मधुबनी : मोदी और नेपाली पीएम नेपाली ट्रेन का उद्घाटन करेगें - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2022

मधुबनी : मोदी और नेपाली पीएम नेपाली ट्रेन का उद्घाटन करेगें

modi-and-nepali-pm-will-inaugrate-nepal-train
मधुबनी : नेपाली ट्रेन के उद्घाटन को लेकर लेकर नेपाल के अधिकारीयों ने दो तिथि का निर्धारित किया है। नेपाल रेल सूत्रों के अनुसार भारतीय रेलवे, कोंकण ने रेलवे के जयनगर-कुर्थ खंड के आधिकारिक उद्घाटन के लिए दो तिथियों का प्रस्ताव दिया है। कोंकण ने 16 मार्च (28 फरवरी) और 17 मार्च (1 मार्च) की तारीखें प्रस्तावित की हैं। जैसा कि भारत और नेपाल के प्रधान मंत्री वस्तुतः इसका उद्घाटन करेंगे, नेपाल रेलवे कंपनी ने कहा है कि उन्होंने तदनुसार तिथि तय करने का प्रयास किया है। कोंकण ने भारतीय दूतावास को दो तारीखें भेजी थीं। दूतावास ने कहा कि नेपाल सरकार की ओर से एक प्रस्ताव आना चाहिए, कंपनी के महाप्रबंधक निरंजन झा ने कहा। झा ने कहा, “कोंकण ने हमसे परामर्श करने और उद्घाटन की तारीख तय करने के बाद दूतावास भेजा है। हम पहले ही कह चुके हैं कि हम उद्घाटन के लिए तैयार हैं।” उन्होंने कहा, “कोंकण से एक प्रस्ताव भौतिक बुनियादी ढांचा और परिवहन मंत्रालय को सौंपा जाएगा और एक तारीख तय की जाएगी। हम रविवार को औपचारिक रूप से मंत्रालय को सूचित करेंगे।” उद्घाटन दो में से एक तारीख को होता है, हम अभी इसमें देरी करने के पक्ष में नहीं हैं।’ 16 महीने पहले भारत से लाए गए दो ट्रेन सेट 20 मार्च से बिना यात्री के चल रहे हैं। ट्रेन संचालन प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके साठ नेपाली कर्मचारी अब अभ्यास कर रहे हैं। कोंकण के चौदह कर्मचारी उन्हें तकनीकी चीजें सिखाने में मदद कर रहे हैं। झा ने कहा कि 26 भारतीय तकनीशियनों में से 14 अब आ चुके हैं और शेष 12 ट्रेन के चलने तक पहुंच चुके हैं। उनके अनुसार कुर्था से जयनगर का किराया साधारण सीट के लिए 70 रुपये और एसी सीट के लिए 300 रुपये निर्धारित किया गया है। बता दें की पिछले कई सालों से इस अंतरराष्ट्रीय रेल परियोजना का आमान-परिवर्तन के लिए छोटी रेल लाइन बन्द कर दी गयी थी, उसके बाद से यहां के व्यापारी और सीमा पास के लोग केवल इसी रेलखंड के उद्धघाटन के इंतजार में हैं। बरहाल देखना होगा कि ये भी महज पिछले कई तारीखों की तरह मजाक बनके रह जायेगा, या सच मे लाखों-करोड़ों लोगों का सपना सच हो पायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: