैठने नहीं देती। वर्ष 2013 में भी वे भाजपा से इसलिए अलग हुए थे कि क्योंकि नरेंद्र मोदी जी का नाम पीएम पद के लिए आगे किया गया था। चिराग ने कहा कि नीतीश जी शायद ऐसा सोचते हैं कि गुजरात का मुख्यमंत्री देश का पीएम बन सकता है जिसने सिर्फ तीन बार ही सीएम की शपथ ली, तो तो फिर वे क्‍यों नहीं बन सकते। वे तो पांच बार सीएम बन चुके हैं। लेकिन यदि उनको हिम्मत है तो भाजपा से अलग होकर दिखाएं। क्योंकि भाजपा से अलग होने पर भी उनको फायदा नहीं मिलने वाला है यहां भी कांग्रेस के तरफ से राहुल गांधी हैं,साथ ही ममता बनर्जी भी रेस में हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: