बिहार : पल्ली परिषद के सदस्यों एवं अन्य भक्तों के सहयोग से हुआ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 6 मार्च 2022

बिहार : पल्ली परिषद के सदस्यों एवं अन्य भक्तों के सहयोग से हुआ

palli-parishad-mokama-meeting
मोकामा. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिला नालंदा है.इस जिले में दो रोमन कैथोलिक चर्च है. एक हिलसा में और द्वितीय बिहारशरीफ में है.बिहारशरीफ में सेक्रेट हार्ट चर्च है.यहां पर तेजतर्रार पल्ली पुरोहित फादर प्रेम प्रकाश कार्यरत हैं.बिहारशरीफ में आने के पहले फादर प्रेम प्रकाश पटना महाधर्मप्रांत के विकर जनरल थे.यहां पर आने के बाद ग्रामीण परिवेश में रहने वाले ईसाई भक्तों के साथ तालमेल बिठना शुरू कर दिया. इसका सकारात्मक परिणाम सामने है.यहां के ईसाई भक्तों को मोकामा तीर्थयात्रा करवाने का निश्चय पालने लगे.यहां के पल्ली परिषद के सदस्यों एवं अन्य भक्तों के सहयोग से निश्चय को सफलीजामा करने में सफल हो गये. बता दें कि देश-विदेश-प्रदेश में कोविड 19 के कहर से लोग परेशान थे. बिहार में कोरोना के तीसरा चरण के भयंकर परिणाम को देखते हुए कोरोना गाइडलाइन के प्रकाश में रात्रि कफ्र्यू लगाया गया था. कोरोना गाइडलाइन के चलते वार्षिक मोकामा तीर्थयात्रा को रद्द कर दिया गया.पटना महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष सेबेस्टियन कल्लूपुरा ने रद्द करते समय कहा था कि आपलोग छोटे-छोटे समूह में मां मरियम के दर्शन करने आये. इसकी सूचना मोकामा पल्ली पुरोहित को देंगे.सारी औपचारिकता पूरा करने के बाद सेक्रेट हार्ट चर्च के पल्ली पुरोहित फादर प्रेम प्रकाश ने 6 मार्च को तिथि निर्धारित किये थे. आज रविवार 6 मार्च को निर्धारित समय 09ः00 बजे भक्तगण चर्च परिसर में पहुंच गये. 5 बस 6 जीप और कार में 200 भक्तगण बैठे.करीब 10ः30 बजे मोकामा मां मरियम के दरबार में पहुंच गये. यहां पहुंचने के बाद मोकामा में भक्तों ने चाय पी.इसके बाद माला विनती शुरू की गयी.माला विनती खत्म होने के बाद फादर इरूदयाराज ने मिस्सा अर्पित किये. मोकामा तीर्थयात्रा के पश्चात भक्तगण शाम 5 बजे बिहारशरीफ पहुंच गये. सभी भक्तगण मोकामा की रानी को धन्यवाद दिये कि हमलोगों को सुअवसर फादर प्रेम प्रकाश के माध्यम से कर दिये.

कोई टिप्पणी नहीं: