मिथिलांचल में बढ़ते अपराध के लिये केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जिम्मेवार : धीरेन्द्र झा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 3 मार्च 2022

मिथिलांचल में बढ़ते अपराध के लिये केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जिम्मेवार : धीरेन्द्र झा

  • 5 मार्च को पूरे मिथिला में नित्यानंद राय और हरिभूषण ठाकुर बचैल का पुतला दहन

cpi-ml-dhirendra-jha-attack-minister
पटना 3 मार्च, भाकपा माले पोलित ब्यूरो के सदस्य सह मिथिलांचल के प्रभारी धीरेन्द्र झा ने कहा कि मिथिला अमन-भाईचारा की धरती रही है। भाजपाई राजनीति और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय के द्वारा उन्मादियों, भूमाफियाओं और अपराधियों को दिए जा रहे संरक्षण के चलते यह इलाका अशांत हो गया है। कहा कि भाजपा का उन्मादी मिथिला मॉड्यूल के चलते माॅब लिंचिंग की कई घटनाएं हुई हैं. कई जगहों पर दंगे की कोशिश हुई है, अपराध की जघन्य घटनाएं घटित हुई हैं और वैशाली, मोरबा, दरभंगा, मधुबनी आदि जिलों में बलात्कार और बलात्कार करके हत्या करने की हृदयविदारक घटनाएं सामने आई हंै। नित्यानंद राय को गृह राज्यमंत्री के पद से अविलम्ब हटाया जाना चाहिये। केंद्र में इनके मंत्री बनने से मिथिला को कोई फायदा नहीं हुआ। अशोक पेपर मिल बन्द पड़ा हुआ है. रामेश्वर जुट मिल में ताला लटका हुआ है और सभी चीनी मिलें बन्द हैं। बरौनी खाद कारखाना भी चालू नहंी हुआ। आधारपुर में माॅबलिंचिंग हुई. हाल ही में माॅबलिंचिंग में खलील रजवी मारा गया लेकिन भाजपा नेताओं का कोई बयान नहीं आया। दरभंगा में पुलिस से मिलकर भूमाफियाओं ने एक पूरे परिवार को जला दिया, भाजपा के कोई बड़े नेता ने आकर कोई पहल नहीं की। एसएसपी और एडीएम आज भी बने हुए हैं। मंत्री जी का कोई काम नहीं, वे यहां की राजनीति में अपराध और साम्प्रदायिकता का जहर बो रहे हैं। वहीं भाजपा के दलित विरोधी, मधुबनी जनसंहार के संरक्षक बिस्फी के विधायक संविधान विरोधी-अल्पसंख्यक विरोधी बयानबाजी कर रहे हैं जिससे इलाके के अमन भाईचारा को खतरा है। इनकी सदस्यता अविलम्ब खारिज होनी चाहिए क्योंकि उन्होंने विधानसभा परिसर में ऐसे बयान दिए हैं। भाकपा माले इन दोनों नेताओं के खिलाफ अभियान चलाएगी और 5 मार्च को पूरे मिथिला में इन दोनों नेताओं का पुतला दहन करेगी।

कोई टिप्पणी नहीं: