पंजाब में मोदी की सुरक्षा में गंभीर चूक, भाजपा-कांग्रेस में राजनीतिक घमासान - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 6 जनवरी 2022

पंजाब में मोदी की सुरक्षा में गंभीर चूक, भाजपा-कांग्रेस में राजनीतिक घमासान

pm-security-falure-in-punjab
नयी दिल्ली/चंडीगढ़, 05 जनवरी, देश के नेतृत्व की सुरक्षा व्यवस्था में चूक के एक बिरले घटनाक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बुधवार को पंजाब में हुसैनीवाला के रास्ते से लौटना पड़ा। प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में इस गंभीर चूक को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया, जिसमें भाजपा ने कांग्रेस पर श्री मोदी से घृणा करने का गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, “ देश के इतिहास में इससे पहले किसी राज्य सरकार ने जान-बूझकर ऐसा परिदृश्य नहीं बनाया, जहां प्रधानमंत्री को नुकसान पहुंचाया जा सके, लेकिन पंजाब सरकार ने ऐसी कोशिश की।” इसके विपरीत कांग्रेस ने कहा कि यह भाजपा का चुनावी हथकंडा है और फिरोजपुर में पार्टी की रैली में भीड़ न जुट पाने के कारण इस तरह का प्रपंच किया गया। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शाम को चंडीगढ़ में संवाददाता सम्मेलन में सफाई दी कि श्री मोदी की सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए गए थे, उन्होंने भठिंडा से हुसैनीवाला जाने के लिए सड़क मार्ग चुना और रास्ते में कुछ किसान आ गए। इससे पहले गृह मंत्रालय ने एक बयान में घटना की जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री हुसैनीवाला में शहीद स्मारक के लिए भठिंडा से सड़क मार्ग से जा रहे थे। वहां से करीब 30 किलोमीटर पहले एक फ्लाईओवर पर कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क को जाम कर रखा था।


गृह मंत्रालय के अनुसार श्री मोदी का काफिला वहां फ्लाईओवर पर करीब 15-20 मिनट फंसा रहा। मंत्रालय ने कहा, “प्रधानमंत्री की सुरक्षा में यह गंभीर चूक है।” इस घटना के बाद प्रधानमंत्री के काफिले को वापस भठिंडा हवाईअड्डे की ओर ले जाने फैसला किया गया।” गृह मंत्रालय ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में इस चूक को गंभीरता से लेते हुए इस पर राज्य सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक के लिए दिल्ली से भठिंडा पहुंचे हुए थे, जहां से उन्हें हेलीकॉप्टर से आगे जाना था, वहां बरसात और रोशनी कम होने के कारण श्री मोदी ने 20 मिनट इंतजार करने के बाद सड़क मार्ग से जाने का फैसला किया, जिसमें दो घण्टे लग सकते थे। गृह मंत्रालय का कहना है कि इसके लिए पंजाब के पुलिस महानिदेशक से सुरक्षा संबंधी इंतजामों की पुष्टि कर ली गई थी। गृहमंत्री अमित शाह ने प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान सुरक्षा में इस चूक को गंभीरता से लेते हुए सिलसिलेवार ट्वीट कर इसके लिए कांग्रेस की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा, “आज पंजाब में जो हुआ वह इस बात का ट्रेलर है कि कांग्रेस पार्टी कैसे सोचती और काम करती है। लोगों द्वारा बार-बार नकारे जाने के कारण ये पागलपन के रास्ते पर हैं। कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को आज जो कुछ हुआ उसके लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।” कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक ट्वीट में कहा कि यह प्रधानमंत्री की फिरोजपुर रैली की विफलता छिपाने को लेकर भाजपा की हताशा है। उन्होंने कहा, “रैली रद्द होने का कारण ख़ाली कुर्सियाँ रहीं। यक़ीन न हो तो, देख लीजिए और हाँ, बेतुकी बयानबाज़ी नहीं, किसान विरोधी मानसिकता का सच स्वीकार कीजिए और आत्ममंथन कीजिए। पंजाब के लोगों ने रैली से दूरी बनाकर अहंकारी सत्ता को आइना दिखा दिया है।” पंजाब दौरे में प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था भंग होने की घटना पर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने गंभीर चिंता जताई। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को फिरोजपुर में करीब 40,000 करोड़ रुपए की विभिन्न परियोजनाओं को समर्पित करने वाले थे। इस कार्यक्रम में पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल भी आमंत्रित थे, उनका एक रैली को संबोधित करने का कार्यक्रम था।

कोई टिप्पणी नहीं: