झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 04 फ़रवरी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2022

झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 04 फ़रवरी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सांसद गुमानसिंह डामोर ने आकांक्षी जिला घोषित करने की माग की

  • सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में प्रधानमंत्री को संसदीय क्षेत्र में हुए विकास एवं योजनाओं से हुई प्रगति एवं अन्य मुद्दो से कराया अवगत


झाबुआ,। रतलाम झाबुआ अलीराजपुर के सांसद श्री गुमान सिंह डामोर ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से भेंट कर संसदीय क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के संबंध में विस्तार से चर्चा की, जिसमें मुख्य रुप से अलीराजपुर और झाबुआ को आकांक्षी जिला घोषित करने  तथा रतलाम से बांसवाड़ा रेलवे लाइन चालू करने की मांग की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सांसद श्री डामोर ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की भी चर्चा की और संसदीय क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी की स्थिति के बारे में भी प्रधानमंत्री श्री मोदी को अवगत करवाया। भाजपा जिला आईटी सेल के प्रभारी अर्पित कटकानी ने बताया कि क्षेत्रीय सांसद गुमान सिंह डामोर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर संसदीय क्षेत्र से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की। सांसद डामोर ने आलीराजपुर और झाबुआ जिलों को आकांक्षी जिला घोषित करने की मांग करते हुए ज्ञापन सौपा । आकांक्षी जिले के बारे में सांसद डामोर ने बताया कि  केन्द्र सरकार द्वारा आकांक्षी जिला कार्यक्रम  वर्ष 2018 में शुरू किया गया था, जिसमें विकास में पिछड़े जिलों पर फोकस कर उनमें स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, रोजगार जैसे बुनियादी सुविधाओं पर फोकस सुधार की कवायद की जाती है। सांसद डामोर के अनुसार झाबुआ-आलीराजपुर दोनों जिले आदिवासी बाहुल्य जिले हैं और देश के पिछड़े जिलों में गिने जाते हैं, लेकिन इसके बावजूद ये देश के उन 112 जिलों में शामिल नहीं है जिन्हें नीति आयोग ने आकांक्षी जिला घोषित किया है। फिलहाल मध्यप्रदेश के 8 जिले आकांक्षी जिला कार्यक्रम के लिए चयनित किए गए हैं, जिनमें खंडवा, विदिशा, दमोह, गुना, बड़वानी, छतरपुर, सिंगरौली और राजगढ़ शामिल हैं अतः उन्होने प्रधानमंत्री मोदी से  मध्यप्रदेश के जनजातीय अंचल के झाबुआ एवं आलीराजपुर जिले को भी आकाक्षी जिलो में शामील करने का अनुरोध किया है। श्री डामोर के अनुसार आकांक्षी जिले का मतलब सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े जिलों की पहचान कर उनके समग्र विकास में शासन स्तर से सहायता करना है। जीवन की गुणवत्ता देश में मौजूद विभिन्न अंतर-राज्यीय और अंतर-जिला विविधताओं पर निर्भर करती है। इसी भेदभाव को दूर करने के लिये केंद्र सरकार ने 5 जनवरी, 2018 को आकांक्षी जिला कार्यक्रम जारी किया था। इसके लिए इन जिलों में पांच प्रमुख विषयों पर कार्य किया जाता है, जिसमें स्वास्थ्य एवं पोषण, शिक्षा,कृषि एवं जल संसाधन, वित्तीय समावेश एवं कौशल विकास, बुनियादी आधारभूत ढांचे शामिल है। इस योजना की सहायता से पिछड़े जिलों में विकास के इन सूचकों को राष्ट्रीय स्तर के बराबर लाने का प्रयास किया जा सकता है । अभी तक आकांक्षी जिलों के तहत देश के 112 जिलों को शामिल किया गया है। किन्तु झाबुआ एवं आलीराजपुर जो पूरी तरह जनजातीय जिले है, का नाम शामील नही होने से उन्हे आकांक्षी जिलों की सूची में दर्ज कराने के लिये प्रधानमंत्री श्री मोदी से मांग की गई । श्री डामोर ने बताया कि उनके द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके कार्यकाल में जिले के रतलाम, झाबुआ एवं आलीराजपुर में किये गये  कार्यो तााि जिले में द्रुत गति से हो रहे विकास के बारे में भी विस्तार से बताया जिससे प्रधानमंत्री ने बेहद प्रसन्नता व्यक्त की है। वही जिले में भाजपा संगठन को लेकर भी उनकी प्रधानमंत्री मोदीजी से चर्चा हुई ।श्री डामोर ने बताया कि आकांक्षी कार्यक्रम में राज्य इस कार्यक्रम के प्रमुख परिचालक होते हैं और केंद्र की ओर से नीति आयोग द्वारा इसका संचालन किया जा रहा है। इसके अलावा कई मंत्रालय भी योजना के कार्यान्वयन में योगदान दे रहे हैं, उन्होने आशा व्यक्त की कि प्रधानमंत्री ने सकारात्मक रूप  से उनकी बातों को सुना तथा शीघ्र ही झाबुआ आलीराजपुर को भी शामील किया जावेगा जिससे इस अंचल का और अधिक गति से त्वरित विकास हो सकेगा ।


शासकीय कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु में वृद्धि नहीं किए जाने की मांग, वरिष्ठ अभिभाषक जगदीशचन्द्र नीमा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखा पत्र


झाबुआ। मप्र में शासकीय कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु में लगातार वृद्धि की जा रहीं है। जिससे जहां एक ओर भ्रष्टाचार और बेरोजगारी में वृद्धि हो रहीं है तो वहीं मप्र और केंद्र सरकार के स्वर्णिम तथा विकसित मप्र और देश के मोटो पर भी प्रश्न चिन्ह लग रहा है। नए युवाओं को मौका नहीं मिलने से वह बेरोजगारीवश घिनौने अपराधों से ग्रसित हो रहे है। जिसको लेकर झाबुआ जिले के वरिष्ठ अभिभाषक जगदीशचन्द्र नीमा ने हॉल ही में मप्र के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को पत्र लिखकर अवगत करवाया है कि प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में शासकीय कर्मचारियों की निवृत्ति की आयु 55 वर्ष थी। जिसके बढ़ाकर बाद में 60 वर्ष और वर्तमान में 62 वर्ष कर दिया गया है। सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि मप्र सरकार इसे ओर बढ़ाकार 65 वर्ष करने हेतु अतिशीध्र घोषणा कर सकती है। ऐसा होने पर मंत्रालयों, निगमों, आयोगों, न्यायालयों, पुलिस, स्थानीय निकायो सहित अन्य समस्त विभागों में वर्षों से जमे तथाकथितों को भ्रष्टाचार करने का ओर अधिक अवसर प्राप्त हो जाएगे। शासकीय अधिकारी किसी भी हालत में शासकीय वाहन, शासकीय भवन, नौकर-चॉकर सहित अन्य समस्त सुविधाओं को आजीवन रखने हेतु शासकीय सेवाओं से मुक्त नहीं होना चाहते है। प्रदेश में वर्तमान में कर्मचारियों की संख्या करीब 8 से 10 लाख है। जिसमें करीब सवां लाख 3200 से 3600 के ग्रेड में है। इसके अतिरिक्त इतने ही सेवक काटिजेंट मद के है।


बेरोजगारी बढ़ने के साथ युवाओं के अवसर समाप्त होगे

वरिष्ठ अभिभाषक श्री नीमा ने पत्र में आगे बताया कि वर्तमान दौर में देश और मप्र की तेजी से बढ़ती आबादी के बीच प्रतिवर्ष लाखों युवा उच्च डिग्रीयां हासिल करने के बाद रोजगार की तलाश में भटक रहे े है। मप्र के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री की भी मंशा है कि विकसित और स्वर्णिम मप्र तथा देश हो, इसके लिए युवाओं को रोजगार के अवसर देना भी बहुत जरूरी है। वर्तमान में कोविड के बढ़ते प्रकोप के बीच आर्थिक मंदी के दौर में प्रदेश के तीव्र विकास और जनहित को देखते हुए शासकीय कर्मचारियों की सेवानिवृत्त की आयु में वृद्धि करने का निर्णय न्यायोचित नहीं है।


जिले के संत हकरूभाई महाराज की 10-12 फिट लंबी जटा देखकर आप भी हो जाएंगे हैरान, स्व. संत खुमंिसह महाराज को मानते है अपना गुरू ....


झाबुआ। जिले के आदिवासी संत एवं समाज सुधारक स्व. खुमसिंह महाराज की 3 फरवरी, गुरूवार को तीसरी पुण्यतिथि रहीं। इस दौरान जिले के ग्राम कोकावद धाम पर जिले सहित बाहर से आए साधु-संतों का भी समागम रहा। इस बीच जिले के ग्राम डूंगरालालू के हकरूभाई महाराज ने भी शिरकत की। जिनकी जटा भगवान शिवजी की तरह लंबी होकर करीब 8-10 फिट की है। हकरू महाराज से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि पिछले 10 वर्षों की तपस्या के बाद उनकी इतनी बड़ी जटा हुई है। हकरू महाराज भगवान शिवजी एवं भगवान श्री रामजी के पूजक है तथा जिले के संत स्वर्गीय खुमसिंह महाराज को अपना गुरू मानते है।


मैथिली लोक गीतों की प्रख्यात गायिका कंचन झा ने स्वर दिया डॉ रामशंकर चंचल की ‘मां सरस्वती वन्दना‘ को


jhabua news
झाबुआ । प्रख्यात साहित्यकार डॉ रामशंकर चंचल की ताजा गीत रचना ‘मां सरस्वती वंदना‘ को देश की मैथिली लोक गीतों की कोयल कंठ से बेहद खूबसूरत गीत गायिका कंचन झा द्वारा गाया गया , जिसे पांच फरवरी मां सरस्वती जयंती पर पुरे देश और विदेश में लाखों लोगों द्वारा सुना जायेगा। गर्व का विषय है कि डॉ रामशंकर चंचल द्वारा हाल में ही झाबुआ जिले के कलेक्टर को भेंट की मां सरस्वती वंदना जिसे आप ने कई शालाओं को भी भेंट की उसे कल 5 फरवरी को पूरे देश में लाखों लोगों द्वारा सुना और सराहा जायेगा। इस एक और गौरवपूर्ण उपलब्धि पर डॉ रामशंकर चंचल को सभी मित्रों ने देश के महान साहित्य साधक ने खूब बधाई देते गर्व महसूस किया कि आदरणीय डॉ चंचल लगातार अपनी रचनाओं से हिन्दी साहित्य को समृद्ध कर देश का नाम रौशन करने के साथ अपनी पहचान और जिले प्रदेश की शान को बड़ा रहे हैं।


कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा पोलेटेक्नीक कॉलेज झाबुआ में स्थापित ईवीएम/वीवीपेट वेयर हाउस का निरीक्षण किया


झाबुआ। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दिये गए निर्देश के पालन में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री सोमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष गुप्ता एवं अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री जे.एस.बघेल द्वारा पोलेटेक्नीक कॉलेज झाबुआ में स्थापित ईवीएम/वीवीपेट वेयर हाउस का निरीक्षण किया एवं संधारित रजिस्टर में हस्ताक्षर किए। यहां पर मशीनों के सुरक्षित संधारण एवं सुरक्षा के संबंध में बाहरी निरीक्षण (वेयर हाउस का ताला खोले बिना) दिनांक 4 फरवरी 2022 को किया गया।


कैंसर दिवस के अवसर पर जिला चिकित्सालय झाबुआ में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया


झाबुआ। भाग दौड़ भरी जिन्दगी एवं अनियमित जीवन शैली से लोग कई तरह के दबाब, तनाव, चिन्ता के कारण डिप्रेशन अथवा अन्य मानसिक बीमारियों का शिकार हो रहें हैं लोगों के मन में आत्महत्या जैसे विचार आने लगते है। कई बार लोग मानसिक समस्याओं एवं लक्षणों को पहचान नहीं पाते है और खुद के लिए तथा परिवार वालों के लिए मुसीबत का कारण बन जाते है। यह बातें अपर जिला न्यायाधीश एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जिला न्यायालय झाबुआ श्रीमान लीलाधर सोलंकी जी ने विश्व कैंसर दिवस पर विधिक जागरूकता शिविर में जिला चिकित्सालय झाबुआ में कही। माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झाबुआ श्रीमान मोहम्मद सैय्यदुल अबरार महोदय जी के निर्देशानुसार आज दिनांक 04.02.2022 को विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर जिला चिकित्सालय झाबुआ में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में श्री सोलंकी जी ने कैंसर वार्ड एवं अन्य वार्डो में जाकर मरीजों से उनके भोजन एवं उपचार के बारे में पूछताछ की। उन्होंने वार्डो में निरीक्षण के दौरान मरीजों एवं उनके परिवाजनों को बताया कि कैंसर का मुख्य कारण पान, गुटखा, खैनी, सिगरेट समेट अन्य नशीले पदार्थो का अत्याधिक उपयोग करने से होता है इसलिए कैंसर से बचाव के लिए तंबाकू उत्पादों का सेवन बिलकुल न करें, कैंसर का खतरा बढ़ाने वाले संक्रमणों से बचकर रहें। कैंसर से ज्यादातर मामलों में फेफड़े और गालों के कैंसर देखने में आते है, जो तंबाकू उत्पादों का अधिक सेवन करने का नतीजा होता है ऐसे मामलों में उपचार बेहद जटिल हो जाता है। आजकल महिलाओं में स्तन कैंसर काफी ज्यादा देखने में आ रहा है जो बेहद खतरनाक होने के साथ काफी पीड़ादायक होता है। यदि सही समय पर इसके लक्षणों को पहचान कर उपचार किया जाए तो इसका इलाज बेहद सरल बन जाता है। उन्होंने कहा कि विश्व को कैंसर मुक्त करने के लिए आप भी कदम बढ़ाऐं और खुद तथा अपने सगे संबंधियों को तंबाकू, सिगरेट, शराब आदि से दूर रहने की सलाह दीजिए। जिला चिकित्सालय झाबुआ में कैंसर के 15 मरीज रजिस्टर्ड है मरीजो द्वारा समय-समय पर अस्पताल से द्वारा उपचार लिया जा रहा है। उक्त विधिक जागरूकता शिविर में अपर जिला न्यायाधीश एवं सचिव श्री लीलाधर सोलंकी, सिविल सर्जन डॉ. श्री बी.एस. बघेल, एमडी डॉ. श्री एम. किराड़, डॉ. श्री योगेश अजनार, डॉ. श्री सावन्त अजनार तथा सहायक अस्पताल प्रबंधक श्री भारत सिंह बिलवाल एवं ड्यूटी के दौरान वार्ड इंचार्ज श्रीमती विजयलक्ष्मी और समस्त वार्ड स्टाफ एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झाबुआ सहायक ग्रेड-3 श्री दिनेश हिहोर उपस्थित रहें।


जिला विकास समन्वय एवं मूल्यांकन समिति ‘‘दिशा‘‘ की बैठक दिनंाक 5 फरवरी को आयोजित

  • बैठक की अध्यक्षता माननीय सांसद श्री गुमानसिंह जी डामोर करेंगे
  • विभागीय योजनाओं की प्रस्तुति नियोजित ढंग से हो-कलेक्टर

झाबुआ। जिला विकास समन्वय एवं मूल्यांकन समिति ‘‘दिशा‘‘ की बैठक माननीय श्री गुमानसिंह जी डामोर सांसद लोकसभा रतलाम की अध्यक्षता में दिनंाक 5 फरवरी 2022 को प्रातः 10.30 पर कलेक्टर कार्यालय सभा कक्ष में आयोजित की गई है। बैठक का एजेंडा जारी कर दिया गया है। बैठक में माननीय अध्यक्ष जिला पंचायत, माननीय विधायक पेटलावद, थांदला, झाबुआ एवं पुलिस अधीक्षक झाबुआ, वनमण्डला अधिकारी, अधीक्षण यंत्री मध्यप्रदेश राज्य विद्युत मण्डल, महाप्रबंधक प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क, ई.ई.पीएचई, आर.ई.एस.जल संसाधन, लोकनिर्माण विभाग, उप संचालक कृषि, पशु चिकित्सा, पंचायत एवं सामाजिक न्याय, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास, सीएमएचओ, महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, पीओ शहरी विकास, डीआईओ एनआईसी, जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति, सहायक संचालक उद्यान मत्स्य विभाग, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास, जिला जनसंपर्क अधिकारी, पंजीयक सहकारी संस्था, पीए आईटीडीपी, डीपीओ आर्थिक एवं सांख्किीय विभाग, डीपीसी, एलडीएम, समन्वयक महाप्रबंधक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक, सीएमओ विभाग से संबंधित एजेंडावार जानकारी लेकर उपस्थित होने के निर्देश मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन के द्वारा जारी किए गए हैं। इस संबंध में कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के द्वारा उपरोक्त सभी जिला अधिकारियों की एजेंडावार समीक्षा बैठक कलेक्टर कार्यालय सभा कक्ष में आज दिनंाक 4 फरवरी 2022 को प्रातः 11.30 पर की गई एवं निर्देश दिए की विभागीय योजनाओं की प्रस्तुति नियोजित ढंग से हो एवं विभागी गतिविधियों की जानकारी आपके पास उपलब्ध हो इसके अतिरिक्त बैठक में स्वयं उपस्थित रहें। बैठक में पूर्व बैठक का कार्यवाही विवरण भी अनिवार्य रूप से प्रस्तुत हो।


आत्मनिर्भर भारत योजना अंतर्गत एक जिला एक उत्पाद का निरीक्षण


झाबुआ,। झाबुआ जिले में राज्यशासन के निर्देशानुसार एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत कड़कनाथ पालन लिया गया है। जिसमें कड़कनाथ पालन करने के लिए हितग्राहियों को उचित मार्गदर्शन एवं इसके लिए विपणन के लिए आनलाइन वेबसाइड पर भी इसका व्यापक प्रचार प्रसार किया गया है। जिले में आत्मनिर्भर भारत योजना अंतर्गत दिनांक 4 फरवरी 2022 को निरीक्षण टीम के सदस्य डॉ श्री चंदन वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ, डॉक्टर श्री विल्सन डावर उपसंचालक पशुपालन, डॉ श्री अमित दोहरे पशु चिकित्सक झाबुआ एवं डॉ श्री गौरव बामणिया पशु चिकित्सक राणापुर द्वारा संयुक्त रुप से आकाश कड़कनाथ फार्म ग्राम दोतड विकासखंड राणापुर का निरीक्षण किया। कडकनाथ फॉर्म पर ओरिजिनल कड़कनाथ पाए गए। इनकी संख्या लगभग बड़े 200 एवं ग्रोवर 600 थे इनके यहां पर 400 अंडों की हैचरी मशीन भी उपलब्ध है। जिले में आत्मनिर्भर भारत निर्माण के लिए यह एक मिल का पत्थर साबित होगा।


माननीय मुख्यमंत्री जी मध्यप्रदेश शासन के द्वारा जल जीवन मिशन के संबंध में वीडियों कान्फ्रेंसिंग से संवाद आयोजित


झाबुआ,। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय श्री शिवराजसिंह चौहान के द्वारा जल जीवन मिशन के अंतर्गत हर घर जल ग्राम के ग्राम वासियों से जन संवाद किया। जिले में यह संवाद जिले के वीडियों कान्फें्रसिंग हाल में आयोजित था। जिसमें माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा जल जीवन मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूह जो जल जीवन मिशन में जल वितरण का कार्य कर रहे है। उनसे रूबरू चर्चा की एवं हर घर में शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो इस संबंध में चर्चा की। इस बैठक में कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री एन.एस.भिंडे एवं पीएचई के सहायक यंत्री उपस्थित थे।


सीईओ जिला पंचायत द्वारा जनपद पंचायत झाबुआ के कार्यो का जायजा लिया


झाबुआ, 4 फरवरी 2022। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन द्वारा जनपद पंचायत झाबुआ की ग्राम पंचायत करडावद बड़ी एवं बावडी बड़ी में खाटला बैठक के माध्यम से ग्रामीणों से रूबरू चर्चा की एवं प्रधानमंत्री आवास तत्काल पूर्ण करने हेतु समझाईश दी। श्री जैन द्वारा विकास की अन्य योजनाओं जिसमें मनरेगा, स्वच्छ भारत मिशन आदि के कार्याे की भी ग्रामीणों से चर्चा की। इस दौरान जनपद पंचायत झाबुआ के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अर्पित गुप्ता, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री शेख, पीएम आवास ग्रामीण के बीसी श्री जयासवाल एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


शिव गंगा झाबुआ की पहल, जिला चिकित्सालय को 3000 मेडिकल किट और 8 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर किए भेंट


jhabua news
झाबुआ। शिव गंगा द्वारा आज डोक्सिसाइक्लिन, पेरासिटामोल, विटामिन सी जिंक अमोक्सिसिलिन, रेनीटीडीन, आर्इ्रवरमेक्टिन, 3-प्लाई मास्क, सैनीटाईजर, कोरोना की तीसरी लहर से जिले को सुरक्षित करने के लिए आज कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा को प्रदान की। जिसे जिला प्रशासन द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्री जे.पी.एस.ठाकुर को प्रदान की। जिसमें कुल 3000 मेडिकल कीट और 8 ऑक्सीजन कंसटेटर शामिल है। शिव गंगा द्वारा गत दो दशकों से झाबुआ, अलीराजपुर में लगातार समग्र ग्राम विकास पर एक व्यापक अभियान चला रही है। कोरोना काल में भी शिवगंगा ने समाज में व्यापक स्तर पर अभियान चलाया। पहली लहर में भारत के अनेक राज्यों में फँसे झाबुआ के लोगों को सकुशल वापस झाबुआ लाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। दूसरी लहर में जब कोरोना संकट गांव में घर-घर फैल गया था और गाँवों में अनेक जगहों से शिवगंगा के कार्यकर्ताओं को शोक संदेश पहुँच रहे थे। समाज में कोरोना को लेकर एक भय और असमंजस का वातावरण था। उस समय, शिवगंगा के कार्यकर्ताओं ने एक संजीवनी अभियान लिया और 3 हजार कार्यकर्ताओं को प्राथमिक मेडिकल किट में प्रशिक्षित कर 920 गाँवों में सावधानी पूर्वक घर-घर जाकर 40 हजार मेडिकल किट का वितरण किये और टीकाकरण को लेकर 45 दिन तक जन जागरूकता अभियान चलाया। तीसरी लहर में भी शिवगंगा कार्यकर्ताओं ने परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए जिला चिकित्सालय को 3000 मेडिकल किट और आठ ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भेंट किए। शिवगंगा ने स्वास्थ्य विषय को लेकर कार्य जारी रखते हुए, स्वस्थ झाबुआ रोगी सहायता केंद्र की शुरुवात की। एल आई सी कॉलोनी स्थित यह के केंद्र ग्रामीण अंचल से आये रोगियों को झाबुआ, दाहोद और इंदौर में डॉक्टरों और चिकित्सालयों से सम्पर्क कर उचित उपचार लेने में सहयोग करता है। केंद्र के माध्यम से मासिक रक्तदान शिविर और टीकाकरण शिविर कराए जाते हैं। शिवगंगा कार्यकर्ता राजाराम कटारा द्वारा कलेक्टर सोमेश मिश्रा को जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय पर यह किट और कंसंट्रेटर भेंट किए गए। जिला कलेक्टर ने शिवगंगा की इस पहल का स्वागत करते हुए आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में उपस्थित जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जयपाल ठाकुर ने भी स्वास्थ्य को लेकर शिवगंगा द्वारा लिए जा रहे अभियान में पूर्ण सहयोग की बात कही। कार्यक्रम में सिविल सर्जन डॉक्टर बघेल और डॉक्टर सावन उपस्थित रहे।


जनपद पंचायत झाबुआ के रोजगार सहायक को 51 हजार रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान


झाबुआ। जनपद पंचायत झाबुआ की ग्राम पंचायत गोला के रोजगार सहायक श्री रमेश मेडा की किसी कारण से मृत्यु होने के कारण जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सिद्धार्थ जैन एवं जनपद पंचायत झाबुआ के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अर्पित गुप्ता एवं ग्राम पंचायत सचिव एवं रोजगार सहायक परिवार द्वारा स्व. श्री रमेश मेडा की माताजी को 51 हजार रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान की।

कोई टिप्पणी नहीं: