बिहार : संभावित एईएस/चमकी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण करने का प्रयास - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 6 मार्च 2022

बिहार : संभावित एईएस/चमकी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण करने का प्रयास

meeting-for-chamki-bukhar
मुजफ्फरपुर। समाहरणालय सभाकक्ष में जिलाधिकारी मुजफ्फरपुर प्रणव कुमार की अध्यक्षता में आज एईएस/चमकी बुखार कोर कमेटी की बैठक आहूत की गई। बैठक में उपस्थित अधिकारियों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि पूर्व के भांति इस वर्ष भी विभिन्न विभागों के परस्पर समन्वय के साथ कार्य करते हुए संभावित एईएस/चमकी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण के मद्देनजर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि इस संबंध गठित विभिन्न कोषांगों के वरीय एवं नोडल पदाधिकारी पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य करते हुए अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करना सुनिश्चित करेंगे। बैठक में नोडल पदाधिकारी एईएस/चमकी बुखार डॉक्टर सतीश कुमार ने बताया कि एईएस पर प्रभावी नियंत्रण के मद्देनजर  सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। इस संबंध में आगे आने वाले दिनों में व्यापक जन जागरूकता अभियान के साथ कर्मियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम भी लगातार चलेगा। जिलाधिकारी  ने कहा कि जन जागरूकता अभियान, कर्मियों का प्रशिक्षण, दवाओं की उपलब्धता माकूल चिकित्सीय व्यवस्था के साथ सघन जन जागरूकता कार्यक्रम पर फोकस करें। उन्होंने उपस्थित सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा पदाधिकारियों से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में चिकित्सीय व्यवस्था एवं अन्य आवश्यक व्यवस्था के बाबत जानकारी हासिल की और कहा कि शीघ्र ही औचक निरीक्षण भी किया जाएगा। जन जागरूकता अभियान को लेकर उन्होंने निर्देश दिया कि शिक्षा विभाग ,जनसंपर्क विभाग, आईसीडीएस एवं जीविका के माध्यम से सघन जागरूकता कार्यक्रम को मूर्त रूप दें। विशेषकर डोर टू डोर संपर्क स्थापित कर लोगों को जागरूक करना सुनिश्चित किया जाए। शिक्षा विभाग को निर्देशित किया कि विद्यालयों में चेतना सत्र में चमकी बुखार के बारे में  जागरूक करें साथ ही  पेरेंट्स टीचर मीटिंग में भी अभिभावकों को जागरूक किया जाए। बैठक में जानकारी दी गई कि होर्डिंग, फ्लेक्स ,पोस्टर, बैनर ,हैंडविल ,रेडियो जिंगल ,ऑडियो वीडियो नुक्कड़ नाटक, दीवाल लेखन इत्यादि के माध्यम से सघन जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाएगा।में सभी कोषांगों द्वारा प्रारंभ किए गए कार्यों की समीक्षा जिलाधिकारी के द्वारा की गई है। इसके पूर्व जिला प्रतिनिधि केयर सौरभ तिवारी ने पीपीटी के माध्यम से इस संबंध में बनाई गई कार्ययोजना के विस्तृत जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि अप्रैल माह तक सभी स्टेकहोल्डर एवं सम्बंधित सरकारी कर्मियों को प्रशिक्षण दे दिया जाएगा। शीघ्र ही सभी पंचायतों पदाधिकारियों को अडॉप्ट करने का निर्देश देने के बाबत आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया।सभी पदाधिकारी अपने अलॉट किए गए पंचायतों में जाकर एईएस/ चमकी बुखार से संबंधित प्रचार प्रसार करेंगे। मार्च माह में ही आरबीएसके के वाहनों द्वारा माइकिंग के माध्यम से प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया जाएगा। साथ ही पंचायत वार एक-एक तिपहिया वाहन भी अपने-अपने पंचायतों में सघन प्रचार- प्रसार करेंगे।  सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया गया है। सिविल सर्जन को निर्देशित किया गया है कि सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का सतत मॉनिटरिंग करें।  बैठक में उप विकास आयुक्त आशुतोष द्विवेदी सिविल सर्जन मुजफ्फरपुर एसीएमओ मुजफ्फरपुर शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर गोपाल शंकर साहनी जिला जनसंपर्क अधिकारी कमल सिंह के साथ स्वास्थ्य विभाग के विभिन्न पदाधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के चिकित्सा पदाधिकारी डब्ल्यूएचओ के जिला प्रतिनिधि डॉ आनंद गौतम केयर के जिला प्रतिनिधि डॉ सौरभ तिवारी तथा स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: