प्रतापगढ़ : ’’राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल आयोजन हेतु बैठक का आयोजन’’ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 3 मार्च 2022

प्रतापगढ़ : ’’राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल आयोजन हेतु बैठक का आयोजन’’

  • ’’ए.डी.आर. भवन में की गई प्रकरणों में प्रिकाउंसलिंग’’

meeting-for-national-lok-adalat
प्रतापगढ़/03 मार्च, आगामी राष्ट्रीय लोक अदालत दिनांक 12.03.2022 को लेकर माननीय राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के निर्देशानुसार अधिवक्तागण के साथ बैठक जिला अभिभाषक संघ के कक्ष में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमान् महेन्द्र सिंह सिसोदिया द्वारा अधिवक्तागण से राजीनामा काबिल अधिकाधिक प्रकरणों के निस्तारण की अपील की गई। आगामी राष्ट्रीय लोक अदालत में न्यायालय में लम्बित प्रकरण जैसे - दाण्डिक शमनीय प्रकरण, धारा 138 परक्राम्य लिखत अधिनियम के प्रकरण, धन वसूली के प्रकरण, एमएसीटी के प्रकरण, श्रम एवं नियोजन संबंधी विवादों के प्रकरण, बिजली, पानी एवं अन्य बिलों के भुगतान से संबंधित प्रकरण, वैवाहिक विवाद (तलाक को छोडकर), भूमि अधिग्रहण से संबंधित प्रकरण, मजदूरी भत्ते और पेंशन भत्तों से संबंधित सेवा मामले, सभी प्रकार के सर्विस मैटर्स (पदोन्नति एवं वरिष्ठता विवाद के मामलों के अलावा), सभी प्रकार के राजस्व मामले, पैमाइश, घोषणा, विभाजन, रिकॉर्ड संशोधन सहित, वाणिज्यिक विवाद, बैंक के विवाद, गैर सरकारी शिक्षा संस्थान के विवाद, सहकारिता संबंधी विवाद, परिवहन सम्बन्धी विवाद, स्थानीय निकाय (विकास प्राधिकरण/नगर निगम, आदि) के विवाद, रियल एस्टेट संबंधी विवाद, रेलवे क्लेम्स संबंधी विवाद, आयकर संबंधी विवाद, कर सम्बन्धी विवाद, उपभोक्ता एवं विक्रेता/सेवा प्रदाता के मध्य के विवाद, सिविल मामले (किरायेदारी, बंटवारा, सुखाधिकार, कब्जाप्राप्ति, निषेधाज्ञा, घोषणा, क्षतिपूर्ति एवं विनिर्दिष्ट पालना के दावों सहित), राजीनामा योग्य ऐसे मामले, जो अन्य अधिकरणों/आयोगो/मंचों/अथॉरिटी/प्राधिकारियों के समक्ष लंबित एवं प्रिलिटिगेशन मामलों का समझाईश के माध्यम से निस्तारण किया जाएगा।  बैठक में सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री शिवप्रसाद तम्बोली द्वारा भी अधिकाधिक निस्तारण हेतु अधिवक्तागण को प्रेरित किया गया। बैठक के दौरान राष्ट्रीय लोक अदालत के ऑफलाईन एवं ऑनलाईन प्रकरणों के निस्तारण के विषय में भी चर्चा की गई। बैठक के दौरान प्राधिकरण के सचिव श्री शिवप्रसाद सम्बोली द्वारा अधिक से अधिक प्रिकाउंसलिंग किये जाने पर जोर दिया गया ताकि प्रकरणों का निस्तारण अधिक से अधिक संख्या में हो पाए। बैठक में न्यायाधीश एन0डी0पी0एस0 न्यायालय श्रीमान् राम सुरेश प्रसाद, न्यायाधीश एम0ए0सी0टी0 न्यायालय श्रीमान् चक्रवर्ती माहेचा, न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट श्री कृष्ण चन्द्र मोड़, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्रीमती कुसुम सूत्रकार, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री अंकित दवे, सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री हिमांशु चावला, अभिभाषक संघ अध्यक्ष श्री मुकेश नागदा एवं अधिवक्तागण उपस्थित रहे।  राष्ट्रीय लोक के ही क्रम में आज बैंकों के प्रकरणों में प्रिकाउंसलिंग जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के एडीआर भवन में की गई जिसके तहत भूमि विकास बैंक, बड़ौदा राजस्थान क्षेत्रिय ग्रामीण बैंक, बैंक ऑफ इंडिया आदि बैंको के पक्षकारों के मध्य समझाईश कराने का प्रयास किया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: