गया : किसी भी व्यक्ति को जल संकट से जूझना न पड़े - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 27 फ़रवरी 2022

गया : किसी भी व्यक्ति को जल संकट से जूझना न पड़े

gaya-municiple-corporation-meeting-for-water
गया। गया एवं बोधगया में जलापूर्ति योजना से शत प्रतिशत लोगों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से जिला पदाधिकारी, गया डॉ० त्यागराजन एसएम ने गोपनीय कार्यालय प्रकोष्ठ में समीक्षा बैठक का आयोजन किया।*उन्होंने कहा कि आगामी गर्मी के मौसम के पूर्व ही जल आपूर्ति से संबंधित सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करें ताकि किसी भी व्यक्ति को जल संकट से जूझना न पड़े।* बैठक में प्रभारी नगर आयुक्त श्री संतोष कुमार द्वारा बताया गया कि *गया नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत कुल 19 वार्ड पेयजल संकट से ग्रस्त हैं,* जिसमें बागेश्वरी, बमबाबा पहाड़ तली, बंगला स्थान, जनता बैरागी कॉलोनी, मुरली हिल क्षेत्र, करीमगंज क्षेत्र, न्यू करीमगंज क्षेत्र, शास्त्री नगर, सियाड़ी, किशोरी मोहन कंपलेक्स, मुस्तफाबाद, चिरैयाटांड़, हनुमान नगर, सिकड़िया मोड़ से गोपाल पेट्रोल पंप, एपी कॉलोनी, गेवाल बिगहा, पुलिस लाइन क्षेत्र, सिंगरा स्थान, लाल बाबा क्षेत्र, पहाड़ तल्ली, डोम टोली, बंगाली बिगहा, पाइन नाला, भुई टोली, ऊपर डीह, करसिल्ली, भैरो स्थान पहाड़तली क्षेत्र, ब्रह्मचारी बाबा कॉलोनी एवं भूमि टोली पहाड़ तल्ली क्षेत्र शामिल है। उन्होंने बताया कि गया नगर निगम में कुल 132 प्याऊ में 126 प्याऊ कार्यरत, 800 चापाकल में से 770 चापाकल कार्यरत, 74 वैट में से 72 वैट कार्यरत तथा 34 पानी टैंकर में 32 पानी टैंकर कार्यरत है।  जिला पदाधिकारी ने उन सभी 19 वार्ड जो पेयजल संकट  से ग्रस्त हैं, उसके लिए विशेष कार्य योजना तैयार करने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि चापाकलो का सर्वे, प्याऊ की साफ-सफाई, टैंकरों की साफ-सफाई सहित अन्य सभी व्यवस्थाओं को गर्मी के मौसम के पूर्व ही दुरुस्त रखें। उन्होंने कहा कि यदि सुखाड़ की स्थिति उत्पन्न होने पर इसके लिए पूर्व से ही पानी टैंकरों को बैकअप के रूप में तैयार रखें ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें प्रयोग में लाया जा सके। उन्होंने कहा कि बुडको द्वारा दी जाने वाली हाउसहोल्ड पेयजल कनेक्शन संबंधित सुखाड़ वाले वार्डों में तेजी से हाउसहोल्ड पेयजल कनेक्शन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

                

जिला पदाधिकारी ने पुनः नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि बोरिंग, पाइप लाइन, मशीन, मोटर तथा अन्य व्यवस्थाओं को मोनिटरिंग करने के लिए अलग-अलग टीम बनाए ताकि ससमय समस्या आने पर उसे त्वरित गति से मरम्मत करवाते हुए जलापूर्ति शुरू/बहाल करवाया जा सके। उन्होंने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि विगत 2019 में गया जिले में हीट वेब स्ट्रोक आ चुकी है, इसे ध्यान में रखते हुए अधिक गर्मी पड़ने पर अतिरिक्त स्थानों पर शुद्ध पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की प्लानिंग अभी से ही तैयार कर ले ताकि गया जिलेवासियों को किसी प्रकार की समस्याओं का सामना न करना पड़े। बुडको की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जलापूर्ति योजना के तहत 511 किलोमीटर के विरुद्ध 360 किलोमीटर क्षेत्र में पाइप लाइन बिछाने का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। 75,000 हाउसहोल्ड कनेक्शन के विरुद्ध 51,500 हाउसहोल्ड कनेक्शन दिया जा चुका है। जिला पदाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता, बुडको को निर्देश दिया कि मैन पावर बढ़ाते हुए प्रत्येक दिन टारगेट के अनुरूप हाउसहोल्ड पानी कनेक्शन देना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि बुडको के साथ प्रतिदिन समीक्षा करते हुए हाउसहोल्ड कनेक्शन देने के कार्य में तेजी लावे। कार्यपालक अभियंता, बुडको ने बताया कि मानपुर क्षेत्र अंतर्गत 4 ओवरहेड टैंक बनकर तैयार है। अप्रैल माह से जलापूर्ति प्रारंभ किये जाने की संभावना है। जिला पदाधिकारी ने कहा कि गर्मी के मौसम में ज्यादा से ज्यादा लोगों को पानी पहुंचाएं, लोगों को किसी प्रकार की समस्या न रहे इसी अनुरूप में कार्य करें। गंगा जल उद्भव योजना की समीक्षा करते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि आगामी गर्मी के मौसम में गंगा का पानी लोगों के घरों तक पहुंचाने हेतु हर संभव कार्य करें। वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य फरवरी माह के अंतिम तिथि तक पूर्ण कर ले। बैठक में नगर आयुक्त, गया नगर निगम श्री संतोष कुमार कार्यपालक अभियंता, बुडको, जल संसाधन विभाग, सिंचाई विभाग सहित जल आपूर्ति से संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: