मुजफ्फरपुर : वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए समीक्षा बैठक - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 मार्च 2022

मुजफ्फरपुर : वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए समीक्षा बैठक

meeting-for-air-polution
मुजफ्फरपुर. वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए नगर आयुक्त ने पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की प्रगति तथा प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न विभागों की तैयारियों की समीक्षा की. प्रदूषण नियंत्रण को लेकर विशेष कार्ययोजना के तहत अपेक्षित कार्रवाई के निर्देश संबंधित विभागों को दिए गए. प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों व फैक्ट्रियों पर रोक लगाने व प्रदूषण रोकनेवाले साधनों को प्रोत्साहित करने को कहा गया. 15 वर्षो से अधिक पुराने वाहनों के संबंध में डीटीओ से रिपोर्ट मांगी गई.साथ ही विभिन्न वाहनों से संबंधित फिटनेस और प्रदूषण जाच कार्य को नियमित करना एवं इन संबंध में अभियान चलाने के भी निर्देश दिए. प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए डीटीओ को प्रभावी कार्रवाई करने को कहा गया.निर्देश दिया गया कि शहर के मुख्य भाग में डीजल वाहन/ऑटो का परिचालन धीरे-धीरे बंद करा दिया जाए.उसकी जगह इलेक्ट्रॉनिक/बायोडीजल/सीएनजी चालित वाहन एवं ई-रिक्शा के परिचालन को बढ़ावा दिया जाए. डीटीओ को अब तक की गई कार्रवाई से संबंधित रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा गया. ऐसे पेट्रोल पंप जो बिना पीयूसी मानक के संचालित हैं उनके विरुद्ध विगत एक साल के अंदर की गई कार्रवाई एवं वसूली से संबंधित रिपोर्ट दो दिनों में उपलब्ध कराने को कहा गया. निर्देशित किया गया कि सभी प्रकार की निर्माण सामग्री यथा बालू, गिट्टी आदि को ढंककर कहीं ले जाया जाए. इसका अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए. उल्लंघन होने पर अर्थदंड एवं अन्य आवश्यक कार्रवाई की जाए. निर्देश दिया गया है कि शहरी क्षेत्र में कूड़े-कचरे को खुले में जलाने पर कड़ी कार्रवाई करें. साथ ही शहरी क्षेत्र के महत्वपूर्ण स्थलों को चिह्नित करते हुए वहा पर सामान्य पार्किंग की व्यवस्था करा दी जाए. ताकि, शहर में वाहनों के कारण जाम की समस्या नहीं हो. निर्देश दिया गया कि शहरी क्षेत्र में धूलकण से बचाव के लिए नियमित रूप से पानी का छिड़काव कराया जाए. साथ ही अत्याधुनिक उपकरण यथा रोड स्वीपिंग मशीन, वाइपिंग स्प्रिंकल आदि का भी प्रयोग किया जाए. नगर आयुक्त ने  प्रदूषण के कारकों एवं उसके दुष्प्रभाव के बारे में लोगों को अधिक से अधिक जागरूक करने को कहा. बैठक में पटना मुख्यालय से आये पदाधिकारी श्री दीपांकर शाही, सैन कुमार, जिला जनसंपर्क अधिकारी कमल सिंह, प्रभारी पदाधिकारी सामान्य शाखा प्रीति सिंह, प्रमंडलीय वन अधिकारी ,जिला खनन पदाधिकारी के साथ संबंधित सभी विभागों के जिला स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे.

कोई टिप्पणी नहीं: