विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 04 फ़रवरी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2022

विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 04 फ़रवरी

मूड़रा हरिसिंह से बंधेरा तक के 8 गांवों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ना मेरा संकल्प है- विधायक शशांक भार्गव


vidisha news
विदिशाः- आपका विधायक आपके द्वार कार्यक्रम के तहत विधायक शशांक भार्गव प्रशासनिक अमले के साथ ग्राम बरखेड़ा,सौराई,मूडरा,ककरुआ,इमलिया, बंधेरा, बहलोट,रुसल्ली की आम जनता के बीच पहुंचे मूलभूत समस्याएं सुनीं और यथासंभव निराकरण करवाया। ग्राम बराखेड़ा में सड़क एवं सार्वजनिक हैंडपंप के बंद रास्ते का सीमांकन करने के निर्देश दिए साथ ही पटवारी को सख्त निर्देश दिए पुलिस बल की मौजूदगी में सीमांकन करवाकर जनता को सार्वजनिक रास्ता दिलाया जाए। विद्युत सप्लाई में दिक्कत होने पर विधायक भार्गव ने कहा कि अगर आपसी सहमति से ग्रामवासी 27 विद्युत कनेक्शन लेते हैं तो विधायक निधि से ट्रांसफार्मर की भार क्षमता बढ़वा दी जाएगी। मूडरा हरिसिंह में विधायक भार्गव ने विधायक निधि से निर्मित बॉउंड्री वाल का लोकार्पण किया।यहां पंचायत सचिव ने बताया कि प्रम आवास प्लस की सूची से 165 हितग्राहियों के नाम डिलीट हो गए हैं उनकी जांच करवाना है। ग्राम ककरुआ में मंदिर की बाउंड्री वाल की मांग सामने आई। ग्राम इमलिया की मेन रोड का सीमांकन करने के निर्देश दिए।ग्राम बहलोट में स्कूल की भूमि का सीमांकन करने एवं आवासहीन परिवारों के लिए शासकीय भूमि तलाश कर पट्टे वितरित करने के निर्देश पटवारी को दिए। ग्राम चौपालों को संबोधित करते हुए विधायक शशांक भार्गव ने कहा कि वे खुद बहलोट के किसान हैं।इस क्षेत्र के चप्पे-चप्पे से परिचित हैं,क्षेत्र के लोगों से आत्मीय संबंध हैं।मूड़रा हरिसिंह से लेकर बंधेरा तक के 8 गांव उपेक्षा के शिकार रहे हैं। इन गांवों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ना मेरा संकल्प है।बंधेरा-बहलोट के रास्ते पर 50 लाख रुपए की विधायक निधि से पुल का निर्माण कार्य चल रहा है।बंधेरा से बहलोट होते हुए सुमेर दरगाह तक किमी 4.50 किमी डामरीकृत सड़क के लिए 2.19 करोड़ एवं मूडरा से किरमची-रुसल्ली तक 2.35 किमी डामरीकृत सड़क के लिए 88.34 लाख रुपए की राशि का प्रस्ताव तैयार हो चुका है।बजट आवंटन होते ही सड़कों का निर्माण कार्य प्रारंभ हो जाएगा। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दरबार सिंह राजपूत, किसान कांग्रेस अध्यक्ष आशीष भदौरिया ने कहा कि विधायक जी के प्रयासों से सालों से सडकविहीन ग्राम सड़क बनने के बाद विकास की मुख्यधारा से जुड़ेंगे। इस अवसर ग्राम चौपालों को मंडलम अध्यक्ष मनोज जैन,बसंत पीतलिया,नरेंद्र रघुवंशी,दीपक कपूर,डॉ शिवराज पिपरोदिया,हेमंत शर्मा,लालता प्रसाद शर्मा,रामलाल अहिरवार,रूपेंद्र सिंह राजपूत (सोनू बना),मनोज कुशवाह,सुनील रघुवंशी,अवधेश प्रताप सिंह राठौड़ आदि ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर यशपाल रघुवंशी, राजू दांगी,सुंदरलाल मालवीय, मुआज़ कामिल,राजकुमार डिडोत,हरिओम किरार,मनीष विश्वकर्मा,सुजीत राजपूत,गोविंद गुर्जर, हरभजन कुशवाह  सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे।


मुख्यमंत्री जी आज विदिशा आएंगे


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार पांच फरवरी को विदिशा आएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान का प्राप्त दौरा कार्यक्रम अनुसार शनिवार पांच फरवरी की सायं 5.20 बजे भोपाल से हेलीकाप्टर द्वारा प्रस्थान कर सायं 5.40 बजे विदिशा पहुंचेगे।


148 सैंपल पॉजिटिव प्राप्त हुए


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर अखंड प्रताप सिंह ने बताया कि विदिशा जिले में शुक्रवार 4  फरवरी को कुल 148 कोरोनावायरस कोविड़ 19 के 148 सैंपल पॉजिटिव  प्राप्त हुए हैं । विकास खंड वार पॉजिटिव प्राप्त सैंपल की जानकारी इस प्रकार से है। विदिशा विकासखंड में  66 , सिरोंज में 26 लटेरी में 14 ,नटेरन एवं बासौदा में क्रमशः 13 - 13 तथा  ग्यारसपुर में 15 और  कुरवाई में एक सैंपल पॉजिटिव प्राप्त हुआ है।


कलेक्टर द्वारा राजस्व कार्यो की समीक्षा


vidisha news
कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने शुक्रवार को राजस्व अधिकारियों के कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि अनुविभाग स्तर पर कार्य लंबित ना रहें यह संबंधित एसडीएम की नैतिक जबावदेंही है। कलेक्टर ने खण्ड स्तरीय अन्य विभागों के अधिकारियों की बैठके आहूत कर शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों के अलावा अन्य प्रचलित समस्याओं के निदान पर विशेष बल दे। कलेक्टर श्री भार्गव ने समस्त राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए है कि जो आवेदन टीएल में शामिल किए जाते है उन सब का समयावधि में निराकरण कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर श्री भार्गव ने शासन की प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों व योजनाओं के क्रियान्वयन में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की जानकारी में लाते हुए सहयोग प्राप्त करें। कलेक्टर श्री भार्गव के द्वारा राजस्व अधिकारियों के कार्यो की समीक्षा में राजस्व वसूली, राजस्व प्रकरणों की समीक्षा, ई-हस्ताक्षर, आरसीएमएस पर ऑनलाइन केस दर्ज करने के लिए प्रोत्साहित करना एवं न्यायालय शुल्क लिए जाने बावत, आरसीएमएस के माध्यम से प्रवासी श्रमिक राहत-शामक मॉडयूल के संबंध में डेटा प्रविष्टि व राहत राशि का वितरण, भूमि अधिग्रहण प्रशासनिक शुल्क के संबंध में, एनएच और सिंचाई परियोजनाओं आदि के अधिग्रहण के मामल, भू-अर्जन, लंबित बीएस आश्वासन, याचिका, लोक लेखा समिति, अभयदान का जबाव संबंध में, न्यायालय में लंबित गतिशील प्रकरणों को अद्यतन स्थिति, सीएम हेल्पलाइन का गुणवत्तापूर्ण समय सीमा में निराकरण, लोक सेवा गारंटी, एनएफबीसी वित्तीय कंपनियों द्वारा जमा राशि स्वीकार, वापसी एवं आयुक्त के पत्र पर कार्यवाही एवं निजी भूमि स्वामी (खदान पट््टे) इत्यादि के अलावा गैर कृषि भूमि के लिए ऑन लाइन पुनर्मूल्यांकन मॉडयूल का उपयोग, फसल गिरदावरी एवं बीमा, पीएम किसान सम्माननिधि योजना का कार्य, मॉडर्न रिकार्ड रूम की अवधारणा तथा अद्यतन रखना, आबादी सर्वे हेतु निर्देश, बेबजीआईएस खसरा त्रुटि सुधार परिमार्जन के कार्यो की गहन समीक्षा की गई है। कलेक्टर श्री भार्गव ने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए है कि उनके न्यायालयों में लंबित प्रकरण तय अवधि से अधिक के ना हो पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने क्षेत्रों का भ्रमण कर योजनाओं के क्रियान्वयन की हकीकत से अवगत होने तथा ऐसे प्रकरण जिनमें भूमि का विवाद शामिल है उन प्रकरणों में स्थल का मौके पर मुआयना अवश्य करें। इससे पहले अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह के द्वारा घुमक्कड, अर्द्व-घुमक्कड समुदायों के विस्थापन हेतु संचालित योजनाएं व जाति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए शासन द्वारा जारी नवीन दिशा निर्देशों की विस्तृत जानकारी के अलावा राजस्व न्यायालयों, भूमि के नामांतरण, गौशालाओं, तहसील कार्यालयों में दर्ज किए जाने वाले प्रकरणों के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। वही अन्य विभागों से समन्वय स्थापित कर लक्ष्यों की प्राप्ति के संबंध में उनके द्वारा मार्गदर्शन दिया गया है। जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट ने ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षाओं के अलावा आयुष्मान कार्ड जारी करने हेतु जीआरएस को आईडी पासवर्ड प्रदाय करने, आंगनबाडी केन्द्रों को गोद लेने, पौधरोपण की जानकारी वायुदूत पर अपलोड करने तथा नीति आयोग द्वारा आकांक्षी जिलो में स्वच्छता, पेयजल, स्वास्थ्य तथा आंगनबाडी केन्द्रो के संचालन तथा गौ-शालाओं में किए जाने वाले प्रबंधो के संबंध में विस्तृत जानकारी दी है। नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में सम्पन्न हुई इस बैठक में समस्त एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार के अलावा अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे। 


प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया


vidisha news
कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने जल जीवन मिशन के संदेशों के प्रचार-प्रसार हेतु तैयार किया गया रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है। कलेक्ट्रेट परिसर में आयोजित उक्त कार्यक्रम में जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट ने भी सहभागिता निभाई। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री संतोष साल्वे ने बताया कि जल मिशन अंतर्गत विदिशा जिले में जिले के सभी गांव में पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जानी है। जल जीवन मिशन के अंतर्गत विदिशा जिले के सभी सातों विकासखण्डो में प्रत्येक घर नल जल योजना के माध्यम से पानी पहुंचाने के उद्धेश्य से जल जीवन मिशन का कार्य किया जा रहा है, इस योजना का लाभ ग्राम के प्रत्येक ग्रामवासी को मिलेगा। जल मिशन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रचार रथ जिले के ग्रामो में जाकर लोगो को स्वच्छ पेयजल की उपयोगिता, जल जीवन मिशन और जल संरक्षण के विषय पर संदेश देगा साथ ही योजना में आने वाली लागत की दस प्रतिशत जन सहयोग राशि के एकत्रीकरण एवं नलजल योजना के संचालन संधारण के विषय पर भी संदेश पहुंचाने का कार्य करेगा, जल समिति द्वारा लिए लाने वाले निर्णय और जल समिति के कार्य के बारे में ग्रामवासियों को जागरूक किया जाएगा। जिले में कार्यावयन सहायता एजेन्सी के रूप में सार्थक सोसायटी फॉर ह्यूमन डेवलपमेंट जयपुर कार्य कर रही है जिसके माध्यमिक को माध्यम से जल जीवन मिशन का प्रचार प्रसार एवं जन समुदाय को योजना में शामिल कर अंशदान श्रमदान कराकर योजना को सफल बनाने का कार्य किया जा रहा है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग जिला विदिशा के द्वारा जल जीवन मिशन पर तेजी से कार्य किया जा रहा है विभाग का उद्धेश्य है कि सरकार इस समय सीमा में लक्ष्य को पूरा किया जा सकें।


दो प्रकरणों में मदद जारी


कलेक्टर एवं दावा निपटान आयुक्त श्री उमाशंकर भार्गव ने हिट एण्ड रन के दो प्रकरणों में मृतको के निकटतम परिजनों को क्रमशः 15-15 हजार रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृति का आदेश जारी कर दिया है। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश में उल्लेख है कि त्योंदा तहसील में ग्राम घटेरा के दो निवासियों की मृत्यु हो जाने पर मृतको के निकटतम परिजनों को राशि स्वीकृत की गई है उनमें श्री भरत पुत्र प्रकाश अहिरवार की मृत्यु होने पर मृतक की मां श्रीमती जयंती बाई को और श्री भागचंद की मृत्यु होने पर मृतक की पत्नी श्रीमती गीता राय को आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।


डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र की सुविधा


राज्य शासन के द्वारा पेंशनरों एवं परिवार पेंशनरों के लिए डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने का विकल्प उपलब्ध कराया गया है जो पूर्व की प्रचलित व्यवस्था के अतिरिक्त होगा। जिला कोषालय अधिकारी श्री उमेश श्रीवास्तव ने वित्त विभाग के द्वारा जारी नवीन पत्र का हवाला देते हुए बताया कि पेंशनर, परिवार पेंशनरों को पेंशन वितरण संस्था में प्रस्तुत किए जाने वाले वार्षिक जीवन प्रमाण पत्र की व्यवस्था को सुगम बनाया गया है जिसके तहत अब डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र के विकल्प की सुविधा पूर्व उल्लेखितों के लिए मुहैया कराई गई है। जिला कोषालय अधिकारी श्री श्रीवास्तव ने बताया कि अस्वस्थ एवं अति वरिष्ठ पेंशनर, परिवार पेंशनरों को डिजीटल प्रमाण पत्र तैयार करने एवं प्रस्तुत करने हेतु नियत केन्द्र (कियोस्क)  तक पहुंचने में होने वाली असुविधा को दृष्टिगत रखते हुए राज्य के पेंशनर, परिवार पेंशनर हेतु भारत सरकार कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय नई दिल्ली के द्वारा जारी परिपत्र अनुरूप इंडिया पोस्ट पेंमेट बैंक सेवा अतिरिक्त विकल्प के रूप में सशुल्क प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है। वैकल्पिक व्यवस्था अंतर्गत जीवन प्रमाण पत्र पोर्टल के साथ इंडियन पोस्ट पेमेंट बैंक या पोस्ट आफिस से संपर्क कर नियत शुल्क जमा कर प्राप्त की जा सकेगी। पेंशनर, परिवार पेंशनर को मूलभूत जानकारी जैसे पेंशन आईडी, पेंशन पेमेंट आर्डर, पेंशन वितरण विभाग, संस्था की जानकारी, बैंक विवरण, मोबाइल नम्बर, आधार नम्बर आदि की जानकारी पोस्टमैन को उपलब्ध करानी होगी। पोस्टमैन द्वारा बायोमेट्रिक से पेंशनर का सत्यापन कराते हुए डिजीटल जीवन प्रमाण पत्र जनरेट कर जीवन पोर्टल पर अपडेट किया जाएगा। 


अटल वयो अभ्युदय योजना


प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत चिन्हित ग्रामो में अटल वयो अभ्युदय योजना का संचालन किया जाएगा। इसके लिए संबंधित ग्रामो में निवासरत 60 वर्ष से अधिक आयु के बीपीएलधारक बुजुर्गो को ताजा पका पोषण आहार  (भोजन) प्रदान किया जाएगा। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने जिले में अटल वयो अथ्युदय योजना के क्रियान्वयन हेतु हितग्राहियों का सर्वे कर जानकारी उपलब्ध कराने हेतु आदेश जारी किया है। जनजातीय कार्य अनुसूचित जाति कल्याण विभाग के द्वारा प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी, अधीक्षकों को मार्गदर्शन में ग्राम मेंं पात्रता श्रेणी के बुजुर्गो की पुष्टि कर जानकारी ग्राम पंचायत सचिवो, रोजगार सहायको से प्रपत्र अ एवं ब में अंकित कराई जाएगी। गौरतलब हो कि अटल वयो अभ्युदय योजना अंतर्गत वरिष्ठजनों के लिए पोषण अभियान संचालित करने के साथ-साथ संबंधित ग्राम में बुजुर्गो के सेल्फ गु्रप भी तैयार किए जाने है ताकि यह समूह सृजनशील रहें। मिलजुलकर समय सांझा कर सकें तथा आवश्यक होने पर एक दूसरे का सहयोग कर सकें। विदिशा जिले में प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत चयनित 35 ग्रामो की जानकारी पोर्टल पर अपलोड करने के साथ साथ अनुसूचित जाति विकास आयुक्त को दस दिवस के अन्दर उपलब्ध कराने के निर्देश कलेक्टर द्वारा समस्त जनपदों के सीईओ को प्रेषित किए गए है। जनपदो के अंतर्गत आने वाले प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के सचिवो व रोजगार सहायको के द्वारा प्रपत्र अ, ब में सर्वे कराकर जानकारी तीन दिवस के भीतर जनजातीय कार्य विभाग विदिशा के जिला संयोजक को उपलब्ध कराते हुए की गई कार्यवाही से जिला कार्यालय को अवगत कराने के निर्देश प्रसारित किए गए है।


समर्थन मूल्य पर गेंहू विक्रय हेतु पंजीयन आज से


रबी उपार्जन वर्ष 2022-23 में समर्थन मूल्य पर गेंहू उपार्जन के लिए किसान अपना पंजीयन पांच फरवरी से पांच मार्च तक करा सकेंगे। शासन द्वारा पंजीयन के लिए इस बार किसानो को नई सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। किसान किस सेंटर पर अपनी उपज बेचना चाहते है, किस तारीख को उपज लेकर आएंगे, यह तय करने की सुविधा किसानो को दी गई है। किसान रजिस्ट्रेशन के समय इन दोनो विकल्पों का इस्तेमाल कर सकते है। कियोस्क, लोक सेवा केन्द्र, कॉमन सर्विस सेन्टर, निजी व्यक्तियों द्वारा संचालित सायबर कैफे पर रजिस्ट्रेशन की शुल्क भी शासन ने तय कर दी है। पचास रूपए फीस इसके लिए तय की गई है। गौरतलब हो कि पिछले वर्ष का रजिस्ट्रेशन मान्य नहीं होगा किसानो को नया रजिस्ट्रेशन कराना होगा। नए सिरे से पंजीयन प्रक्रिया होगी।


क्या-क्या दस्तावेंज जरूरी है

किसानो को पंजीयन कराते समय जमीन की किताब, आधार कार्ड, बैंक एकाउंट की पासबुक, बैंक एकाउंट से आधार कार्ड लिंक होना चाहिए। यह अति महत्वपूर्ण है। अगर खाते से आधार कार्ड लिंक नही है, तो भुगतान अटक सकता है, जिन किसानो के खाते और आधार लिंक ना हो, वह यह काम करा लें। किसान का पंजीयन उसी स्थिति में होगा, जब भू-अभिलेख में दर्ज खाते, खसरा, आधार कार्ड का मिलान हो, तभी किसान पंजीयन हो सकेगा। उपार्जन पंजीयन एवं फसल बेचने हेतु उपार्जन केन्द्र, तिथि एवं टाइम स्लॉट चयन करने की समयावधि भी जारी की गई है जिसके अनुसार पंजीयन कार्य पांच फरवरी से पांच मार्च तक उपार्जन केन्द्रो पर प्रातः सात बजे से रात्रि नौ बजे तक, ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत, तहसील कार्यालय में स्थापित सुविधा केन्द्रों पर कार्य दिवसों, कार्यालयीन समय पर किया जा सकेगा। फसल बेचने हेतु उपार्जन केन्द्र तिथि एवं समय स्लॉट का चयन हेतु अवधि सात मार्च से बीस मार्च तक नियत की गई है। उपार्जन अवधि की संभावित तिथि 25 मार्च से 15 मई तक नियत की गई है। शासन द्वारा गेंहू का समर्थन मूल्य 2015 रूपए प्रति कि्ंवटल घोषित किया गया है।


पंजीयन कार्य

विदिशा जिले में रबी विपणन वर्ष 2022-23 अंतर्गत कृषकों के पंजीयन हेतु प्राप्त निर्देशो के अनुसार 0.50 तक अंतर वाली 117 पात्र समितियों में पंजीयन कार्य प्रातः सात बजे से रात्रि नौ बजे तक शासकीय कार्य दिवसों में किया जाएगा। सूची में शामिल पंजीयन केन्द्रों के संस्था प्रबंधक को शासन के दिशा निर्देशानुसार समस्त भौतिक एवं मानव संसाधनो का नियोजन कर योजना का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कराने के भी दायित्वों का भी निर्वहन करेंगे। निर्धारित पंजीयन अवधि पांच फरवरी से पांच मार्च तक शत प्रतिशत वांछित किसानों का पंजीयन कराना सुनिश्चित करेंगे। जिले में 117 संस्था को पंजीयन कार्य करने का दायित्व सौंपा गया है उनमें विदिशा तहसील की सेवा सहकारी समिति मर्यादित क्रमशः सांकलखेडा खुर्द, भदारबडागांव, अहमदपुर, जैतपुरा, सौथर, करैयाहाट, सतपाडासराय, बालाबरखेडा, धामनोदा, हांसुआ, खमतला, बर्रो, करेला, पीपलखेडा, ठर्र, करारिया, देवखजूरी, पीपरहूंठा, लश्करपुर, विदिशा, रंगई, इमलिया, बंधेरा, पैरवारा, हिनोतिया, गढला, कोंलिजा, खम्बूखेडी, डाबर, विपणन सहकारी समिति मर्यादित विदिशा शामिल है। बासौदा तहसील में जिन संस्था स्थलों पर पंजीयन कार्य किया जाएगा उनमें सेवा सहकारी समिति क्रमशः ककरावदा, पिपरिया जाजौन, हरगनाखेडी बासौदा, किर्रोदा, खरपरी, बरेठ, बीलाढाना, फरीदपुर, उदयपुर, उदयपुर दो, हतोडा, अम्बानगर एवं किरवाया शामिल है। त्योंदा तहसील में भिदवासन, बागरोद, त्योंदा, गुलाबगंज तहसील में धतूरिया, हिनोतिया (गुलाबगंज), हिनोतिया (गुलाबगंज) दो, वन, वन दो, बर्रीघाट, बर्रीघाट दो,ग्यारसपुर तहसील में सियासी, अटारीखेजडा, कोलुआ, गुन्नोठा, मानोरा, हैदरगढ़, ग्यारसपुर, धामनोद शामिल है। कुरवाई तहसील में प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था मर्यादित जुन्हैयाखेडी, सेवा सहकारी समिति क्रमशः नाउकुंड, छीरखेडा, विसनपुर, भैंसवाय, बरबई, कुरवाई, सीहोरा, मेहलुआ, राजपुर हिनोता, लायरा तथा विपणन सहकारी समिति मर्यादित कुरवाई शामिल है। पठारी तहसील में प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था मर्यादित विसराहा, सेवा सहकारी समिति मर्यादित क्रमशः शहरवासा (बंद्रावठा),  शहरवासा (बंद्रावठा) दो, नटेरन तहसील में सेवा सहकारी समिति ऐंचदा, ऐंचदा दो, रावन, रावन दो, शमशाबाद तहसील में विपणन सहकारी समिति मर्यादित शमशाबाद, सेवा सहकारी समिति मर्यादित क्रमशः वर्धा, वर्धा शमशाबाद, सांगुल, सांगुल दो शामिल है। सिरोंज तहसील में सेवा सहकारी समिति क्रमशः देहरी, इब्राहिमपुरा (भौंरा), दीपनाखेडा, गरेठा, चितावर, करैया, मुगलसराय, पगरानी, सियलपुर, सोना, चाठोली, पामाखेडी, बडोदाताल, परसोरा, हाजीपुर, तरवरिया, पिपलिया हाट, विपणन सहकारी समिति मर्यादित सिरोंज शामिल है। लटेरी तहसील में सेवा सहकारी समिति मर्यादित झूकरजोगी, निर्सोबरी, शहरखेडा, माहोठी, मुरवास, ओखलीखेडा, आंनदपुर, उनारसीकलां, कोलुआपठार, सुनखेर, लटेरी तथा विपणन सहकारी समिति मर्यादित लटेरी शामिल है।


पंजीयन प्रक्रिया से प्रशिक्षित हुए समिति प्रबंधक व आपरेटर


vidisha news
समर्थन मूल्य पर उपार्जन कार्य के लिए किसानो का पंजीयन कार्य जिले में पांच फरवरी से शुरू होगा जो पांच मार्च तक क्रियान्वित किया जाएगा। किसानो के पंजीयन हेतु शासन द्वारा जारी नई गाइड लाइन के अनुरूप पंजीयनकर्ता कार्यो का संपादन करें इसके लिए शुक्रवार को कॉ-आपरेटिव बैंक में एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया गया था। मास्टर ट्रेनर्स एनआईसी के डीआईओ श्री एमएल अहिरवार, कॉ-आपरेटिव बैंक के सीईओ श्री विनय प्रकाश सिंह तथा जिला आपूर्ति अधिकारी श्रीमती रश्मि साहू के द्वारा पंजीयन कार्यो का संपादन करने हेतु नियुक्त समितियों के प्रबंधकों एवं आपरेटरों को प्रशिक्षित किया गया है। प्रशिक्षण अवधि के दौरान पूर्व उल्लेखितों की जिज्ञासाओ का समाधान मास्टर ट्रेनर्स के द्वारा किया गया है। मास्टर ट्रेनर्स श्री अहिरवार ने बताया कि इस वर्ष पंजीयन की निशुल्क व्यवस्था सहकारी समितियों द्वारा संचालित पंजीयन केंद्रों के अतिरिक्त शुल्क व्यवस्था ₹50 अंतर्गत एमपी ऑनलाइन किओस्क कॉमन सर्विस सेंटर एवं लोक सेवा केंद्रों के माध्यम से भी किया जा सकता है। जिला केंद्रीय सहकारी बैंक में सम्पन्न हुए उक्त प्रशिक्षण में बतलाया गया कि पंजीयन कार्य 117 संस्थाओं पर किया जाएगा। इस प्रशिक्षण में पंजीयन प्रक्रिया में हुए परिवर्तन एवं सॉफ्टवेयर के बारे में विस्तृत प्रशिक्षण दिया गया। पंजीयन प्रक्रिया अंतर्गत किसान के आधार का सत्यापन आधार से लिंक मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी अथवा बायोमेट्रिक डिवाइस से किया जा सकता है इस संबंध में पंजीयन केंद्रों के ऑपरेटर को बायोमेट्रिक डिवाइस के उपयोग के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। सिकमी बटाईदार एवं वन पट्टा धारी किसान का पंजीयन केवल समितियों द्वारा संचालित पंजीयन केंद्र के माध्यम से ही किया जा सकता है। इस प्रकार के पंजीयन में दस्तावेज प्राप्त करने के बारे में समिति प्रबंधकों को अवगत कराया गया। पंजीयन सॉफ्टवेयर का विस्तृत  प्रशिक्षण जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी श्री एम एल अहरवार द्वारा दिया गया। प्रशिक्षणार्थियों को जिला आपूर्ति अधिकारी श्रीमती रश्मि साहू एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला केंद्रीय सहकारी बैंक श्री विनय प्रकाश सिंह ने पंजीयन के समय किसान से बैंक खाता की जानकारी दर्ज नहीं की जाएगी किसान का आधार से लिंक बैंक खाते में सीधे भुगतान किया जाएगा। किसान के आधार कार्ड एवं भू अभिलेख के दस्तावेज में नाम में पूर्णता मिलान नहीं होने की स्थिति में तहसील द्वारा सत्यापन उपरांत ही किसान का पंजीयन मान्य होगा। किसान के मोबाइल नंबर पर आधार सत्यापन के लिए ओटीपी प्राप्त नहीं होने की दशा में पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से संशोधन के लिए पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों की जिला केंद्रीय सहकारी बैंक की शाखाओं में ड्यूटी लगाई गई है जोकि पंजीयन अवधि तक किसानों के आधार में आवश्यक संशोधन करेंगे। किसान के बैंक खाते में भुगतान के लिए आवश्यक है कि वह अपने खाते में ईकेवाईसी करवा कर आधार नंबर अपडेट करा ले से प्रशिक्षणार्थियों को अवगत कराया गया है। 

कोई टिप्पणी नहीं: